May 21, 2024
Virgin sali ki bur Chudai

हेलो दोस्तो, मेरा नाम मोहित है। मैं दिल्ली में रहता हूं. मेरी उमर 25 साल है, और मेरी एक साल पहले ही शादी हुई है। ये वर्जिन साली की बुर चुदाई की कहानी मेरी वर्जिन साली सोनिया की चुदाई की है। वो मेरी पत्नी की चचेरी बहन है. उसकी उम्र 20 साल है, और उसका फिगर भी एक-दम मस्त है। बड़े-बड़े चूतड़ और बड़ी-बड़ी चूचियाँ।

रंग एक-दम गोरा, और बड़ी-बड़ी प्यारी सी आंखें। जब से मेरी शादी हुई है, तब से बस उसको चोदने का मौका मिल जाएगा ऐसा सोचता रहता था। ये सोचते-सोचते एक साल निकल गया. लेकिन पिछले महीने में मुझे मौका मिल ही गया।

सोनिया पिछले माहीं मेरे घर पे आई थी। उसका कोई एग्जाम था जो मेरे घर के पास कॉलेज है, वहा पे था। उसका घर कॉलेज से 30 किमी दूर है। इसलिए वह परीक्षा से एक दिन पहले मेरे घर आ गई, ताकि अगली सुबह आराम से परीक्षा दे सके।

परीक्षा वाले दिन मेरी पत्नी का अस्पताल में चेकअप भी था और गर्भावस्था को लेकर। तो सुबह सोनिया कॉलेज निकल गई, और हम यानी मैं, मेरी पत्नी और मेरी मां 10:30 बजे अस्पताल के लिए निकल गईं। लेकिन अस्पताल पहुंचने के 5 मिनट बाद ही सोनिया का फोन आया कि वो घर पर आ गई थी परीक्षा देकर।

घर पर ताला लगा हुआ था, तो मुझे मेरी पत्नी ने बोला कि आप घर पे जा आओ, और बाद में चेकअप हो जाएगा तो मैं फोन कर लूंगी। हॉस्पिटल भी मेरे घर से 2 किलोमीटर दूर है, तो मैंने भी बोला ठीक है तुम और मम्मी का चेकअप करवा लो। बाद में मुझे फोन कर देना.

तो मैं घर वापस आ गया, और सोनिया के साथ अब मैं घर पर अकेला था। हम दोनों टीवी वाले कमरे पर आ गए, और सोफे पर बैठ कर टीवी देखने लगे। हम टीवी देखते-देखते नॉर्मल बात कर रहे थे, कि एग्जाम कैसा गया, वैगैरा-वैगैरा। मेरे मन में बस उसको चोदने का ही सीन चल रहा था। उसको देख के मुझ पर नियंत्रण नहीं हुआ, और मैंने अपना हाथ उसकी टांग पर रख दिया।

लेकिन उसने कुछ भी प्रतिक्रिया नहीं दी, बस नज़र झुका ली अपनी। तो मैंने अपने हाथ से उसकी तांग दबा दी। वो फिर भी कुछ गलत रिएक्ट नहीं कर रही, बस नज़र झुका कर बैठी रही। अब मैं समझ गया कि ये चोदने के लिए तैयार थी। मैंने उसका मुँह पकड़ा, और उसके होठों पर चुंबन करने लगा।

उसके बड़े-बड़े कुत्तों को मैं अपने हाथों से दबाने लगा, और ये सब चुम्मा-चाटी करते हुए मैंने उसकी सलवार उतार दी। फ़िर उसकी चूत में उंगली दे दी, और उसकी फिंगरिंग करने लगा। अब वो थोड़ा-थोड़ा आह करके चिल्लाने लगी थी.

थोड़ी देर उसकी फिंगरिंग करने के बाद मैंने अपनी पैंट उतारी, और अपना लंड उसके मुँह में दे दिया। मुझे लगा कि कुछ नखरे करेगी, लेकिन वो तो चुप-चाप मेरे लंड को चुनने लगी। उसके मुँह की गर्मी इतनी मस्त थी। उसके लाल होंथ मेरे काले लंड को ऐसे जकड़े हुए थे कि मेरा मन ही नहीं किया अपना लंड उसके मुँह से निकलने को।

4-5 मिनट तक मैं ऐसे ही उसका लंड चूसता रहा। बीच-बीच में उसका सारा पकड़ कर गहरा घुसाने की भी कोशिश कर रहा था। लेकिन उसने मेरा 6 इंच का लंड पूरा नहीं लिया जा रहा था अपने मुँह में। लेकिन आधा लंड चूसने में भी मजा मुझे पूरा आ रहा था।

कुछ देर बाद जब मैं झड़ने वाला था, तो मैंने उसको बोला कि अपना मुँह खोल ले पूरा। और अब मैं उसके मुँह के ऊपर अपने लंड को ज़ोर-ज़ोर से हिलाने लगा। फिर उसके मुँह में ही माल निकाल दिया मैंने। कुछ माल उसके मुँह के अंदर गिरा, और कुछ उसके मुँह के बाहर उसके होठों और गाल पर।

मैंने उसको बोला कि मेरे माल को पी जा। और वो भी एक दम पी गई मेरा माल। ये देख कर मैं बहुत खुश था कि यार एक तो इतनी खूबसूरत लड़की, और ऊपर से इतनी विनम्र। जो बोलो चुप-चाप कर लेती है. अब मैं सोनिया के पूरे मजे लेने वाला था। पत्नी के साथ तो नॉर्मल हाई सेक्स चलता है, लेकिन सोनिया के साथ में अब सब कुछ ट्राई करना चाहता था।

अब उसकी चूत मारना चाहता था. लेकिन अभी टाइम नहीं था. मुझे हॉस्पिटल भी जाना था. इसलिए हम दोनों तैयार हुए, और अस्पताल चले गए। वाहा से आने के बाद कुछ देर मार्केट घूमे और घर वापस आ गये सब। अब मुझे पता था कि अब सोनिया को चोदने का मौका रात को ही मिलेगा, जब बाकी लोग सो जायेंगे।

रात को मेरे माता-पिता पहली मंजिल पर सोते हैं, और मैं पत्नी के साथ दूसरी मंजिल पर। दूसरी मंजिल पर 3 कमरे हैं, और एक कमरे में सोनिया सोई हुई थी। मैंने उसको बोल दिया था कि रात को सोना मत, और रात को तेरे कमरे में आऊंगा।

मेरी पत्नी 11 बजे सो गयी और मैं 12:30 बजे सोनिया के कमरे में चला गया। वैसे भी मैं सिगरेट पीने के लिए बहुत बार रात को उठ कर कमरे के बाहर जाता था, तो पत्नी गलती से उठ भी गई तो यही सोचेगी कि सिगरेट पीने गया था।

सोनिया के कमरे में जाते ही मैंने अपना पजामा खोला, और अपना लंड सोनिया के मुँह में दे दिया। 5 मिनट लंड चुसवाने के बाद मैंने सोनिया के कपड़े खोल दिये, और उसकी टाइट चूत में लंड घुसा दिया।

सोनिया की धीमी आह आह की आवाज़ से मेरा लंड और जोश में आ गया और सोनिया की चूत को मशीन की तरह चोदने लगा। कुछ देर बाद जब मैं झड़ने वाला था, तो मैंने अपना लंड निकाला और सोनिया के चेहरे पर माल निकाल दिया।

अपना माल उसके चेहरे पर देख कर एक अलग ही स्तर की संतुष्टि मिल रही थी मुझे। उसको चोदने के बाद मैं बाहर आया और सिगरेट पीने चला गया। फिर अपने कमरे में सोना चला गया। लेकिन अब नींद नहीं आ रही थी। 20 मिनट बाद मैं फिर सोनिया के रूम में चला गया, और फिर जाते ही मैंने उसके मुँह में अपना लंड दे दिया। थोड़ी देर बाद मैंने उसको बोला कि वो मेरे टट्टे चाटते हैं।

वो भी बिना कोई नखरे किये मेरे तत्तो को चाटने लगी। लेकिन अब तो मुझे सब ट्राई करना था। मैंने उसको बोला कि अब मेरी गांड भी चाट ले। मेरी गांड को भी वो बिना नखरे चाटने लगी. उसकी जीभ मेरी गांड को टच कर रही थी तो नेक्स्ट लेवल का मजा आ रहा था। अब मैंने दोबारा उसके मुँह में लंड दे दिया, और ज़ोर-ज़ोर से उसके मुँह में लंड अंदर बाहर करने लगा।

उसके मुँह का सारा थूक मेरे लंड में लग चुका था। बस ऐसे ही लंड चूसवते-चुसवते मैं उसके मुँह में झड़ गया। और फिर सोना चला गया। अगले दिन उसको वापस जाना था, तो वो घर चली गई। फ़िर अभी तीन दिन पहले मैं उनका घर गया था। वाहा फुल चोदने का तो मौका नहीं मिला, लेकिन एक बार 5 मिनट के लिए हम अकेले थे।

खिड़की से नज़र राखी हुई थी नैन की कोई आ ना जाए। वाहा ना उसके कपडे उतारे, ना किस किया, बस सीधा उसके मुँह में लंड दिया, और मुँह में ही झड़ गया। अगली बार पूरा मौका मिलेगा तो धांग से, तसल्ली से पूरा नंगा करके चोदूंगा।

उसके घर वाले उसको फालतू में बाहर नहीं जाने देते, नहीं तो अब तक बहुत बार चोद चुका होता। लेकिन अभी भी कोई टेंशन नहीं, बस 4-5 मिनट का टाइम चाहिए, फटाफट लंड निकाल के मुंह में देदो और पूरा मजा लो।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Delhi Escorts

This will close in 0 seconds