May 14, 2024
Call Boy Ne Ki Didi ki Chudai

नमस्ते, मेरा नाम मोहित है। उम्र महज 25 साल है. मैं पुणे का रहने वाला हूं। मैं आज जो कॉल बॉय ने की दीदी की चुदाई की स्टोरी बता रहा हूं, वो मेरी दीदी को कॉल बॉय ने जमकर चोदा था। जैसे मैंने सुपीरिया को चोदा था। 

दोस्तो, मेरी दीदी और मैं बहुत फ्रेंडली हैं। घर में हम बहुत खुल कर, एक दूसरे को स्मूच करते हैं। परिवार के सामने सामान्य रहते हैं। मुझे सेक्स स्टोरी बहुत पसंद है. मैंने अंशुल की भी सेक्स स्टोरी पढ़ी है।

उनको पढ़ के मुझे आइडिया आया, कि मेरी दीदी के साथ ग्रुप सेक्स किया जाए। मैंने दीदी को बताया अंशुल के बारे में। दीदी को मैंने अंशुल की सारी कहानी बताई। वो मेरे सामने कहानी पढ़ के चूत मसलती थी।

मैं भी उसके सामने अपना 4 इंच का लंड से मुँह मारता था। मैंने दीदी से कई बार कहा कि मेरा लंड मुँह में ले। लेकिन वो नहीं लेती थी. वो बोलती थी कि तेरा ये छोटा है. मैं अब आपको दीदी के बारे में बता देता हूं।

दीदी का नाम सोनिया है. उसकी उम्र 28 साल है. उनका फिगर बहुत अच्छा है. गांड बड़ी है, जो किसी का भी लंड खड़ा कर दे। कॉलोनी के सभी लड़के दीदी पर लाइन मारते हैं। दीदी ने एक बार सेक्स किया है. वो भी अपने BF के साथ। अब उसका साथ ब्रेकअप हो गया है। दीदी को भी अब सेक्स की ज़रुरत थी। उसने अब कोई बीएफ नहीं बनाया।

वो बोलती है कि अब जो भी करेंगे कुछ अलग और सुरक्षित करेंगे। उसने अंशुल की सेक्स स्टोरी पढ़ी। खूब मजा आया का उपयोग करने के लिए. उसने मुझसे कहा, कि इससे मुलाक़ात हो जाए तो मज़ा आ जाए। क्या सेक्स करता है. कहानी में इतना मजा आता है, तो असल में कैसा करता होगा।

उसके बाद मैंने अंशुल से गूगल चैट की। अंशुल ने बताया, उसकी कहानियाँ असली हैं, और वो भी असली कॉल बॉय है। मैंने उससे खूब बातें की, और बताया कि मुझसे मेरी दीदी को चुदवाना है। उसने ठीक है बोला. मैंने दीदी से बात की, कहा कि अंशुल सेक्स के लिए मन गया था।

दीदी बोली: तो, मील का उपयोग करें?

मैं: दीदी, उसने कहा है कि तुम लोग आ जाओ, राजस्थान।

दीदी: देख ले.

मैं: देखना क्या है. चलते हैं ना, खूब एन्जॉय करेंगे। तुम भी ओपन होके भूलभुलैया लेना उसके साथ। मैं चाहता हूं, कि मैं भी आपको अंशुल के साथ चोदू।

दीदी: पागल है क्या तू? तुझे शर्म नहीं आती. अपनी बहन का ग्रुप सेक्स करेगा.

मैं: अरे दीदी, मजा आएगा. कॉल बॉय है वो, कोई जीजा नहीं है. जिसे शर्म करे.

दीदी: ठीक है. तेरा लंड वैसे भी छोटा है. कोई समस्या नहीं होगी. उसका बड़ा है.

फिर मैंने अंशुल से उसके लंड की तस्वीर मांगी। उसने मुझे तस्वीर भेजी, तो वाकयी में लंड अच्छा दिखा। मैंने दीदी को देखा. तो वो हमारे लंड को देखती रह गयी. उसने कहा, उसकी बीएफ का भी इतना बुरा नहीं था। उसका 5 इंच होगा.

तो, हमने हमसे मीटिंग फिक्स की। दीदी भी अब एक्साइटेड थी. प्रयोग भी चोदना था. मैं चाहता था, कि दीदी को अंशुल दबा-दबा के चोदे। बहुत घमंड है, इसे अपनी चूत और गांड पर। Mujhe chodne nahi deti, doosre se chodne par man gai. मैंने अंशुल को पहले ही बोल दिया था, कि वो दीदी को जम के रंडी बना के चोदे। उसने भी मुझे ठीक कहा.

फिर हमने पैसे की बात की, और दीदी और मैं पहुंच गए राजस्थान। घर से 3 दिन का ट्रिप बोल के निकल गए। मैं भी चाहता था, तीन दिन में अंशुल दीदी की चूत और गांड, चोद-चोद के खोल दे। मैं उसके साथ ग्रुप सेक्स करना चाहता था।

हमने होटल बुक किया, और हम रूम में चले गये। दीदी फ्रेश होने चली गई. मैंने अंशुल को कॉल किया, और उसे होटल आने को बोला। उसने ठीक कहा. दीदी आज बहुत खूबसूरत लग रही थी। मैंने देखा उसके चेहरे पर अलग ही मुस्कान थी। मैंने उससे पूछा-

मैं: क्या दीदी, इतनी क्यों खिली-खिली नजर आ रही हो?

दीदी: कुछ नहीं. बस जो मजा मिलने वाला है, वह सोच रही हूं। कब आएगा अंशुल?

मैं: आने वाला है. आज आपकी जम के चुदाई होगी. अच्छे से मेकअप कर लो. जिसे चोदने में मजा आया.

दीदी: ठीक है भाई. मैं तैयार हूं जाती हूं.

वो बाथरूम में तैयार हो गई. 30 मिनट बाद दीदी बाहर आ गई। क्या मस्त माल लग रही थी. उसने गोल्डन लहंगा और गोल्डन ब्लाउज पहना हुआ था। बाल खुले हुए थे, जो उसकी कमर पर आ रहे थे। गांड उभरी हुई नज़र आ रही थी. होंथो पर दीदी ने हल्की लिपस्टिक लगाई थी। आँखों में काजल, और चेहरे पर फुल सेक्सी मेकअप किया था। एक दम बम लग रही थी. दीदी को देख कर, मेरा पैंट में खड़ा हो गया। वो बोली-

दीदी: अब बता छोटे, कैसी लग रही हो?

मैं: मेरी जान, एक-दम मस्त माल लग रही हो। बहुत सुंदर दीदी. आज आपकी बहुत जोरदार चुदाई होगी.

दीदी: धन्यवाद भाई. मैं तैयार हूं आज रात का मंज़र देखने को। आज मैं भी देखु एक कॉल बॉय कैसे चोदता है।

मैं: हा दीदी. आज आपकी ग्रुप चुदाई होगी. मैं भी तो चोदूंगा.

हम दोनों हंसने लगे. इतने में डोरबेल बाजी. मैंने गेट खोला, तो देखा बाहर अंशुल था। मैंने गले लगाया। फ़िर वो एंडएसआर आया, दीदी बिस्तर पर बैठी थी। वो अंशुल को देख रही थी। अंशुल ने दीदी को स्माइल दी. दीदी ने भी स्माइल दी.

अंशुल ने दीदी का हाथ पकड़ कर, अपनी तरफ खींचा तो दीदी अंशुल से चिपक गईं। अंशुल ने दीदी की गले पर किस कर दिया। दीदी भी उसे किस करने लगी. उसके बाद वो दोनों अलग हुए। मैंने कहा-

मैं: अंशुल, मैं और दीदी आपकी कहानी रोज़ पढ़ते हैं। जब मॉम डैड नहीं होते, तो पूरा दिन सिर्फ कहानी ही पढ़ते हैं। बहुत मजा आता है. आज आपको दीदी ने बुलाया है. आपका लंड पसंद आया है इसका इस्तेमाल करें। इसलिए खूब दर्द से चोदना. रंडी बना देना इसे.

दीदी: तुझे शर्म नहीं आ रही है? ऐसा बोलता है तू मेरे लिए.

मैं: अब तुम नाटक बंद करो, और कॉल बॉय के साथ मजे लो। अच्छे से चुदाई होगी तेरे.

फिर हम तीनो बातें करने लगे। रात के 7 बज गए थे. मैंने सोचा कि खाना खा लेते हैं, फिर चुदाई का गेम शुरू करते हैं। मैंने अंशुल को खाने का बोला. तो उसने हाँ बोल दिया. फिर मैंने खाना ऑर्डर किया।

अंशुल दीदी के साथ चिपक के बैठा हुआ था। दीदी भी उसके साथ खुश थी. अंशुल ने अपनी हाथ दीदी की कमर में गाड़ रखा था, और उसकी कमर मसल रहा था। दीदी भी खुश होके मुस्कुरा दे रही थी।

फिर खाना आया और हम खाना खाने लगे। अंशुल ने दीदी को अपने भगवान में बैठा के खाना खिलाया। दीदी भी बड़े प्यार से स्माइल दे कर खाना खा रही थी। जैसे अंशुल खाने का एक बाइट दीदी के मुँह में डालता, उसके बाद अंशुल दीदी के होठों को किस करता। मुझे बड़ा मजा आ रहा था.

मेरा लंड खड़ा होने लगा. अंशुल बहुत रोमांटिक लड़का है। दीदी उसके साथ सब भूल के आनंद लेने लगी। दीदी भी अंशुल के होठों को किस दे रही थी। गरम खाना खाने के साथ, अंशुल दीदी को गरम कर रहा था। फ़िर अंशुल ने कहा-

अंशुल: मेरी जान सोनिया. आपको मजा आ रहा है ना? कैसा महसूस कर रही हो?

दीदी: अंशुल, सच बहुत अच्छा लग रहा है। नीचे से तुम्हारा लंड चिपक रहा है। और मेरे साथ ऐसा खाना BF ने भी नहीं खाया।

दीदी भी खिलते हुए किस कर रही थी। कभी दीदी उसके चेहरे पर, तो कभी उसके होठों पर चूमती। मुझे भी देख कर मजा आ रहा था. मेरा लंड टाइट हो गया था. अंशुल एक बहुत अच्छा रोमांटिक लड़का है। मैंने दीदी का हाथ पकड़ के, अपनी भगवान में बैठा लिया।

मैं भी अंशुल की तरह दीदी को खिलाने लगा, और उसके होठों को छूने लगा। दीदी भी मेरा साथ दे रही थी. वो भी मुझे चूम रही थी. मैं अपना एक हाथ उसकी जोड़ी पर सहलने लगा। मैंने दीदी को कहा-

मैं: वाह मेरी प्यारी दीदी. आज तो तू मुझे किस दे रही है. मजा आ रहा है मेरी जान.

दीदी: हा बेबी. तूने इस अंशुल को बुला कर मुझे मजा जो दिया है। तो तू भी आज मेरे मजे ले.

मैं: आज तुझे चोद-चोद कर हम दोनो तेरी चूत को फाड़ देंगे।

दीदी: पागल है. आराम से प्यार करो ना. ज़्यादा वाइल्ड करोगे, तो मेरी जान निकल जायेगी। मुझे दर्द होगा.

मैं: चुप कर साली रंडी. दर्द के साथ मजा भी आएगा. आज तेरी वाइल्ड चुदाई होगी. मैंने अंशुल को पैसे दिए हैं। मुझे पैसा वसूल सेक्स चाहिए।

मैंने अब दीदी को भगवान से उठाया, और बिस्तर पर फेंक दिया। उसका बदन बिस्तर पर उछलने लगा। दीदी का लहंगा उसके घुटनो तक आ गया। मुझसे अब नहीं जा रहा था। मेरा लंड फड़फड़ाने लगा. तो मैं दीदी पर टूट पड़ा।

मैंने अंशुल को इशारा किया और गेम शुरू करने को बोला। अंशुल भी बिस्तर पर आ गया। दीदी हम दोनो के बीच में लेती थी। वो हमें देखने लगी. उसके चेहरे पर मेकअप होने से चांद जैसा लग रहा था। उसकी डरी हुई आंखें हमें देख रही थी। दीदी डरते हुए बोली-

दीदी: देखो यार. सेक्स तो करना ही है. लेकिन प्यार से और आराम से करो ना। वाइल्ड होने की क्या जरुरत है?

मैं: चुप कर साली. आज तेरी गांड चूत फटेगी. तू चुप-चाप 2 लंड के मजे ले.

अंशुल ने अब दीदी का चेहरा पकड़ा और गुलाबी होठों पर हमला कर दिया। दीदी के मुलायम होठों को वो बहुत दर्द से मुंह में लेके चुनने लगा। दीदी ने अपना एक हाथ अंशुल के बाल में गड़ा दिया, और सहलने लगी। वो भी गरम हो रही थी.

मैं भी दीदी के स्तन दबाने लगा। ब्लाउज के ऊपर से हाय स्तन को चूमने और चाटने लगा। ऊपर से अंशुल उसके होठों को चुन रहा था। नीचे मैं दीदी के स्तन चाटने लगा। दीदी 10 मिनट में बहुत गरम हो गई। वो भी अंशुल को चुनने लगी. दीदी की सिसकियाँ निकलने लगी.

दीदी: उह्ह्ह श्श्श उफ्फ्फ.

अंशुल अब बेतहाशा दीदी को छूने लगा। जिसकी दीदी की ज़ोरदार सिस्की निकल गई। मुझे मजा आया. मैं भी दीदी के स्तन ज़ोर से दबाने लगा। स्तन मोटे थे, और दबाने में मजा आ रहा था। अंशुल ने अपना एक हाथ दीदी के चूत पर रख दिया।

चुत वो मसलने लगा. ऊपर से होठों को मुँह में लेके चबाने लगा। दीदी के एक होंठ को उसने काट लिया। जिसकी दीदी के गाल निकल गईं। मुझे ख़ुशी हुई, कि आज दीदी की ज़ोरदार चुदाई का ये पहला दर्द था।

दीदी भी सब कुछ भूल कर अंशुल को चुनने लगी। उसका एक हाथ मेरे हाथ के ऊपर था, जिसमें मैं उसके स्तन दबा रहा था। वो हाथ हटा रही थी. दीदी को स्तन पर दर्द हो रहा था। मैंने हाथ ना हटा कर और ज़ोर से स्तन दबाया। दीदी ज़ोरदार सिसकियाँ लेने लगी.

दोस्तों, किसी को रियल में चोदना है। सेक्स के लिए सुरक्षित भूलभुलैया चाहिए तो अंशुल को मैसेज करो। अंशुल की मेल आईडी है। आप इस फ्री में बात कर सकते हैं। और आपको पूरी सुरक्षा मिलेगी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Delhi Escorts

This will close in 0 seconds