May 14, 2024
बीवी की चुदाई

आज की हिंदी सेक्स कहानी है "किराएदार की बीवी की चुदाई कर भाड़ा वसूला" इस कहानी को पढ़ने के बाद आप अपना लंड हिलाने से नहीं रोक पाएंगे।

आज की हिंदी सेक्स कहानी है “किराएदार की बीवी की चुदाई कर भाड़ा वसूला” इस कहानी को पढ़ने के बाद आप अपना लंड हिलाने से नहीं रोक पाएंगे।

अन्तर्वासना के सभी प्रशंसकों को मेरा नमस्कार। मैं अरुण और रांची से हूं। अभी BA फाइनल ईयर में हूं। अगर मुझसे कोई गलती हो जाए तो प्लीज मुझे माफ कर देना।

अब मैं आपको कहानी की नायिका से मिलवाता हूँ। उसका नाम सुहानी है और वह हमारे घर के नीचे वाले हिस्से में अपने पति के साथ किराये पर रहती है।

उसका फिगर 34-26-36 है। उसे देखते ही मेरा मन करने लगा कि अभी उसे अपनी बांहों में भर लूं और चोद डालूं।

आंटी का सांवला रंग उनकी खूबसूरती में चार चांद लगा रहा था। अभी दो महीने पहले ही आंटी हमारे घर आई थीं और मैंने उन्हें देखते ही उन्हें चोदने का प्लान बना लिया था। लेकिन मां की शक करने की आदत के कारण मैं हिम्मत नहीं जुटा पा रहा था।

जब भी आंटी छत पर होतीं तो मैं कोई न कोई बहाना बनाकर उन्हें छेड़ने के लिए छत पर चला जाता। वो भी मुझे देख कर मुस्कुरा देती थी।

ऐसा कुछ दिनों तक चलता रहा और मैं रोज उसके नाम लेते हुए हस्तमैथुन करके सो जाता था।

जब भी मैंने उनसे बात करने की कोशिश की, कुछ न कुछ गलत हो गया।’ लेकिन मैं भी हार मानने वालों में से नहीं था। मैं लगातार प्रयास करता रहा।

एक रात जब मैं बाज़ार से आ रहा था तो मैंने देखा कि सुहानी आंटी बहुत भारी सामान लेकर पैदल जा रही थीं। मैं स्कूटर पर था, इसलिए मैंने तुरंत मौके का फायदा उठाने का फैसला किया।

मैं उसके पास गया और उसे अपने स्कूटर पर बैठने के लिए कहा। पहले तो वह थोड़ा झिझकी, लेकिन भारी सामान होने के कारण वह स्कूटर पर बैठ गई। मैं ये मौका गँवाना नहीं चाहता था।

मैं उससे उसके बारे में पूछने लगा। उसने मुझे बताया कि वह पहली बार रांची आयी है…और उसे यहां का मौसम बहुत पसंद आया।

ऐसे ही बातें करते हुए हम घर पहुंच गये। (बीवी की चुदाई)

आंटी स्कूटर से उतरीं और अपना सामान उठाने की कोशिश करने लगीं। मैंने झट से उनका सामान उनके हाथ से ले लिया और उन्हें आगे बढ़ने को कहा।

यह देख कर वह मुस्कुराई और आगे चलने लगी। जब हम उनके कमरे के पास पहुंचे तो उन्होंने मुझे अंदर आकर बैठने के लिए कहा।

मैं माँ के डर से तो जाना नहीं चाहता था लेकिन आंटी से बात करने के लालच में अन्दर जाकर बैठ गया।

उनसे बात करके मुझे लगा कि वो बहुत सीधी-सादी आंटी हैं। उसकी मासूम मुस्कान से मेरा मन कर रहा था कि उसे पकड़ कर चूम लूं। फिर भी मैंने उससे कुछ देर बात की। फिर मैं घर गया, अपने लंड को सहलाया और सो गया।

इसके बाद आंटी मुझसे खुलकर बात करने लगीं। अब जब भी मैं उससे छत पर मिलता तो उससे जरूर कहता कि कोई काम हो तो बता देना।

Note: अगर आप भी सेक्सी भाभियाँ चोदना चाहते है तो Delhi Escorts से बुक कर सकते है आइये अब आगे की कहानी पढ़ते है।

वो भी मेरे बर्ताव से बहुत खुश थी। ऐसा करके मैं धीरे-धीरे उसके करीब आने की कोशिश करने लगा। इस दौरान मैं उनसे मजाक भी करने लगा। वो भी मेरे साथ एक दोस्त की तरह व्यवहार करने लगी। हम दोनों एक दूसरे को छूते हुए हंसी मजाक करने लगे।

कभी-कभी मैं मजाक करते हुए उसे गुदगुदी कर देता था, जिससे वो थोड़ा शरमा जाती थी। अब मुझसे बर्दाश्त नहीं हो रहा था, लेकिन आगे कैसे बढ़ना है, इसका फैसला करने का मौका भी नहीं मिल रहा था।

एक दिन जब मैं घर आया तो माँ ने मुझसे कहा कि उन्हें और पापा को दिल्ली जाना होगा। क्योंकि चाचा की तबीयत खराब है।

मेरे एग्जाम आने वाले थे इसलिए माँ मुझे अकेला छोड़ कर जा रही थी। उन्होंने कहा कि उन्हें अगले दिन निकलना है। यह कह कर वह अपनी तैयारी में लग गयी। मैं अंदर ही अंदर खुश था और मेरी खुशी तब दोगुनी हो गई जब मम्मी ने आंटी को हमारे घर बुलाया और कहा कि अगर उन्हें कोई परेशानी न हो तो वह यहां आकर मेरे लिए खाना बना सकती हैं।

आंटी ने तुरंत हाँ कह दिया। (बीवी की चुदाई)

अब मैं बस माँ के जाने का इंतज़ार करने लगा। जिस दिन माँ चली गयी, उस दिन मैंने ढेर सारी ब्लू फिल्में डाउनलोड करके अपने लैपटॉप में रख लीं। माँ के जाने के बाद मैंने लगातार आंटी के बारे में सोच कर दो बार हस्तमैथुन किया।

शाम को आंटी खाना लेकर आईं और जाते वक्त बोलीं कि कल सुबह अंकल के जाने के बाद मैं यहीं खाना बना दूंगी।

मैं उसकी बात सुनकर बहुत खुश हो गया और अगले दिन का बेसब्री से इंतजार करने लगा। उस रात मुझे बिल्कुल भी नींद नहीं आ रही थी।

आख़िरकार सुबह हुई और अंकल के जाने के बाद आंटी हमारे घर आईं। उस दिन आंटी ने नीले रंग की साड़ी पहनी हुई थी। उसे देखकर ऐसा लग रहा था मानो आसमान से कोई फरिश्ता आया हो। लेकिन उस परी को क्या पता था कि आज एक नया लंड उसकी चूत पर आक्रमण करने वाला है।

अन्दर आते ही आंटी सीधे किचन में चली गईं। मैं भी उसके पीछे हो लिया। वो रोटी बना रही थी और मैं उनसे मजाक कर रहा था।

मजाक करते-करते मैं अपनी आदत के मुताबिक उसे गुदगुदी करने लगा, जिससे उसके हाथ की एक उंगली जल गई। मैंने झट से उसकी उंगली अपने मुँह में ले ली और चूसने लगा, जिसे देखकर वो और भी ज़ोर से हंसने लगी।

मैंने मौका देख कर उसका सिर पकड़ लिया और चूम लिया। उसने मुझे पीछे धकेला और जोर से थप्पड़ मारा। मैं तुरंत अपने घुटनों पर बैठ गया और उससे माफी मांगने लगा। कुछ देर बाद उसका गुस्सा शांत हुआ और वह अपने घर जाने लगी।

मैंने जवाब में चिल्लाकर कहा- मैं तुमसे बहुत प्यार करता हूँ।

मेरी तेज़ आवाज़ सुनकर जैसे ही वो मुड़ीं, मैंने उनका हाथ पकड़ कर ज़ोर से अपनी ओर खींच लिया और आंटी को अपनी मजबूत बांहों में जकड़ लिया।

कुछ देर ऐसे ही खड़े रहने के बाद वो बोली- ये बहुत गलत है।

इस पर मैंने कहा- एक बार मौका देकर देखो। (बीवी की चुदाई)

दिल्ली में सस्ती और सेक्सी लड़कियां चुदाई के लिए बुक करें:

इस पर उन्होंने कहा- अगर ये बात तुम्हारे अंकल को पता चल गई तो वो मुझे मेरे गांव छोड़ देंगे।

मैंने कहा- न अंकल को पता चलेगा.. न किसी और को.. क्योंकि हम दोनों ये बात किसी को नहीं बताएंगे।

इस पर वह चुपचाप वापस रसोई में चली गयी। ऐसा लगा मानो मुझे हरी झंडी मिल गयी हो। मैंने झट से जाकर उसे पीछे से पकड़ लिया और उसके कान के नीचे चूमने लगा। साथ ही मैं आंटी के मम्मों को दबाने लगा।

हालाँकि आंटी अभी भी मेरा साथ नहीं दे रही थीं, लेकिन मुझे रोक भी नहीं रही थीं। मैंने उसे गोद में उठाया और कमरे में ले जाकर बिस्तर पर पटक दिया। उसकी साड़ी और पेटीकोट ब्लाउज उतार दिया। इसके बाद मैंने आंटी की ब्रा पैंटी भी उतार दी।

इसके बाद मैं उसकी टांगों के बीच में घुस गया और उसकी चूत को चाटने लगा। जिससे वो पूरी तरह से मदहोश होने लगी।

अब आंटी गर्म होने लगी थीं और कामुक सिसकारियां लेते हुए कह रही थीं- उम्म्ह… अहह… हय… याह… याह… क्या… क्या कर रहे हो।

उनकी कामुक कराहों से मुझे एहसास हुआ कि अंकल ने आज तक आंटी की चूत नहीं चाटी है।

कुछ देर बाद जब मैं आंटी की टांगों के पास से निकला तो आंटी ने मुझे कस कर पकड़ लिया और मुझे चूमने लगीं।

इस पर मैंने कहा- अगर मुझे पहले पता होता कि तुम्हारी चूत चाटने से काम बन जाएगा तो पहली बार में होंठों की जगह चूत पर हमला कर देता।

इस पर आंटी जोर से हंसीं और मुझसे लिपट गईं।

अब मैंने आंटी को पकड़ा और उनके भूरे भूरे रंग के निपल्स वाले स्तनों को देखा। उसकी खूबसूरत चुचियों को देख कर मैं अपने आप पर काबू नहीं रख सका और उसकी रसीली चुचियों पर टूट पड़ा। मैं भूखे शेर की तरह उसके भूरे और मोटे निपल्स को अपने होंठों में दबा कर चूस रहा था। आंटी जोर जोर से कराह रही थी।

कुछ देर बाद मैंने आंटी को पूरी तरह गर्म कर दिया और उनकी रसीली चूत में उंगली करने लगा।

उसी समय अचानक मेरी नज़र मेरे फ़ोन पर गयी जो साइलेंट मोड पर था, उसकी लाइट बुझी हुई थी। मैंने देखा कि मेरे फ़ोन पर माँ का कॉल आ रहा था। मैंने माँ का फोन नहीं उठाया और अपनी मस्ती जारी रखी। (बीवी की चुदाई)

माँ के फोन से मुझे एक शरारत का आइडिया आया। मैंने अपने फोन को हाई वाइब्रेशन मोड पर सेट किया और आंटी के फोन से उन्हें कॉल करना शुरू कर दिया। अब जैसे ही फोन वाइब्रेट होता तो मैं फोन को आंटी की चूत पर रख देता, जिससे आंटी सिहर उठतीं।

धीरे-धीरे मैंने अपना फोन आंटी की चूत में पूरा घुसा दिया, इससे जब भी कंपन होता तो आंटी पूरी तरह से सिहर उठती और कंपन बंद होते ही आंटी मुझे प्यासी नजरों से देखने लगती।

कुछ देर के इस मजे के बाद आंटी की चूत से पानी की तेज धार निकली और आंटी एकदम निढाल हो गईं और जोर जोर से सांसें लेने लगीं।

उसके बाद मैंने अपना लंड निकाल कर उसके हाथ में दे दिया, जिसे वो सहलाने लगी। कुछ देर तक लंड को सहलाने के बाद मैं भी स्खलित हो गया।

उसके बाद मैंने अपने लंड से आंटी की चूत पर निशाना साधा और एक ही झटके में अपना लंड आंटी की चूत में डाल दिया। आंटी के मुँह से आह निकल गई।

कुछ ही पलों के बाद मेरा लंड किसी सरहदी मर्द की तरह आंटी की चूत से खेलने लगा। आंटी के खूबसूरत स्तन मेरे दोनों हाथों में थे और मेरा लंड उनकी चूत में घुसा हुआ था।

दस मिनट की चुदाई के अंदर आंटी दो बार फिर से चरमसुख से भर चुकी थीं। उस दिन मैंने आंटी को चार बार चोदा।

दोस्तो… यह थी मेरी पड़ोसन आंटी के साथ मेरी पहली चुदाई की कहानी। अभी मुझे रोका नहीं जा सकता, मैं हस्तमैथुन करने जा रहा हूं।

तो दोस्तो, आपको मेरी यह चुदाई की कहानी कैसी लगी, जरूर बताएं।

अगर आपको यह बीवी की चुदाई कहानी पसंद आई तो हमें कमेंट बॉक्स में ज़रूर बताएं।

यदि आप ऐसी और चुदाई की सेक्सी कहानियाँ पढ़ना चाहते हैं तो आप “Readxstories.com” पर पढ़ सकते हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Delhi Escorts

This will close in 0 seconds