May 21, 2024
चाची को जमकर चोदा

नमस्कार मेरा नाम अमन है आज में आपको बताने जा रहा हु की कैसे मेने अपनी "चाची को जमकर चोदा और उनकी चुदाई का भरपूर मजा लिया"

नमस्कार मेरा नाम अमन है आज में आपको बताने जा रहा हु की कैसे मेने अपनी “चाची को जमकर चोदा और उनकी चुदाई का भरपूर मजा लिया”

मेरी उम्र 21 साल है. मैं दिल्ली का रहने वाला हूँ. मेरे लिंग का साइज 7.2 इंच है. लिंग की मोटाई 2.5 इंच है. मुझे सेक्स करने का बहुत शौक है. आप इसे मेरी वासना भी कह सकते हैं. मुझे चोदने में बहुत मजा आता है.

मैं हर साल गांव आता रहता हूं. मेरी चाची वहां रहती हैं. ये कहानी भी वहीं से जुड़ी है. यह घटना दो साल पहले की है जब मैं छुट्टियों में गांव में था.

वहां मैंने अपनी चाची के घर पर काफी समय बिताया और उनके परिवार से अच्छी तरह घुल-मिल गया। मेरी चाची की दो बेटियाँ और एक बेटा है।

उस समय घर में केवल चाची और उनकी बेटी ही रहते थे. उसका बेटा दूसरी जगह काम करता था. मेरी चाची की कुंवारी बेटी का बदन काफी भरा हुआ था.

उसके दूध बहुत बड़े थे और उसकी गांड देखकर मेरा लंड खड़ा हो गया. एक दिन मैं सोफ़े पर बैठा टीवी देख रहा था। तभी आशिका (बुआ की बेटी) झाड़ू लगाने के लिए कमरे में आयी.

जब मेरी नज़र उस पर पड़ी तो मुझे उसके स्तन साफ़ नज़र आ रहे थे। उसने नाइटी पहनी हुई थी. उसके स्तन देख कर मेरे मुँह में पानी आ गया.

मैं उसके स्तनों को घूर रहा था तभी उसने मुझे देख लिया। वो पूछने लगी- क्या देख रहे हो? मेंने कहा कुछ नहीं। वो मेरी बात सुनकर मुस्कुराने लगी.

जब वो कमरे में झाड़ू लगाकर बाहर जाने लगी तो उसने मेरे गाल पर प्यार से थप्पड़ मारा और हंसते हुए बाहर चली गयी.

मेरा लंड खड़ा हो गया था. मैं उसके मम्मे दबाने और उसकी चूत चोदने के लिए बेताब था. शाम तक मैंने किसी तरह खुद पर काबू पाया.

रात को जब वो दोनों सो गये तो मैं भी लेटा हुआ था। आशिका का बिस्तर मेरे बिस्तर के बगल में था। चाची भी सो रही थी. मेरे लिंग में हलचल होने लगी.

मैं चुपचाप उठा और आशिका के पास गया. वह सो रही थी। मैं जाकर उसके बगल में लेट गया. मुझे लगा कि मौका अच्छा है. मेरा लंड पहले से ही खड़ा था.

उसके बगल में लेटकर मैंने धीरे से अपना हाथ उसके मोटे और बड़े स्तनों पर रख दिया। मुझे थोड़ा डर भी लग रहा था क्योंकि पास में ही चाची भी सो रही थीं.

बिस्तर जमीन पर लगाए गए थे. मैं आशिका के मम्मों को धीरे-धीरे दबा रहा था। उसके मुलायम स्तनों को छूकर मेरा लंड बेकाबू हो गया.

मैं उसके मम्मों को थोड़ा कस कर दबाने लगा. फिर भी वो कुछ रिएक्ट नहीं कर रही थी. उसका शरीर गर्म हो रहा था और मैं उसके स्तनों को जोर-जोर से दबा रहा था।

फिर मैंने अपना हाथ उसकी नाइटी में डाल दिया. उसकी नाइटी को पैरों से ऊपर उठाना शुरू कर दिया. उसकी नर्म मुलायम जाँघों को सहलाते सहलाते मेरा हाथ उसकी पैंटी तक पहुँच गया।

अब मैं अपने आप को रोक नहीं सका. मैंने अपना हाथ उसकी पैंटी में डाल दिया. मैं उसके बड़े नितंबों को दबाते हुए अपना लंड उसकी गांड पर रगड़ने लगा. मुझे बहुत मजा आ रहा था. उसकी चूत दूसरी तरफ थी.

मुझे उसकी चूत को छूने का मन कर रहा था. जब चाची उठीं तो मेरे हाथ उनकी गांड पर थे. मैं अचानक एक तरफ मुड़ गया. मैंने तुरंत आशिका की नाइटी नीचे खींच दी और सोने का नाटक करने लगा.

मैंने देखा कि चाची उठकर किचन में पानी पीने चली गईं और फिर वापस आकर मेरे बगल में लेट गईं. कुछ देर तक मैं ऐसे ही लेटा रहा. मुझे चिंता हो रही थी कि कहीं चाची ने मेरी हरकत देख न ली हो.

मैंने सोचा कि अभी जोखिम लेना ठीक नहीं है. चाची कुछ ज्यादा ही सट कर लेटी हुई थीं. मैं वैसे ही चुपचाप लेटा रहा. मुझे नींद आ गई और मैं सो गया.

रात करीब एक बजे मेरी आंख खुली. मैंने देखा कि चाची मेरे बगल में थीं लेकिन उनकी साड़ी उनकी छाती पर नहीं थी. ब्लाउज में चाची के बड़े-बड़े स्तन देख कर मुझे अपनी आँखों पर विश्वास नहीं हुआ।

चाची के मम्मे उनकी बेटी आशिका से भी बड़े थे. ऐसा लग रहा था मानो चाची के स्तन ब्लाउज फाड़ कर बाहर आ जायेंगे। उन्हें इस हालत में देख कर मैं कंट्रोल नहीं कर पाया और मैंने चाची के स्तनों को छू लिया.

उसके स्तन सचमुच अद्भुत थे। मैंने कभी किसी औरत की छाती पर इतने बड़े स्तन नहीं देखे थे. धीरे-धीरे मेरी हिम्मत बढ़ती गई और मैं चाची के स्तनों को सहलाने लगा। अब मैं बीच-बीच में उसके स्तन भी दबा रहा था।

मैंने दूसरी तरफ देखा तो आशिका सो रही थी. मैंने मौके का फायदा उठाने की सोची और चाची के ब्लाउज के बटन खोल दिये. जैसे ही उसने बटन खोला, उसके स्तन अचानक खिल उठे।

ऐसा लग रहा था मानों किसी ने कबूतरों को पिंजरे से आज़ाद कर दिया हो। चाची के स्तनों के निपल भूरे रंग के थे. मैंने देखा कि उसके चुचे भी बहुत बड़े थे.

मैंने चाची के स्तनों के बीच के तने को उनके निपल्स पर अपनी जीभ से चाटा। वाह… उसके स्तनों से बहुत ही मादक गंध आ रही थी। मैं चाची के मम्मों को चूसने लगा.

मैं उसके बड़े स्तन दबा रहा था और उसके निपल्स चूस रहा था। ऐसा करते करते मेरा लंड फटने को हो गया था. लिंग में दर्द शुरू हो गया था. अब मैं अपने आप को रोक नहीं सका.

मेरे लंड को एक छेद की ज़रूरत थी जो मुझे चाची की चूत के रूप में दिखाई दे. धीरे-धीरे मैंने चाची की साड़ी उनके पेट से हटा दी और उनके पेटीकोट का नाड़ा खींच दिया।

अब चाची की नाभि से पेटीकोट का नाड़ा खुल गया था. चाची की चूत अब बस कुछ ही देर की दूरी पर थी.

मैंने उसका पेटीकोट उतारा तो अन्दर का नजारा देख कर मेरे मुँह में पानी आ गया. चाची की बालों से भरी चूत मेरी आँखों के सामने थी. वो नजारा देख कर मैं खुद को रोक नहीं पाया. मैं चाची की चूत को चाटने लगा.

चाची की चूत की खुशबू सच में पागल कर देने वाली थी. मैं उसकी बालों वाली चूत को मजे से चाट और चूस रहा था. मुझे नहीं पता था कि चाची जाग रही थीं या सो रही थीं. मैं तो बस अपनी ही मस्ती में खोया हुआ था.

दो मिनट बाद ही मुझे अपने सिर पर किसी हाथ का दबाव महसूस हुआ. मैंने सिर उठाया तो चाची जाग चुकी थीं. वो एक हाथ से मेरा सिर सहला रही थी.

मैंने चाची की चूत से अपनी जीभ हटाई तो उन्होंने मुझे फिर से अपनी चूत चाटने का इशारा किया.

मैं एक बार फिर से उसकी चूत को चूसने लगा. अब मैंने अपनी जीभ चाची की चूत के अन्दर डाल दी. उसकी चूत के रस का स्वाद मेरे मुँह में आने लगा.

अब मैं एक हाथ से उसके स्तनों को सहला और दबा रहा था। दूसरे हाथ से वो चाची की जांघें सहला रहा था. मेरी जीभ चाची की चूत में अन्दर तक जा रही थी.

अब चाची अपनी चूत को ऊपर की ओर उठाने लगीं. मैं करीब दस मिनट तक चाची की चूत का रस चाटता रहा. अचानक उसकी चूत ने पानी छोड़ दिया.

उनकी चूत से तरल पदार्थ निकलने के बाद चाची थोड़ी ढीली पड़ गईं. चाची की नजर मेरी पैंट पर पड़ी. मेरा लंड मेरी पैंट को भी गीला करने लगा था. मेरा लिंग खड़ा हो गया था और बुरी हालत में था।

चाची ने मेरी पैंट के ऊपर से ही मेरे खड़े लंड को सहलाया और दबाया. मेरा लंड लोहे की तरह सख्त हो गया था. मेरे लंड का आकार और तनाव देख कर चाची के चेहरे पर मुस्कान आ गयी.

उसके बाद उसने मेरी पैंट खोल दी और मेरा अंडरवियर भी नीचे खींच दिया. मेरे लंड को देख कर चाची अचानक बोलीं- आह्ह … तुम सच में बहुत बड़े हो गए हो … ऐसा लंड मैंने अपनी जिंदगी में कभी नहीं देखा.

मैंने कहा- कोई बात नहीं चाची, अब जी भर कर कोशिश करो. ये कहते हुए मैंने अपना लंड चाची के मुँह के पास रख दिया.

चाची ने मेरे सने हुए लिंग की ओर देखा और उसके लिंग-मुण्ड को चाटने के बाद तुरंत पूरा लिंग अपने मुँह में ले लिया। मैं आनंद में डूब गया.

चाची मेरा लंड चूसने लगीं. लिंग बहुत तन गया था और मैं उसे रोक नहीं पा रहा था. मैंने चाची के मुँह से लंड बाहर खींच लिया. चाची हांफते हुए बोलीं- धीरे धीरे करो.

मैंने एक बार फिर से चाची के मुँह में अपना लंड पेल दिया और धक्के लगाने लगा. ऐसा लग रहा था मानो मैं चाची के मुँह को चोद रहा हूँ।

दो मिनट तक दूसरी बार अपना लंड चुसवाने के बाद मैं खुद पर काबू नहीं रख सका और मैंने चाची की टांगें चौड़ी कर दीं. मैंने अपने लिंग के सिरे पर ढेर सारा थूक मल लिया.

मैंने अपना लंड चाची की चूत पर रखा और एक जोरदार धक्का दे दिया. चाची चिल्लाने ही वाली थीं कि मैंने उनके मुँह पर हाथ रख दिया.

मैंने चाची के होंठों पर अपने होंठ रख दिए और अपना लंड उनकी चूत में डालता रहा. मैंने अभी दूसरा धक्का भी नहीं लगाया था कि चाची की आंखों से आंसू निकल आये.

दो मिनट रुकने के बाद मैंने एक बार फिर धक्का लगाया. मेरे लिंग का टोपा अन्दर चला गया था. मैं धीरे धीरे लिंग को आगे की ओर धकेलता रहा. धीरे धीरे चाची का दर्द कम हो गया और पूरा लंड चाची की चूत में घुस गया था.

अब चाची को मेरे लंड से चुदाई का मजा आने लगा. मैंने चाची की चूत को चोदना शुरू कर दिया. चाची के मुँह से कामुक कराहें निकलने लगीं.

उसके साथ उसकी बेटी आशिका भी सो रही थी। इसलिए चाची ज्यादा जोर से आवाज नहीं कर रही थीं. मैं चाची की चूत में जोर जोर से धक्के मारने लगा. चाची की आंखें बंद होने लगीं.

मुझे भी बहुत मजा आ रहा था. मैं भी चाची की चूत चुदाई का पूरा मजा ले रहा था. चाची की गर्म चूत को चोद कर मुझे सच में बहुत मजा आ रहा था. चाची के निपल्स खड़े हो गये थे

और मैं बीच-बीच में उन्हें अपने दांतों से काट लेता था. जैसे ही चाची ऐसा करतीं तो उनके मुँह से आह निकल जाती. दस मिनट की चुदाई के बाद मैं झड़ने वाला था.

मैंने चाची से कहा- मैं प्रेग्नेंट होने वाला हूं. चाची बोलीं- अपना लंड मेरी चूत के अंदर ही झड़ जाओ. मेरी चूत की प्यास बुझा दो. मैंने चाची की टांगों को घुटनों से पकड़ लिया

और चाची की चूत में तीन-चार जोरदार धक्के मारे और मेरा लंड अचानक से अकड़ने लगा। अचानक मेरे लंड से वीर्य निकलने लगा और मैंने सारा वीर्य चाची की चूत में भर दिया.

उसके बाद मैं थक कर एक तरफ लेट गया. लेकिन दस मिनट बाद चाची फिर से मेरे लंड को मुँह में लेकर चूसने लगीं. उसके बाद एक बार फिर से मेरा लंड खड़ा हो गया. मैंने चाची की चूत फिर से चोदी.

तीसरी बार मैंने चाची को पूरी नंगी करके घोड़ी बना कर चोदा. इस तरह मैंने चाची की चूत चोदने का भरपूर मजा लिया. उस रात मैंने चाची की चूत को तीन बार चोदा और सुबह तक उन्हें सोने नहीं दिया.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Delhi Escorts

This will close in 0 seconds