May 21, 2024
Chachi ki Gand Chudai

चाची की गांड चुदाई की कहानी में मैंने अपनी जवान चाची को अपने पड़ोस के एक चाचा से गांड मरवाते हुए देखा. मेरी कामुक चाची को अपनी गांड मरवाने में बहुत मजा आता है।

दोस्तो, कैसे हैं आप लोग!

पाठको, मैं मोहित
मेरी पिछली कहानी

मेरे बॉस की बीवी की चुदाई – Boss ki Biwi ki Chudai

मै आपको अपनी बॉस की बीवी की Gand Chudai ki kahani बता रहा था.
आपने पढ़ा था कि बॉस की बीवी ने मुझे से अपनी चूत चुदवा ली थी और मैं उन पर झाड़ कर उनके ऊपर ही ढेर हो गया था.

मैं Readxstories.com की Hindi Sex Stories का नियमित पाठक हूँ और मुझे सेक्स कहानियाँ पढ़ने में बहुत मजा आता है।

अब मैं आपके सामने अपनी कहानी लेकर हाजिर हूँ.

मेरी यह Real Hindi Sex Story है मेरी चुदक्कड़ चाची की है जिसे अपनी Gand Chudai कराने में बहुत मजा आता है और उसके पास गांड चुदाई का सारा सामान भी है.

मेरे चाचा जब भी बाहर से आते हैं तो उसे एक बार जरूर चोदते हैं और सबसे ज्यादा उसकी गांड ही चोदते हैं।

अपनी चाची की गांड चुदाई की कहानी शुरू करने से पहले मैं आपको अपनी चाची के बारे में बता देता हूं.

मेरी चाची दिखने में बहुत खूबसूरत हैं, बिल्कुल एक आकर्षक लड़की की तरह।
वह किसी का भी लंड खड़ा कर सकती है. उनका रंग बिल्कुल दूध जैसा सफेद है.

हालाँकि मेरी चाची पाँच बच्चों की माँ हैं, लेकिन वो बिल्कुल भी पाँच बच्चों की माँ जैसी नहीं लगतीं।
उन्होंने अपने फिगर को काफी मेंटेन कर रखा है.

मेरी चाची की गांड बहुत बड़ी और Moti Gand है.. कमाल की बात ये है कि वो एक साथ दो लंड ले सकती हैं.
उसकी गांड का छेद बहुत बड़ा है और थोड़ा काला भी है.
मेरे चाचा ने मेरी चाची की गाण्ड मार-मार कर काली कर दी है।

मैंने बहुत से लोगों को चाची के Big Boobs को घूरते हुए देखा है। हालाँकि चाची के बूब्ज़ भी बहुत मस्त और लाजवाब हैं।
वह अपनी चूत हमेशा साफ रखती है और उसके स्तन भी काफी भरे हुए हैं।

मैं उसके स्तनों का आकार नहीं जानता लेकिन वह 36 ब्रा और डबल एक्सएल चड्डी पहनती है।

एक बार मैं अपनी चाची के घर गया हुआ था.
उस दिन मेरी चाची क्या गजब लग रही थीं … आह एकदम पटाखा लग रही थीं.

मेरा मन तो कर रहा था कि अभी उसे चोद दूं.
इस बार उसकी गांड और स्तन पहले से थोड़े बड़े लग रहे थे. उनका चेहरा भी थोड़ा सूजा हुआ था.

मैं समझ गया कि कुछ देर पहले ही मेरे चाचा ने उसे अच्छे से चोदा था.

कुछ देर तक मैं अपनी चाची के बच्चों के साथ खेलता रहा।
फिर वो लोग भी थोड़ी देर बाद स्कूल चले गये.

अब मैं चाची के कमरे की तरफ गया.
कमरे का दरवाजा खुला था.

मैं चुपचाप अन्दर घुस गया.
मुझे बाथरूम के अंदर पानी गिरने की आवाज़ आ रही थी.
मैं समझ गया कि चाची अन्दर नहा रही हैं.

मैं छुप कर अन्दर झाँकने लगा.
मैंने देखा कि मेरी चाची ने अपना पुराना हनीमून वीडियो चला रखा था और मजे से अपनी बड़ी गांड हिला रही थी और अपनी चूत में उंगली कर रही थी.
उसकी इस्तेमाल की हुई चड्डी कमरे में ही पड़ी हुई थी.

उस वक्त मुझे ये सब देखकर बहुत मजा आ रहा था.
फिर मैंने देखा कि चाची बाहर आने वाली है तो मैंने चुपचाप उनकी एक चड्डी उठाई और कमरे से बाहर आ गया और बाथरूम में जाकर उनको याद करते हुए उनकी चड्डी को सूंघने लगा.

सच दोस्तो, उसके अंडरवियर से क्या खुशबू आ रही थी… मैं आपको बता नहीं सकता।

मैंने हस्तमैथुन किया और वापस बाहर आ गया और खाना वगैरह खाकर हम सब सो गये.

फिर पूरा दिन टीवी देखकर समय गुजारा।
जब रात हुई तो हमने खाना खाया और सब सो गये.

रात को अचानक मुझे अजीब सी आवाजें सुनाई दे रही थीं.. जैसे कोई किसी को बहुत जोर से चोद रहा हो।

मैं कमरे से बाहर आ गया. मैंने ध्यान दिया तो पाया कि ये आवाजें मेरी चाची के कमरे से आ रही थीं.
मैंने अन्दर झाँक कर देखा तो देखता ही रह गया.

अंदर कमरे में मेरी चाची के पड़ोसी चाचा थे.
मैंने उसे कई बार अपनी चाची के घर आते हुए देखा था.
वो चाचा भी तभी घर आते थे जब मेरे चाचा घर पर नहीं होते थे.

मैंने कमरे में झाँक कर देखा तो चाचा मेरी चाची की गांड को चूम रहे थे और चाट रहे थे.
और चाची भी अपनी गांड चटवाने का मजा ले रही थी.
उसके मुँह से बहुत सेक्सी आवाजें निकल रही थीं ‘आह आह जानू … और चाटो आह.’

थोड़ी देर बाद, मेरी चाची ने पीड़ा में कहा – कृपया प्रिय, अब आप मेरी गांड को जल्दी से मारते हैं और मेरी गांड की खुजली को हटा देते हैं। मैंने बहुत दिनों से गांड नहीं मरवाई है.
लेकिन उस अंकल ने बिना जल्दी किये अपनी चड्डी उतार दी और अपना मोटा लंड मेरी चाची के हाथ में पकड़ा दिया.

अब क्या बताऊँ… उस अंकल का लंड बहुत मोटा और टाइट था.
उसका लंड मेरे चाचा के लंड से बहुत बड़ा था.
मैंने एक बार मौसा जी का लंड तब देखा था जब वो पेशाब करते समय उसे हिला रहे थे.

मेरी चाची ने उस चाचा का लंड अपने हाथ में पकड़ लिया और कुछ देर तक हिलाया.

फिर मेरी चाची ने अंकल जी का लंड अपने दोनों मम्मों के बीच रखा और रगड़ने लगीं.
अंकल को मजा आने लगा.
वो चाची के मम्मों को मसलते हुए अपना लंड उनके मुँह में देने की कोशिश कर रहा था.

थोड़ी देर बाद मेरी चाची ने उस चाचा का लंड अपने मुँह में ले लिया और लॉलीपॉप की तरह चूसने लगीं.
अब अंकल जी के मुँह से मादक आवाजें निकलने लगीं.

चाची लंड को मुंह के अंदर तक लेकर चाचा के बालों को अपने हाथ से सहला रही थी.

इसका बड़ा असर हुआ और कुछ देर बाद अंकल स्खलित हो गये.
चाची ने उस चाचा के लंड का सारा रस अपने मुँह में ले लिया और लंड को चाटते हुए रबड़ी की तरह सारा माल पी गईं.

फिर चाची जी ने अंकल जी के लंड को चाटकर अच्छे से साफ कर दिया और उनकी गांड भी चाटी.

अब चाचा ने मेरी चाची को बिस्तर पर लेटा दिया और वो अपना लंड मेरी चाची के चेहरे की तरफ करके लेट गये.
चाचा जी ने फिर से अपना मोटा लंड मेरी चाची के मुँह में डाल दिया और खुद मेरी चाची की चूत को चूमने और चाटने लगे.

दोनों एक दूसरे को चूसते-चूसते रहे।
इस बीच मेरी चाची भी चरम सुख पर पहुँच चुकी थीं.

अब Bur Chudai का समय आ गया था.

चाचा जी ने सेक्स का पोज बनाया और मेरी चाची के गालों को चूमते हुए बोले- मेरी जान, मेरी रानी, मैं तुम्हें गाली देते हुए चोदूंगा तो तुम्हें बुरा तो नहीं लगेगा ना?

चाचा के होंठों को चूम कर चाची ने मुझे जी भर कर चोदने की इजाजत दे दी.

चाचा जी ने मेरी चाची को बिस्तर पर पीठ के बल लिटा दिया और उनकी गांड के नीचे एक तकिया रख दिया.
मेरी चाची ने खुद अपने हाथों से उस चाचा के लंड पर कंडोम लगाया.

चाचा ने मेरी चाची की टांगें उठा कर उनके मम्मों पर रख दीं.
उसकी बड़ी गांड अंकल के सामने थी.

अंकल जी ने सबसे पहले अपनी उंगलियाँ मेरी चाची की गांड में डालीं और धीरे-धीरे अन्दर-बाहर करने लगे।

कुछ देर बाद चाचा ने चाची से कहा- चाची, तुम्हारी गांड बहुत गर्म और टाइट है.
मामी भी बोलीं- क्या करूं यार … उस काले आदमी ने तो मुझे ठीक से चोदा ही नहीं. प्लीज डार्लिंग, तुम मेरी खुजली मिटा दो।

यह सुनते ही चाचा ने मेरी चाची की गांड पर तेल लगाया और थोड़ा तेल अपने लंड पर भी लगा लिया.
फिर उसने अपना लंड मेरी चाची की गांड के छेद पर सेट किया और मेरी चाची से बोला- साली, आज मैं तेरी गांड में छेद कर दूंगा.

ये कहते हुए चाचा जी ने एक ही झटके में अपना पूरा लंड मेरी चाची की गांड में घुसा दिया.
चाची की चीख निकल गई- उई माँ मर गई!

एक पल के लिए तो मुझे ऐसा लगा जैसे अंकल का लंड मेरी चाची की बड़ी आंत तक पहुंच गया हो.

दोस्तों कुछ देर बाद मेरी चाची को भी Anal Sex का मजा आने लगा.
वो अपने बड़े कूल्हे ऊपर उठा कर अंकल का साथ देने लगी.
उसके मुँह से ‘आह उह या फाड़ दो मेरी गांड… आह…’ की आवाजें निकल रही थीं.

वो अंकल भी मेरी चाची को बड़े मजे से चूम रहे थे और चोद रहे थे.
उनका मोटा लंड मेरी चाची की गांड में अपनी जगह बना चुका था और चाचा जी का लंड मेरी चाची की गांड में लगातार घूमने लगा था.

अंकल मेरी गांड चोदते समय एक हाथ से मेरी चाची की चूत में भी उंगली कर रहे थे.

वो अपने दूसरे हाथ से मेरी चाची के मम्मे दबा रहा था.

वह मेरी चाची की गांड को बहुत खुशी से मार रहा था।

चूत में उंगली करने से चाची भी फिर से झड़ गईं. चूत का पानी गांड के छेद तक बहने लगा था जिससे चाची की पूरी गांड गीली हो गयी थी.

कुछ देर बाद चाचा जी ने धीरे से मेरी चाची की गांड के नीचे से तकिया हटा दिया और उन्हें कस कर पकड़ कर चोदने लगे.

कुछ देर बाद चाचा ने मेरी चाची को अपनी गोद में बैठा लिया और मेरी चाची खुद अपनी बड़ी गांड उठाकर चाचा के लंड पर कूदने लगीं.

कुछ देर बाद चाचा झड़ने वाले थे तो उन्होंने अपना मोटा लंड मेरी चाची की गांड से निकाला और चाची के मुँह की तरफ कर दिया.

मेरी चाची चाचा का लंड हिलाने लगीं और वह झड़ने लगे.
अंकल का लंड मेरी चाची के मम्मों पर गड़ने लगा.

फिर मेरी चाची ने उस चाचा का लंड अपने मुँह में ले लिया और चूसकर अच्छे से साफ कर दिया.

चाचा का लंड ढीला हो गया था लेकिन चाची को चाचा के लंड से खेलने में मजा आ रहा था.
कुछ देर तक वह लड़के के साथ खेलती रही.

इससे अंकल का लंड भी सांप की तरह फड़फड़ाने लगा.
अंकल ने मेरी चाची को किस करते हुए पकड़ लिया और एक ही झटके में अपना पूरा लंड वापस मेरी चाची की गांड में डाल दिया.

वो मेरी चाची के मम्मों को मुँह में लेकर चूसते हुए उन्हें चोदने लगा.

उस दिन पूरी रात चाची की चुदाई चलती रही.
अंकल जी ने मेरी चाची को हर पोजीशन में चोदा.
चाची की गांड इतनी खुल गयी थी कि लंड ने भी साथ छोड़ दिया था.

दोस्तो, आज की सेक्स कहानी में मैं बस इतना ही लिख रहा हूँ।
आप लोगों को मेरी चाची की गांड चुदाई की कहानी कैसी लगी? कृपया मुझे नीचे टिप्पणी में बताएं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Delhi Escorts

This will close in 0 seconds