June 18, 2024
Sali Ki Gand Ki Chudai

Sali Ki Gand Ki Chudai की कहानी में मेरी छोटी बहन के पति ने मेरी गांड पहली बार मारी तो दर्द से मैं बेहाल हो गयी. पर बाद में मुझ मजा भी बहुत आया.

प्रिय पाठको,
आपने मेरी पिछली कहानी: चाची की गांड चुदाई की कहानी बहुत पसंद की.
धन्यवाद.

अब आगे Sali Ki Gand Ki Chudai की कहानी:

हॉस्पिटल में सेक्स करने के कुछ दिन बाद मेरे पति मोहित को अमेरिका जाने का आदेश मिला और इस बार उन्हें करीब एक महीने तक अमेरिका में रहना पड़ा.
इसी दौरान करवा चौथ का त्यौहार भी आ रहा था लेकिन मेरे पति इस समय मेरे साथ नहीं रह सके।

उनके जाने के बाद राहुल से मेरी बातचीत शुरू हुई.
मैंने उन्हें बताया कि मोहित अमेरिका चला गया है और मैं एक महीने के लिए रिया के साथ रहूँगा।

यह सुनकर राहुल की ख़ुशी का ठिकाना नहीं रहा.
वो बोला- साली, इस बार हम आपके साथ करवाचौथ मनाएंगे और आपको अपना व्रत हमारे हाथों ही खोलना होगा.

मैंने कहा- लेकिन रागिनी भी तो है, उसका क्या?
आनन्द- चिंता मत करो साली, मैंने सारा प्लान बना लिया है.
मैं उसकी मंशा से सहमत हो गया.

यहां की परंपरा है कि शादी के बाद लड़की अपना पहला करवा चौथ अपने मायके में मनाती है।
रागिनी करवाचौथ से दो दिन पहले अपने मायके पहुंची थी।

राहुल की सलाह के अनुसार मैंने रिया को भी अपने माता-पिता के घर भेज दिया।

करवाचौथ से एक दिन पहले मेरे घर एक पार्सल आया.
जब मैंने भेजने वाले का नाम देखा तो उस पर डॉ. राहुल लिखा हुआ था।

मुझे पार्सल मिला और फिर मैं बेडरूम में आया यह देखने के लिए कि उसमें क्या है।
उस पार्सल में एक लाल रंग की साड़ी, चूड़ियाँ, एक सोने का हार, झुमके, करधनी और पायल थे।

मैंने राहुल को फोन किया.
मैं- नमस्ते जीजू, आपके उपहार के लिए धन्यवाद.
आनन्द- धन्यवाद मत कहो, बस कल पहनने के लिए तैयार रहना। लेकिन एक बात का ध्यान रखें कि आपको सिर्फ वही पहनना है जो इस पार्सल में है, और कुछ नहीं।

मैं हैरान थी क्योंकि उसमें पेटीकोट, ब्लाउज और ब्रा पैंटी नहीं थी.
मैंने कहा- लेकिन मैं इसे पहनूंगा कैसे क्योंकि और कोई कपड़े तो हैं नहीं?
आनन्द- मैं नहीं जानता, तुम्हें मालूम है कि क्या करना है, मैं जो कह रहा हूँ वही करना चाहिए।

मैं अनिच्छा से सहमत हो गया।

अगले दिन करवाचौथ का व्रत था.
मैं सुबह से भूखी-प्यासी थी और अपने शरीर को सुंदर बनाने में लगी हुई थी, मैंने शादीशुदा महिलाओं की तरह मेहंदी लगाई और फिर अपने गुप्तांगों के बाल साफ किए।

जैसे तैसे दिन बीत गया।

रात हुई तो राहुल मेरे मायके गए और चांद निकलने पर उन्होंने रागिनी का व्रत खुलवाया।

फिर कुछ देर बाद वो अस्पताल जाने के बहाने से निकल गए और मेरे घर पर आ गए।
इधर मैंने अपनी कमर पर एक मोटी डोरी लपेटी और उसी के सहारे साड़ी पहन ली।
मेरे बदन पर कपड़े के नाम पर सिर्फ यही लाल साड़ी थी।

मैंने अपने वक्ष को ढका और फिर अपना शृंगार किया।

मैंने गजरा, काजल, ज्वैलरी सब कुछ पहना हुआ था और खासकर के राहुल की दी हुई करधनी!

मैं छत पर गई और पूजा की।
मेरा गोरा बदन चांदनी में चमक रहा था, मैं अपनी साड़ी संभाल रही थी कि कहीं सरक न जाए।
पड़ोस की सालीें मुझे ही देख रही थी क्योंकि मैंने ब्लाउज नहीं पहना था और मेरे मोटे स्तन लटके हुए थे।

खैर किसी तरह बचते बचाते मैंने पूजा की और नीचे आ गई।
अब मैं राहुल के आने का इंतजार करने लगी ताकि वे आकर मेरा व्रत खुलवा सकें।

दरवाजे पर घंटी बजी तो मैंने दरवाजा खोला, सामने राहुल खड़े थे।
मैंने उन्हें अंदर बुलाया और झट से दरवाजा बंद कर दिया।

फिर मैं उनसे चिपट गई और बोली- कितनी देर लगा दी, कब से मैं प्यासी हूं, कहां थे अब तक आप?
राहुल- आपकी बहन की प्यास बुझा रहा था, आखिर उनका पहला करवा चौथ था ना!

मैंने पानी का लोटा उठाया और कहा- लीजिए और मेरी प्यास बुझाइए।
राहुल ने लोटा टेबल पर रख दिया और कहा- आपकी प्यास पानी से नहीं, प्रोटीन शेक से बुझाएंगे हम!
यह कहकर उन्होंने मुझे अपनी तरफ खींचा और अपने होंठ मेरे होंठों पर रख दिए।

हमारे होंठ एक दूसरे के साथ चिपक गए और अब हमारे बीच मुख रस का आदान प्रदान होने लगा।
हम दोनों एक दूसरे की जीभ के साथ खेलते हुए एक दूसरे को चूमते जा रहे थे।

उन्होंने मेरा पल्लू मेरी छाती से हटा दिया तो मेरा बदन अर्ध नग्न हो गया।
मेरे लटकते हुए स्तन अब उनकी छाती पर दबाव डाल रहे थे और मेरी कमर उनके मजबूत हाथों के कब्जे में थी।

मैं उनका इरादा भांप गई थी इसलिए मैं जमीन पर बैठ गई और फिर उनकी पैंट को सहलाने लगी।

राहुल तो जैसे मुझे तरसाने के इरादे से आए थे इसलिए वो चुपचाप खड़े होकर मेरी हरकत का मजा ले रहे थे।
मैंने उनकी बेल्ट उतारी और फिर उनकी जिप खोल कर उनकी पैंट उतार दी।

उनके अंडरवियर को अपने दांतों से हल्के हल्के कुरेदने लगी और फिर उसे भी नीचे कर दिया।
उनका लिंग अब मेरे सामने था लेकिन आज उसका तनाव कुछ अलग ही था शायद राहुल ने गोली ली थी।

मुझे तो ये सोचकर और खुशी हुई और मैंने उनके लिंग के सुपारे को अपनी जीभ से चाटना शुरू कर दिया।

राहुल चुपचाप सावधान मुद्रा में खड़े थे और मैं अपने एक हाथ से उनके लिंग को रगड़ती जा रही थी और अपने होंठ उनके सुपारे पर टिकाए हुए थी।
पांच मिनट बाद मेरी मेहनत रंग लाई और राहुल का लावा फूट पड़ा।
मेरा मुंह उनके वीर्य से लबालब भर गया और मैं उनके वीर्य की हर बूंद गटक गई।

उसके बाद राहुल ने मुझे पानी पिलाया और बेडरूम में ले गए।
फिर वो किचन आए और मेरे खाने के लिए कुछ फल और दूध लेकर बेडरूम में आ गए।

राहुल बड़े ही प्यार से मुझे फल खिला रहे थे और मैं दिनभर की भूखी बिना संकोच के उनके दिए फलों का सेवन कर रही थी।

खाने के बाद अब मेरे हलाल होने की बारी थी।
राहुल ने कहा- साली साहिबा, आज हम आपका नाच देखना चाहते हैं, सुना है कि आप बहुत अच्छा नाचती हैं।
मैं- ठीक है जीजू, जैसा आप कहो।

मैं उठी तो राहुल ने मेरी साड़ी का पल्लू थाम लिया और कहा- बिना साड़ी के नाचिए साली साहिबा!

मेरे जिस्म पर कपड़े के नाम पर एक यही वस्त्र था।
मैंने साड़ी उतार दी तो मैं पूर्ण नग्न अवस्था में आ गई।

मेरे गले में हार, बालों में गजरा, कमर मे करधनी, हाथों में कंगन, पैरों में पायल जरूर थे लेकिन बदन पर कपड़े के नाम पर चीथड़ा तक न था।

खैर जब इज्जत नीलाम ही हो चुकी हो तो शर्माना कैसा?
मैंने गाना लगाया
‘मुन्नी बदनाम हुई’
और उस पर थिरकना शुरू कर दिया।

मेरे लटके झटके देखकर आंनद भी जोश में आ गए और अपने कपड़े उतार कर नग्न होकर अपना लिंग सहलाने लगे।

गाना खत्म होते होते उनका लिंग पूरी तरह तन्नाया हुआ था।
मेरा मटकना अभी खत्म भी नहीं हुआ था कि राहुल मेरे पास आए और उन्होंने मेरी पीठ पर हाथ रख कर मुझे अपने निकट किया और खड़े खड़े ही अपना लिंग मेरी चूत में डाल दिया।

अब हम दोनों की कमर लय में एक दूसरे के साथ थिरकती जा रही थी और मेरे मुंह से काम वासना की आहें निकल रही थी।

मैंने अपनी एक टांग उठा कर उनकी कमर पर लपेट ली तो राहुल ने सहारा देकर मेरी टांग को धर लिया।
अब मैंने अपनी बाहों को राहुल के गले में डाल कर सहारा लिया और खुद को संतुलित किया।

राहुल ने मेरे होंठों को अपने कब्जे में लेकर उन्हें चूसना शुरू कर दिया।
नीचे उनका औजार मेरी मुनिया की खुदाई करता जा रहा था।

आज राहुल का लिंग अलग ही तरह का तनाव और आकार लिए हुए था।
गोली की वजह से उनका सुपारा टमाटर जैसा फूला हुआ था और उसकी नसें खुरदरापन लिए फूली हुई थी जिसकी वजह से मेरी योनि में रगड़ बढ़ गई थी.
उनका सुपारा जब मेरी बच्चेदानी पर ठोकर मारता तो मुझे मीठा मीठा दर्द होता।

मेरी योनि तो अब झरना बन चुकी थी जिससे लगातार योनि रस बहता जा रहा था.

उनके लिंग की रगड़ और धक्के की स्पीड इतनी ज्यादा थी कि मैं ज्यादा समय तक इस राहुल को झेल नहीं पाई और मेरी योनि से फव्वारा फूट पड़ा।

झड़ने के बाद मेरी योनि ढीली पड़ गई लेकिन राहुल अभी भी धक्के बखूबी तरीके से लगाते जा रहे थे।
मैंने अपनी दोनों टांगे कैंची की तरह उनकी कमर पर लपेट ली और फिर खुद को उनको हवाले कर दिया।

राहुल ने मेरे नितम्बों पर हाथ लगाया और उनके सहारे मुझे उठा उठा कर धक्के लगाने लगे।
उनके हर धक्के से मेरे बदन में कम्पन पैदा हो जाता और मेरे कंगन और पायल आवाज करने लगते।

राहुल मुझे उठाकर बेडरूम में ले आए और मेरे बेड के पास बने ड्रेसिंग टेबल पर बिठा दिया।
उन्होंने मुझे शीशे से सटा दिया और फिर मेरी Bur Chudai करने लगे।

मेरी आंखें राहुल के मारे बंद हो गई थी और मुंह से जोर जोर की आवाजें आ रही थी।

करीब आधा घंटा चोदने और मुझे दो बार स्खलित करने के बाद राहुल की जवानी अपने चरम पर पहुंच गई और उन्होंने मेरी चूत को अपने वीर्य से सराबोर कर दिया।

वे किसी जोंक की तरह मुझसे चिपक गए और अपने लिंग का एक एक हिस्सा मेरी योनि की गहराई में उतार दिया।
मेरी योनि उनके लिंग का गर्मागर्म वीर्य पाकर सिकुड़ गई.

जब उन्होंने अपना लिंग बाहर निकाल लिया तो उनका वीर्य मेरे कामरस के साथ मिक्स होकर चूत के दरवाजे से बहता जा रहा था।
मैंने उंगली से उनके गाढ़े वीर्य को उठाया और मजे से चाट गई, फिर टिशू पेपर से खुद को साफ किया।

अब तक मैं दो बार झड़ी थी इसीलिए मेरी भी सांसें राहुल की तरह ही तेज हो गई थी।
मैं बेड पे लेट गई और खुद को संभालने लगी।
मेरे बदन से पसीना बहा जा रहा था और दिनभर से भूखी होने की वजह से मुझे कमजोरी सी लग रही थी।

राहुल आकर मेरे बगल में लेट गए और मेरे स्तनों और योनि को सहलाने लगे।
मैं सिसकी भरती हुई उनके साथ इस खेल का मजा ले रही थी।

राहुल ने एक एक कर के मेरे जिस्म से जेवर उतार दिए और अब मैं पूर्ण रूप से नग्न अवस्था को प्राप्त कर चुकी थी।

10 मिनट बाद जब मेरा जिस्म जरा संभल गया तब मैं उठकर बाथरूम की तरफ चल दी तो राहुल भी मेरे साथ आ गए।
मैं कमोड पर बैठ गई और मुत्ती करने लगी।

उधर राहुल ने शॉवर चालू कर दिया।
मैं उठकर राहुल के पास आई तो उन्होंने मेरे हाथ दुपट्टे से बांध दिए और एक पाइप में फंसा दिया।
उन्होंने मुझे चूमना शुरू कर दिया और फिर मुझे घुमाकर मेरी पीठ अपनी और और मेरा मुंह दीवार की ओर कर दिया।

इस दौरान शॉवर खुला हुआ था और उसकी बूंदें मेरे शरीर को भिगो रही थीं.

राहुल ने मेरे बाल पकड़ कर पोनीटेल की तरह बाँध दिये और फिर मेरे Big Boobs पर थप्पड़ मारा।
मैं मदहोशी में इस दर्द का मजा लेने लगी.

राहुल मेरे नितम्बों पर हाथ फिराने लगा और फिर अपनी उंगलियाँ मेरे नितम्बों की दरार में फिराने लगा।
उसका ये एहसास मुझे बहुत उत्तेजित कर रहा था.

उसकी उंगली मेरी Moti Gand पर फिरने लगी, इसका अहसास बहुत उत्तेजक था और मैं अपनी गांड को थोड़ा-थोड़ा अंदर भींचने लगी।

अचानक कुछ ऐसा हुआ जिसकी मुझे बिल्कुल भी उम्मीद नहीं थी.

जब राहुल की उंगली मेरी गांड में घुसने लगी तो मैं चिल्ला उठी- आआह राहुल… क्या कर रहे हो, दर्द हो रहा है, प्लीज़ ऐसा मत करो!

लेकिन राहुल ने मेरी एक न सुनी और अपनी पूरी बीच वाली उंगली मेरी गांड में घुसा दी.

मैं दर्द और जलन से सिसकने लगी- राहुल, प्लीज़ इसे बाहर निकालो, बहुत दर्द हो रहा है! जीजू प्लीज़ मान जाओ, मैं ये नहीं कर पाऊँगी.
राहुल- डरो मत साली, मैं इतने आराम से करूंगा कि दर्द नहीं बल्कि मजा आएगा.

राहुल आज मेरी गांड को मारने के इरादे से आया था।
उसने कंडीशनर की बोतल उठाई और कंडीशनर निकालकर मेरी गांड पर रगड़ने लगा और फिर अपने लंड पर भी लगाया.

अब उसका लिंग मोबिल ऑयल डालने से इंजन के पिस्टन जैसा चिकना हो गया था।
उसने मुझे 60 डिग्री तक झुकाया और मेरी कमर को बाहर खींच लिया।
फिर वो मेरी कुँवारी गांड में अपना लंड डालने लगा.

पहले तो वो थोड़ा फिसला लेकिन किसी तरह उसने अपना सुपाड़ा मेरी गांड के छल्ले में सरका दिया।
मेरे चेहरे पर दर्द के भाव थे.
मैं किसी तरह अपने होंठ भींचकर अपनी सिसकियाँ रोके खड़ी थी।

राहुल ने एक हाथ से मेरी चोटी पकड़ी और फिर धीरे-धीरे मेरी पीठ को चूमने लगा।
उसके चुम्बन से मेरा दर्द कम हो गया और फिर मैं भी तैयार हो गयी, अपनी आबरू लूटने के लिए।
राहुल ने अचानक एक धक्का मारा और उसका आधा लंड मेरी आंत में घुस गया- हाय दईया… मैं मर गई!

जब मेरे मुँह से ये आह निकली तो राहुल ने मेरी चोटी को अपनी तरफ खींच लिया और फिर से एक धक्का लगा दिया.
इस बार मैं दर्द से चिल्ला उठी और इसके साथ ही उसका लिंग पूरा मेरी आंत में घुस गया.

मेरी आँखें दर्द से भर आईं और मेरे होंठ काँपने लगे।
मेरे मुँह से घुटी हुई आह निकली- जीजू… दर्द हो रहा है.

लेकिन शख्स अपनी हवस मिटाने के लिए हमेशा अपनी साली को दर्द देता रहा है।
राहुल पर मेरी सिसकियों का कोई असर नहीं हुआ.

मेरी गांड अंदर की ओर सिकुड़ गई और राहुल के लिंग को पूरी ताकत से भींच लिया।
मुझे ऐसा महसूस हो रहा था मानो मेरी आंत में कोई गर्म लोहे की मोटी रॉड डाल दी गई हो।

मेरी गांड की जकड़न के कारण राहुल को धक्का लगाने में दिक्कत हो रही थी- साली साहिबा, अपनी गांड ढीली करो नहीं तो मैं कैसे धक्का लगाऊंगा.
मैंने सिसकते हुए कहा- मैं यह नहीं कर सकती जीजाजी, प्लीज़ इसे बाहर निकालो।
राहुल- ठीक है, मैं इसे बाहर निकाल लूँगा लेकिन इसे ढीला कर दूँगा तभी यह बाहर आएगा।

मैंने उसकी बात सुनकर अपनी गांड ढीली कर दी.

राहुल ने अपना लिंग बाहर निकालना शुरू कर दिया और जैसे ही उसका लिंग-मुंड मेरी गांड के छल्ले के पास पहुंचा, उसने फिर से पूरी ताकत से अपना लिंग मेरी गांड में घुसा दिया।

मेरे मुँह से दर्द भरी चीख निकल गयी.

वह धीरे-धीरे मेरी Gand Chudai लगा और अपना एक अंगूठा मेरे मुँह में डालने लगा और अपनी उंगली से मेरी योनि को सहलाने लगा।

अब मुझे दर्द में कुछ कमी महसूस हुई तो मैं भी राहुल के साथ अपनी चुदाई का मजा लेने लगी.
राहुल का हर धक्का अब मेरे शरीर में दर्द के साथ-साथ आनंद की लहरें पैदा करने लगा।

मेरी गांड को पहली बार लंड का स्वाद मिला.
राहुल मेरी कसी हुई कुंवारी गांड को फैलाने की पूरी कोशिश कर रहा था और हर धक्के के साथ बाथरूम में थप थप संगीत गूंज उठता।

मेरी गांड का दबाव इतना ज्यादा था कि राहुल ज्यादा देर तक इसे बरकरार नहीं रख सका और करीब 15 मिनट बाद उसका वीर्य निकल गया.
उसका गर्म वीर्य मेरी गांड में बहता हुआ मुझे एक अनोखा एहसास दे रहा था.

यह पहली बार था कि किसी ने मेरी गांड चोदी थी.
लेकिन आखिरी नहीं… इसके बाद तो जैसे एक सिलसिला ही शुरू हो गया.
साली की Gand Ki Chudai के बारे में मैं आपको आगे की कहानियों में बताऊंगा.

खैर झड़ने के बाद राहुल ने मुझे छुड़ाया और शॉवर के नीचे नहला कर बिस्तर पर लिटा दिया.
मेरे शरीर में बहुत दर्द हो रहा था तो राहुल ने मुझे पेन किलर दे दी और फिर हम दोनों एक दूसरे के साथ नंगे ही सो गये.

तो दोस्तो, आपको साली की गांड की चुदाई की यह कहानी कैसी लगी?
कृपया अपने विचार कमेंट बॉक्स में दें।
आपके प्यारे कमेंट्स का इंतज़ार रहेगा.
पढ़ने के लिए धन्यवाद।
मैं जल्द ही अगली कहानी लेकर हाजिर होऊंगा.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Lucknow Call Girls

This will close in 0 seconds