July 9, 2024
choti sali ki chudai kahani

छोटी साली की चुदाई कहानी मैं अपनी सेक्सी बीवी के साथ ससुराल गया. जब हम पहुँचे तो मेरी साली सिर्फ तौलिया लपेटे हुए थी और नहाने जा रही थी। उसे देख कर मेरा लंड जोश में आने लगा.

मेरे सभी सहपाठियों को नमस्कार!
मैं मोहित, शहर बरेली। उम्र 30 साल!

आपका मोहित, मैं एक बार फिर आप सभी भाइयों को लिंग पकड़ने और अपनी सहपाठी लड़कियों को वीर्य छोड़ने पर मजबूर करने आयी हूँ।

अब मेरी नंगी साली की चुदाई कहानी का मजा लीजिए.

जब मैं 25 साल की थी तो मेरी शादी हलद्वानी के एक बड़े परिवार में कर दी गयी।

मेरी पत्नी का नाम नेहा है, उसका शरीर चाँद की तरह सफ़ेद, मजबूत शरीर है, उसके पूरे शरीर पर केवल उसके स्तन, गांड और जांघों पर ही मांस था।
वह किसी अप्सरा से कम नहीं है!

उनकी एक छोटी बहन शीतल है और कोई नहीं, केवल दो बहनें और उनके माता-पिता ही उनका परिवार थे।

मेरी शादी शाही तरीके से हुई, शादी के बाद मेरी पत्नी और मेरी सेक्स लाइफ बहुत अच्छी रही।
मेरी पत्नी का परिवार आधुनिक सोच वाला है, इसलिए नेहा बिना किसी झिझक के जी भर कर मेरे साथ वाइल्ड सेक्स करती है।

नेहा की बहन शीतल, मतलब मेरी साली साहिबा… तब वो 21 साल की भरे बदन वाली अल्हड़ जवान औरत थी।
शीतल की लम्बाई 5 फीट है और उसके स्तन इतने विशाल हैं मानो किसी ने उनमें हवा भर दी हो!

उनकी गांड का आकार बहुत सुडौल है जो साफ नजर आता है.
चेहरे का रंग ऐसा है मानो जापान की कोई लड़की खड़ी हो.

वह कुछ ज्यादा ही आधुनिक थी, हर मुद्दे पर मुझे व्यस्क बातें करके चिढ़ाती थी, ऐसी बातें कि आदमी शर्म से पीला पड़ जाए।

शादी के 6 महीने बाद मेरी पत्नी नेहा के चाचा के घर पर जागरण था।
जिसके चलते हम पति-पत्नी को 2 दिन के लिए अपने ससुराल में रुकने का कार्यक्रम था.

मैं और मेरी पत्नी इतने कामोत्तेजित हैं कि सेक्स के बिना एक दिन भी रहना संभव नहीं था।

जब हम नेहा के घर पहुंचे तो सुबह के 9 बज रहे थे.

शीतल ने गेट खोला.
वो नहाने जा रही थी और सिर्फ तौलिये में थी.
तौलिया भी ऐसा था कि उसके बड़े-बड़े स्तनों पर ही टिका हुआ था।
और भरी हुई जांघें दिख रही थी.

मेरी नजर वहां पड़ी.
मेरा लंड खड़ा हो गया.

ये भांप कर मेरी साली शीतल ने तुरंत कमेंट किया- जीजा जी, बस देखते ही रहोगे या कुछ करोगे भी?
तभी मेरा ध्यान टूटा और मैं शर्माते हुए अपनी पत्नी के साथ घर के अंदर आ गया.

मेरी पत्नी भी कुछ कम नहीं थी, वह आधुनिक सोच वाली थी और साहसी भी थी।
वो बोली- वो मुझसे भी अच्छी है, इसलिए जब वापस आओगे तो उसे अपने साथ ले जाना!

मामला हंसी-मजाक का हो गया.

मैं नेहा के माता-पिता से मिला… और हम नेहा के कमरे में गए और सेट हो गए।
उसकी बहन शीतल का कमरा एक ही लेवल पर था और दोनों कमरों के बीच में एक शानदार कॉमन बाथरूम था.

जब हम दोनों कमरे में गए तो शीतल नहाने गई थी और मैं शीतल की जवानी पर मोहित हो गया था।

उसी गर्मी में मैं कमरा बंद करके अपनी बीवी नेहा के ऊपर चढ़ गया.

नेहा बोली- क्या कर रहे हो? बाथरूम में ठंडक है.
मैंने कहा- नेहा होगी, जब तक आएगी मैं एक राउंड लगा लूँगा।

फिर मैंने नेहा के कपड़े उतार कर उसे नंगी कर दिया और खुद भी नंगा हो गया.

मैंने उसके नुकीले चूचों को अपने मुँह में ले लिया और एक हाथ उसकी चूत पर ले गया।

नेहा अपना एक हाथ मेरे लिंग पर ले गयी और उसे सहलाने लगी.

हम पति-पत्नी नंगी बेल की तरह एक-दूसरे से लिपट गये।

एसी की हवा में नंगे बदन सेक्स की गर्मी में उबल रहे थे.

मैं उसके होंठ भींच रहा था, वो मेरे लिंग को आगे-पीछे कर रही थी।

फिर हम दोनों 69 पोजीशन में आ गये और मैंने अपनी जीभ उसकी चूत में डाल दी, उसने मेरे लंड को अपने गले तक अन्दर ले लिया और चूसने लगी.

अब वो दोनों सेक्स की झील में ऐसे तैर रहे थे कि भूल ही गये थे कि साली शीतल बाथरूम में है.
हम दोनों के बीच वाइल्ड सेक्स की आवाज जोरों पर थी जो शीतल के कानों तक पहुंच चुकी थी.

वह बाथरूम के गेट पर पूरी तरह से गीली और नंगी खड़ी थी, हमारा खेल देख रही थी और अपनी क्लीन शेव गुलाबी चूत में उंगली कर रही थी।

मेरी और साली शीतल की नजरें एक दूसरे से मिल गयी थीं.
मैं मुस्कुराया और तेजी से उसकी बहन यानि मेरी बीवी की चूत चूसने लगा.

मॉडर्न साली साहिबा भी समझ चुकी थी कि जीजाजी थ्रीसम के लिए तैयार हैं!

मैं बताना भूल गया कि जब साली साहिबा पूरी नंगी खड़ी थीं तो उनका एक-एक अंग ऐसा लग रहा था जैसे काम देव ने उन्हें पूरी फुर्सत से बनाया हो.

नंगी साली का संपूर्ण गोरा शरीर… उसकी चूत पर एक भी बाल नहीं, केले जैसी जांघों के साथ विशाल सुनहरे स्तन और तरबूज जैसा गुलाबी नितंब!
हाय, क्या बताऊं… मेरा लंड उस वक्त मेरी बीवी के मुँह में हंगामा मचा रहा था.
मैं चरम पर पहुँच गया और अपनी पत्नी के मुँह में स्खलित हो गया।

उसके बाद अचानक साली साहिबा बोलीं- दीदी, आप थोड़ा सब्र तो कर सकती थीं. इतनी आग लगी थी कि रात हो गई या दिन?

उसकी आवाज़ सुनकर मेरी बीवी ने तुरंत मेरा लंड छोड़ दिया और सीधे बोली- तुम्हें अपनी भाभी को सेक्स करते हुए देखकर शर्म नहीं आती?
पत्नी ने खुद को चादर से ढक लिया.
लेकिन मैं वैसे ही नंगा था. साली की खूबसूरती देख कर मेरा स्खलित लिंग फिर से फुंफकारने लगा.

इतने में साली नंगी और भीगी हुई बिस्तर पर आई और अपनी बहन यानि मेरी पत्नी की चादर खींच ली और अपनी बहन को चूमने लगी.
मेरी बीवी भी अपनी बहन का साथ देने लगी और चूमने लगी.

दो मिनट तक तो मैं हैरान रह गया कि ये क्या हो रहा है.

इतने में मेरी बीवी ने मेरा लंड पकड़ लिया और बोली- आपकी साली भी आपकी दीवानी है. आज इसकी चूत को भी अपने रस से भिगो दो!

मेरी साली मेरे पास आई और मेरे बाल पकड़ कर मेरी गर्दन पर चूमने लगी.
दोनों बहनों के एक साथ हमले से मैं खुद पर से नियंत्रण खोने लगा और मेरा कामुक जानवर जाग उठा.

मैंने तुरंत साली का गला पकड़ा, उसकी कमर में हाथ डाला और उसे अपनी ओर खींचा और अपने होंठ सीधे उसके होंठों पर रख दिए।

मेरी साली तो तैयार लग रही थी… जीजाजी और साली एक-दूसरे के मुँह में जीभ डालकर फ्रेंच किस करने लगे।

और मेरी बीवी मेरे लंड को ऊपर नीचे करते हुए अपनी छोटी बहन की चूत चाटने लगी.

पूरे कमरे में यौन गर्मी चरम पर थी.

ऐसा लगा मानो मैं स्वर्ग में हूं.

उसके बाद मैंने साली को अपने से अलग किया और उसे उल्टा लिटा दिया और उसकी गांड के छेद को चाटते हुए उसकी चूत में उंगली करने लगा.
अब मेरी बीवी ने अपने पैर फैलाये और अपनी चूत शीतल के सामने रख दी और वो उसे चाटने लगी.

मेरा जानवर अब पूरे जोश में आ गया था.
मैंने अपना हाथ साली के पेट पर रखा और उसे घोड़ी की पोजीशन में ले लिया और अपने दोनों हाथ उसकी बगल में रख दिए और उसके दोनों तने हुए मम्मों को अपने पूरे हाथ में भर लिया और अपना लंड उसकी गीली चूत पर फिराने लगा।
मेरी बीवी समझ गयी कि उसकी बहन की चुदाई होने वाली है.

उसने शीतल के होंठों पर अपने होंठ रख दिए और चूमने लगा और मुझे उसके नीचे अपना लिंग रखने का इशारा किया।
मैंने भी देखा… एक ही जोरदार शॉट में पूरा लंड अन्दर डाल दिया.

नंगी साली की कुंवारी गुलाबी चूत में लगभग आधा लंड चला गया था.
वो अपनी गांड आगे करके भागने की कोशिश करने लगी.

मैंने उसकी कमर को कस कर पकड़ कर शीतल को हिलने नहीं दिया और पूरी ताकत से धक्के लगाता रहा.

वो दर्द से चिल्ला रही थी.. लेकिन उसकी आवाज़ उसकी बहन यानि मेरी पत्नी ने मुझे चूमते समय दबा दी थी।

शीतल की आंखों में आंसू थे.
लेकिन मैं नंगी साली को चोदने में कोई रहम दिखाने के मूड में नहीं था और 10 मिनट तक साली को चोदता रहा।

शीतल की चूत से झाग मिश्रित खून की धार निकल रही थी, जिसे देखकर मुझे अपनी किस्मत के साथ-साथ अपनी मर्दानगी पर भी गर्व हुआ और पूरी तरह से संतुष्ट होकर मैंने सारा वीर्य उसकी चूत में डाल दिया और उसके ऊपर गिर गया।
साली को भी इसमें मजा आया जो उसके चेहरे पर यौन उत्तेजना के भावों से जाहिर हो रहा था।

मेरी पत्नी उठी और एक सफेद तौलिया लेकर आई और मेरे लंड को और अपनी बहन शीतल की टपकती हुई चूत को साफ किया.

कुछ देर बाद मैं सिगरेट पीने लगा और मेरी पत्नी अपनी छोटी बहन का सिर सहलाने लगी.
मेरी साली अब पूरी तरह से होश में थी और दोनों बहनें बहुत खुश थीं।

मेरी पत्नी ने अपनी बहन से कहा- देखो, मैंने तुम्हारी इच्छा पूरी कर दी है.
मैं समझ नहीं सकता।
तो मेरी पत्नी बोली- हम दोनों बहनें आपस में लेस्बियन सेक्स करती थीं. हमारे बीच कुछ भी एक दूसरे से छिपा नहीं है.’ उसने खुद मुझसे कहा था कि मैं अपना पहला सील ब्रेकिंग सेक्स जीजू और तुम्हारे साथ करूंगी. फिर हम दोनों ने मिलकर ये प्लान बनाया.

मैं मन ही मन खुश हुआ कि दोनों हाथों में लड्डू थे… ओह सॉरी चूत।

अब मेरी पत्नी नहाने के लिए बाथरूम में चली गयी, शीतल और मैं एक साथ बिस्तर पर थे।

मैंने उससे पूछा- तुम बहुत खूबसूरत हो. क्या आपका कोई बॉयफ्रेंड नहीं है? ऐसा किस लिए?
वो बोली- जीजाजी, मेरा एक लड़के के साथ अफेयर था लेकिन समय रहते मुझे उस हरामी की गंदी हरकतों के बारे में पता चल गया. वो हरामी और भी लड़कियों को फंसाकर उनके साथ सेक्स करता था, उनके अश्लील वीडियो बनाकर उन्हें ब्लैकमेल करता था और फिर उन्हें अपने दोस्तों के साथ सेक्स करने के लिए मजबूर करता था. जब मैंने दूसरी लड़कियों से उसकी सच्चाई सुनी तो मैंने उससे सारे रिश्ते तोड़ दिए और अपना कॉलेज भी बदल लिया।

उन्होंने आगे कहा- उसके बाद मुझे चिंता होने लगी कि कहीं कुछ बुरा न हो जाए जिससे मेरे परिवार को परेशानी हो, मैं और मेरी भाभी दोनों एक दूसरे से हर बात शेयर करते हैं. एक-दूसरे की ज़रूरतों को समझते हुए, हम दोनों ने सेक्स टॉयज़ और लेस्बियन चीज़ें आज़माईं। और हमारे बीच एक बात तय हुई थी कि जब मेरी ननद की शादी होगी तभी मैं अपनी चूत खोलूंगी.

चलो बातें करते हैं, हम दोनों फिर से गर्म हो गये।
वो झुक कर मेरे लिंग से खेलने लगी, मैं उसके बालों को छूने लगा।

फिर मैंने उसकी गोल गांड को सहलाया और उसके दोनों गुलाबी पौधों को इकट्ठा कर लिया.

वह मेरे लिंग को इतना ज्यादा अपने मुँह में ले रही थी कि मैं अपना होश खो बैठा।

मैंने अपनी गांड हिलाते हुए अपनी एक उंगली अपनी गांड के छेद में डाल दी.
वो अचानक जमीन से हट गई और बोली- जीजाजी, आप क्या कर रहे हैं?
मैंने कहा- मेरी जान, ये तो अभी बाकी है, ये भी दिलचस्प है.

उसने साफ मना कर दिया और बोली- नहीं जीजाजी, मैं यहां नहीं करवाऊंगी. बहुत दर्द होता है।
मैंने कहा- एक बार ट्राई तो करो… अगर जन्म जैसा मजा न आये तो कहना!

लेकिन वह तैयार नहीं थी.
मैंने ज्यादा ताकत न लगाते हुए उसे सीधा लेट जाने दिया और उसकी दोनों जाँघों को अपने मुँह में ले लिया ताकि वो फिर से गर्म हो जाए और अपना लंड उसकी चूत पर रगड़ने लगा।

अब वो इतनी गर्म हो गई कि अपनी गांड उठाकर मेरे लंड को अन्दर खींचने की नाकाम कोशिश करने लगी.
लेकिन मुझे उसे तड़पाने में मजा आ रहा था.

वो चिल्लाने लगी और गिड़गिड़ाने लगी- जीजाजी, अब अन्दर डालो. सोच नहीं सकता!
मैंने उससे कहा- अगर तुम मुझे अपनी गुलाबी गांड देने का वादा करो तो मैं तुम्हें चोदूंगा.
वो गर्म थी कि उसने इतना वादा किया और चूत की इच्छा भी पूरी कर दी.

मैं भी गर्म था, मैं उसकी हठधर्मिता का अनुसरण कर रहा था, मैंने अपना मसल लैंड चॉकलेट स्टॉक में उसकी गुलाबी योनि में रख दिया और हम दोनों वासना में इतने पागल हो गए थे कि एक दूसरे की जगह को चूमते रहे।

वह मेरे हर शॉट पर मजे से कराह रही थी और ‘आह उह… और जोर से जीजू!’ जैसी आवाजें निकाल रही थी।
मेरा उत्साह आइलैंड स्काई पर था और मैं शॉट पर शॉट भी ले रहा था।
और हम दोनों 20 मिनट में अपनी चरम सीमा पर पहुँच गये।

उसकी बहन बाहर आई और बोली- शीतल, लगता है टूनी, जो आज जीजाजी से गर्भवती है, तुम्हारी बात से सहमत होगी!
और दोनों जोर-जोर से हंसने लगे.

इसके बाद गंगा पूजन भी होने से शीतलहर फिर ताजा हो गई।

मेरी पत्नी शीतल से बोली- अब जाकर अपने जीजू के लिए भी ले आओ!
मैंने बिना सोचे तुरंत शीतल को कमर से पकड़ लिया और अपने हाथ दोनों भाई-बहन पर खींच लिए, जिससे दोनों भाई मेरे चेहरे पर हाथ फेरने लगे.

मैंने उसमें से एक मुँह में ले लिया और हम दोनों जीजा साली अरेस्टा के साथ अनाथालय चले गये।

अब आपको अगली कहानी पता चल जाएगी कि कैसे मैंने अपनी साली और अपनी पत्नी की गांड को खुले आकाश के नीचे चुराया।

एक बार फिर मुझे अपने अनुभव साझा करने के लिए प्रेरित करने के लिए मेरे सभी Hindi Sex Stories सहयोगियों को धन्यवाद!

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Delhi Escort

This will close in 0 seconds