July 16, 2024

Sali ki Sex Kahani में मुझे अपनी पत्नी के चचेरे भाई के घर यानी मेरी साली के घर जाना था, तो वहां मेरे साथ क्या हुआ? उसने मेरे साथ कैसा व्यवहार किया?

दोस्तो, मैं आपका दोस्त राज हूँ.
मेरी Sali ki Sex Kahani कहानी के इस भाग में आपका फिर से स्वागत है।
हालाँकि इस सेक्स कहानी का शीर्षक अलग है, लेकिन यह एक संबंधित कहानी है।

पिछली कहानी
जेंट्स वॉशरूम में जाना पड़ा महंगा – Hindi Sex Story

आपने में पढ़ा था कि मैंने अपनी बचपन की प्रेमिका सौम्या से शादी कर ली थी और शादी की रात उसके साथ सेक्स का मजा लिया था.

अब आगे वाइफ सिस्टर सेक्स स्टोरी:

उसकी साली मानसी शादी के 3 दिन बाद चली गई.
फिर हम दोनों भी एक महीने के बाद पुणे आ गये.

मुझे दिल्ली से नौकरी का अच्छा मौका मिला तो मैं दिल्ली आ गया।
सौम्या पुणे में ही थी.

जब मैं दिल्ली आया तो सौम्या ने कहा- तुम मानसी के घर में रुक जाओ. उनका दिल्ली में अपना फ्लैट है.
ये मानसी मेरी पत्नी सौम्या की चचेरी साली थी जिसने शादी की रात सेक्स की चीखें सुनी थीं.

ये दोनों बचपन से ही गहरे दोस्त थे.
मानसी के माता-पिता बचपन में ही गुजर गए थे, जबकि सौम्या के पिता उसे अपनी बेटी मानते थे और दोनों एक-दूसरे को अपनी जान से भी ज्यादा प्यार करते थे।

मानसी भी कमाल की दिखती हैं, वह बिल्कुल दिव्या खोसला कुमार की तरह दिखती हैं।

मैं उसके फ्लैट पर पहुंचा, घंटी बजाई और दरवाज़ा खुला।

वह शायद मानसी की घरेलू नौकरानी थी.
उसने कहा- आप राज जी हैं ना?
मैने हां कह दिया।

तो उसने कहा- मैडम ने मुझे बताया था. आप बैठें। मैडम 9 बजे तक आ जाएंगी.
उसने मुझे पानी, कोल्ड ड्रिंक, कुछ नाश्ता दिया और चली गई।

मैं फ्रेश होकर टीवी देखने लगा.
थकान के कारण मुझे नींद आ गई.

मेरी नींद तब खुली जब मेरे कानों में एक मधुर आवाज़ पड़ी- उठो जीजाजी!

जब मैं उठा और आंखें खोली तो मानसी किसी परी की तरह मेरे सामने खड़ी थी.

पहली बार उन्हें सामने से गाउन में देखा. वह बड़ी रूपवती थी।

उसने घुटनों तक लम्बा काला रेशमी गाउन पहना हुआ था जिसका गला खुला हुआ था और उसके स्तनों के उभार एक पतली ब्रा में कैद थे।

पतली ब्रा इसलिये लिखी क्योंकि मानसी के स्तनों के सख्त निपल्स उसके रेशमी गाउन के बाहर से दिख रहे थे।

शायद वो खुद ही अपने स्तन दिखाने के लिए उत्सुक लग रही थी इसलिए मेरे उठने के बाद भी वो मेरे सामने झुकी हुई थी ताकि मैं उसके स्तन देख सकूं.

मैं उठ कर फ्रेश हुआ और वासना भरी नजरों से उसके स्तनों को देखने लगा।
फिर हॉल में बैठ गये.

वह प्लेट में मेरी पसंदीदा पनीर मिर्च, वेज पुलाव और सलाद लेकर आई।
उसके हाथ में व्हिस्की की बोतल थी.

मैंने नशे में उसकी ओर देखा और कहा- क्या बात है? श्वाब के हाथ में शराब!
वो हंसा और आंख मार कर बोला- जब सामने दारू-शराब है तो चलो अब जश्न मना लें.

मैं भी तुरंत सहमत हो गया.

मानसी ने शराब की बोतल खोली और दोनों का पहला पैग बनाया।
हम दोनों ने चियर्स किया और पहला पैग पी लिया.

इसी तरह धीरे-धीरे हम दोनों ने 4-4 पैग पी लिए और अब मानसी को नशा होने लगा था.

जब वह पांचवां पैग पी रही थी तो उसका गिलास गिर गया और शराब उसके ऊपर गिर गई.

वह इतनी नशे में थी कि उसे कुछ भी समझ नहीं आ रहा था.
उसने लड़खड़ाती आवाज में मुझसे कहा- प्लीज़ मुझे साफ़ कर दो।

मैंने उसकी तरफ देखा.
मैं भी नशे में था.

उसकी छाती पर तने हुए उसके बड़े स्तनों की नोकें गाउन में से साफ़ दिख रही थीं।

उसका फिगर 36-30-38 था.
ऐसा लग रहा था कि मानो सर्वनाश हो गया हो.

जैसा कि मैंने आपको बताया कि वह दिव्या खोसला कुमार की तरह दिखती हैं।
मैं तो उसे देखता ही रह गया और जब वो उठकर बाथरूम की तरफ जाने लगी तो उसकी फूली हुई गांड देखकर मेरा फौलादी लंड खड़ा हो गया.

मैंने उससे कहा- मैं नहीं कर सकता … क्योंकि उसके लिए मुझे तुम्हारा गाउन भी खोलना पड़ेगा.

वो बोली- प्लीज़ यार, कुछ मत सोचो और जैसे चाहो साफ़ करो।
मैंने उसका गाउन उतार दिया और जैसे ही उसका गाउन खोला तो मुझे उसकी लाल ब्रा के अंदर उसके बहुत बड़े मुलायम स्तन दिखे।

उनको देख कर मेरा मन कर रहा था कि पकड़ कर चूस लूं.

वो हंस कर बोली- कैसे हो?
मैंने कहा- बहुत बढ़िया.

अब तक मेरा लंड भी खड़ा हो चुका था.

मैंने उसके गोरे बदन को तौलिए से बहुत धीरे से साफ़ किया।
मैं उसके स्तनों को देखता ही रह गया।

फिर वो बोली- अब देखते ही रहोगे या कुछ करोगे भी? प्लीज़ मेरी ब्रा भी उतार दो!

उसी पल मुझे सौम्या का मासूम चेहरा याद आ गया.
मैंने उससे कहा- ये ग़लत है. मुझे सौम्या से प्यार है.

वो बोली- जीजा जी, सौम्या को सब पता है. वह अकेली नहीं है जो आपसे प्यार करती है। वह नाराज नहीं होंगी.
मैं भी नशे में था, वासना मुझ पर हावी हो रही थी।

मैंने कहा- आप मुझसे पाप करवा रहे हैं.
वो हंस कर बोली- मुझे चोद कर तुम पापी नहीं बनोगे, ये बात पक्की है.

जब उसने साफ शब्दों में सेक्स के बारे में बात की तो मेरा लंड जोश में आ गया.
मैंने धीरे-धीरे एक-एक करके उसके सारे कपड़े उतार दिए।

मैंने उसकी पैंटी को हाथ लगाया तो वो चूत के रस से पूरी गीली हो चुकी थी.
मैं समझ गया कि वो भी मेरे स्पर्श से उत्तेजित हो रही थी.

लेकिन जैसे ही उसने अपने सारे कपड़े उतारे तो मानो मेरा नशा उतर गया.
मैंने धीरे धीरे अपने सारे कपड़े भी उतार दिये.

फिर मैंने अपने लंड को शराब से नहलाया और उसके मुँह के पास ले जाकर उससे कहा- लो लॉलीपॉप और चूसो इसे.

वो भी नशे की हालत में मेरे कहते ही मान गई और मेरे लंड को पूरा मुँह में लेकर चूसने लगी.
मैं बोतल से वाइन को बूंद-बूंद करके अपने लंड पर टपकाता रहा और वो मेरा लंड चूसती रही और वाइन भी पीती रही.

नीचे से मैं उसकी बेहद गीली और गर्म चूत में उंगली कर रहा था.
धीरे-धीरे मैंने अपनी स्पीड बढ़ा दी और उसे बहुत दर्द होने लगा और वो जोर-जोर से कराहने लगी।

मैं समझ गया कि उसकी चूत अभी तक कुंवारी है और आज मैं पहली बार उसकी चूत में लंड पेलूँगा।

उसके लिंग चूसने के कारण जब मैं झड़ने वाला था तो मैंने लिंग उसके मुँह से बाहर निकाला और सारा वीर्य एक गिलास में डाल दिया।
फिर उसी गिलास में एक और पैग बनाया और मानसी को पिलाया.

वो बड़े मजे से उसे पी गयी और मैं उसकी चूत को चाटने लगा.

कुछ ही देर में पुरी गर्म हो गई और उसकी चूत से पानी भी निकलने लगा.

उसे इस बात का ज़रा भी एहसास नहीं था कि उसके साथ क्या हो रहा है.

कुछ देर बाद मैंने उसे ड्रिंक बनाकर दिया और उसे अपनी गोद में उठाकर बेडरूम में ले आया और बेड पर लेटा दिया.

मैंने उसकी कमर के नीचे एक तकिया रख दिया.
इससे उसकी चूत का मुँह थोड़ा सा खुल गया और मुझे उसकी चूत का मुख साफ़ दिखाई देने लगा।

फिर मैंने अपना लंड उसकी गर्म चूत पर रखा और अंदर डालने लगा.
लेकिन मेरा लंड उसकी टाइट चूत के अंदर नहीं जा रहा था.

मैंने उसकी कमर को कस कर पकड़ लिया और अपना लिंग उसकी योनि के मुँह पर रख कर एक जोरदार धक्का लगा दिया।

मेरा पूरा लंड फिसल कर उसकी चूत में समा गया और मानसी के मुँह से जोर से चीखने की आवाज निकल गई.
उसका शराब का सारा नशा भी उतर गया.

मैंने नीचे देखा तो उसकी चूत से खून निकल रहा था.
मानसी की आंखों से आंसू निकल रहे थे, वह जोर-जोर से सांसें ले रही थी।

वो पसीने से पूरी भीग चुकी थी और अब उसके मुँह से गालियाँ भी निकलने लगी थीं.

मानसी बोली- मादरचोद, धीरे कर… मैं तेरा पहन रही हूँ… मैं कोई रंडी नहीं हूँ।

उसकी गालियों से मैं और उत्तेजित हो गया और मैंने उसके एक स्तन को जोर से भींच दिया.
‘तुम मेरी साली हो। अभी तक पत्नी नहीं मिली.

मानसी- आज से मैं भी तुम्हारी हुई. अब हम दोनों तुम्हारी पत्नियाँ हैं और तुम हम दोनों को समान रूप से प्यार करोगे।
मैंने भगवान से कहा – मैंने एक छोड़ा और आपने मुझे प्यार करने के लिए दो दे दिये।

मन में यह कह कर मैंने धीरे धीरे अपना लंड पेल दिया और उसे चोदने लगा.

वो कुछ कहना चाहती थी लेकिन चुदाई के दर्द के कारण कुछ बोल नहीं पा रही थी.

मानसी कह रही थी- आह्ह उह्ह बाहर मत निकालो प्लीज़… आह्ह अब से मैं तुम्हारी हूँ मेरे पति प्लीज मुझे चोदो जैसे मिसेज राज समझे… आह्ह।
वो कामुकता से कराह रही थी और मैं लगातार जोर-जोर से धक्के मार रहा था।

मेरे लंड के चुत में अन्दर-बाहर होने से पूरे कमरे में फच फच की आवाजें आ रही थीं.
कुछ मिनट के धक्को के बाद उसे भी मजा आने लगा और वो भी मेरा पूरा साथ देने लगी.

मैं: क्यों मिसेज राज, अब तो तुम्हें मेरे लंड से चुदने में मज़ा आ रहा है ना?
मानसी- हां पतिदेव, आह्ह उह्ह, और जोर से चोदो मुझे, और जोर से चोदो मुझे… फाड़ दो मेरी चूत को आज पूरी तरह से… आह्ह हां और जोर से… बना दो मेरी चूत का भोसड़ा।

ऐसा लग रहा था मानो मैं उसकी कामुक आवाजें सुनकर पागल हो रहा हूं.
मैं बेमन से चोदने लगा.

‘आईईईई आह्ह्ह हाँ, और जोर से चोदो मुझे, चोदो मुझे डार्लिंग… और जोर से चोदो मुझे… आज मुझे चोदो और मुझे औरत बना दो।’

मैंने पास में रखी शराब की बोतल से नीट शराब का एक लंबा घूंट लिया और अपनी चुदाई की स्पीड बढ़ा दी.

इसी बीच उसे ऑर्गेज्म हो गया था.

दस मिनट बाद मैं झड़ने वाला था तो मैंने पूछा- कहां निकालूं?
मानसी- आज इसे मेरी प्यासी चूत में डाल कर इसकी आग बुझा दो।

मैंने अपना सारा वीर्य उसकी चूत में छोड़ दिया और थक कर बिस्तर पर लेट गया।
उस रात हमने खूब शराब पी और एक बार सेक्स भी किया।
फिर थककर वो नंगा ही सो गया.

अगले दिन सुबह उठकर मैंने एक बार फिर से उसकी चूत में अपना लंड डाला और उसे चोदा.

अब वो बहुत आराम से वहीं लेटी रही और मेरे लंड का मजा लेती रही क्योंकि रात भर की चुदाई के कारण उसकी चूत फट गई थी जिससे मेरा लंड आसानी से अंदर-बाहर हो रहा था.

उस दिन हम दोनों कहीं नहीं गये और पूरा दिन नंगे ही लेटे रहे.

दोस्तो, अब मानसी और सौम्या, हम तीनों पति-पत्नी की तरह रहते हैं।

अगर आपको वाइफ सिस्टर सेक्स स्टोरी पसंद आई होगी.
कृपया कमेंट और मेल में बताएं.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Delhi Escort

This will close in 0 seconds