May 14, 2024
चूत की चुदाई

आज की हिंदी सेक्स कहानी है "कुंवारी चूत की चुदाई कर के अपनी वासना बुझाई" इस कहानी को पढ़ने के बाद आप अपना लंड हिलाने से नहीं रोक पाएंगे।

आज की हिंदी सेक्स कहानी है “कुंवारी चूत की चुदाई कर के अपनी वासना बुझाई” इस कहानी को पढ़ने के बाद आप अपना लंड हिलाने से नहीं रोक पाएंगे।

हेलो दोस्तों, मेरा नाम अमन है। मैं दिल्ली में रहता हूँ। अब बी।ए। मैं अंतिम वर्ष का छात्र हूं। अभी मेरी उम्र 21 साल है।

मैं हमेशा से हर समय सेक्स करना चाहता हूं। मुझे सिर्फ सुबह और शाम को ही सेक्स करने का मन करता है।

आज मैं आपको अपने जीवन की एक सच्ची कहानी और अपने पहले सेक्स की कहानी बताने जा रहा हूँ।

यह घटना तब की है जब मैं 18 साल का था और बारहवीं कक्षा में पढ़ता था। पहले मैं आपको अपने बारे में बता दूं। मैं एक गांव का रहने वाला हूं। मैं शुरू से ही लड़कों के स्कूल में पढ़ा हूं।

मैं पढ़ाई में हमेशा से अच्छा रहा हूं इसलिए पढ़ाई के कारण मुझे कभी किसी की बात नहीं सुननी पड़ी। मैं जिस भी स्कूल में गया, वहां मैंने अपनी एक अच्छी छवि बनाई।

जब मैं आगे की पढ़ाई के लिए पास के एक गांव में गया तो वही हुआ। मैंने जल्द ही वहां सबका भरोसा जीत लिया।

मैं दिखने में अच्छा हूँ और मैंने अपने शरीर को भी फिट बना रखा है। लेकिन शर्मीले होने के कारण मै आज तक किसी भी लड़की को इम्प्रेस नहीं कर पाया हूँ।

फिर मैंने हिम्मत जुटाई और एक लड़की को अपनी गर्लफ्रेंड बना लिया। उसका नाम रितु था। वो मेरी ही क्लास में पढ़ती थी। मैं उसका पहला बॉयफ्रेंड था। उसे पटाने के लिए मुझे 3 महीने तक मेहनत करनी पड़ी, तब जाकर वो लाइन पर आई।

शुरू में हम सिर्फ फोन पर ही बात करते थे और कुछ नहीं होता था। फिर हम मिलने लगे और सेक्स के बारे में भी बातें करने लगे। लेकिन कभी उसके साथ करने का मौका नहीं मिला।

फिर जब हम दोनों 12वीं में आये तो हमारी लव लाइफ में सेक्स ने जगह बना ली थी। जब हमारे 12वीं की पहली छमाही का रिजल्ट आया तो उसने मुझसे वादा किया कि अगर वह इंटरमीडिएट पास कर लेगी तो वह मुझसे मिलेगी।

जब रिजल्ट आया तो वह पास हो गई थी। वह अपने वादे के मुताबिक मुझसे मिलने आई। वह चाहती थी कि मैं उससे उसके घर के आसपास कहीं मिलूं।

जगह का इंतजाम करने के साथ-साथ मैंने उसे नींद की गोलियाँ दे दी थीं.. ताकि वो ये गोलियाँ अपने परिवार को खिला सके।

उसने रात को उन गोलियों को दूध में मिलाकर अपने परिवार के सभी सदस्यों को खिला दिया। उसने मुझे फोन भी किया और कहा कि हम दोनों आज रात को मिलेंगे।

मैंने घर पर बता दिया था कि मैं अपने भाई के दोस्त की शादी में जा रहा हूँ। इस वजह से मुझे भी घर से दूर रहने में कोई परेशानी नहीं हुई। मैं उसे उसके घर से अपने एक दोस्त के कमरे पर ले जाने के मूड में था।

मैं उसके कॉल का इंतजार करने लगा। जब रात को साढ़े दस बजे तक भी उसका कोई फोन नहीं आया तो मुझे गुस्सा आ गया और मैंने शराब पीना शुरू कर दिया।

मैंने अभी 2 पैग लगाए ही थे कि 11 बजे उसका फोन आ गया। वो बोली- मैं घर से बाहर नहीं आ सकती, तुम मेरे घर आ जाओ।

मैंने उससे पहले ही कहा था कि उसे घर से बाहर आना चाहिए और मैं बाकी सब संभाल लूंगा।’ वह भी मान गयी। लेकिन मुझे नहीं पता कि बाद में क्या हुआ… या शायद वो बाहर आने से बहुत डर रही थी, इसलिए उसने मना कर दिया।

अब मैंने उसके घर जाने का फैसला किया। अगर मैं न जाता तो शायद मुझे ऐसा मौका फिर कभी न मिलता। रात को मेरे दो दोस्तों ने मुझे उसके घर के पास छोड़ दिया। मैंने पहले ही उसे फ़ोन पर दरवाज़ा खुला रखने के लिए कह दिया था।

जैसे ही मैं उसके घर के बाहर पहुँचा, उसने मुझे अंदर ले लिया और दरवाज़ा बंद कर दिया। रात के 12 बजे मैं उसके घर पहुंच गया। वह मुझे अपने कमरे में ले गयी।

कहानी को आगे लिखने से पहले मैं आपको एक बात बता दूं कि हर लड़की की गांड और स्तन हमेशा मुलायम होते हैं, इसलिए मैं कुछ नहीं लिखूंगा कि उसके स्तन बहुत मुलायम थे या उसकी गांड बहुत गद्देदार थी। क्योंकि उनके फिगर के बारे में जानने के बाद आपको ये बात अपने आप ही पता चल जाएगी।

उसके स्तन इतने बड़े थे कि मैं उसके एक भी स्तन को एक हाथ में नहीं पकड़ सका। उसका रंग थोड़ा सांवला था, लेकिन नैन-नक्श की वजह से वो बहुत हॉट लगती थी।

उसके चलने का अंदाज़ इतना मस्त था कि क्या कहूँ? वह अपनी चाल से किसी को भी मार सकती थी।

उस रात उसने सलवार सूट पहना हुआ था। उसने कुर्ते के नीचे सफ़ेद ब्रा और अन्दर काली पैंटी पहनी हुई थी, जिसके बारे में उसने मुझे फ़ोन पर बताया था।

कमरे में घुसते ही मैंने सबसे पहले चेक किया कि किसी ने मुझे देखा तो नहीं। जब यह कन्फर्म हो गया कि मुझे किसी ने नहीं देखा तो मैंने उसे पकड़ लिया और चूमना शुरू कर दिया।

वो भी मेरा साथ दे रही थी। मैंने उसे अपनी बांहों में पकड़ लिया और उसके मम्मे दबाने लगा। वो भी मेरी कमर पर हाथ फिरा रही थी।

मैंने अपने हाथ उसकी कमर पर रख दिए और उसे इतनी ज़ोर से पकड़ लिया, मानो मैं उसे अपने अंदर समा लेना चाहता हूँ। बदले में उसने भी मुझे कस कर पकड़ लिया।

फिर मैं उसकी गांड दबाने लगा। मुझे उसकी गांड बहुत पसंद आयी। आज हमारा इस तरह मिलने का पहला मौका था… लेकिन हम दोनों ही अच्छी तरह जानते थे कि हमें क्या करना है।

मैं धीरे धीरे किस करते हुए उसके कपड़े उतारने लगा। उसका 38-32-40 का फिगर बहुत मस्त था। मैंने उसका कुर्ता उतार दिया। अन्दर उसने सफ़ेद जालीदार ब्रा पहनी हुई थी। मैंने उसके स्तनों को अपने हाथों में ले लिया और उन्हें मसलना शुरू कर दिया।

अभी तक हम ऐसे ही खड़े थे। फिर मैंने उससे बिस्तर पर आने को कहा। वह बिस्तर पर बैठ गयी। मैंने उसे लिटा दिया और उसके ऊपर आ गया।

मैंने पहले ही उसके स्तनों को नंगा कर दिया था इसलिए मैं उसके ऊपर चढ़ गया और उसके एक स्तन को दबाने लगा और दूसरे को मुँह में लेकर चूसने लगा।

वो एक हाथ से मेरी कमर को सहला रही थी और दूसरे हाथ से मेरे बालों को सहला रही थी। हम दस मिनट तक ऐसा करते रहे।

फिर मैं अपना एक हाथ नीचे ले गया और उसके पेट को सहलाते हुए उसकी जाँघों के बीच पहुँच गया। मैं सलवार के ऊपर से उसकी चूत को सहलाने लगा और अब हमारी जीभ एक दूसरे के मुँह में थे। 

वो लम्बी लम्बी सिसकारियाँ ले रही थी। मैं लगातार एक हाथ से उसकी चूत को जोर-जोर से सहला रहा था। साथ ही मैं उसके होंठों को चूस रहा था। उसके मुँह में अपनी जीभ घुमा रहा था।

कुछ मिनट तक ऐसा करने के बाद मैंने उसकी सलवार का नाड़ा खोल दिया और अपना हाथ उसकी पैंटी पर रख दिया। मैंने धीरे से उसकी सलवार उतार दी। अब मैंने भी अपनी पैंट और शर्ट उतार दी और सिर्फ अंडरवियर में रह गया।

वो मेरे सामने सिर्फ एक छोटी सी काली पैंटी में लेटी हुई थी। मैंने उसे अपने ऊपर लेटा लिया और उसकी गांड को जोर जोर से दबाने लगा। मैं उसके होंठों को चूमता रहा।

हम दोनों ने एक दूसरे को ऐसे पकड़ रखा था मानो एक दूसरे में समा जाना चाहते हों।

फिर मैंने उसे अपने नीचे लिटाया और फिर से उसके ऊपर चढ़ गया।

मैंने फिर से उसके स्तनों को चूसना शुरू कर दिया और एक हाथ उसकी पैंटी में डालकर उसकी चूत पर रख दिया। उसकी चूत बहुत गरम हो गयी थी और तरल पदार्थ छोड़ कर गीली हो गयी थी।

फिर मैंने धीरे-धीरे उसकी पैंटी को नीचे करके उतारना शुरू कर दिया। उसने भी गांड उठा कर मेरा साथ दिया। जैसे ही उसकी पैंटी उतरी, मैंने अपना अंडरवियर भी उतार दिया। अब हम दोनों नंगे थे और दोनों बहुत गर्म हो गये थे।

मैंने बिना समय बर्बाद किये अपना लंड उसकी चूत पर रख दिया। मेरा लिंग 7 इंच लंबा और 3।5 इंच मोटा है। जैसे ही मैंने अपना लंड उसकी चूत पर रखा तो वो अपनी कमर उठाने लगी और मैं उसके होंठों को चूसने लगा।

फिर उसने अपने हाथ से मेरा लंड पकड़कर अपनी चूत के मुँह पर रखा और मुझे इशारा किया तो मैंने ज़ोर से धक्का लगा दिया। पहले ही झटके में मेरा 2 इंच लंड उसकी चूत में घुस गया।

उसने दर्द के मारे अपनी आँखें बंद कर लीं और अपने होठों को दांतों के बीच दबा लिया। उसने अपने हाथों से मेरी कमर को कस कर पकड़ लिया। उसे असहनीय दर्द हो रहा था।

एक पल रुक कर मैंने दूसरा धक्का लगाया। इस बार मेरा आधा लंड उसकी चूत में चला गया। उसकी झिल्ली टूट गयी और आँखों से आँसू आने लगे।

वह दर्द में था। वह दांत भींच रही थी। लेकिन फिर भी उसने मुझे नहीं रोका।

मैंने एक और जोरदार धक्का मारा और अपना पूरा लंड उसकी चूत में डाल दिया। मैंने अपना पूरा लंड उसकी चूत में डाल दिया और वैसे ही लेटा रहा।

हमें कोई जल्दी नहीं थी इसलिए हम सब कुछ बड़े आराम से कर रहे थे। क्योंकि उस ने अपने घर वालों को नींद की गोलियां दे दी थीं और किसी का डर भी नहीं था।

फिर कुछ देर बाद मैं आगे-पीछे होने लगा। धीरे-धीरे मैंने अपनी स्पीड बढ़ा दी और उसे जोर-जोर से चोदने लगा। वो भी नीचे से मेरा पूरा साथ दे रही थी।

करीब 15 मिनट तक उसे चोदने के बाद मैं उसकी चूत में ही झड़ गया.. क्योंकि मैं पहले से ही 72 घंटे की गर्भनिरोधक गोली लेकर आया था। जब तक मैंने अपना वीर्य उसकी चूत में छोड़ा, तब तक वह दो बार झड़ चुकी थी।

जब मैंने अपना वीर्य उसकी चूत में छोड़ा तो वह फिर से उत्तेजित हो गई और उसने मुझे कसकर पकड़ लिया। वो मेरे होंठों को चूमने लगी।

मैंने उससे ‘आई लव यू डार्लिंग…’ कहा और उसे फिर से चूमना शुरू कर दिया।

फिर कुछ मिनट के बाद मैंने अपना लंड उसकी चूत से बाहर निकाल लिया। वह अभी भी दर्द में थी। उसके बाद मैंने उसे फिर से चूमना शुरू कर दिया और उसके होंठों को चूसने लगा। उसके स्तन दबाने लगा।

दोस्तो, मैं बता नहीं सकता कि उस दिन मुझे कितना मज़ा आ रहा था। वो मेरी जिंदगी का पहला दिन था जब मैं किसी के साथ सेक्स कर रहा था। हर कोई सोचता है कि उसका जो भी करने का मन हो वो आज ही कर ले… लेकिन सब कुछ संभव नहीं है।

मैं भी यही सोच रहा था कि ये हो जाए या वो हो जाए। लेकिन उस दिन हमने सीधे लंड-चूत की चुदाई की।

इसके बाद वो बिस्तर पर पीठ के बल लेट गयी और मैं उसकी जाँघों के बीच आ गया और अपना लंड उसकी चूत में पेलता रहा। उस रात मैंने उसे सुबह 3।50 बजे तक तीन बार चोदा। फिर मैं चुपचाप उसके घर से निकल गया।

उसके बाद हम कई बार मिले और उसे खूब चोदा, मैंने उसे अलग-अलग पोजीशन में चोदा। मैंने हर संभव तरीके से अपना लंड उसकी चूत में डाला। एक बार मैंने उसकी गांड भी मारी।

मुझे उसे चोदने में सबसे ज्यादा मजा तब आया जब मैंने उसे उल्टा लिटा दिया और उसके ऊपर लेटकर उसकी गांड के पास उसकी चूत में अपना लंड डाल दिया।

मैंने उसे उसके घर में, अपने ऑफिस में, होटल में, खेत में… हर जगह चोदा। उसने भी मुझे कभी सेक्स के लिए मना नहीं किया। वो मुझसे चुदाई करवाने के लिए हमेशा तैयार रहती थी।

बाद में जब हमने कॉलेज में दाखिला लिया तो हम साथ-साथ आते-जाते थे।

मैं हमेशा मौका मिलने पर उसकी गांड और स्तन दबा देता था, यहाँ तक कि बस में भी। उनके रहते मुझे कभी किसी चीज़ की कमी महसूस नहीं हुई। वह और मैं एक-दूसरे के साथ हमेशा खुश रहते थे और एक-दूसरे से बहुत प्यार करते थे।

हम दोनों 4 साल तक साथ रहे और खूब सेक्स का मजा लिया। जब तक मैं उसके साथ रहा, मैंने उसे खूब चोदा। हर तरह से, हर जगह चुदाई की।

शुरू में तो हम लंड और चूत नहीं चाटते थे.. लेकिन बाद में मैं उसकी चूत चाटने लगा और उससे अपना लंड भी चुसवाने लगा। उसे भी मेरी इन सब बातों से कोई दिक्कत नहीं थी।

उसके परिवार को भी हमारे बारे में पता चल गया और मैंने भी उसकी मां से कहा कि मैं उससे शादी करने के लिए तैयार हूं। वह मुझसे शादी करने के लिए भी तैयार थी, लेकिन किसी कारण से उसके परिवार वाले सहमत नहीं हुए और हमें अलग होना पड़ा।

अब उसकी शादी हो चुकी है और मैं फिर से अकेला हूं। अगर आप सभी को मेरी यह सच्ची कहानी पसंद आई हो तो प्लीज़ मुझे मेल करें। यह पहली बार है जब मैंने कोई सेक्स कहानी लिखी है, अगर कोई गलती हो तो माफ कर देना।

तो दोस्तों, आपको मेरी यह चुदाई की कहानी कैसी लगी, जरूर बताएं।

अगर आपको यह चूत की चुदाई कहानी पसंद आई तो हमें कमेंट बॉक्स में ज़रूर बताएं।

यदि आप ऐसी और चुदाई की सेक्सी कहानियाँ पढ़ना चाहते हैं तो आप “Readxstories.com” पर पढ़ सकते हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Delhi Escorts

This will close in 0 seconds