June 18, 2024
पड़ोसन आंटी को चोदा

मेरा नाम अमन है आज में आपको बताने जा रहा हूँ की कैसे मेने "पड़ोसन आंटी को चोदा और उन्हें चुदाई का असली सुख दिया"

मेरा नाम अमन है आज में आपको बताने जा रहा हूँ की कैसे मेने “पड़ोसन आंटी को चोदा और उन्हें चुदाई का असली सुख दिया”

मैं दिल्ली का रहने वाला हूँ। मेरी उम्र 25 साल है और मेरा लिंग 7.5 इंच लंबा और 3 इंच मोटा है। अब मैं सीधा कहानी पर आता हूँ. मेरे घर के सामने वाले घर में एक आंटी रहती है.

उसका रंग सांवला है लेकिन वह बहुत अच्छी दिखती है। उसकी बड़ी गांड और बड़े स्तन देखकर कोई भी उसे चोदने के लिए तैयार हो जाए.

आंटी की बालकनी मेरे घर के ठीक सामने थी, इसलिए मैं अक्सर उन्हें नमस्ते कह देता था। उसके बड़े स्तनों की दरार देख कर मेरा लंड फनफनाने लगता था.

मेरी नज़र हमेशा उसकी बड़ी गांड और बड़े स्तनों को निहारने पर ही टिकी रहती थी। एक दिन वह साड़ी पहनकर बालकनी में खड़ी थी। उन्होंने गहरे गले का ब्लाउज पहना हुआ था.

उनके ब्लाउज से उनका क्लीवेज साफ़ दिख रहा था. जैसे ही मेरी नजर आंटी के स्तनों की दरार पर पड़ी तो मानो वहीं रुक गई.

मैं आंटी के मम्मों को घूरते लगा. आंटी ने भी मुझे उनके स्तनों को घूरते हुए देख लिया. जब आंटी ने देखा कि मैं उनके स्तनों को सहला रहा हूँ तो वो थोड़ा और नीचे झुक गईं।

मेरा लंड खड़ा हो गया. आंटी खुद ही मुझे अपनी छातियों की घाटी के दर्शन करा रही थीं. जैसे ही मैं थोड़ा और झुका, आंटी के स्तन भी मुझे दिखने लगे।

उन बड़े स्तनों को देखते ही मेरे शरीर में मानो बिजली दौड़ गयी। लिंग खड़ा और सख्त हो गया. मैंने अपना हाथ नीचे ले जाकर अपने लिंग को सहलाया। आंटी भी मेरी हरकतें देख रही थीं और वासना भरी नजरों से मुझे देख रही थीं.

जब मुझसे और बर्दाश्त नहीं हुआ तो मैं सीधा बाथरूम में चला गया और सामने का सीन सोच कर अपना लंड मुठ्ठी में लेकर हिलाने लगा.

मुझे आंटी के स्तनों के बारे में सोच कर मुठ मारने में बहुत मज़ा आ रहा था। दो-तीन मिनट में ही मेरे लंड से वीर्य निकल गया.

उसके बाद मैं बाहर आया लेकिन तब तक आंटी वहां से जा चुकी थीं. अगले दिन मैं फिर अपनी बालकनी में आंटी का इंतजार कर रहा था. काफी देर तक इंतजार करने के बाद आखिरकार आंटी बालकनी में आईं.

आंटी ने मेरी तरफ देखा और कातिल मुस्कान के साथ मुस्कुराने लगीं. मैं भी हल्के से मुस्कुरा दिया. लेकिन साथ ही वो इस बात का भी ख्याल रख रहे थे कि कोई हमें देख तो नहीं रहा है.

हम दोनों आंखों से इशारे करने लगे. मैंने आंटी को पीछे मुड़ने का इशारा किया. आंटी दूसरी तरफ घूम गईं. दरअसल मैं आंटी की गांड देखना चाहता था.

उसके बड़े बड़े नितम्ब देख कर मेरा लंड अचानक खड़ा हो गया. मेरा मन कर रहा था कि बालकनी से कूदकर उसके पास पहुँच जाऊँ। उसकी मस्त बड़ी गांड बहुत सेक्सी लग रही थी.

आंटी की साड़ी उनकी गांड पर बहुत कसी हुई थी. उसकी पैंटी का निशान भी दिख रहा था. मैं पागल हो रहा था, अब मेरा मन उसकी गांड चोदने का हो रहा था।

मैंने इशारे से आंटी का मोबाइल नंबर माँगा। उसने अपना नंबर एक छोटे से पत्थर पर लपेटा और मेरे घर की बालकनी पर फेंक दिया. अब मैं अपने आप को रोक नहीं सका. आंटी को टांका लग चुका था.

किसी तरह शाम हुई और मैंने उसे फोन किया. लेकिन उसने फोन नहीं उठाया और फोन काट दिया. इसके बाद उसने एक टेक्स्ट मैसेज भेजा. मैसेज में लिखा था कि वह अपने पति के साथ है. उन्होंने बाद में बात करने को कहा.

रात को करीब साढ़े 12 बजे उसका कॉल आया तो मैं उससे सेक्स की बातें करने लगा. फ़ोन सेक्स करते समय वो भी गर्म हो रही थी.

बात करते समय, मैंने उसकी गांड को चोदने की इच्छा व्यक्त की। पहले तो उसने मना कर दिया. मैंने ज़ोर दिया तो वो मान गयी. इसके बाद उसने कहा कि उसका पति 3 दिन के लिए काम से बाहर जा रहा है.

उसने कहा कि उसका पति कल ही चला जायेगा. उसके जाने के बाद हम दोनों मिलेंगे. मैं उसके लिए पिछला गेट खुला रखूंगा.

इतना सब कुछ होने के बाद उसने फोन रख दिया। लेकिन मेरा लंड अभी भी खड़ा था. मैं आंटी की चूत और गांड चोदने के लिए मरा जा रहा था.

मुझे नींद नहीं आ रही थी और मेरा लिंग पूरी तरह से खड़ा था, इसलिए मुझे हस्तमैथुन से काम चलाना पड़ा। मैंने हस्तमैथुन किया और फिर शांति से सो गया. सुबह जब मैं उठा तो मेरा लंड फिर से खड़ा था.

मैं जल्दी से फ्रेश हुआ, नाश्ता किया और फिर आंटी के बुलाने का इंतज़ार करने लगा। लेकिन उनका फोन नहीं आया. उसने मैसेज किया कि उसका पति कुछ देर में घर छोड़ने वाला है.

उन्होंने मुझे करीब 11.30 बजे अपने घर आने को कहा. उन्होंने कहा कि मुझे पिछले गेट से ही आना चाहिए. मैं जल्दी से आंटी के घर के पीछे वाले रास्ते से चला गया. गेट पहले से ही खुला था.

जब मैं घर में घुसा तो वो मेरा इंतज़ार कर रही थी. वो मेरे सामने सिर्फ काले रंग की ब्रा और पैंटी पहने खड़ी थी. वह बिल्कुल शानदार लग रही थी. उसने दरवाजा अंदर से बंद कर लिया.

उसके बड़े बड़े मम्मे और गांड देख कर मेरा बुरा हाल होने लगा. हम उसके बेडरूम में गए और उसने मेरे सारे कपड़े उतार दिए। मुझे सिर्फ अंडरवियर में छोड़ दिया.

मेरा लंड खड़ा हो गया था. जब उसने मेरे लंड को छुआ तो मजा आ गया. वो बार बार मेरे लंड को दबा रही थी.

उसके बाद उसने मेरा अंडरवियर भी उतार दिया. अब मैं बिल्कुल नंगा था. उसने मुझे बिस्तर पर धक्का दे दिया और तुरंत मेरा खड़ा लिंग अपने मुँह में ले लिया। मैं सिसकने लगी. ऐसा लग रहा था मानो वो लंड की बहुत प्यासी हो.

वो मेरे लंड को पूरा अपने मुँह के अंदर तक लेकर चूस रही थी. दस मिनट तक लंड चूसने के बाद ऐसा लग रहा था कि मैं ज्यादा देर टिक नहीं पाऊंगा.

लेकिन मैंने उसे कुछ नहीं बताया. वह मेरा लिंग चूसती रही और मैं उसके मुँह में स्खलित हो गया।

उसने मेरा वीर्य पी लिया. फिर वो खड़ी हुई और अपनी ब्रा और पैंटी उतारने लगी. जैसे ही उसने अपने बड़े स्तनों से ब्रा हटाई, उसके फुटबॉल के आकार के बड़े स्तन अचानक हवा में झूल गए।

फिर उसने अपनी पैंटी भी उतार दी. उसकी चूत भी नंगी हो गयी थी. मैं आँखें फाड़े उसके स्तनों को देख रहा था। उसकी चूत भी बहुत अच्छी लग रही थी.

मैं अपने लंड को हाथ से सहला रहा था. फिर वो मेरे करीब आई और फिर से मेरा लंड मुँह में लेकर चूसने लगी. मुझे फिर से मजा आने लगा. धीरे धीरे मेरे लंड में तनाव आना शुरू हो गया.

उसके बाद मैंने उसे बिस्तर पर पटक दिया और उसके स्तनों को जोर-जोर से दबाने लगा। उसके मुँह से कराहें निकलने लगीं. मैं उसके बड़े स्तनों को जोर जोर से दबा रहा था.

उसके स्तन इतने बड़े थे कि मेरे हाथों में भी नहीं आ रहे थे. मैंने काफी देर तक उसके मम्मों को मसला और फिर उसकी चूत में अपनी उंगली डाल दी.

वह अचानक उछल पड़ी लेकिन फिर तुरंत सामान्य हो गयी. मैंने अपनी उंगली उसकी चूत में डाल दी और हिलाने लगा.

आंटी की चूत गीली हो गयी थी. मैंने उसकी चूत को सूंघा तो उसमें से वासना की गंध आ रही थी. मैंने उसकी चूत को चाटा. फिर उसने मेरा मुँह अपनी चूत पर दबा दिया.

मेरी जीभ उसकी चूत के अंदर चली गई और मैं उसकी चूत का रस चाटने लगा. मुझे भी मजा आने लगा. मैंने काफी देर तक उसकी चूत चाटी और फिर मैं खड़ा हो गया. मेरा लिंग अब पूरी तरह से खड़ा हो चुका था।

आंटी उठीं और अलमारी से कंडोम निकाला और मेरे लंड पर चढ़ा दिया. फिर वो बिस्तर पर लेट गयी और मुझे अपने ऊपर आने का इशारा किया. मैंने अपना लंड उसकी चूत के छेद पर रखा और एक ही झटके में अन्दर डाल दिया.

जैसे ही मेरा लंड अन्दर गया, मैंने आंटी को चोदना शुरू कर दिया. उनको भी मजा आने लगा और मैं भी पूरे जोश से आंटी की चूत चोदने लगा.

बीच-बीच में मैं उसके मम्मे भी दबा रहा था और चूस रहा था। वो काम रस का आनंद ले रही थी. मुझे भी उसके कसे हुए बदन को मसलने और चोदने में मजा आ रहा था.

15 मिनट तक उसकी चूत चोदने के बाद उसकी चूत ने पानी छोड़ दिया. उसके बाद मैंने लंड बाहर निकाल लिया. अब जिस पल का मैं इंतज़ार कर रहा था वो आ गया है. मैं उसकी बड़ी गांड को चोदने के लिए मरा जा रहा था.

मैंने आंटी को पलटने को कहा और अपना लंड उनकी गांड के छेद पर सेट करने को कहा. मैंने अपना लंड अन्दर डालने की कोशिश की तो उसकी चीख निकल गयी.

मैं फिर वहीं रुक गया. दो मिनट रुकने के बाद जब उनका दर्द कम हुआ तो मैंने दोबारा धक्का लगाया लेकिन आंटी दर्द से कराह उठीं.

उसने बताया कि उसके पति का लिंग इतना मोटा, लम्बा और बड़ा नहीं है. इसलिए उसे इतना बड़ा लंड अपनी गांड में लेने में दिक्कत हो रही है.

मैंने आंटी की गांड को थूक से चिकना किया और अपनी उंगली से उनकी गांड को सहलाया. मैंने दोबारा कोशिश की और अपना लंड अन्दर धकेल दिया और आधा लंड आंटी की गांड में घुस गया.

मैं आंटी के ऊपर लेट गया और उनके स्तनों को सहलाते हुए उनकी पीठ पर काटने लगा। धीरे-धीरे मैंने अपना पूरा लंड आंटी की गांड में घुसा दिया और फिर उनकी गांड चोदने लगा.

कुछ ही देर में उसे भी मजा आने लगा. वो अब आराम से मेरा लंड ले रही थी. उसकी गांड खुल गयी और मुझे भी मजा आ रहा था. पांच-सात मिनट में ही मैंने कंडोम को आंटी की गांड में भर दिया.

मैंने लंड बाहर निकाल लिया. हम दोनों कुछ देर तक लेटे रहे और फिर मैंने आंटी से दोबारा मेरा लंड चूसने को कहा. उसने एक बार फिर से मेरा लंड अपने मुँह में ले लिया. दस मिनट में ही लंड एक बार फिर से खड़ा हो गया.

इस बार मैंने कंडोम नहीं लगाया और उसे अपने लिंग पर बैठने को कहा. जब वो बैठने लगीं तो मेरे लंड में दर्द होने लगा क्योंकि आंटी मोटी थीं और उनका वज़न ज़्यादा था.

मैंने आंटी से तेल की शीशी लाने को कहा. मैंने अपने हाथ में तेल की शीशी से तेल लेकर उसकी गांड पर अच्छी तरह से तेल लगाया और उसकी गांड को अंदर से चिकना कर दिया.

उसके मोटे काले नितम्ब अब और भी काले दिखने लगे थे। फिर मैंने उसे पेट के बल लेटने को कहा. वो अपने बड़े बड़े नितंब मेरी तरफ करके लेट गयी.

मैंने पीछे से आंटी की गांड में अपना लंड डाल दिया. एक बार तो उसे दर्द हुआ लेकिन फिर वो सामान्य हो गयी. अब मैं तेजी से आंटी की गांड चोदने लगा. वह भी मजे से अपनी गांड मरवाने लगी.

दस मिनट तक फिर से उनकी गांड चोदने के बाद मैंने आंटी से कहा कि मैं उनके मुँह में झड़ना चाहता हूँ. वो उठी और मेरा लंड चूसने लगी.

वो मजे से मेरा लंड चूस रही थी और मैंने उसे दो मिनट तक चूसा और एक बार फिर से उसकी गांड में डाल दिया.

मैंने 5-6 झटके लगाए और वीर्य उसकी गांड में छोड़ दिया. जब मैंने लंड बाहर निकाला तो आंटी की गांड से वीर्य टपक रहा था. अब मैं भी थक गया था और आंटी भी थक गयी थी.

हम दोनों एक साथ लेट गए और मैं उसके बड़े स्तन पर अपना सिर रखकर लेट गया। मुझे नींद आ गयी। जब मेरी आंख खुली तो मैंने आंटी को एक बार फिर से चोदा. उसके बाद मैं अपने घर चला गया.

उन तीन दिनों में मैंने कई बार आंटी की चूत और गांड चोदी. उसके बाद जब भी मौका मिलता है, मैं आंटी को जरूर चोदता हूँ।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Lucknow Call Girls

This will close in 0 seconds