May 14, 2024
दो भाभियों को एकसाथ चोदा

दोस्तो, मैं अमन आज में बताने जा रहा हु की कैसे मेने "दो भाभियों को एकसाथ चोदा और उनकी हवस को शांत किया"

दोस्तो, मैं अमन आज में  बताने जा  रहा हु की कैसे मेने “दो भाभियों को एकसाथ चोदा और उनकी हवस को शांत किया”

एक बार फिर आपके लिए एक सेक्स कहानी लेकर आया हूँ। भाभी का नाम आशिका है. आशिका भाभी के नाम की तरह ही उनका शरीर भी बहुत खूबसूरत है.

सच बताऊं तो मैं तो उन्हें देख कर ही पागल हो जाता हूं. मैं भाभी के साथ सेक्स की आग में जलता रहता हूं. जब से मैंने आशिका भाभी की गांड को चुदाई की है

मैंने उसकी कई बार चुदाई की है। मुझे अपनी भाभी की गांड चोदने में बहुत मजा आता है. उस रात भैया के आने के बाद भैया ने भी भाभी को खूब चोदा और मैं पूरी रात नंगा होकर तड़पता रहा.

फिर भैया के ऑफिस चले जाने के बाद मैं भाभी के साथ ही फंसा रहा. मुझे बहुत मजा आता था, तभी भैया का फोन आ जाता था और भाभी फोन पर बात करती थीं.

मैं तो भाभी को नंगी करके गोद में उठा कर चोद देता. मुझे इसका बहुत आनंद आता. मैं अपनी चुदाई का हर सपना भाभी को चोदते समय पूरा करने में लग जाता.

बेडरूम में टीवी पर नंगी फिल्म चलाकर भाभी के साथ सेक्स करते हुए सेक्स देखना… सेक्स कहानी पढ़ते समय भाभी के शरीर से खेलना.

सारे घर में भाभी को उठा उठा कर चोद देना भाभी की मोटी चूचियां पी पी कर गांड चोद देना मुझे इस सब में जरुरत से ज्यादा मजा आ रहा था.

एक दिन मैं और भाभी चुदाई में लगे थे, तभी भैया का फोन आया. भाभी बोलने लगीं. उस वक्त मैं भाभी के पूरे शरीर को चूम रहा था. फिर मैंने भाभी की बड़ी गांड पर जोर से काट लिया और भाभी आह करने लगी.

भाई ने फोन पर पूछा- क्या हुआ? भाभी ने मेरी तरफ देखा और कहा कि कुछ नहीं, नीचे से चींटी घुस गयी है. मैं उसकी बात सुनकर मुस्कुरा दिया.

उसी शाम भाभी की एक सहेली घर आई। उसका नाम कृतिका था. कृतिका भी बहुत मस्त भाभी थी. वो एकदम सेक्स आइटम लग रही थी.

उस दिन शाम को मैं भाभी को लेने जा रहा था, तभी वो आ गईं. भाभी ने अपने कपड़े ठीक करते हुए दरवाज़ा खोला और कृतिका भाभी अन्दर आ गईं.

भाभी को देखते ही वह समझ गई. चूंकि वो दोनों बहुत अच्छे दोस्त थे. इसलिए आशिका भाभी के आंख मारकर इशारे से ही भाभी मेरे बारे में समझ गईं।

फिर भाभी ने मुझे कृतिका भाभी से मिलवाया. कृतिका भाभी मेरी तरफ कनखियों से देख रही थीं. कृतिका भाभी के पति भी ज्यादातर समय बाहर ही रहते थे.

वो भी लंड की प्यासी थी. मेरे मन में तो बस यही आया कि अगर दोनों भाभियाँ एक साथ चुदें तो मजा आ जाये. कितना मज़ा आएगा अगर दो औरतें एक ही बिस्तर पर एक जवान लड़के के लिंग के साथ खेल रही हों।

हालाँकि, उस समय कृतिका भाभी ने आशिका भाभी से बात की और चली गईं। उस रात मैंने पहले ही भाभी से कह दिया था कि रात को आकर मेरे साथ सेक्स करो.

रात को 2 बजे भाई के सोने के बाद भाभी मेरे पास आईं तो मैंने उन्हें नंगी करके बिस्तर पर लिटा दिया. मैं: भाभी एक बात बताऊं.
भाभी : हां बोलो.
मैं- भाभी, मुझे आपकी दोस्त कृतिका भाभी बहुत अच्छी लगीं. क्या मैं तुम दोनों को एक साथ चोद सकता हूँ? तुम देखना, ये दोनों खूब मजे करेंगे.

इस पर भाभी ने मुझे प्यार से मारते हुए कहा- अमन, तुम कितने कमीने हो… हम जवान औरतों को एक साथ चोदना चाहते हो… लगता है तुम पूरा मर्द बन गये हो। वैसे मेरी भी बहुत चाहत है. कृतिका बेचारी भी प्यासी है.

मैंने अपना लिंग भाभी के चूतड़ों पर रगड़ते हुए कहा- हां भाभी … कृतिका भाभी ने भी आज मुझे संकेत दे दिया था. भाभी- हम्म… कुतिया कृतिका बहुत तेज़ है. नया माल देखते ही आग पकड़ लेता है.

मैं- भाभी सच में कितना मजा आएगा… जब आप दोनों मेरे साथ नंगी लेटेंगी, उफ्फ… भाभी- हां देवर जी, जी भर कर मजा लो.. आप अच्छे से चूत चुदाई सीख कर जाओ यहां से.

मैं- भाभी, आप सच में बहुत अच्छी और सेक्सी हो… मेरी जान आशिका रानी. आशिका भाभी- अरे भाभी सीधे आशिका… तुम शरारती हो.

मैं- आह भाभी, अब मुझे जल्दी से आपकी गांड चोदने दो. भाभी- नहीं.. रुको, अपनी पेंटी मत उतारो.. कहीं वो जाग न जाए. मैं- नहीं भैया, मैं नहीं उठूंगा … उफ्फ क्या गोरी और मोटी गांड है आपकी भाभी की.

भाभी : ये सब तुम्हारा ही काम है. मैं: वो है भाभी. मैं सचमुच चाहता हूं कि तुम मेरी पत्नी होती तो मजा आता। भाभी- तुमने तो मुझे अपनी बीवी बना लिया.

और क्या पता अगर तुम मेरे पति होते तो सो रहे होते और मैं तुम्हारे छोटे भाई के साथ लगी रहती. इस पर मैंने झट से भाभी की पैंटी उतार दी और भाभी की गांड में अपना लंड डाल दिया और उन्हें चोदने लगा.

मैं- भाभी आप बहुत कामुक इंसान हो… हर पल किसी और के साथ सेक्स करने की बात में लगी रहती हो. अब जल्दी से कृतिका भाभी को अपनी टीम में शामिल कर लो.

फिर देखना मैं तुम दोनों भाभियों की गांड का इंडिया गेट कैसे बनाऊंगा. भाभी- तुमने तो मेरी गांड का गेट तो बना ही दिया है.. अब क्या कृतिका की गांड का भी गेट बनाना चाहते हो?

मैंने कहा- भाभी, क्या करूं … आपके जीजा का लंड ही ऐसा है. सुबह पांच बजे तक मैंने भाभी को अपने लंड के नीचे दबाये रखा. फिर भाभी ने नाइटी पैंटी ली और नंगी गांड हिलाते हुए अपने कमरे में चली गईं.

भाभी के जाते ही मुझे नींद आ गयी. मैं दिन में कॉलेज गया और शाम को वापस आया तो भाभी ने बताया कि उन्होंने कृतिका का इंतजाम कर लिया है.

भाभी की बात सुनकर मैं खुश हो गया. कृतिका भी अपने घर में अकेली रहती थी. तो भाभी ने प्लान बनाया था कि चुदाई कृतिका के घर पर ही होगी.

कुछ दिन बाद भाई को अपने बॉस के साथ दो दिन के लिए मीटिंग में जाना पड़ा. यह जान कर हम दोनों ननद-देवर खुश हो गये. सुबह भैया के जाते ही हम दोनों कृतिका के घर आ गये.

कृतिका भाभी ने हमारा स्वागत किया और चाय-पानी दिया. आशिका भाभी- अरे कृतिका… अमन को कच्चा दूध पीना पसंद है. इस पर कृतिका भाभी बोलीं- कोई बात नहीं.. मेरे पास बहुत सारा दूध है.. वो भी ताज़ा।

ये कहते हुए कृतिका भाभी ने मेरी तरफ आंख मार दी. मैंने भी कृतिका भाभी को आंख मार दी. भाभी रसोई में चली गयी. मैं उन्हें अपनी बांहों में लेना चाहता था इसलिए मैं आशिका भाभी से इजाजत लेकर उनकी रसोई में चला गया.

किचन में जाकर मैंने कृतिका भाभी को अपनी बांहों में ले लिया. आशिका भाभी उस वक्त बेडरूम में गयी हुई थीं. मैंने कृतिका भाभी से कहा- आप बहुत सेक्सी हैं.

कृतिका- तो क्या आशिका सेक्सी नहीं है? वह मुझसे भी ज्यादा सेक्सी है. मैं: भाभी आप भी कमाल की हो. आज मैं तेरी गांड चोदूंगा … मना मत करना.

ये बात मैंने उससे धीरे से उसके कान में कही. तो कृतिका भाभी का चेहरा लाल हो गया. फिर भाभी हंस पड़ी और मान गयी.

इसके बाद हम दोनों जल्दी से बेडरूम में आ गये. मैं नंगा हो गया और चादर के नीचे आ गया. आशिका भाभी खड़ी थीं.

आशिका- अमन को सब्र नहीं है. मैं- भाभी, जब माल जैसी दो भाभियाँ चुदाई करना चाहें तो दुनिया का कोई भी मर्द पागल हो जाएगा।

मैंने कृतिका भाभी को बिस्तर पर अपनी बांहों में खींच लिया और जल्दी से उनकी साड़ी खोल कर उन्हें नंगी कर दिया. मैंने भाभी के स्तन, कूल्हे, गांड, जांघें.. सब कुछ चूमा।

मैं- आशिका भाभी आप भी नंगी हो जाओ.. अब खुल कर मजा लो. भाभी भी मूड में आ गईं. उसने अपने कपड़े उतार दिये और मेरे लंड को सहलाने लगी.

मैंने कृतिका भाभी के स्तनों को चूसकर उन्हें गर्म कर दिया। उसकी चूत और गांड में उंगली करके मैंने उसे वासना के तूफ़ान में उड़ने के लिए तैयार कर दिया.

मेरे एक तरफ कृतिका भाभी नंगी लेटी हुई थीं और दूसरी तरफ आशिका भाभी लेटी हुई थीं. मैं नीचे से हाथ डाल कर उन दोनों की गांड दबा रहा था.

वो दोनों अपने हाथों से मेरे लिंग को सहलाते हुए मुझे चूम रही थीं. मैं- आह्ह भाभी… क्या कमाल की गांड है आप दोनों की… ऐसा लगता है कि दिन और रात दोनों आपके साथ पड़ा रहूं.

आह… तुम औरतें भी कमाल की हो मेरे दोस्त… मेरा लंड रुक ही नहीं रहा है. पहले मैं तुम दोनों को एक एक करके चोदूंगा. आशिका भाभी- पहले किसकी गांड चोदोगे मेरी जान?

क्या आप अपना लिंग दोनों योनियों में एक साथ डालेंगे? मैं- मैं पहले कृतिका भाभी की गांड चोदूंगा. कृतिका भाभी मान गईं.

मैंने कृतिका भाभी को खड़ा किया, उन्हें उल्टा झुकाया, उनकी मक्खन जैसी गांड पर तेल लगाया और धीरे से अपनी उंगली डाल दी।

भाभी की मादक आह निकल गई. कुछ ही देर में मैंने कृतिका भाभी की गांड को चोदने के लिए तैयार कर लिया.

जब तक कृतिका भाभी की गांड चोदने के लिए तैयार नहीं हो गई, तब तक आशिका भाभी नंगी ही बिस्तर पर लेटी रहीं और मेरी तरफ देखती रहीं.

मैंने कृतिका भाभी की गांड में तेल की पूरी बोतल खाली कर दी. इसके बाद मैंने आशिका भाभी से कहा- भाभी, जब तक आप अपनी गांड पर तेल लगा कर इसे ढीला नहीं करतीं.. तब तक मैं कृतिका भाभी की गांड बजाऊंगा.

आशिका भाभी अपनी गांड हिलाते हुए ड्रेसिंग टेबल से दूसरी बोतल ले आईं. तब तक मैंने कृतिका भाभी की गांड में अपना लंड डाल दिया था और कृतिका भाभी कराहने लगीं.

कुछ ही देर में मैंने अपना पूरा लंड कृतिका भाभी की गांड में घुसा दिया. अब तक आशिका भाभी ने खुद ही तेल लगा कर अपनी गांड चिकनी कर ली थी. वो मेरे सामने कुतिया बन कर अपनी बारी का इंतज़ार करने लगी.

मैंने आशिका भाभी की गांड में उंगली की और कृतिका भाभी की गांड से अपना लंड खींच कर आशिका भाभी की गांड में डाल दिया. अब आशिका भाभी भी मस्त आवाजें निकालने लगीं.

इस तरह, मैंने दोनों बहनों के गधे को एक-एक करके गधा मारना शुरू कर दिया। मैंने उन दोनों की गांड चोदी और उनके मुँह में अपना वीर्य छोड़ दिया.

कृतिका भाभी ने मेरा लंड अपने मुँह में ले लिया और सारी मलाई चाट कर साफ कर दिया. उस दिन कृतिका भाभी मेरी दीवानी हो गयी. वो पागल होगी भी क्यों नहीं… इतना शानदार लंड जो उसकी गांड हिलाकर बाहर आया था.

इसके बाद रात्रि भोजन का समय आया. हम तीनों ने नंगे होकर ही डिनर किया. कभी कृतिका भाभी मेरी गोद में बैठ कर अपने मम्मों पर सब्जी लगा कर मुझे खिलातीं

तो कभी आशिका भाभी मेरी गोद में बैठ कर अपनी जांघ पर निवाला रख कर मुझे खिलातीं. मैं उन दोनों के स्तनों को चूसता रहा और उनकी गांड को मसलता हुआ मजा लेता रहा.

उस रात हम तीनों कृतिका भाभी के कमरे में आये. अब मैंने सबसे पहले कृतिका भाभी की चूत में अपना लंड डाला और आशिका भाभी के मम्मे दबाता रहा.

कुछ देर बाद आशिका भाभी पीठ के बल लेट गईं और कृतिका भाभी ने मेरा लंड आशिका भाभी की चूत में डाल दिया. करीब बीस मिनट तक लंड उन दोनों की चूत को एक एक करके चोदता रहा.

आख़िरकार मैंने आशिका भाभी की चूत में रस छोड़ दिया. उस पूरी रात मैं उन दोनों के मम्मे सहलाता रहा, उनकी गांड और चूत में अपना लंड घुसाता रहा… उन दोनों के नंगे बदन का मजा लेता रहा।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Delhi Escorts

This will close in 0 seconds