May 21, 2024
भाभी को जमकर चोदा

मेरे प्यारे दोस्तो, मेरा नाम अमन है आज में आपको बताने जा रहा हु की कैसे मेने अपनी "भाभी को जमकर चोदा और उनकी हवस को शांत किया"

मेरे प्यारे दोस्तो, मेरा नाम अमन है आज में आपको बताने जा रहा हु की कैसे मेने अपनी “भाभी को जमकर चोदा और उनकी हवस को शांत किया”

मेरी उम्र 28 साल है। मेरा लंड बहुत अच्छा है, इसकी तारीफ़ मैं नहीं इसका शिकार हुई लौंडियों और भाभियों ने की है। यह कहानी मेरी और मेरी मदमस्त भाभी के बीच सेक्स की है.

आइए मैं आपको कहानी विस्तार से बताता हूं. मेरा स्कूल ख़त्म हो गया था, अब मुझे कॉलेज जाना था। इस वजह से मुझे एक दूर शहर में भेज दिया गया.

वहां मेरे पड़ोस की एक आंटी की बहू और बेटा रहते थे. पापा ने मुझे उनका पता वगैरह देकर भेज दिया. मैं वहां गया और उनके घर का दरवाजा खटखटाया तो भाभी ने दरवाजा खोला.

मैं भाभी को देखता ही रह गया. उफ़्फ़ क्या नशीला बदन था. खुले काले लंबे बाल, गोरे गाल, लाल होंठ, बड़े स्तन… सपाट पेट, चौड़ी गांड। मैं नशे में था.

तभी आशिका भाभी ने मधुर स्वर में कहा- अरे अमन… तुम आ गये, मम्मी ने फोन किया था कि अमन आ रहा है। मैं- हां भाभी, मैं आ गया. भाभी : चलो अंदर आओ.

इतना कह कर भाभी मुड़ीं तो मेरी नजर उनकी गांड पर पड़ी… उफ्फ, हिलती हुई गांड बहुत मस्त लग रही थी. जब दोनों नितम्ब हिल रहे थे तो ऐसा लग रहा था

जैसे वो एक दूसरे से बात कर रहे हों। कैसा होगा उनके दोनों चूतड़ों के बीच छिपा हुआ एक मज़ेदार गांड का छेद… मैं बस इसी कल्पना के बारे में सोचता रहा। मैं उनके लावण्यमयी शरीर की मदहोशी में सोफे पर जाकर बैठ गया।

भाभी मेरे लिए पानी लेकर आईं. फिर भाभी बैठ गईं और मुझसे बात करने लगीं. भाभी ने बताया कि भैया ऑफिस के काम से दस दिन के लिए टूर पर गये हैं, मैं घर पर अकेली हूँ। ये सुनते ही मेरे दिल में भाभी को चोदने का ख्याल आने लगा.

इससे पहले कि मैं आगे बढ़ूं, मैं आप सभी को भाभी के बारे में बता दूं कि उनका फिगर 38-34-36 है और उनकी उम्र 35 साल है.

भाभी इतनी सेक्सी लगती हैं कि जो भी मर्द उन्हें एक बार देख लेगा वो उन्हें अपने बिस्तर की रानी बनाने के बारे में सोचने लगेगा.

चूंकि पापा का फोन आ गया था कि मुझे भाभी के घर रुकना है तो भाभी ने मुझे मेरा कमरा दिखा दिया. मैंने कमरे में अपना सामान जमाया और भाभी से बातें करता रहा.

रात को जब भाभी ने खाना बनाया तो मैं टेबल पर बैठा था. इस समय भाभी ने नीले रंग की नाइटी पहनी हुई थी, जिसमें से उनका गोरा बदन चमक रहा था.

नाइटी थोड़ी टाइट थी तो साफ दिख रहा था कि भाभी के बड़े-बड़े मम्मे फटने वाले थे। नाइटी में उसके स्तनों के निपल्स के ऊपर वाली जगह पर एक तारे जैसा चमकदार रत्न लगा हुआ था

जो उसके स्तनों को ढकने के साथ-साथ उन्हें और भी भरा हुआ दिखा रहा था। भाभी इस गहरे गले की नाइटी में से ही झुककर मुझे खाना दे रही थीं. जिससे मैं पूरे हिमालय को न केवल ऊपर से बल्कि अंदर से भी देख सका।

मैं उनके हाव-भाव से समझ गया कि भाभी आज मुझसे चुदाई करवाने के लिए तैयार हैं. मैंने और भाभी ने खाना खाया और कमरे में आ गये. मैं कुछ देर तक भाभी के कमरे में ही रहा.

साथ ही भाभी बोलीं- अब तुम सो जाओ.. मैं नहा लूंगी. मैंने सोचा- भाभी, नहाने का क्या समय हो गया है? भाभी बोलीं- मैं रात को नहाने के बाद ही सोती हूं. ये कहते हुए भाभी ने अपने दोनों हाथ ऊपर उठाये और अपने मम्मे हिलाये.

मैं उसके व्यवहार से पागल हो गया. मुझे पागल देख कर भाभी मुस्कुरा दीं और नहाने चली गईं. मैं अपने कमरे में आ गया, लेकिन मुझे नींद नहीं आ रही थी. भाभी के स्तन बार-बार मेरी आँखों में आ रहे थे।

कुछ देर बाद जब मैं भाभी के पास आया तो वो बिस्तर पर लेटी हुई थीं. मैंने कहा- भाभी, मुझे नींद नहीं आ रही है… क्या मैं आपके साथ सो सकता हूँ? भाभी ने हां कहा.

अगले ही पल मैं बिना कुछ सोचे भाभी के बगल में लेट गया और उनसे लिपट गया. मुझे उम्मीद थी कि भाभी विरोध करेंगी. लेकिन भाभी ने मुझे अपनी बांहों में ले लिया.

सबसे पहले मैंने अपना मुँह भाभी के स्तनों पर रखा। उफ़्फ़… कितने मुलायम स्तन थे. पहले तो भाभी ना-ना करने लगीं- अमन क्या कर रहे हो… छोड़ो उफफ्फ़ बदमाश!

मैं भाभी की बात नहीं सुन रहा था और पूरी तरह से उनके स्तनों से चिपका हुआ था। लगातार मेरे स्तनों को चूसने के बाद भाभी ने मुझ पर रोक लगाना बंद कर दिया और मुझे अपनी उभरती जवानी में डुबकी लगाने की इजाजत दे दी.

काफ़ी देर के बाद मैंने भाभी के स्तनों को आज़ाद किया। इसके तुरंत बाद मैंने उसकी नाइटी उतार कर फेंक दी और खुद भी नंगा हो गया. भाभी भी मेरा लंड देख कर एकदम से मोहित हो गईं.

उसकी चूत में उत्तेजना जाग उठी और वो मेरे लंड को हिलाने लगी. मैंने कहा- भाभी, धैर्य रखो, आज तुम्हें मेरा केला ही मिलने वाला है। भाभी बोलीं- ये देख कर अब सब्र नहीं होता, पहले एक बार मेरी प्यास बुझा दो, बाकी खेल बाद में करेंगे.

उसकी बात से सहमत होते हुए मैंने उसकी टाँगें फैला दीं और उसकी टाँगों के बीच आकर अपने लिंग पर निशाना लगाने लगा। भाभी ने लंड को अपनी चूत की फांकों में फंसाया और गांड उठा कर फंसा लिया.

इधर सुपारा फंसा और उधर मैं लड़खड़ा गयी. भाभी की तो माँ निकल गई… उनके मुँह से दर्द भरी आह निकल गई ‘उम्म्ह… अहह… हय… ओह…’ भाभी की आंखें फैल गईं और उनकी मुट्ठियों ने बिस्तर को जकड़ लिया. चादर।

मैंने बिना परवाह किये अपना पूरा लंड भाभी की रसीली चूत में घुसाना शुरू कर दिया. पूरा लंड घुसाने के बाद मैं एक पल के लिए रुका और पूरी ताकत से उसे चोदने लगा.

एक मिनट में ही भाभी की चूत उत्तेजित हो गयी और मेरे लंड के स्वागत के लिए उछलने लगी. मैं काफी देर तक भाभी को चोदता रहा. उसकी गांड को सहलाते हुए, उसके मम्मों को चूसते और काटते हुए उसने चोदने की रफ़्तार बढ़ानी शुरू कर दी.

भाभी भी मेरे मोटे लंड से चुदकर स्वर्ग का आनंद ले रही थीं. भाभी ने मुझे अपने स्तनों से चिपका लिया और मेरे बालों को सहलाते हुए मेरे लिंग के धक्कों का आनंद लेने लगीं. मुझे भाभी को चोदने में बहुत मजा आ रहा था.

कुछ ही देर में भाभी जोर-जोर से कराहने लगीं और उन्हें कामोन्माद हो गया। उनके झड़ने के कुछ पल बाद मैंने भी अपने लंड का पूरा रस भाभी की चूत में भर दिया. स्खलन के आनन्द के कारण हम दोनों की आँखें बंद हो गयी थीं।

एक मिनट बाद जब सैलाब कम हुआ तो हम दोनों ननद-देवर सेक्सी बातें करने लगे. मुझे भाभी की नंगी गांड बहुत अच्छी लगी. मैं बार-बार भाभी की गांड को सहला रहा था और उसमें उंगली भी कर रहा था।

उंगली के स्पर्श से भाभी अपनी गांड हिला रही थीं. कुछ देर बाद चुदाई का दूसरा दौर शुरू हुआ और हम दोनों नंगे ही एक दूसरे से लिपट कर सो गये. सुबह जब मैं उठा तो मैं भाभी से चिपका हुआ था.

मैंने उनके स्तनों को चूसना शुरू कर दिया और अपना खड़ा लंड एक बार फिर से भाभी की चूत में डाल दिया. सेक्स की गर्मी फिर से अपना रंग बिखेरने लगी. मैंने भाभी की चूत चोदी और फिर सो गया.

काफी देर बाद जब मैं उठा तो भाभी रसोई में जा चुकी थीं. मैं उठ कर रसोई में चला गया. भाभी को पीछे से पकड़ लिया और मजे लेने लगा.

भाभी बोलीं- अभी तक संतुष्ट नहीं हुए क्या? मैं- नहीं भाभी … जब आप जैसी सेक्सी भाभी हो … तो कौन सा देवर संतुष्ट होगा. भाभी- तुम बहुत शैतान हो.. शरारती हो.

तभी दरवाजे पर दस्तक हुई. मैं कमरे में भाग गया और अपना बरमूडा पहनने लगा। उधर भाभी ने दौड़कर दरवाज़ा खोला और उसे अन्दर बुलाया.

मैंने वापस आकर देखा तो मेरी भाभी की दो सहेलियाँ अपने 4 बच्चों के साथ ड्राइंग रूम में आई थीं। सभी आपस में बातें करने लगे. उनकी बातचीत से पता चला कि उन तीनों को बाजार जाना था.

भाभी ने मुझसे उन लड़कों को शाम तक घर पर ही रोकने को कहा और वो चली गईं. इधर मैं भाभी को चोदने के लिए जल रहा था. शायद भाभी की भी मेरी तरह ही चाहत थी.

इसलिए वह अपनी सहेलियों से छुटकारा पाकर एक घंटे के अंदर ही बाजार से घर लौट आई। उसने अपनी सहेलियों के बच्चों को बाहर वाले कमरे में बिठाया और कमरे के अंदर चली गयी.

भाभी अपने कमरे में गयी और अपनी ड्रेस बदल ली. अब भाभी फिर से नाइट ड्रेस में थीं. मैंने भाभी को पकड़ लिया और एक तरफ ले जाकर चूमने लगा.

उधर भाभी की सहेलियों के बच्चे आवाज़ लगाने लगे- कहाँ हो आंटी? तो भाभी दौड़कर उसके पास गयी. मैंने भाभी को इशारा किया कि अब मुझसे बर्दाश्त नहीं होता, बस जल्दी से चोद लो.

उधर, उन चारों बच्चों को जान का खतरा था। भाभी ने सभी बच्चों को छुपन-छुपाई खेलने को कहा। मैंने कहा- बच्चे ही क्यों, हम सब छुपन-छुपाई खेलते हैं। मेरी बात सुनकर सभी लोग सहमत हो गये. मैं भी साथ खेलने लगा.

फिर यदि एक व्यक्ति अपनी बारी देने जाता, तो सभी छिप जाते। दो बार खेलना सामान्य हो गया. तीसरी बार मैं भाभी के साथ कमरे में छुप गया. भाभी इस वक्त मेरे सामने खड़ी थीं.

मैंने पीछे से उसकी नाइटी उठाई, उसकी पैंटी नीचे खींची और अपना लंड उसकी चूत में डाल दिया. भाभी बड़ी मुश्किल से अपनी आवाज दबा पाईं. मैंने भाभी को पकड़ लिया और चोदने लगा.

भाभी मुझे मना कर रही थी और मुझसे छूटने की कोशिश कर रही थी. तभी मेरी पकड़ ढीली हो गई और भाभी उठकर भागने लगीं. मैंने उसे फिर से पकड़ लिया और एक कोने में ले जाकर पीछे से अपना खड़ा लंड उसकी चूत में डाल दिया.

मुझे भाभी के मम्मे दबाते हुए सेक्स करने में बहुत मजा आया. चुदाई पूरी करने के बाद मैंने उसकी नाइटी से अपना लंड पोंछा और बरमूडा ऊपर खींच लिया.

मैं अभी उन्हें छोड़ना नहीं चाहता था. लेकिन भाभी तो जैसे भागने ही वाली थी. फिर थोड़ी ही देर में सारे बच्चे एक साथ हमारे कमरे के बाहर खड़े हो गये और चिल्लाने लगे.

भाभी- अमन, अभी ऐसा ही रहने दो, सब लोग आ गये हैं। इतना कह कर वो अपनी गांड मटकाते हुए दरवाज़ा खोलने के लिए चली गयी। मैं बिस्तर पर आ गया था और वहां से भाभी की हिलती हुई गांड को देख रहा था.

भाभी ने दरवाज़ा खोला और अपनी सहेलियों के बच्चों से बात करने लगीं. एक बच्चा बोला- आंटी, मुझे आप मिल गईं… दरवाज़ा खोलने में आपको कितनी देर लग गई… वो भैया कहां हैं?

तभी मैंने पीछे से आकर भाभी की गांड पर काट लिया. भाभी हंस पड़ी और मुझे दूर धकेलने लगी. भाभी: जाओ अपने अमन भैया को कहीं और ढूंढो. वे यहाँ नहीं हैं।

इतना कह कर भाभी ने दरवाज़ा बंद कर दिया. मैं करीब आया और भाभी को गोद में उठाया और बिस्तर पर पटक दिया. फिर मैंने उसकी चूत खोली और उसे चोदने लगा.

मैंने फिर से भाभी के स्तनों को पकड़ लिया और उनके बड़े स्तनों को मुँह में लेकर चूसते हुए उन्हें चोदने लगा। कुछ देर बाद दरवाजा फिर से बजने लगा, लेकिन इस बार मैं नहीं रुका. मैं भाभी को जोर जोर से चोद रहा था.

कुछ देर बाद मेरे लंड से पिचकारी पर पिचकारियाँ निकलने लगीं और मैंने भाभी के स्तनों को मुँह में ले लिया और कस कर खींचा और वीर्य छोड़ दिया। मुझे बहुत मज़ा आया।

भाभी के स्तनों पर दांतों के निशान थे। मेरा अपनी भाभी से अलग होने का मन नहीं था, लेकिन मुझे करना पड़ा क्योंकि बच्चे मुझे परेशान करने लगे थे।

भाभी ने दरवाज़ा खोला. उसने नाइटी पहनी और बाहर बच्चों के साथ बैठ गई और उनसे बातें करने लगी. इधर मैं भी अपने कपड़े पहन कर बाहर आ गया और बैठ गया.

शाम होने को थी, बच्चे घर जाने वाले थे। मेरा मन भाभी की गांड पर अटक गया था. जब भी मौका मिलता मैं भाभी के मम्मे और गांड बार-बार दबा देता था. तभी उसकी सहेलियाँ आ गईं और बच्चों को ले गईं।

हम देवरानी-जेठानी फिर से एक हो गये. भाई के टूर से वापस आने तक हम दोनों ने जी भर कर सेक्स का मजा लिया. मैंने भाभी की गांड भी चोदी थी. उसकी कहानी मैं अगली बार लिखूंगा. मेरे दिन मौज-मस्ती से भरे होने लगे थे।

इसी बीच मुझे पता चला कि भाभी अपनी सहेली के भतीजे से भी चुद चुकी हैं. मुझे यह सुन कर बहुत जलन हुई कि इतनी सेक्सी और खूबसूरत भाभी को किसी और ने लूट लिया.

ये कहानी मैं आपको बाद में बताऊंगा. एक दिन जब मैं भाभी को चोद रहा था तो मैंने उनसे इस बारे में पूछा था और भाभी ने भी खुश होकर मुझे बताया था कि कैसे उनकी सहेली के भतीजे से उनकी चुदाई हुई थी.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Delhi Escorts

This will close in 0 seconds