June 25, 2024
चोद कर संतुष्ट कर दिया

आज की हिंदी सेक्स कहानी है "रात में कामुक भाभी को चोद कर संतुष्ट कर दिया" इस कहानी को पढ़ने के बाद आप अपना लंड हिलाने से नहीं रोक पाएंगे।

आज की हिंदी सेक्स कहानी है “रात में कामुक भाभी को चोद कर संतुष्ट कर दिया” इस कहानी को पढ़ने के बाद आप अपना लंड हिलाने से नहीं रोक पाएंगे।

देवियों और सज्जनों! आप सभी को सुमित का नमस्कार। मैं हरियाणा में रहता हूँ। मेरी लंबाई 5’9” है, मेरा लंड 6 इंच लंबा और 2।5 इंच मोटा है। मैं अन्तर्वासना का नियमित पाठक हूं।

मैं काफी समय से सोच रहा था कि मैं भी अपनी कहानी लिखूं। लेकिन मुझे कभी लिखने का समय नहीं मिला, आज मैं मन बना कर अपनी कहानी लिख रहा हूँ, ये सच्ची घटना है।

मेरे पड़ोस में एक भाभी रहती थी, उनका नाम रितिका था। भाभी बहुत खूबसूरत थी। उनकी उम्र 30 साल थी। भाभी का फिगर करीब 32-28-34 रहा होगा।

उसका पति प्रतिदिन शराब पिता रहता है। वह ज्यादातर बाहर ही रहता था, इस कारण भी भाभी अपने पति से असंतुष्ट और परेशान रहती थी।

पूरा पड़ोस उस भाभी को प्यासी नजरों से देखता रहता था, लेकिन मैंने कभी उसके बारे में कुछ गलत नहीं सोचा था।

मैं उनके सामने बहुत नम्रता से पेश आता था। इसी वजह से शायद वो मुझे पसंद करने लगी थी।

उस भाभी को जब भी समय मिलता था तो वो हमारे घर आ जाती थी। मैं भी उनके घर जाता था।

एक बार क्या हुआ कि उसके पति को दो दिन के लिए कहीं बाहर जाना पड़ा।

उस दिन भाभी हमारे घर आईं और मेरी मां से बोलीं- आज मेरे पति घर नहीं आएंगे, अगर आपको कोई आपत्ति न हो तो सुमित आज मेरे घर पर सो जाएगा।

मम्मी ने कहा- अगर सुमित जाना चाहता है तो वो वहीं सो जायेगा।

भाभी- सुमित, आज तुम मेरे घर पर सो जाओ।

मैं- नहीं भाभी, मैं घर के अलावा कहीं नहीं सोता।

भाभी- सुमित, बस दो दिन की बात है। मुझे अकेले रहने से डर लगता है इसलिए मैंने ये कहा।

माँ: सुमित बेटा, भाभी के घर सो जाओ।

मैं- ठीक है भाभी, मैं आ जाऊंगा।

रात को मैं भाभी के घर गया।

मैंने घंटी बजाई तो अंदर से आवाज आई- कौन?

मैं- भाभी, मैं सुमित हूं।

भाभी : रुको मैं आती हूँ।

जैसे ही भाभी ने दरवाज़ा खोला तो मेरी आँखें खुली की खुली रह गईं।

भाभी ने सफेद नाइटी पहनी हुई थी। उसके अंदर की काली ब्रा साफ दिख रही थी।

जैसे ही मैंने भाभी को इस रूप में देखा तो मेरी हालत खराब हो गई और मेरा लंड खड़ा हो गया। मेरा फूला हुआ लंड पैंट के उभार में से दिख रहा था। भाभी की नजर मेरे लंड पर पड़ गयी थी।

भाभी मेरे लंड के उभार को देख कर बोलीं- क्या हुआ सुमित… अन्दर आओ, ऐसे क्या देख रहे हो?

में : वो कुछ नहीं भाभी।

मैं अन्दर गया और भाभी से पूछा- मुझे कहाँ सोना है?

भाभी बोलीं- मेरे कमरे में आओ।

मैं चुपचाप चलता रहा। भाभी बिस्तर के एक तरफ लेट गईं, मैं दूसरी तरफ लेट गया।

मैं बार बार भाभी की तरफ ही देख रहा था। मेरे दिमाग में उसके कसे हुए मम्मे घूम रहे थे। (चोद कर संतुष्ट कर दिया)

मेरा लंड पैंट फाड़ कर बाहर आने को हो रहा था। नींद मेरी आँखों से कोसों दूर थी। किसी तरह मुझे नींद आ गयी।

रात को करीब 12 बजे मेरी आंख खुली तो महसूस हुआ कि कोई मेरी कमर को छू रहा है।

मैंने पलटकर देखा। इससे पहले कि मैं कुछ बोलता,

भाभी मुझसे बोलने लगीं- सुमित… मैं बहुत प्यासी हूँ… तुम मेरी प्यास बुझा दो… तुम्हारे भैया को काम से फुर्सत ही नहीं मिलती।

तुम्हारा भाई मुझे रात को भी प्यासी छोड़ देता है। वो अपना काम करके सो जाता है.. और मैं प्यासी रह जाती हूँ।

फिर रात भर मैं तुम्हारे बारे में सोचती रहती हूँ कि काश सुमित आ जाए और मेरी चूत की प्यास बुझा दे। इसलिए आज मैंने तुम्हारी माँ से कहा कि तुम मेरे साथ सो जाओ।

मैं तो पहले से ही यही चाहता था क्योंकि मेरे अंदर भी आग लगी हुई थी।

ये सुनते ही मैंने भाभी को कस कर पकड़ लिया और उनके होंठों को चूसने लगा। वो भी मेरा पूरा साथ दे रही थी। उसका हाथ मेरी पैंट के ऊपर आ गया। मेरा लंड पहले से ही खड़ा था।

उसने मेरी पैंट खोली और मेरा लंड बाहर निकाला- वाह, यह तो कितना बड़ा और मोटा है… लगता है आज यह मेरी चूत की प्यास बुझा देगा।

ये कह कर वो मेरा लंड चूसने लगी। वह बहुत अनुभवी महिला थीं। वो बहुत अच्छे से लंड चूस रही थी… मुझे बहुत मजा आ रहा था।

मैं उसकी नाइटी के ऊपर से उसके स्तनों को सहलाने लगा। उसने अपना एक हाथ मेरे हाथ पर रख दिया।

भाभी बोलीं- आह … सुमित, मेरे स्तनों को मालिश करो … ये मुझे बहुत तड़पाते हैं। (चोद कर संतुष्ट कर दिया)

मैंने उसकी नाइटी उतार दी और ब्रा के ऊपर से उसके मम्मों को दबाने लगा। मैंने उसकी ब्रा भी उतार दी।

जैसे ही उसने ब्रा उतारी तो उसके स्तन बाहर आ गये। मैं भाभी के ऊपर चढ़ गया और उनके मम्मों को चूसने लगा।

उसके मुँह से कराहें निकलने लगीं- उम्म्ह… अहह… हय… याह… और जोर से… जोर से… मम्म, काटो इन्हें… आज सारा रस पी जाओ… काटो इन्हें… और जोर से… आआह्ह… ओह्ह… म्म्म्म।

मैं उसके पेट को चूमता हुआ नीचे आया और उसकी पैंटी के ऊपर से उसकी चूत को सहलाने लगा। उसने अपने दोनों पैर फैला दिये। मैंने अपने होंठ सीधे उसकी गीली पैंटी पर रख दिए और उसके रस का स्वाद लेने लगा।

हॉट लड़कियां सस्ते रेट में इन जगह पर बुक करें :

उसने मेरा सिर पकड़ लिया और अपनी चूत में दबाने लगी। भाभी कहने लगीं- आआअहह… ओइहह… ह्म्म्मम्म्म्म… चूसो सुमित… मेरी चूत… मुझे बहुत सताती है।

मैंने उसकी पैंटी को उसकी चूत से अलग कर दिया। भाभी की चूत बहुत चिकनी और बहुत खूबसूरत थी। चूत पर एक भी बाल नहीं था। भाभी की गोरी जांघों में उनकी चूत थिरक रही थी।

वह बहुत अच्छा दृश्य था!

अब वो बिस्तर पर पूरी नंगी लेटी हुई थी। मैंने अपनी टी-शर्ट भी उतार दी थी। अब हम दोनों बिल्कुल नंगे थे। मैं भाभी की चूत को चाटने लगा।

भाभी भी मेरा सिर अपनी चूत में दबाने लगीं और कहने लगीं- ह्म्म्म चाटो… चाटो इसे… ह्म्म्म म्म्म्म… और जोर से… फाड़ दो आज इसे… अपनी भाभी की चूत… मैं भी मजे से चूत चाट रहा था।

भाभी ने उत्तेजना में अपनी टाँगें चौड़ी कर दीं और बोलीं- प्लीज़… और जोर से चाटो…

मैं उसकी ब्रेड की तरह फूली हुई चूत को भी चाट रहा था और साथ ही उसके मम्मों को भी दबा रहा था।

‘ह्म्म्म्म… चाटो… मैं आने वाली हूं सुमित… आज मेरी चूत का भोसड़ा बना दो… फाड़ दो इसे… चूस लो सुमित… आज इसका सारा रस पी जाओ… सारा रस इस कसी हुई चूत के… आअहह ह्ह… म्म्म्म म्म्म… आई… मर्रर। … गईईईई मैं आ रहा हूँ… रहीईई… हूँ… ओह्ह… ह्म्म्म्म… और तेज चाटो…’ (चोद कर संतुष्ट कर दिया)

भाभी ने मेरा सिर पकड़ लिया और अपनी चूत में धकेलने लगीं- उम्म्म्म आआआ

भाभी झड़ने लगी। चूत का स्वाद बहुत ही लाजवाब था।

कुछ देर बाद भाभी मेरे लंड को सहलाने लगीं और हम दोनों 69 की पोजीशन में आ गये। मैं भाभी की चूत को चाटने लगा।

भाभी मेरे लंड को लॉलीपॉप की तरह चूस रही थीं। मैं लंड चूसने के साथ-साथ भाभी के मम्मे भी दबा रहा था।

कुछ देर बाद मैंने अपनी जीभ भाभी की चूत के छेद पर रख दी और उसे अपनी जीभ से चोदने लगा।

‘उह्ह्ह… हम्म्म आआह ह्ह… ह्म्म्म्म्म्म्… आई… मर्रर… गईईईईई मैं आ… रहीई… हूं… ओह्ह… हम्म्म… और जोर से… उह्ह्ह… ह्म्म्म… मुझे अब और मत तड़पाओ सुमित। …और अपना लंड अन्दर डाल दो।

मैंने बिना समय बर्बाद किए भाभी की दोनों टांगों को अपने कंधों पर रखा और अपना लंड उनकी चूत के मुँह पर रखा और एक जोरदार धक्का लगा दिया। मेरा आधा लंड भाभी की चूत की गहराई में उतरता चला गया।

भाभी के मुँह से दबी आवाज निकली- आआह… आआहह… ऊउईई माआआ… मैं मर गई।

फिर मैंने अपना लंड बाहर निकाला और पूरी ताकत से दूसरा झटका दिया। लंड फ़च.. की आवाज़ करता हुआ पूरा चूत में घुस गया। उसके मुँह से हल्की सी चीख निकल गई।

वो बोली- उई… आह… धीरे करो… दर्द हो रहा है… क्योंकि तुम्हारा लंड तुम्हारे भाई के लंड से बहुत मोटा है।

अब मैं धीरे-धीरे अपने लंड को चूत के अंदर-बाहर करने लगा। उसे इसमें मजा आने लगा था।

थोड़ी देर बाद वो बोली- पूरी ताकत से करो… बहुत मजा आ रहा है… आह्ह… आह्ह… उम्म… ह्म्म्म्म… आआह्ह्ह… फाड़ दो आआआ… मेरी चूत… उफ… हम्म्म जोर से… तेज… मजा आ रहा है।

‘ले भाभी… ले… मेरी जान..’

भाभी अपने नितम्ब उछाल-उछाल कर अपनी चूत चुदाई करवा रही थीं.. उन्हें भी इस चुदाई का भरपूर मजा आ रहा था।

फिर मैंने स्पीड थोड़ी बढ़ा दी और उसके गले से आवाज आने लगी- आआअहह आआन्न सुमित, चोदो मुझे… और तेज चोदो मुझे।

इस दौरान वह एक बार चरमसुख प्राप्त कर चुकी थी, उसे फिर से आनंद आने लगा था। (चोद कर संतुष्ट कर दिया)

कुछ देर बाद भाभी कहने लगीं- मैं आने वाली हूं… आह्ह… उफ्फ… और जोर से आ रही हूं… आआ… मैं झड़ने वाली हूं।

मैंने भी कहा कि मैं भी झड़ने वाला हूँ.. कहाँ निकालूँ?

वो बोली- आह.. क्या पूछ रहे हो.. अपना रस अन्दर ही डाल दो.. तुम्हारा सारा रस मेरी चूत को ठंडा कर देगा.. आह.. अन्दर ही डाल दो.. इसी लिए तो मेरी चूत तड़प रही थी।

यह सुनते ही मैंने अपनी स्पीड थोड़ी और बढ़ा दी और दो मिनट में ही उसकी चूत में ही झड़ गया।

वाह… क्या झरना है लंड का प्रवाह… मुझे राहत मिल गई।

भाभी मुस्कुराईं और बोलीं- सुमित, आज तुमने मेरी कई सालों की प्यास बुझा दी।

मैंने भाभी को चूमते हुए कहा- अब मैं तुम्हें रोज ऐसे ही मजा दूंगा।

हम दोनों बहुत थक गये थे। फिर हम दोनों थोड़ी देर तक वैसे ही लेटे रहे।

सुबह 6 बजे हमारी आंख खुली तो मेरा लंड खड़ा था।

भाभी : सुमित सर, अब आपका क्या इरादा है?

मैं: प्रिय मुझे तुम्हारी गांड बहुत पसंद है।

भाभी ने एक बार मेरे लंड की तरफ देखा और बोलीं- ये उद्घाटन समारोह होगा।

वह समारोह कैसे हुआ, आगे क्या हुआ, यह मैं अगले भाग में लिखूँगा। आपको मेरी पड़ोसन रितिका भाभी की सेक्स कहानी कैसी लगी? कृपया मुझे ईमेल द्वारा बताएं।

तो दोस्तो, आपको मेरी यह चुदाई की कहानी कैसी लगी, जरूर बताएं।

अगर आपको यह चोद कर संतुष्ट कर दिया कहानी पसंद आई तो हमें कमेंट बॉक्स में ज़रूर बताएं।

यदि आप ऐसी और चुदाई की सेक्सी कहानियाँ पढ़ना चाहते हैं तो आप “Readxstories.com” पर पढ़ सकते हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Dehradun Call Girls

This will close in 0 seconds