May 21, 2024
दोस्त की बेटी को चोदा

दोस्तो, मेरा नाम रोहन है आज में आपको बताने जा रहा हु की कैसे मेने "दोस्त की बेटी को चोदा और उसकी चूत फाड् दी"

दोस्तो, मेरा नाम रोहन है आज में आपको बताने जा रहा हु की कैसे मेने “दोस्त की बेटी को चोदा और उसकी चूत फाड् दी”

यह तीन साल पहले की बात है जब मैं मुंबई में एक दोस्त के साथ एक ही कमरे में रहता था। मेरा दोस्त दिल्ली से था।

उस दोस्त की पत्नी, उसकी 19 साल की बेटी और मैं… कुल 4 सदस्य वहां रहते थे. लड़की 12वीं कक्षा में पढ़ती थी. हम एक किराये के मकान में रहते थे

जिसमें केवल 2 कमरे थे। एक कमरे में मेरा दोस्त और उसकी पत्नी सोते थे और दूसरे में मैं और उसकी बेटी कृतिका सोते थे।

चूंकि हम दोनों दोस्त पैसों के मामले में कमजोर थे, इसलिए पैसे बचाने के लिए हम साथ-साथ रहते थे। मेरी पत्नी मेरे माता-पिता के साथ एक गाँव में हमारे पैतृक घर में रहती थी।

मैं यहां मुंबई में काम करता था और पैसे बचाकर घर भेजता था। मेरे दोस्त की बेटी कृतिका कम उम्र में ही बहुत सेक्सी और हॉट दिखती थी. मैं उसे रोज चोदने के बारे में सोचता था लेकिन कह नहीं पाता था.

मैं कृतिका को रोज रात को कोचिंग देता था. पढ़ाते समय मैं उसके गोल-गोल स्तनों को खाने की चाहत से देखता रहा। मैं तो चाहता था कि इसे कस कर पकड़ लूं और कुचल दूं, लेकिन हिम्मत नहीं हो रही थी.

पढ़ाई के बीच-बीच में मैं उसके साथ मस्ती करता था और अगर मैं जाने-अनजाने में उसके स्तनों को छू लेता तो मुझे करंट सा लग जाता। कभी-कभी वह प्यार से उसके गाल खींच लेता और उसे पिल्ला समझ लेता।

पढ़ते-पढ़ते जब उन्हें नींद आने लगती तो दोनों अलग-अलग सो जाते। मुझे रोज रात को हस्तमैथुन करने की आदत थी. जब मैंने मुठ मारी तो कृतिका का चेहरा मेरी आँखों के सामने रह गया.

मैं बिस्तर पर सोता था और कृतिका नीचे सोती थी. एक दिन मुझे लगा कि कृतिका सो रही है और मैं मुठ मार रहा हूँ। तभी अचानक कृतिका पानी पीने के बहाने उठी और उसने मुझे मुठ मारते हुए देख लिया.

मेरा 7″ का लंड देख कर शायद उसका भी चुदने का मन हो गया। मैंने तुरंत चादर अपने ऊपर डाल ली। कृतिका बहुत मासूम लग रही थी लेकिन उसकी चढ़ती जवानी का असर भी दिख रहा था.

एक दिन मेरी नज़र किसी किताब में लिखे प्रेम पत्र पर पड़ी। मेरे मन में आया कि ये साली बाहर मरवाती है तो क्यों ना घर की इज्जत घर में ही रखी जाये. मुझे चोदने की बहुत इच्छा हो रही थी.

मैंने कृतिका से कहा- मैं ये प्रेम पत्र तुम्हारे पापा को दे दूंगा. तो वो डर गयी और मेरे पैर पकड़ कर बोली- अंकल, आपको मेरी कसम! तुम जो कहोगे मैं करूंगी लेकिन पापा को मत दिखाना.

मैं तो बस मौके की तलाश में था, मैंने कहा- ठीक है सोते हैं लेकिन एक ही बिस्तर पर। उसने हंस कर हां कहा. अब मेरा लंड सेक्स के लिए फड़फड़ाने लगा था.

दरअसल कृतिका भी मुझसे चुदाई करवाने के लिए बेताब थी लेकिन वो बोल नहीं पा रही थी. मैंने कृतिका को बिस्तर पर लेटा दिया. जब मैंने कृतिका को छुआ तो उसका शरीर बहुत गर्म महसूस हुआ।

मैंने उसके होंठों पर अपने होंठ रख दिये. उस दिन कृतिका ने स्कूल ड्रेस ही पहनी हुई थी. मैंने उसकी शर्ट के बटन खोल दिये. हाय… क्या अद्भुत स्तन थे उसके… एकदम कसे हुए और गोल।

मैं धीरे-धीरे उसके स्तनों को सहलाने लगा और उसके होंठों को चूसने लगा। उसके हाथ मेरे लिंग को सहला रहे थे. मेरा लिंग धौंकनी की तरह गर्म और सख्त हो गया था. कृतिका भी चुदाई के लिए तड़प रही थी.

मैंने उसकी पैंटी खोल दी. उसकी छाती पर हल्के हल्के बाल थे. इतनी छोटी सी चूत देख कर मैं पागल हो गया. मैंने उसे अपनी गोद में उठा लिया और उसे चूमने लगा और उसकी चूत को सहलाने लगा।

कृतिका भी मेरे होंठों को चूस रही थी. उसे बहुत मजा आ रहा था. वो पूरी तरह गर्म हो चुकी थी. अब मैंने उसे लिटा दिया और उसकी चूत चाटने लगा. वो आअहह ईई उउउ आआउच जैसी आवाजें निकालने लगी.

मैंने अपने लिंग और उसकी चूत पर ढेर सारा नारियल तेल लगा लिया ताकि लिंग आसानी से चूत में प्रवेश कर सके। मैंने कृतिका से पूछा- तुम्हारी सील किसी ने तोड़ी या नहीं?

तो वो बोली- नहीं अंकल, ये कच्ची कुँवारी तो मैं आपके लिए ही रखे हुए हूँ। आज आपकी मेरी पहली चुदाई होगी अंकल! मैंने कहा- वाह मेरी जान, आज मैं तेरी सील तोड़ कर तुझे अपनी रांड बनाऊंगा.

मैंने उसकी कमर के नीचे प्लास्टिक बिछा दिया ताकि खून बिस्तर पर न लगे. अब मैंने उसकी टाँगें फैलाईं और बीच में आकर अपना लंड उसकी चूत पर रखा और धीरे से धक्का दिया।

लेकिन लिंग बहुत मोटा होने के कारण चूत में प्रवेश नहीं कर रहा था। मैंने कहा- कृतिका, थोड़ा दर्द सहने के लिए तैयार रहो. और मैं उसके मम्मे दबा रहा था तो वो चुदाई के लिए तड़प रही थी.

अब मैंने अपना लंड बहुत जोर से कृतिका की चूत में डाला और मेरे लंड का टोपा अंदर चला गया. अब मैंने एक जोरदार झटका मारा और हल्के दर्द के कारण कृतिका जोर से चिल्ला उठी- आआअहह अंकल… मैं मर गई!

इतने में चीख सुनकर उसकी मां दरवाजे पर आई और बोली- क्या हुआ कृतिका? मैंने कहा- कुछ नहीं भाभी, कृतिका ठीक से पढ़ाई नहीं कर रही थी इसलिए मैंने उसे पीटा।

वो बोली- हां जीजू, मार कर सिखाओ इसे. मैंने कहा- ठीक है, तुम सो जाओ. तो भाभी अपने कमरे में चली गयी.

अब मैंने अपना पूरा लंड उस कच्ची कली की बुर में पूरा अन्दर डाल दिया. कृतिका की चूत से खून का फव्वारा निकल पड़ा और वो दर्द से छटपटाने लगी.

मैंने अपना हाथ उसके मुँह पर रख दिया ताकि आवाज बाहर न जाये. मैंने कहा- जान, थोड़ी हिम्मत रखो, पहली बार थोड़ा दर्द होता है।

अब मैंने अपने लिंग को कुछ देर तक अन्दर ही रखा और उसके स्तनों को सहलाने लगा। अपनी चूत से इतना खून निकलता देख कर वो घबरा गयी.

मैंने कहा- कुछ नहीं, तुम्हारी चूत की सील टूट गई है इसलिए इतना खून निकला है, दो मिनट में खून निकलना बंद हो जाएगा और तुम्हारा दर्द भी खत्म हो जाएगा, सब ठीक हो जाएगा।

अब मैं बहुत धीरे-धीरे अपने लंड को उसकी ताज़ी फटी हुई चूत में अन्दर-बाहर करने लगा। कुछ देर बाद कृतिका को भी मजा आने लगा.

अब उसने मुझे पकड़ लिया और बोली- चाचूजान, आपका लंड तो बहुत बड़ा है, इसने तो मेरी चूत में छेद कर दिया है. मैंने कहा- मेरी भतीजी जान, अब तुम मेरी रंडी बन गई हो, मैं तुम्हें रोज चोदूंगा.

कृतिका बोली- मैं बहुत दिनों से चुदाई के लिए तरस रही थी… आख़िरकार आज मेरी इच्छा पूरी हो गई। और वो जोर जोर से उछल उछल कर लंड को अपनी चूत में लेने लगी और आआअहह ईईईईई करने लगी.

मैं जोर-जोर से उस जवान लड़की की चूत चोद रहा था और उसे लिप किस कर रहा था। मैं उसके संतरे जैसे मुलायम सफ़ेद स्तनों को दबा रहा था और मसल रहा था।

वह एक बहुत जवान लड़की है और मैं एक चालीस साल का मजबूत आदमी हूँ। कृतिका बहुत गरम हो गयी थी. मेरा लंड उसकी टाइट चूत में तेज़ी से घुस रहा था. पूरे कमरे में कामुक माहौल था.

मैं कह रहा था- अरे मेरी रंडी ले मेरा लंड … और ले और ले. आआह ईई ईई आआह आआह अइइइ! इसी बीच कृतिका की चूत ने पानी छोड़ दिया और वह निढाल हो गयी.

अब मैंने चोदने की रफ़्तार बढ़ा दी- आआहह कृतिका… मेरी जान ऊऊ… जाआआआ… मेरी रंडी आआहह आआहह! और मेरे लंड ने भी पानी छोड़ दिया. मैंने उसकी चूत अपने वीर्य से भर दी.

कृतिका भी मेरी तरफ देख कर रंडी की तरह मुस्कुराने लगी. मैंने नीचे रखा प्लास्टिक हटा दिया और उसकी चूत को अच्छे से साफ कर दिया.

कृतिका बोली- अंकल जान, बहुत मजा आया. मैंने कहा- अब मैं तुम्हें रोज चोद कर ऐसा मजा दूंगा. कुछ देर बाद मैं फिर से अपने दोस्त की बेटी की चूत चोदने के लिए तैयार हो गया.

अब मैं बिस्तर पर लेट गया, मैंने अपने लिंग को अपने हाथ से पकड़ लिया और कृतिका को अपनी चूत मेरे लिंग के सिरे पर रखकर मेरे ऊपर बैठने को कहा।

उसने वैसा ही किया और मैंने अपने कूल्हे ऊपर उठाये और नीचे से अपना लिंग उसकी चूत में डाल दिया।

कृतिका भी मेरा साथ देने लगी और मजे से चुदवाने लगी. इस बार मैंने उसे अलग-अलग पोजीशन में काफी देर तक चोदा. इस बीच कृतिका की चूत दो बार पानी छोड़ चुकी थी.

मैं भी झड़ने वाला था तो मैंने अपना लंड निकाल कर कृतिका के मुँह में डाल दिया और वो लंड चूस कर रस छोड़ने लगी.

मैंने आआह आआह आआह आआह करके अपना पूरा लंड कृतिका के मुँह में खाली कर दिया. कृतिका ने सारा वीर्य पी लिया और लंड को चाट कर पूरा साफ़ कर दिया.

फिर वो मेरी छाती पर सर रख कर लेट गयी और बोली- हाय अंकल, आपके लंड में बहुत ताकत है. मुझे आपका लंड अपने अंदर लेकर बहुत मजा आया अंकल!

मैंने कहा- मेरी जान, मैं तुम्हें बहुत दिनों से चोदना चाहता था, पर डरता था कि कहीं तुम नाराज़ न हो जाओ।

अब हम हर रात सेक्स का मजा लेने लगे. वह गर्भवती न हो जाये इसलिए उसके लिए ‘सहेली’ गोलियाँ रखी हुई थीं, मैं उसे रोज गोलियाँ खिलाता था। अब कृतिका मुझसे बहुत खुश थी.

कुछ दिन बाद उसने बताया कि वह प्रेम पत्र किसी ने नहीं दिया था बल्कि उसने ही मुझे फंसाने के लिए लिखा था। मैंने उससे कहा- तू तो बड़ी छिनाल निकली.

वो बोली- अंकल, हरामजादी नहीं.. रंडी.. मैं आपकी रंडी हूँ। मैंने भी उसका पूरा ख्याल रखा, उसे खूब पढ़ाया और खूब चोदा. 3 साल बाद उन्हें नर्स की नौकरी मिल गई और शादी भी हो गई.

आज भी जब मेरा मन होता है तो मैं कृतिका को बुला लेता हूँ और उसके साथ सेक्स कर लेता हूँ।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Delhi Escorts

This will close in 0 seconds