May 21, 2024
जमकर चुदाई करवाई

आज की हिंदी सेक्स कहानी है "बॉस को किसी बहाने से अपने घर बुलाया और जमकर चुदाई करवाई" इस कहानी को पढ़ने के बाद आप अपना लंड हिलाने से नहीं रोक पाएंगे।

आज की हिंदी सेक्स कहानी है “बॉस को किसी बहाने से अपने घर बुलाया और जमकर चुदाई करवाई” इस कहानी को पढ़ने के बाद आप अपना लंड हिलाने से नहीं रोक पाएंगे।

नमस्कार दोस्तों! मैं साहिल हूं, मैं करोल बाग दिल्ली से हूं। मुझे हिंदी बहुत कम आती है। यदि कहानी में कोई गलती हो तो कृपया मुझे क्षमा करें।

मैं शादीशुदा हूं। मैं 30 वर्ष का हूं। मेरा रंग सांवला है और मैं लम्बा हूँ। मेरे फिगर का साइज 36-32-36 है।

जब से मैंने Readxstories की हॉट सेक्सी कहानियाँ पढ़ना शुरू किया है, मेरी इच्छा पूरी हो गई है। मैं खुद भी अपनी प्रेम कहानी को नेट पर एक मंच पर साझा करना चाहता था जहां लोग मेरी कहानी पढ़ सकें और मुझे अपनी राय दे सकें।

हालाँकि मैंने कभी कोई सेक्स कहानी नहीं लिखी है, लेकिन आज मैं आप सभी से जुड़ने के लिए और आपके मनोरंजन के लिए यह सब लिख रहा हूँ।

शादी से पहले मेरा एक बॉयफ्रेंड था। पहले मैं अपनी पढ़ाई पूरी करने के बाद घर पर ही रहती थी, लेकिन अब मैंने काम करना शुरू कर दिया है।

नौकरी के लिए मुझे हर सुबह सफर करना पड़ता था, कभी ऑटो से तो कभी बस से। कभी-कभी मेरे पति भी मुझे ऑफिस ले जाते थे।

जब भी मैं ऑटो में बैठती थी तो कई बार मेरे पैर मेरी तरफ वाले को छू जाते थे।।। और तो पूछिए ही मत कि भरी बस में खड़े होने पर कितना टकराव होता था। इन सब से मुझे एक अजीब सी खुशी मिलती थी, लेकिन मैं बस चुप रह जाती थी।

शुरू में तो मुझे ये सब अजीब लगता था, लेकिन अब मुझे ये सब अच्छा लगने लगा है।

मैं गांव से हूं इसलिए पहले मुझमें इतनी हिम्मत नहीं थी, लेकिन अब शहर आने के बाद धीरे-धीरे यहीं रहने की आदत हो गई है।

ऑफिस में मेरे कई अच्छे दोस्त बन गए थे। मैं ऑफिस में ज्यादातर साड़ी ब्लाउज या टॉप लेगिंग्स पहनती हूं। मेरे बॉस 45 साल के हैं, लेकिन बहुत फिट हैं। वह शुरू से ही मुझ पर नजर रख रहा है।’

उनकी नज़र से मुझे पहले दिन ही समझ आ गया था कि बॉस की वासना भरी नज़र मुझ पर है। लेकिन मैंने ऐसे व्यवहार किया जैसे मुझे कुछ पता ही नहीं। मुझे नहीं पता, मुझे इस सब में कुछ अच्छा लगा।

मेरे ऑफिस का समय सुबह 10 बजे से शाम 5 बजे तक है, लेकिन कभी-कभी शाम को मेरे बॉस मुझे 6 या 7 बजे तक रुकने के लिए कहते थे।

वह बार-बार मुझे देखने के इरादे से अपने केबिन में बुलाता था और पूछता था कि उस फाइल का क्या हुआ, इस फाइल का क्या हुआ? वो ऐसे सवाल पूछ कर मुझे चिढ़ाते थे।

मैं ऑफिस में नाइ थी, इस वजह से मुझे ऑफिस के काम के बारे में ज्यादा जानकारी नहीं थी। तभी उसे मुझे डांटने का मौका मिल गया। वो मुझे डांटते वक्त मेरे बदन को ऐसे देखता था जैसे उसने मुझे खरीद लिया हो।

शुरू में तो मुझे थोड़ा अजीब लगा, लेकिन अब जब मुझे उसकी बात समझ में आ गयी तो मुझे मजा आने लगा।

एक बार बॉस ने मुझे काफी देर तक रुकने के लिए कहा। सब लोग जा चुके थे, ऑफिस में सिर्फ मैं और वो ही बचे थे।

बॉस ने मुझे अपने केबिन में बुलाया और मुझसे अकेले में बात करने लगे। वह कहने लगा कि तुम अपना काम अच्छे से करो, मैं तुम्हारी सैलरी बढ़ा दूंगा।। तुम्हारे परिवार में कौन-कौन है, तुम्हें किसी चीज की जरूरत हो तो बताना। (जमकर चुदाई करवाई)

उसकी ये सहानुभूति भरी बातें सुनकर मुझे भी अच्छा लगने लगा। हालाँकि मैं उसकी इच्छा को समझ गयी थी, इसीलिए मैं तुरंत उससे रानी हार देने के लिए कहने वाली थी।।। हाहाहा।।। क्योंकि मुझे मुफ़्त उपहार बहुत पसंद हैं।

उस दिन के बाद मेरा अपने बॉस के प्रति व्यवहार थोड़ा बदल गया। क्योंकि वह भी अब मुझसे अच्छे से बात करने लगा था और मेरी गलतियों पर भी मुझे नहीं डांटता था।

मैं उससे मुस्कुरा कर बात करने लगी। मैं समझ गया कि इसे कुतिया बनाने से मेरे लिए सब कुछ आसान हो जायेगा। ज्यादा से ज्यादा वो सिर्फ मेरे शरीर को देखेगा या उसका आनंद लेगा और क्या करेगा। कोई थोड़ा खा लेगा।

मेरी इस सोच के कारण वह भी मेरे प्रति नरम हो गये। अब धीरे-धीरे हम दोनों एक-दूसरे से खुलने लगे। मैं हर दिन जब भी बॉस के केबिन में जाती तो वो मेरी तरफ देखते और मैं मुस्कुरा कर आगे निकल जाती।

मैं उनसे ऑफिस के काम के बारे में भी बात करती थी, लेकिन उनका अंदाज अब मेरे लिए पहले जैसा नहीं रहा।’ मेरे अलावा बाकी सभी को वह इतना डांटते थे कि उनमें से कुछ रोने लगते थे।

फिर एक दिन बॉस एक कदम आगे बढ़ गये। उस दिन वो मेरी साड़ी ब्लाउज की तारीफ करने लगे।

साहिल- आज तुम्हारी साड़ी बहुत अच्छी लग रही है।

मैं- धन्यवाद सर।

बॉस: और ये ब्लाउज भी बहुत सेक्सी है।

मैं- धन्यवाद सर!

हालाँकि ब्लाउज को सेक्सी कहने से मैं थोड़ा गर्म हो गयी। मेरा मन करने लगा था कि जल्दी से जाकर बॉस की गोद में बैठ जाऊं। उसकी तारीफ सुनकर मैं भी उस पर मोहित हो गयी।

महिलाएं अपनी ड्रेस को लेकर हमेशा तारीफ सुनने के लिए उत्सुक रहती हैं। उसकी तारीफ सुनकर मुझे बहुत ख़ुशी हुई और मैंने फैसला कर लिया कि अब मैं और भी हॉट दिखने वाली ड्रेस पहन कर आऊंगी। (जमकर चुदाई करवाई)

अगले दिन से मैंने बेहतर साड़ियाँ और ब्लाउज पहनना शुरू कर दिया और धीरे-धीरे मैंने अपने ब्लाउज का आकार छोटा करना शुरू कर दिया, ताकि वह मेरे स्तनों को देख सके।

एक दिन जब मैं अपने बॉस के केबिन में गई तो मैंने अपनी साड़ी पर सेफ्टी पिन नहीं लगाई थी। बात करते करते मेरी साड़ी का पल्लू नीचे गिर गया। मैंने जानबूझ कर इस बात पर ध्यान नहीं दिया।

मैंने उसे लगभग दस सेकंड तक अपने स्तनों को देखने दिया। उसे मेरे दोनों उभार साफ़ दिख रहे थे। फिर मैंने नाटक करते हुए तुरंत अपना पल्लू ठीक किया और उसकी तरफ देखा।

फिर उसकी जीभ किसी प्यासे कुत्ते की तरह उसके होंठों पर फिर रही थी। उस दिन मैंने नीले रंग की साड़ी और काला ब्लाउज पहना हुआ था।

शाम को उसने मुझे रुकने के लिए कहा क्योंकि उसकी एक ग्राहक के साथ मीटिंग थी। बैठक काफी देर तक चली। अब तक शाम के साढ़े सात बज चुके थे। सब कुछ हो जाने के बाद, बॉस ने मुझसे कहा कि देर हो गई है, चलो तुम्हें घर छोड़ दूं।

Hire Our Best Call Girls Model At Your Location:

मैंने भी हां कह दिया।

फिर हम दोनों उसकी कार में बैठे और मेरे घर की ओर चल दिए। अपार्टमेंट की पार्किंग में पहुंच कर उसने कार रोकी।

मैं: सर, चलो घर पर कॉफी पीते हैं?

बॉस- नहीं… फिर कभी आऊंगा।

मैंने अपना स्नेह जताते हुए कहा- नहीं सर, अब चलते हैं … वैसे भी मेरे पति आपसे मिलना चाहेंगे।

यह सुनकर उन्होंने कहा- ठीक है चलते हैं।

फिर हम दोनों लिफ्ट से मेरे घर आये। मेरे घर का दरवाज़ा बंद था तो मैंने चाबी से दरवाज़ा खोला और बॉस को अन्दर बैठाया।

फिर मैंने अपने पति को फोन किया तो जवाब मिला कि वो किसी काम से बाहर गए हैं और उन्हें आने में थोड़ा समय लगेगा।

अब मुझे बॉस को बताना था कि मेरे पति घर पर नहीं हैं और जिस व्यक्ति से मैं बॉस को मिलवाने के लिए घर लायी थी वह भी घर पर नहीं है। (जमकर चुदाई करवाई)

मैंने बॉस को बताया कि मेरे पति किसी काम से बाहर गए हैं, उन्हें आने में थोड़ा समय और लगेगा, तब तक मैं कॉफ़ी बना कर लाती हूँ।

मैंने देखा कि यह बात सुनकर उसके चेहरे पर अचानक से खुशी आ गई और मेरे अंदर भी थोड़ी उत्तेजना जागने लगी। आज अच्छा मौका था, घर पर कोई नहीं था।

मैंने गांड हिलाते हुए मुख्य दरवाजा बंद किया और रसोई में आ गयी। मुझे खुश देख कर और गेट बंद करते देख बॉस को भी कुछ समझ आ गया। शायद यह उसे हरी झंडी जैसा लग रहा था। जैसे ही मैं किचन में गई, वो भी मेरे पीछे-पीछे किचन में आ गया।

मैं पीछे मुड़ी तो वो मेरे पीछे खड़ा था। बॉस ने मेरी आँखों में देखा और मैंने भी उसकी आँखों में देखा। हम दोनों एक अजीब सी उत्तेजना से एक दूसरे को देख रहे थे।

आज मौका था, मैं भी बॉस की नजर में देख रहा था। आज मेरे दिल में बॉस को लेकर कोई घबराहट नहीं थी। मैं उसे प्यार से देख रही थी। मेरे होठों पर हल्की सी मुस्कान थी।

मेरी मुस्कुराहट देख कर वह धीरे से मेरी ओर बढ़ा, मेरा दिल तेजी से धड़कने लगा। बॉस मेरे करीब आये और मेरी कमर पकड़ कर मेरे होठों को चूमने लगे, मैं भी उनका साथ देने लगी।

जैसे ही बॉस मुझसे जुड़े तो वो एकदम से मुझसे चिपक गए और अब धीरे-धीरे उनका हाथ मेरी गांड पर आ गया। उसने मेरी गांड दबा दी और मुझे अपने सीने में भींचने लगा।

मेरी साड़ी का पल्लू नीचे गिर गया। वो ब्लाउज के ऊपर से ही मेरे स्तनों को दबाने लगा। फिर वो मेरे गालों को अपने दांतों से काटने लगा और अपनी नाक से मेरी बगलों को सूंघने लगा।

मैं- सर प्लीज़ रुकिए।। मेरे पति आ जायेंगे।
बॉस: जब तक वो नहीं आता, मुझे तुम्हारी चूत में उंगली करने दो।

उसकी ऐसी बातों से मैं अपने होश खो बैठी और उससे लिपट गयी। उसने मेरी साड़ी उठाई और मेरी पैंटी नीचे खींच कर मेरी चूत में अपनी उंगली डाल दी।
मुझे भी पराये मर्द के साथ ऐसा करने में मजा आने लगा। मैंने अपनी टाँगें खोल दीं और उसकी उंगली को अपनी चूत में प्रवेश करवा दिया।

अब बॉस मेरे पीछे आये और मुझे किचन काउंटर पर बैठा दिया। मैं उत्तेजित होने लगी थी। बॉस ने मेरी पैंटी उतार दी और साड़ी मेरी कमर तक उठा दी।

मेरी चूत बॉस के सामने खुल गयी थी। बॉस ने भी अपनी पैंट की ज़िप खोलकर अपना लंड बाहर निकाला और पीछे से मेरी गर्म चूत से सटा दिया। लंड का स्पर्श होते ही मेरी चूत पानी छोड़ने लगी। जब बॉस ने एक मिनट तक अपने लिंग का टोपा मेरी चूत की फांकों में रगड़ा तो मैं उत्तेजित हो गयी और मैंने अपनी टाँगें फैला दीं।

बॉस ने मेरी कामुक उत्तेजना को समझ लिया और तुरंत अपना खड़ा लंड मेरी चूत में डाल दिया। अचानक बॉस का लंड मेरी चूत में घुसा तो मैं कराह उठी। उसका लंड काफी बड़ा था। मुझे बहुत मज़ा आया। (जमकर चुदाई करवाई)

अब बॉस ने मेरी कमर पकड़ ली और धक्के लगाने लगे। एक दो धक्कों में ही लंड चूत में सेट हो गया और चुदाई का सिलसिला शुरू हो गया। मुझे भी बहुत मजा आने लगा।

मैं मराठी में बात कर रही थी।। और वो मुझे चोद रहा था।

दस मिनट की जोरदार चुदाई के बाद उसने अपना लंड बाहर निकाला और पूरे किचन में स्प्रे कर दिया। मैं मुस्कुराने लगी।

बॉस का वीर्य किचन के फर्श पर फैला हुआ था। मैंने साड़ी नीचे खींची और पलट कर बॉस की तरफ देख कर मुस्कुरा दी।

बॉस ने मुझे आँख मारी और अपनी पैंट की ज़िप लगाई और बाहर हॉल में आ गये।

मैंने भी साड़ी ठीक की, किचन साफ़ किया और कॉफ़ी लेकर हॉल में आ गयी।

हम दोनों कॉफ़ी पीते हुए बातें करने लगे। मैं बॉस को देखकर मुस्कुराती रही।

अब तक काफी देर हो चुकी थी, लेकिन मेरे पति नहीं आये थे।

मैंने अपने पति के न आने की बात बताई तो बॉस बोले- कोई बात नहीं।। ये मेरे लिए अच्छा रहा। मैं अगली बार उनसे मिलूंगा।

अब बॉस जाने लगे। जाते वक्त उसने मुझे स्मूच किया और फिर से मेरे मम्मे और गांड दबा दी।

मेरे लिए उससे चुदाई करवाने का कोई कारण नहीं था। बस मुझे जैसा महसूस हुआ और मैंने खेला। इस चुदाई के बाद मैं बॉस की चहेती बन गयी। मैंने इस बात का पूरा ख्याल रखा कि ऑफिस में मेरी बदनामी न हो।

बॉस, ऑफिस, घर और होटल के साथ ऐसी कोई जगह नहीं बची जहां हम दोनों ने सेक्स का मजा न लिया हो।

मैं शाम को ऑफिस में उनके केबिन में आती थी और सेक्स करती थी। इसके लिए मैं छुट्टियों में सबके सामने बाहर जाती थी और फिर सबके जाने के बाद केबिन में आकर बॉस से चुदवाती थी।

मैंने अपने घर पर भी कई बार सेक्स का मजा लिया। बॉस ने मुझे अपनी कार में भी कई बार चोदा। मैंने ज्यादातर बार उसका लिंग कार में ही चूसा।

मतलब हम दोनों को जहां भी मौका मिलता, वह मुझे चोदते थे, भले ही थोड़ी देर के लिए ही सही।

जब मुझे प्रमोशन मिला तो मुझे ऐसा लगा जैसे मैं उनकी भाड़े की रंडी हूं।

लेकिन अब तक मेरा मन भी उस वेश्या शब्द के लिए तैयार हो चुका था।

आपको मेरी ऑफिस सेक्स कहानी कैसी लगी, मुझे ईमेल करके जरूर बताएं… आपके ईमेल, आपकी चमक का इंतजार है।

तो दोस्तो, आपको मेरी यह चुदाई की कहानी कैसी लगी, जरूर बताएं।

अगर आपको यह जमकर चुदाई करवाई कहानी पसंद आई तो हमें कमेंट बॉक्स में ज़रूर बताएं।

यदि आप ऐसी और चुदाई की सेक्सी कहानियाँ पढ़ना चाहते हैं तो आप “Readxstories.com” पर पढ़ सकते हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Delhi Escorts

This will close in 0 seconds