June 25, 2024
Dudh Wale se Chudai 2

पिछला भाग: Dudh Wale se Chudai

हाय मेरा नाम प्रिया है, मैं दिल्ली महिपालपुर की रहने वाली हूँ। और मैं Dudh Wale se Chudai 2 का लेकर आयी हूं।

अभी तक Hindi Sex Story में पढ़ा कैसे मैंने अपना दूध विकास को पिलाया था। 

अब Hindi Sex Kahani में आगे।

विकास : प्लीज़ ना भाभी. मैं अपने दोस्त की रिक्शे भेज देता हूं। आ जाओ ना प्लीज.

मैं: ठीक है 30 मिनट में काम वाली आएगी। बेटे को उसके पास छोड़ के फिर आउगी।

30 मिनट में रिक्शा आ गई थी। उसने मुझे विकास के दुकान पर ड्रॉप कर दिया। मैं दुकान के अंदर चली गई.

विकास (मुझे गले लगा कर): स्वागत है भाभी

उसने मेरे चूचे पर हाथ रखा।

विकास: क्या बात है भाभी आज ब्रा डाली हुई है।

मैं: अब मार्केट में भी बिना ब्रा के आ जाती क्या?

विकास: मुझे तो लगा था आपकी साइज़ की ब्रा आती ही नहीं होगी।

मैं: अब ज्यादा मत बोलो. ब्रा खोलो मेरी. बहुत टाइट है.

उसने मेरे ब्रा के हुक खोल दिये।

मैं: घर तो दिखा दो अपना.

दुकान के पीछे ही उसका घर था और साथ ही भैंसों को रखने का एरिया था। वाहा 3 भैंस बंधी हुई थी. उसकी मम्मी वही एक चारपाई पर लेटी हुई थी।

विकास (अपनी मम्मी से): मां तू अंदर जा। भाभी आयी है.

उसकी मम्मी अंदर चली गयी.

मैं: विकास, मुझे भी सिखाओ कि भैंस का दूध कैसे निकालते है।

विकास (मुझे पीछे से गले लगा कर): ठीक है भाभी. आप कुर्ती निकाल के घोड़ी बन जाउ उस दिन के जैसे, अभी सिखा देता हूं।

मैं: मज़ाक मत करो. सिखाओ ना

उसने मुझे एक भेंस के पास बिठा दिया। एक बाल्टी दे दी. और बोला कि, “इसका थन पकड़ के ऐसे ऐसे हिलाओ।”

मैंने उसका थन हिलाना शुरू कर दिया। पर कुछ हुआ ही नहीं. दूध आया ही नहीं.

मैं: हो नहीं रहा.

विकास: हो जाये गा करती रहो.

10 मिनट बाद थोड़ा सा दूध आया।

मैं: बस इतना सा निकला.

विकास (हैरान हो के): सच में निकाल दिया क्या।

मैं: हां, पर थोड़ा सा ही आया है

विकास (हंसते हुए): भैंसा (नर भैंसा) ने इतना भी दे दिया बहुत है।

मैं: क्या मतलब?

विकास: थन नहीं लंड से दूध निकाल रही थी तो इतना ही आयेगा।

मैं खड़ी हो कर गुस्से में उसको मारने भागी। उसने मुझे पकड़ के अपने होंठ मेरे होंठों पर रख दिये। मेरा गुस्सा थोड़ा ठंडा हो गया। पर मैं गरम हो गई थी.

विकास: उसका लंड पसंद नहीं आया क्या.

मैं: लंड तो मुझे बस तेरा पसंद है.

विकास: पर आपने तो देखा ही नहीं.

मैं: तो अब दिखा दे.

विकास: लो देख लो. अब तो आप का ही है

ये बोल के उसने अपनी पैंट खोल के नीचे गिरा दी। अंडविकासयर के साथ. उसका 7 इंच का एक दम टाइट लंड मेरे हाथ में आ गया।

मैं: बहुत बड़ा है तुम्हारा तो.

विकास: भैया से भी बड़ा?

मैं: हा.

विकास: तो खाओ फ़िर इसको.

मैं: मुँह में नहीं लेती

विकास: क्यों?

मैं: मुँह में तो मैंने अपने पति का भी नहीं लिया कभी।

विकास: तो मैं आप का पति थोड़ी हूँ। Bf हू. BF का तो लेना पड़ता है.

मैं: अच्छा

ये बोल के मैं अपनी घुटनो पर बैठ गई। अपने बाल थोड़े टाइट से बांध लिए। मैंने उसका लंड हाथ में लिया और चाटना शुरू कर दिया। पहले उसका लंड चाटा फिर उसकी बॉल्स. उसके मुँह से आ आह निकल रहा था.

फिर मैंने उसका लंड अपने मुँह में लेना शुरू कर दिया। उसने मेरे दोनो हाथ अपने लंड से हटा के ऊपर कर दिये। और मेरी कुर्ती निकाल दी. मैं उसका लंड चूस रही हूँ।

विकास: रुको भाभी.

मैं: क्या हुआ?

विकास: निकलने वाला है.

मैं: मुँह में मत निकाल देना.

विकास: नहीं नहीं. अब आप हाथ से हिलाओ.

मैंने उसका लंड मुँह से निकाल के हाथ से हिलाना शुरू कर दिया। 2 मिनट में उसने सारा माल मेरे चेहरे और चूचो पर डिस्चार्ज कर दिया।

मैं: कोई कपड़ा दो अब साफ करने के लिए।

विकास: वाह पानी की टोंटी है. वाह साफ कर आओ.

मैंने अपना चेहरा और चूचे पानी से साफ़ कर लिया।

मैं चारपाई पर बैठ गई। अभी भी मैं टॉप लेस थी. वो मेरे पास आ कर मेरी गोद में लेट गया और मेरा दूध पीने लग गया। मैंने उसका लंड पकड़ लिया.

विकास: भाभी, दूध बहुत मीठा है आप का.

मैं: हां पता है मुझे.

विकास: आपको कैसे पता.

मैं: बस पता है.

विकास: भाभी, झूटी हो आप।

मैं: क्यों, मैंने क्या किया?

विकास: आप तो बोल रही थी कि लंड चुस्ती नहीं. अब तो आप ने एक दम प्रोफेशनल के जैसा चूसा।

मैं: मैंने ये कहा था कि पति का नहीं चुस्ती. Bf का तो चूसा ही है.

विकास(चूचे पर काटे हुए): अच्छा जी। बहुत चालाक बन रही हो.

10 मिनट में उसका लंड फिर खड़ा हो गया।

विकास: भाभी चलो जाओ.

मैं: यहीं पर?

विकास: हा.

मैं लेट गई. उसने मेरी पज़ामी का नाडा ओपन कर के निकाल दी। अब बस मैं पैंटी में लेटी हुई थी। उसने जैसे ही मेरी पैंटी खींचने की कोशिश की, मैंने अपनी पैंटी दोनों हाथ से पकड़ ली।

विकास: क्या हुआ?

मैं: कुछ नहीं. चूत मारोगे क्या?

विकास: नहीं मारवानी क्या?

मैं: पर ओपन में हाय?

विकास: अभी तब भी ओपन में कर रही थी. डरो मत कोई नहीं आता यहाँ।

मैंने अपनी पैंटी छोड़ दी. उसने साथ ही पैंटी निकाल के मुझे नंगी कर दिया। और मेरी चूत पर एक चुम्बन की।

विकास: भाभी, चूत साफ़ है आप की।

मैं: कल ही की थी तुम्हारे लिए.

विकास: अगर रात को भैया मार लेते तो?

मैं: ऐसे कैसे मार लेते. जिसके लिए क्लीन की है वही मारे गा।

विकास (मेरी चूत पर किस करते हुए): मैं तुमसे प्यार करता हूँ भाभी।

मैं : मैं भी तुमसे प्यार करती हूँ विकास. विकास एक बात मानोगे मेरी.

विकास: हा भाभी.

मैं: प्लीज चाटो मत. पहले चोद दो मेरी चूत को. बहुत दिनों से अच्छे से मारी नहीं किसी ने।

विकास(हंसते हुए): ठीक है भाभी

वो मेरे ऊपर आ गया. मेरे होठों पर मेरे गाल चूसे। फिर मेरा चूचा मुँह में ले लिया। लंड मेरी चूत के ऊपर रख दिया.

मैं: डालो भी जल्दी.

विकास(धक्का मारते हुए): डाल रहा हूं। चूत बहुत टाइट है आप की.

मैं: ज़ोर लगा ना थोडा.

विकास: नहीं जा रहा

मैं: रुको. मुझे ऊपर आने दो.

विकास: आ जाओ.

विकास आके लेट गया. मैने उसके लंड पर बैठ गयी. मैं उसके लंड थोड़ा एडजस्ट किया।

मैं: अब डालो

विकास ने मेरे दोनों चूचे पकड़ के ज़ोर से जटका मारा। उसका लंड मेरी चूत में घुसना शुरू हो गया और मेरी चीख निकल गयी।

उसकी मम्मी ने दरवाजा खोला। मुझे देख के बोली, “क्यों शोर मचा रही है। अगर नहीं लिया जाता तो क्यों चढ़ी हुई है ऊपर। आज कल लड़कियों को चुदना भी नहीं आता।”

विकास(मम्मी को): माँ तू बकवास मत कर और अंदर जा।

उसकी मम्मी ने फिर दरवाजा बंद कर लिया। विकास फिर मुझे चोदने लगा. 2-3 जक्तो में उसका पूरा लंड मेरी चूत में घुस गया। उसने पूरा ज़ोर लगा के मेरे चूचे पकड़ रखे थे। चूचो से लगातर दूध निकल रहा था। कुछ उसके मुँह में जा रहा था कुछ चेहरे पर।

मैं तेज़ तेज़ उसके लंड पर उछल रही थी। लगभग 15 मिनट में हम दोनों साथ में डिस्चार्ज हो गए। उसने मेरे चूचो से अपनी पकड़ खो दी। चुचे मेरे एक दम लाल हो गये थे. उसकी उंगलियों के निसान साफ साफ दिख रहे थे।

मैं थक गया उसके साइड में ही लेट गई।

विकास(लिप्स पर किस कर के): आई लव यू भाभी। मजा दे दिया आज तो आप ने।

मैं: धन्यवाद जी.

15 मिनट बाद उसने मेरे चूचे चूसनी शुरू कर दिए।

मैं: अब दोबारा चोदो गे क्या?

विकास: गांड नहीं दोगी क्या?

मैं: तुम्हारा इतना बड़ा है कि नहीं जाएगा अंदर।

विकास: करने की कोशिश करो ना.

मैं: कर लो.

उसने मुझे खड़ा कर के, चार पाई पर झुका के घोड़ी बना लिया।

विकास (मेरी गांड पर थप्पड़ मारते हुए): भाभी गांड भी मस्त मोटी हो रही है। भैया खूब चोदते होंगे आप की गांड को तो।

मैं: नहीं, उनको गांड मारने में कोई दिलचस्पी नहीं है

विकास (अपना लंड मेरी गांड के छेद पर रखता हूँ): तो आपने कहा से सीख ली गांड मारवानी।

मैं: सिखना क्या था. कॉलेज टाइम में BF ने बहुत मारी है।

विकास: अच्छा किया. नहीं तो अब मुझे मेहनत करनी पड़ती।

उसने धीरे-धीरे अपना लंड मेरी गांड में घुसा दिया। अब वो साथ-साथ मेरी गांड पर ज़ोर ज़ोर से थप्पड़ मार रहा था।

जैसा उसका लंड मेरी गांड फाड़ रहा था, मेरी चीखे निकल रही थी। उसकी मम्मी अंदर से चिल्ला कर बोली कि मार मत दियो इसको आज। 

आराम से चोद ले इस मैडम को. विकास ने उसको अनसुना कर दिया और पूरा लंड मेरी गांड में घुसा दिया।

मैं: आह!

विकास (गांड पर थप्पड़ मारते हुए): ठीक है ना आप की मोटी गांड, भाभी

मैं: ठीक कहा है. फड़ तो दी तूने.

विकास: अभी कहा फटी अभी तो फाड़ूंगा।

उसने अपना लंड मेरी गांड से बाहर निकाला और फिर एक झटके में पूरा अन्दर घुसा दिया। इतना तेज़ दर्द हुआ कि चीख भी नहीं रोक साकी। बस बेहोस होने ही वाली थी.

15 मिनट उसने ज़ोर ज़ोर से मेरी गांड की चुदाई की। फिर और हाय डिस्चार्ज कर दिया। मेरी गांड और चूचे एक दम लाल हो रखे थे।

मैं: देखो क्या हाल किया है तुमने मेरा।

विकास: मजा नहीं आया क्या आप को.

मैं: मजा तो बहुत आया. बहुत दिनों के बाद अच्छे से चुदवाया है.

मैं: ऐसा तो नहीं कि अब तुमको मेरी चूत मिल गई अब मुझे भूल जाओगे।

विकास (किस करते हुए): भाभी आप का तो दूध पिया है। आप को कैसे भूल जाउगा. अब से तो आप को रोज चोदा करुगा.

मैं: कपडे दो मेरे. अब जाना है मुझे.

विकास: एक बार और चूत दे दो.

मैं: नहीं, कल ले लेना अभी जाने दो।

विकास ने मेरे कपडे दे दिये. मैं कपडे दाल के घर आ गयी.

इस कहानी में यहीं तक मिलते हैं अगले किसी और चुदाई से भरी Free Hindi Sex Kahani में तब तक के लिए अपना ध्यान में रखें और पढ़ते रहे ReadXStories.Com धन्यवाद

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Dehradun Call Girls

This will close in 0 seconds