May 21, 2024
Dudh Wale se Chudai

हाय मेरा नाम प्रिया है, मैं दिल्ली महिपालपुर की रहने वाली हूँ। और मैं Hindi Sex Story लेकर आयी हूं।

वैसे तो मेरा फिगर 38-30-36 है पर ये Dudh Wale se Chudai की कहानी मेरी डिलीवरी के 6 महीने बाद की है।

डिलीवरी के बाद मेरे चूचे और मोटे हो गए। और उनमें बहुत सारा दूध भर गया था।

ब्रा सभी मुझे टाइट हो गई थी। और ज्यादातर मैं घर में बिना ब्रा के रहती थी।

डिलीवरी 6 महीने बाद भी मेरा चूचो में हमेशा दूध भरा रहता था। जो हमेशा ही लीक हो कर मेरी कुर्ती को गिला कर देता था।

कई बार तो कुर्ती से भी टपक जाता था। अगर हल्के रंग की कुर्ती डाली होती थी तो निपल भी दिखने लग जाता था।

तो चलिए अब Free Hindi Sex Kahani पे आते है।

हमारे घर दूध देने विकास नाम का लड़का आता था कोई 25 साल की उम्र होगी उसकी।

मुझे बहुत क्यूट लगता था वो। हम दोनो दोस्तो जैसे ही थे। वो भी मुझसे फ़्लर्ट करता था मैं बुरा नहीं मानती थी।

एक दिन मैं ज्यादा देर तक सोई रही। विकास ने दरवाजा खटखटाया तब मेरी नींद खुली।
मैं फटाफट किचन से दूध के लिए बर्तन ले कर आई और दरवाजा खोला।

विकास: क्या हुआ प्रिया भाभी, आज इतना टाइम क्यों लग गया?

मैं: कुछ नहीं, नींद नहीं खुली थी मेरी।

विकास: क्यों भैया ने सोने नहीं दिया क्या रात को?

मैं: चुप कर, कितना  बेशर्म हो गया है ना तू। एक तो दूध में इतना पानी मिक्स कर के देता है और फिर ऐसी बातें भी करता है।

विकास: माँ कसम भाभी, एक दम शुद्ध दूध आता है आपके घर।

मैं: चल झूठा कहीं का.

विकास: भाभी, वैसे आप को क्या दूध की ज़रूरत है।

मैं: क्या मतलब?

उसने मेरे चूचो की और इशारा किया। मेरी साड़ी कुर्ती मेरी दूध से भीगी हुई थी. जल्दी के चक्कर में मैंने ना तो कपडे बदले। और पूरी रात दूध लीक हुआ था।

मैं: ज्यादा नहीं बोल रहा.

विकास: ज़्यादा क्या भाभी. आप शुद्ध दूध के 2-2 टैंकर पास कर सकते हैं। मुझे लगता है हमारी भेस से ज्यादा दूध तो आप दे देती होगी।

मैं (हंसते हुए): यहा आ तुझे बताती हूं अभी। (उसका कान पकड़ के) अब बोल क्या बोल रहा है। थप्पड़ पड़े गा ना एक सारी बाते निकल जाए गी।

विकास: भाभी धीरे दर्द हो रहा है.

मैंने उसको कान पकड़ के थप्पड़ मारने के लिए अपनी तरफ खींचा। तोह उसने अपने होठों पर सिर्फ चूचे के निपल कर रख दिया।

मुझे उसके दांत और जब तक अपने निपल पर फील हो रही थी। ऐसा लग रहा था जैसे वो धीरे धीरे मेरे निपल को कुर्ती के ऊपर से चूस रहा हो।

मैं उसको रोकना चाह रही थी पर मुझे भी मजा आ रहा था। फिर मुझे याद आया कि हम दरवाजे पर ही खड़े हैं। मैंने उसको ढका दे कर पीछे किया।

विकास: क्या हुआ भाभी, मारा ही नहीं आप ने थप्पड़।

मैं: मुझे पता है क्या कर रहे हो तुम.

विकास: अच्छा? क्या कर रहा था मैं

मैं: अब ज्यादा मत बनो.

विकास: बन कहा रहा हूँ. आपका दूध है इतना मीठा.

मैं भी थोड़ी गरम हो रही थी। मैंने उसको घर के अंदर खींचा।

मैं (नकली गुस्से में): अंदर आ तुझे बताती हूं आज।

उसको अंदर खींचते ही मेरी पीठ दीवार से लग गई। वो गिरने ही वाला था कि उसके हाथ मेरे चूचो पर चले गए।
वो थोड़ा संभला पर उसके हाथ मेरे चूचो से नहीं हटे।

मुझे उसके हाथों का ग्रिप अपने चुचो पर महसूस हो रहा था। और उसकी वजह से मेरे चूचो से दूध निकलने लग गया।

विकास: भाभी आप के पास तो बहुत बड़े हैं.

मैं: हाँ क्या?

विकास: जिसने गाय का दूध निकाला है.

मैं: अच्छा चूचे?

विकास: थन बोल लो या चूचे, हमें तो दूध पीने से मतलब है।

मैं: अच्छा, तो पि ले.

मेरे ये बोलते ही उसने मेरी कुर्ती के ऊपर से लेफ्ट वाला चूचा चूसना शुरू कर दिया।

मेरे चूचे से निकलता हूं दुध मुझे महसूस हो रहा था। वो चपड़ चपड़ कर के मेरा दूध पिए जा रहा था।

फिर उसने कुर्ती अंदर हाथ डाल के मेरा राइट वाला चूचा पकड़ लिया। और दबाना शुरू कर दिया. मेरे दोनो चुचो से अब दूध निकल रहा था।

फिर उसने मेरी कुर्ती ऊपर कर के मेरा राइट वाला चूचा मुँह में ले लिया।

और उसको चूसने लग गया. मेरे चूचे बहुत संवेदनशील थे और उसके हाँथ मेरे चूचो के अंदर गड़े जा रहे थे।

उसकी जेब मेरे निपल के चारों ओर घेरे में घूम रही थी। उसका हर चुस्सा मेरे चुचो पर और ज़ोर से महसूस हो रहा था। वो 5 मिनट तक मेरे ठीक से चुचे को चूस रहा था

मैं: बस कर अब. मेरे बेटा भी है. उसके लिए भी छोड़ दे कुछ दूध।

विकास: भाभी, आप जैसी भैंस का दूध इतनी जल्दी ख़त्म नहीं होता।

मैं: तू मुझे भैंस बोल रहा है.

विकास: भैंस नहीं भैंस जैसी. आप जितना दूध दे रही उतना तो भैंस भी ना दे।

मेरी हांडी छूट गई. वो मेरा दूध पिता रहा. उसने 5 मिनट पिया होगा तभी मेरे बेटे के रोने की आवाज आ गई

मैं: बस अब. अब छोड़ो मुझे.

विकास: कल फिर पिलाओ गी

मैं (हंसते हुए): देखु गी.

मैंने अपनी कुर्ती ठीक की। वो जाने लगा तो मैंने उसको पकड़ के उसके होठों पर एक किस की।

मैं: अब जाओ. बता मत देना किसी को ये सब।

विकास: नहीं भाभी. माँ कसम किसी को नहीं बताउगा।

ये बोल के वो चला गया.

रात को उसने मुझे व्हाट्सएप पर एक फिल्म की क्लिप भेजी। कोई अंग्रेजी कॉमेडी फिल्म थी. जिसके मैं किरदार का अंकल उसके कमरे में लड़की भेजता है।

2 मिनट बाद जब चाचा दरवाजा खुला तो मैं किरदार ने उस लड़की को घोड़ी बनाया होगा। और उसके चुचो के आला बाल्टी रख के उसका दूध निकाल रहा है।

विकास का फ़िर मैसेज आया

विकास: भाभी कल ऐसे करें डॉगी स्टाइल में?

मैं: छी, ऐसा कुछ नहीं करना मुझे।

विकास : प्लीज़ ना भाभी.

मैं: कल की कल देखेगे.

अगले दिन जब विकास आया तो मेरे पति घर पर ही थे। और उन्होंने ही दरवाजा खुला।

मैं पीछे खड़ी हूं कर विकास का रिएक्शन देख रही थी। उसकी मुस्कान एक सेकंड में गायब हो गई।

मैं पीछे खड़ी अपने चूचो पर हाथ रख के उसको छेड़ रही थी।

रात को फिर उसका मैसेज आया. वो थोड़ा नाराज़ लग रहा था.

विकास : क्या भाभी. आज तो आपने सारा मूड खराब कर दिया। मैंने तो नाश्ता भी नहीं किया था.

मैं: मैं क्या करता अगर वो ऑफिस लेट हो गया तो।

विकास: आप बता तो देती मैं थोड़ी देर से आ जाता।

मैं: अच्छा अब नाराज़ मत हो. कल 10 बजे के बाद आ जाना.

विकास: नहीं, मुझे नहीं आना.

मैं : सॉरी बाबा. कल बात करेगे.

अगले दिन उसके आने से पहले ही मैं अपने चूचे दबा दबा के अपनी कुर्ती गीली कर ली। 10 बजे वो आ गया. बहुत नाराज़ लग रहा था.

विकास(बिना मेरी साइड देखे): भाभी दूध ले लो।

मैं: क्यों नाराज़ हो इतना?

विकास: आप दूध ले लो मुझे आगे जाना है।

मैंने उसका हाथ पकड़ के उसको घर के अंदर खींच लिया। मैंने उसके हाथ पकड़ के अपने चूचो के ऊपर रख दिये।

मैं: देखो तुमको पिलाने के लिए एक दम ताज़ा दूध दिया है मैंने।

विकास (मेरे चुचे दबाते हुए) नहीं मुझे नहीं पीना।

मैं: अच्छा रुको

मैं किचन में गई वहां से एक पतिला ले कर आई। विकास के हाथ पकड़ के कमरे में ले गई।

मैंने अपनी कुर्ती निकाल दी. बिस्तर पर घोड़ी बन गई और पतिला अपने चुचो के नीचे रख लिया।

मैं: तुमको ऐसे ही मेरा दूध निकालना था ना। लो निकाल लो. पर नाराज़ मत हो मुझसे प्लीज़।

मैं बहुत प्यार करती हूँ तुमसे।

विकास(मेरी कमर पर हाथ फेरते हुए): पक्का ना। निकाल लू ना आप का दूध.

मैं: हा, पर पहले आई लव यू बोलो.

विकास: प्रिया भाभी, मैं आपसे प्यार करता हूँ।

ये बोल के वो मेरे साइड में आ कर बैठ गया। उसने मेरे दोनो चूचे पकड़े और दबाने लग गया। मेरे चूचो से दूध की धार निकल रही थी।

विकास: भाभी आप तो बिल्कुल भैंस के जैसी दूध देती हो। आप के चुचो में कितना दूध भरा हुआ है ना।

मैं: हां, तेरे लिए कभी कमी नहीं होगी मेरे चूचो में दूध की। तुझे जितना पीना है पी ले, जितना निकालना है निकाल ले।

मैं अभी भी घोड़ी बनी हुई थी और वो मेरा दूध निकाल रहा था। लगभग आधा गिलास निकाल गया होगा।

विकास: आज के लिए इतना बहुत है.

मैं: पक्का ना. अब तो नाराज़ नहीं हो ना मुझसे.

विकास (सिर्फ होठों पर किस करते हुए): भाभी आप से कैसे नाराज हो सकता हूं मैं। भाभी एक गिलास ले कर आओ. आप का ये दूध पीना है.

मैं: ग्लास क्यो. डायरेक्ट चुचो में से पी लो.

ये बोल के मैंने उसका चेहरा अपने चूचो पर रख दिया।

विकास: मुझे आप की गोद में लेटने दो जैसे दूध पीना है।

वो मेरी गोद में लेट गया। और मेरा लेफ्ट वाला चूचा मुँह में ले कर चुसने लग गया। उसका लंड खड़ा हो गया था.

मैं: तुम्हारा तो खड़ा हो गया।

विकास ने मेरा हाथ पकड़ के उसके लंड पर रख दिया। मैं ऊपर से ही उसके लंड को हिलाने लग गयी. थोड़ी देर में वो खड़ा हुआ और मुझे बिस्तर पर लेटा के मेरे ऊपर लेट गया।

उसने मेरा राइट वाला चूचा हाथ में ले लिया।

विकास: भाभी अब तो आप मेरी जीएफ हो गई ना।

मैं (हंसते हुए): अभी भी डाउट है क्या तुमको?

विकास: फिर आपको जीएफ वाले सारे काम करने पड़ेंगे।

मैं: अच्छा, क्या करना पड़े गा?

विकास (मेरी चूत पर हाथ रख के): ये देनी पड़ी गी।

मैं: और?

विकास: मेरा लंड खाना पड़े गा.

मैं: अच्छा, और?

विकास: और भी बता दूँगा. आज चूत मार लू आप की?

मैं: सब आज ही कुछ करना है क्या?

विकास: हा.

ये बोल के उसने मेरी पजामी का नाडा खींच दिया। और हाथ अंदर डाल के मेरी चूत पकड़ लिया।

मैं: आह, आराम से.

तभी मेरे बेटे ने रोना शुरू कर दिया।

मैं (हंसते हुए): बस देर हो गई आज तो तुम।

विकास: प्लीज़ भाभी, मारने दो ना

मैं: अरे मार लेना. रोक नहीं रही पर आज नहीं।

मैंने उसको साइड किया. कपडे डाले. उसके होठों पर चुंबन कर के उसको जाने को बोला। अगले कुछ दिन कुछ नहीं हो पाया। एक दिन सुबह में उसका मैसेज आया.

विकास: हाय भाभी, आज मैं दूध देने नहीं आउ गा।

मैं: क्यों, अब बाजार से लाना पड़े गा।

विकास: मेरी थोड़ी तबीयत ठीक नहीं है.

मैं: ठीक है. मैं इंतजार कर रही थी कि आओ गे तो दूध पिला दूंगी।

विकास: भाभी, आज आप ही आ जाओ मेरी दुकान पर।

मैं: मैं कैसे आउ?

विकास: पास में ही तो है आप के घर के। रिक्शा ले कर आ जाओ.

मैं: नहीं, मैं कैसे आऊंगा।

Hindi Sex Kahani किसी लगी ज़रूर बताये और अगले भाग का इंतज़ार करे।

अगला भाग: Dudh Wale se Chudai 2

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Delhi Escorts

This will close in 0 seconds