May 21, 2024
Gym wali bhabhi ki bur chudai

सभी चूत चुदाई खिलाड़ियों को मेरा सलाम. मैं राहुल, 21 साल का जवान लड़का हूँ। मेरा लंड 6 इंच लम्बा है जो किसी भी चूत की गहराई तक जाकर अच्छे से नाप सकता है.
मेरे लंड को अक्सर अनुभवी औरतें बहुत पसंद आती हैं. चाहे भाभी हो, आंटी हो या आंटी, हर कोई लन्ड का खूब मज़ा देती है। जब भी मौका मिलता है मैं नई नवेली कलियों को भी चोद लेता हूँ.

मेरा अफेयर मेरे मोहल्ले में रहने वाली रिया आंटी से चल रहा था. मुझे उनका बहुत मजा आ रहा था. फिर एक दिन मैं आंटी को चोदने के लिए उनके घर गया, लेकिन वो अपने घर पर नहीं मिलीं. तभी सामने रहने वाली मोनिका भाभी ने मुझे अपने घर बुलाया.

फिर उस दिन मोनिका भाभी ने मेरा काम किया और अपनी सहेली यानि नीलम आंटी की चूत दिलवाई, जिसके बारे में मैंने पिछली कहानी में बताया था. फिर मैंने नीलम आंटी को बहुत अच्छे से रगड़ा.

अब अगले दिन मैं फिर से रिया आंटी को चोदने गया. लेकिन आज भी मौसी अपने मायके से नहीं लौटी थीं. मैं फिर से अपने लिंग की मालिश करने लगा. अब मैं मोनिका भाभी के घर आ गया.

मोनिका भाभी करीब 32 साल की हैं और बहुत सेक्सी और चिकनी हैं. वह ऊपर से लेकर नीचे तक रसमलाई जैसी है. भाभी का गठीला बदन, सेक्सी बदन और जोश भरी जवानी किसी को भी भरपूर मजा देने के लिए काफी है.

भाभी के स्तनों का आकार लगभग 32″ है. उसके स्तन एकदम टाइट और रसीले हैं. भाभी अपने स्तन अच्छे से रखती है. उनके ब्लाउज से उनके स्तनों की कसावट साफ झलक रही है.

भाभी का गोरा चिकना पेट बहुत सेक्सी है. भाभी की पेट के नीचे की हॉट सेक्सी कमर का साइज़ लगभग 32″ है. कमर के नीचे भाभी की सेक्सी गांड का आकार लगभग 34″ है. जब भाभी आसपास होती है तो उनकी गांड बहुत मटकती है. मैं कई बार भाभी की गांड को देख कर अपना लंड मसल देता था. भाभी घर पर अकेली थी. वह कपड़े धो रही थी.

“और रोहित, क्या तुमने अपनी तबीयत के बारे में सुना?”

“अब तुम्हें मेरी हालत का पता चल गया है भाभी. ये रिया आंटी कब आएंगी यार?”

“यार, इस बारे में तो मुझे भी कुछ नहीं पता. शायद वो किसी शादी में गई होगी. इसमें कम से कम चार-पांच दिन लगेंगे।”

“यार, तब तक समय कैसे काटूँगा?” समझ में नहीं आता।”

“हाँ यार, अभी तो इंतज़ार करना पड़ेगा।”

“अब और इंतज़ार नहीं हो रहा यार भाभी।”

भाभी मेरे सामने अपनी गांड करके बैठी थी. उनकी फूली हुई गांड देख कर मेरा लंड भाभी को चोदने के लिए मचलने लगा. अब मैं लंड की मालिश करने लगा.

“भाभी, कल तो आपने मेरा काम तमाम कर दिया था. अब आज भी कुछ इंतजाम कर लो।”

“अब यार, जुगाड़ तो हर दिन नहीं हो सकता. नीलम आंटी ने कल तुम्हें दिया था. हर कोई इसके लिए तैयार नहीं है. अब तो वो भी आज यहाँ नहीं हैं।”

“यार भाभी, कुछ करो।”

“यार, आज कुछ नहीं हो सकता।”

अब मुझे लगा कि भाभी ने तो कल ही मेरा लंड देख लिया है. चलो अब भाभी को चोदने के लिए मना लेते हैं. वैसे भाभी ने आज तक कुछ नहीं दिया था.

“भाभी, कोई नहीं होगा तो? आप वहाँ हैं।”

तभी भाभी अचानक चौंक गईं?

“मेरा मतलब है, तुम मेरे काम चला सकते हो?”

“नहीं, प्रिय। मैं इतना ही नहीं करता।”

“यार प्लीज़ भाभी. आज तुम मेरा काम करो. सिर्फ आज। कल मैं तुमसे यह नहीं लूँगा। वैसे भी कल तुम्हारी बारी थी, लेकिन तुमने बीच में ही आंटी को चोद दिया।”

“मैंने भले ही कुछ भी किया हो लेकिन मैंने तुम्हें चूत तो दी।”

“हाँ पर तुमने तो नहीं दिया ना?” वो तो भला हो आंटी का जिसने मेरे लंड की प्यास बुझा दी. अब आपकी बारी है। दो चूतें।”

“नहीं यार रोहित. मैं इस तरह से बात कर सकता हूं, चाहे कुछ भी हो. लेकिन मैं इसे किसी और से लेने के बारे में सोचता भी नहीं हूं।”

“तो आज ही सोच लो भाभी. मैं तुम्हारे साथ वैसे ही खेलूँगा जैसे कल नीलम चाची के साथ खेला था।”

“नहीं यार, मुझे नहीं करवाना।”

अब भाभी उठीं और कपड़े सुखाने लगीं. वह आधी गीली थी. अब मैं भाभी के सेक्सी फिगर को निहार रहा था.

“ओह भाभी, आपका फिगर तो बहुत अच्छा है. एकदम सेक्सी लुक. आपका फिगर किसी भी लंड में आग लगा सकता है।”

“तुम कुछ भी कहो, मुझे आज तुमसे प्यार नहीं होने वाला।”

“तुम सब कुछ खो दोगे।”

“अच्छा!” हाँ भाभी.

अब मैं भाभी के पास खड़ा हो गया और उनकी गांड को सहलाने लगा.

“रोहित यार, मुझे काम करने दो। भेजा मत खा।”

“मैं भी तुमसे काम करने को कह रहा हूँ लेकिन तुम बहुत नखरे कर रही हो भाभी।”

“अब जब ये मेरी चीज़ है तो नखरे तो दिखाऊंगा ही ना?”

“हां, बेशक नखरे दिखाती हो, लेकिन मुझ पर भी तो कुछ रहम करो भाभी।”

“मैं दया नहीं दिखा सकता।”

अब भाभी ने सारे कपड़े सुखा दिये थे. अब भाभी अंदर से कुछ और कपड़े लेकर आईं और फिर उन्हें भी धोने के लिए बैठ गईं. इधर मेरा लंड भाभी की चूत के लिए तड़प रहा था.

“भाभी, ये काम तो चलता रहेगा. आप पहले मेरा काम करो।”

“यार, मैं ये काम नहीं कर सकता।”

मैं भाभी को पटाने की बहुत कोशिश कर रहा था, लेकिन वो जानबूझ कर नखरे कर रही थी। अब मैंने भाभी का हाथ पकड़ा और अन्दर लाने लगा.

तभी भाभी मुस्कुराते हुए खड़ी हो गईं- रोहित यार, ये क्या कर रहे हो? क्या तुम पागल हो?”

“मैं तो वही कर रहा हूँ जो मुझे करना चाहिए भाभी।”

“यह ग़लत है रोहित. “उसी को ले जाओ जो मदद करता हो।”

“ऐसा तो सभी करते हैं भाभी. तुम अंदर जाओ।”

भाभी अन्दर जाने को तैयार नहीं थी. भाभी मुस्कुरा रही थी. मैं भाभी को अन्दर धकेल रहा था. मेरा हाथ उसकी गांड को सहला रहा था.

“तुम मुझे अंदर तो ले जा रहे हो लेकिन मैं तुम्हें चूमने के अलावा कुछ नहीं करने दूंगी।”

“हाँ, तुम इससे चुसवा सकती हो।”

फिर मैं भाभी को अन्दर कमरे में ले आया. अब। मैंने गेट बंद कर दिया. भाभी मेरे सामने खड़ी थी. फिर मैंने भाभी की कमर पर हाथ रखा और उनके रसीले होंठों पर हमला बोल दिया.

अब भाभी मेरा ख्याल रख रही थीं. मैं उसके रसीले होंठों को बुरी तरह चूस रहा था. अब मेरा हाथ भाभी की कमर से होता हुआ उनकी खूबसूरत गांड तक पहुंच गया था.

फिर भाभी मेरा हाथ अपनी गांड से हटाने की कोशिश करने लगीं. मैं भाभी की गांड को अच्छे से दबा रहा था. अब कमरे में चूमने की वजह से ज़ोर ज़ोर से आउच पुच पुच आउच की आवाज़ें आ रही थी.

तभी भाभी नीचे खिसक कर दीवार के सहारे टिक गईं. अब मैं भाभी के मम्मों को मसलने लगा. भाभी अपने स्तनों को बचाने की कोशिश करने लगीं.

इधर मेरा लंड भाभी की चूत को फाड़ने के लिए बुरी तरह से फड़फड़ा रहा था. मैं भाभी के होंठों को चूस रहा था. फिर मैंने भाभी के ब्लाउज के अन्दर हाथ डाल दिया और उनके मम्मों को अच्छे से दबाने लगा.

अब बेचारी भाभी अपने कबूतरों को कहाँ तक बचा पाती? मैं भाभी के कबूतर उड़ा रहा था. भाभी ने मेरा हाथ पकड़ा हुआ था. अब मैं अपना दूसरा हाथ उसके पेटीकोट में डालने लगा। भाभी मुझे पेटीकोट में हाथ नहीं डालने दे रही थी. लेकिन मेरा इरादा पक्का था. फिर मैंने अपना हाथ भाभी के पेटीकोट में डाल दिया. भाभी मेरा हाथ पकड़े रही.

अब मैं भाभी की चूत ढूंढने लगा. इधर मैं भाभी के होंठों को चूस रहा था और नीचे से भाभी की पैंटी के अंदर हाथ डालने की कोशिश कर रहा था.

आगे की कहानी आपको अगले भाग में पढ़ने को मिलेगी.

अगला भाग पढ़ें:- जिम वाली भाभी की बुर चुदाई -2

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Delhi Escorts

This will close in 0 seconds