May 21, 2024
Kamuk ladki ke sath car Me bur chudai

यह कहानी आप Readxxstories।com पर पढ़ रहे हैं नमस्कार दोस्तों, मेरा नाम राजीव है और आप सभी की तरह मैं भी Readxxstories।com का पाठक हूं।

आज की कहानी में पढ़ें: कामुक लड़की के साथ कार में बुर चुदाई की और वर्जिनिटी तोड़ दी

आज मैं आपके सामने अपने जीवन की एक सच्ची घटना लेकर उपस्थित हूँ। आशा है आप लोगों को यह पसंद आएगा।

दोस्तों ये पिछले साल की बात है। मैं अपनी कार से मनाली जा रहा था। मैंने अपने दोस्तों को मेरे साथ आने के लिए कहा था लेकिन वे व्यस्त थे और मुझे अकेले बाहर जाने का मन हुआ।

मनाली से करीब 100 किलोमीटर पहले मैं एक ढाबे पर रुका। वहां मैंने कुछ नाश्ता किया और फिर से जाने के लिए तैयार हो गया।

जैसे ही मैं कार में बैठने वाला था, किसी ने पीछे से आवाज़ दी। मैंने पलट कर देखा तो एक 23-24 साल की खूबसूरत लड़की टॉप और शॉर्ट्स पहने खड़ी थी।

वो लड़की बहुत अच्छे घर की लगती थी और उसका फिगर भी बहुत सेक्सी था। मैंने कहा- हाँ, मैं आपकी कैसे मदद कर सकता हूँ? वो बोली- क्या तुम भी मनाली जा रहे हो?

मैंने कहा- हां, लेकिन आपका भी मतलब? क्या आप भी मनाली जा रहे हैं? उसने कहा- हां, मैं दिल्ली से हूं और सोलो ट्रिप के लिए मनाली जा रही हूं। उन्होंने कहा कि उन्हें अकेले घूमना पसंद है

इसलिए मैं अपनी कार नहीं लाया। मैंने कहा- ठीक है। वो बोली- क्या आप मुझे मनाली तक छोड़ सकते हैं? मैंने कहा- हां बिल्कुल। अब वो मेरे साथ आगे की सीट पर बैठ गयी और मैं कार चलाने लगा।

वह बहुत चंचल लड़की थी। उन्होंने कहा- कोई गाना वगैरह बजा दो, अकेले क्यों बोर हो रहे हो। फिर मैंने एक इंग्लिश गाना बजाया। उन्होंने कहा- इस वक्त मेरा अंग्रेजी गाने सुनने का मूड नहीं है।

अगर आप बुरा न मानें तो क्या मैं कोई देसी गाना बजा सकता हूँ? मैंने कहा- हां बिल्कुल। ये कहते हुए उसने मेरी कार का ऑडियो जैक निकालकर अपने फोन में लगा दिया। अब उन्होंने हरियाणवी गाना ”तेरी आंख्यां का यो काजल, मन्ने करे से गोरी घायल” बजाया। मैं समझ गया कि वो पूरी मस्ती के मूड में है।

वह बैठे-बैठे थोड़ा डांस भी कर रही थीं। मुझे भी अच्छा लग रहा था। ऐसे ही मस्ती करते हुए हम दोनों मनाली पहुंच गये। वहाँ जाकर मैंने कहा- कहाँ रहोगी? वो बोली- मैंने कुछ नहीं सोचा है, शायद तुम्हारे बारे में।

मैंने कहा- लेकिन मैं आपके लिए अजनबी हूं। वो बोली- तो क्या हुआ, अब तो हम दोस्त बन गये हैं और वैसे भी मुझे मार्शल आर्ट आती है। मैंने कहा- ठीक है, लेकिन इसकी जरूरत नहीं पड़ेगी।

फिर हम दोनों गये और एक टेंट बुक किया। वह तंबू एक खुली जगह पर था। हम दोनों ने खाना खाया और कुछ देर खुले आसमान के नीचे टहलने के बाद साथ में लेट गये।

हम दोनों उस टेंट में जाकर लेट गये। अब मैं सोच रहा था कि अगर मैं खुद से कुछ शुरू करूंगा तो वो नाराज हो जाएंगी और शायद बुरा भी मानें।

इसलिए मैंने अपनी इच्छाओं पर काबू पा लिया। मैंने अपने आप को कम्बल से ढक लिया और सोने की कोशिश करने लगा। मैंने अभी झपकी ही ली थी कि अचानक मुझे अपनी छाती पर कुछ महसूस हुआ।

जब मैंने आँखें खोलीं तो देखा कि वो मुझसे चिपकी हुई थी और उसका सिर मेरी छाती पर था। पहले तो मैंने सोचा कि क्या करूँ लेकिन फिर मैंने उसे धीरे से अपनी बाँहों में ले लिया। उन्होंने आँखें खोलीं। मैं अंदर से थोड़ा डरा हुआ था।

वो बोली- मुझे अच्छा लगा कि इतने करीब होते हुए भी तुमने अपनी तरफ से कुछ नहीं किया। अब मुझे अनुमति है। मैंने कहा- ठीक है, तुम ना भी करो तो भी चलेगा। वो बोली- और अगर मैं कहूं कि मेरा भी मन करता है तो क्या होगा? मैंने कहा- ठीक है, अगर ऐसा है तो ठीक है।

अब मैं उसे चूमने लगा। वो भी मुझे जोर जोर से चूमने लगी। मुझे मजा आ रहा था। मैंने कभी इतनी हॉट लड़की को किस नहीं किया था। चूमते-चूमते मैं उसकी गर्दन पर चूमने लगा।

वो भी मेरी छाती को सहलाने लगी। मुझे अच्छा लग रहा था। अब मैं उसके मम्मों को हल्के-हल्के सहलाने लगा। वो बहुत धीरे-धीरे सिसकने लगी। अब मैंने उसे ठीक से लिटाया और उसके ऊपर आ गया। अब मैंने उसे फिर से जोर-जोर से चोदना शुरू कर दिया और उसके मम्मों को मसलने लगा।

उसकी सिसकारियाँ तेज़ होने लगीं। अब मैंने उसका टॉप ऊपर उठाया और उसकी ब्रा भी ऊपर कर दी। उसके मस्त चूचे मेरे सामने थे। मुझे यकीन ही नहीं हो रहा था कि मैं इतने हॉट स्तन वाली लड़की को चोदने जा रहा हूँ।

मैंने उसके बूब्स को बिना देर किया चुसना शुरू कर दिया । वो आह्ह ह हह ह हह ह ह्ह्ह हू उ ऊ ऊऊ ऊ उ उ उ उम् मम म मम्म म्मम्म मम मम्म म म अहह ह हह हह ह्ह्ह हह ह हह करने लगी

मैं बीच-बीच में उसे चूमता रहा। उसे मजा आने लगा। अब मैं उसके दूसरे दूध के निप्पल को चूसने लगा। वो आह्ह हह हह हह करने लगी।

अब मैं उसकी छोटी पैंट के ऊपर से उसकी चूत को सहलाने लगा। जब उसने मना नहीं किया तो मैं समझ गया कि पक्का ग्रीन सिग्नल है। अब मैंने उसकी बेल्ट खोली और उसकी छोटी पैंट नीचे खींच दी। उसने लाल रंग की पैंटी पहनी हुई थी। दोस्तों उसकी चूत से बहुत ही मनमोहक खुशबू आ रही थी।

मैं अपने आप पर काबू नहीं रख सका और मैंने उसकी पैंटी भी उतार दी। उसकी चूत देख कर तो मानो मैं अपने होश ही खो बैठा। गुलाबी, एकदम चिकनी गोरी चूत।।। जैसी मैंने हकीकत में कभी नहीं देखी थी। मैं अपने आप पर काबू नहीं रख सका और मैंने उसकी टाँगें फैला दीं और अपनी जीभ डाल दी। वह चिल्ला रही है।

मैं उसकी चूत को चाट रहा था और वो जोर जोर से मेरा सर पकड़ कर आह हह ह्ह्ह्हह हह उ ऊऊ उ ऊ उ ऊ ऊऊ ऊऊ उम् मम मम म म ओह हह ह हह हह ह हह ह हह हह ऊऊ उ ऊ उ उ उ ऊ ईई इ ई इ इ

ई इ इ इ ई इ इ कर रही थी । उसकी चूत का नमकीन स्वाद लाजवाब था ।

मैंने उसकी चूत चाटना जारी रखा। करीब 10 मिनट में वो झड़ गयी और उसकी चूत ने अपना रस छोड़ दिया। मैंने उसकी चूत के रस की एक बूंद भी नहीं छोड़ी और सारा पी गया।

अब मैं उसके ऊपर आ गया और उसे चूमने लगा। वह समझ गई कि अब उसकी बारी है। उसने मुझे लिटा दिया और मेरे कपड़े उतारने लगा। जब उसने अपने कपड़े उतारते समय मेरा बड़ा लंड देखा

तो वो खुश हो गयी और तुरंत उसे अपने हाथ में ले लिया और सहलाने लगी। उसके मखमली हाथों के स्पर्श से मेरा लिंग पूरे आकार में आ गया और सख्त तथा खड़ा हो गया। फिर वो मेरे लंड को चूमने लगी और मुँह में लेकर चूसने लगी।

मुझे मजा आने लगा। दोस्तो, उसका लंड चूसने का तरीका कमाल का था। मुझे लगा कि मैं झड़ने वाला हूँ इसलिए मैंने उसे बीच में ही रोक दिया। अब मैंने उससे मेरे लंड पर बैठने को कहा। वह सहमत।

मैं उसे लेता था और वो मेरे ऊपर आकर बैठ जाती थी। मैंने उसे कमर से पकड़ा और अपना लंड उसकी चूत पर रख दिया। अब वो धीरे-धीरे मेरा लंड अपनी चूत में लेने लगी। इसलिए उसे दर्द हो रहा था

बीच-बीच में मैंने उसे चूमा भी। जब लंड पूरा घुस गया तो वो हल्के से उछलने लगी। मुझे मजा आने लगा। मैंने अपने धक्के तेज़ कर दिए तो उसे दर्द ज़्यादा होने लगा लेकिन अब उसे मज़ा भी आ रहा था।

करीब आधे घंटे की चुदाई के बाद जब मैं झड़ने वाला था तो मैंने उसे एक तरफ धकेल दिया और अपना वीर्य ज़मीन पर छिड़क दिया। ये थी मेरी कहानी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Delhi Escorts

This will close in 0 seconds