May 14, 2024
जीजा जी ने अपना लंड चुसाया

हेलो, दोस्तों, मैं आपकी पिया, आज फिर आपको एक गे सेक्स स्टोरी सुनाने आई हूँ जिसका नाम "जीजा जी ने अपना लंड चुसाया शादी के दौरान" है।

हेलो, दोस्तों, मैं आपकी पिया, आज फिर आपको एक गे सेक्स स्टोरी सुनाने आई हूँ जिसका नाम “जीजा जी ने अपना लंड चुसाया शादी के दौरान” है आगे की स्टोरी उस लड़के की ज़ुबानी।

दोस्तों मैं तनु आपको अपनी गे सेक्स स्टोरी बता रहा हूं।
ये बात तब की है जब मेरे परिवार में एक शादी थी। शादी गांव में थी।

हम पूरे परिवार के साथ गांव के लिए निकल पड़े। हमारे साथ हमारे मौसेरे जीजू भी थे। शुरू में मेरा ऐसा कोई इरादा नहीं था, लेकिन बाद में सब कुछ होता रहा।

मैं आपको विस्तार से बताऊंगा कि क्या हुआ।

हम सभी गांव में होने वाली एक शादी में गए थे, तभी एक बड़ी समस्या सामने आई। दरअसल हम लोग वेस्टर्न स्टाइल के शौचालय के आदी थे और गांव में शौचालय नाम की कोई चीज ही नहीं थी।

वहां बस गली जैसी थी, सब वहीं पेशाब करते थे और शौच के लिए खेतों में जाना पड़ता था। जिस गांव के घर में हम ठहरे थे, उसकी छत से गली साफ दिखाई दे रही थी।

गर्मी के कारण मैं छत पर सोने चला गया। मैं सुबह 7 बजे उठा और छत से नीचे जाने के लिए उठा।

तभी छत पर खड़े होकर गाँव की खुली हवा का आनंद लेते हुए मैंने एक बार छत पर इधर-उधर देखा। छत के उस तरफ से जहां सड़क दिख रही थी, मेरी नजर वहां गई। मैंने देखा कि जीजा जी गली की ओर जा रहे थे।

मैंने सोचा कि वह पेशाब करने जा रहा होगा।

तभी मेरे दिमाग में आया कि जीजाजी को पेशाब करते हुए देखूं कि उनका लंड कितना बड़ा है।
मैंने झाँक कर जीजू के लंड को देखने की कोशिश करने लगा।

जीजू ने प्यार से अपना लंड निकाला और उसे सहलाने लगा।
उनका लंड बहुत बड़ा और मोटा था।

वो पेशाब करने की बजाय लंड पर हाथ फेर रहे थे और मुठ्ठी मार रहे थे।
कुछ देर बाद जीजू के लंड ने जूस फेंका।
अब उसने आंखें बंद कर लीं और गिरने का आनंद लेने लगा।

बाद में उसने लंड से पेशाब की धार निकाली। फिर अपने लंड को झटका देकर निचे में हिलाया, जीजा जी वापस जाने लगे.

उसी समय जब उसने अचानक ऊपर देखा तो उसने मुझे देखा।
वो समझ गया था कि मैं उसके लंड को देख रहा था।
जैसे ही उनकी नजरें मिलीं, मैं पीछे मुड़ा और तेजी से नीचे आ गया।

आज जीजू का मोटा लंड देखकर मुझे अजीब सी खुशी हुई।
यही खुशी दिन भर गुदगुदाती रही।

उस रात मैं सो भी नहीं सका। (जीजा जी ने अपना लंड चुसाया)

अगले दिन मैं सुबह जल्दी उठा और जीजू के दोबारा आने का इंतज़ार करने लगा।

जब दिन का उजाला हुआ, मैं जीजू के आने का इंतजार कर रहा था।
मैंने देखा कि जीजा जी गली की ओर जा रहे थे।

इस बार मैंने देखा कि जीजू ने अपना पूरा निचला पैर नीचे कर लिया।
शायद उसने मेरे लिए किया। उसका लम्बा लंड आज शुरू से सख्त था और हवा में हिल रहा था।

मुझे उसका तना हुआ लंड दिखाई दे रहा है। फिर उसने मेरी तरफ देखा।
लेकिन जीजू कुछ नहीं बोले, बस मेरी तरफ देखा, मेरे सामने अपना लंड हिलाया और चले गए।

आज मुझे कल से ज्यादा खुशी मिल रही थी।
सारा दिन जीजू के लंड को याद करके मेरे अंदर एक अजीब सी सनसनी सी मची रही। पूरे दिन मेरी गांड गुदगुदाती रही।

फिर मैं रोज की तरह रात को छत पर सोने चला गया।
उधर मैंने देखा कि आज जीजू जी छत पर खड़े थे।

उसे देखकर पहले तो मुझे डर लगा कि पता नहीं जीजू क्या कहेगा।
जीजू को देखकर मैं वापस नीचे जाने लगा तो जीजू ने मुझे बुलाकर ऊपर बुला लिया।

ऊपर जाकर देखा तो मेरे पलंग के बगल में एक और पलंग था।

मैंने उस बिस्तर को देखा और जीजू को प्रश्नवाचक निगाहों से देखा।

Escorts in Delhi

जीजाजी ने कहा- यह मेरा बिस्तर है। आज छत पर ही सोऊंगा।
मन में तो खुशी थी, लेकिन एक घबराहट भी थी।

जीजू फोन पर बात करने लगा और मैं छत पर चलने लगा।

तभी मैंने देखा कि जीजू अपना लंड मसल रहा था।
मैंने सोचा कि उनके पास शौचालय है। उसने फोन पर बात करना बंद कर दिया और मुझे देखने लगा।

मैं भी जीजू को देखने लगा।

उसने मुझसे कहा- मैं गली जा रहा हूं, देखना हो तो देख लो।
मैं क्या?

जीजू- वही तो है जो सुबह देख रहा था। (जीजा जी ने अपना लंड चुसाया)
मैं- गली में अब लाइट नहीं है, कुछ दिखाई नहीं देगा।

जीजाजी- फिर यहां दिखाऊं क्या?
मैंने कहा- कोई नहीं आना चाहिए।
जीजाजी तब जीने का दरवाजा बंद कर देते हैं।

जीजू की बात सुनने के बाद मैंने सिर हिलाया और दरवाजे की तरफ बढ़ गया।

मैंने दरवाज़ा बंद किया और पीछे मुड़कर देखा तो जीजू अपना लंड हिला रहा था।
मैं पास आया और उसका लंड देखने लगा।

जीजू ने कहा – कैसा लगा… हाथ लगाकर तो देखो!

मैंने जीजू की आँखों में वासना भरी देखी और अपना हाथ उनके लंड पर रख दिया।
एक पल तो लंड की गरमी और कड़ाही मेरे मन को गुदगुदी कर गई और अगले ही पल मैं लंड को हिलाने लगा।

मेरे को जीजाजी लंड को हिलाने में मज़ा आने लगा और कमर को आगे पीछे करते हुए वो लंड को और सहलाने के इशारे करने लगे।

मैंने लंड को कुछ और बार आगे-पीछे किया।
तो जीजू ने कहा- अभी हिलाओ मत… मुँह में ले लो।

मेरे ही मन में यही हो रहा था।
मैं घुटनों के बल बैठ गया और जीजू के लंड को अपने मुँह में ले लिया।

हॉट लड़कियां सस्ते रेट पर इन होटल्स पर बुक करें :

उसके लंड का खट्टा स्वाद मेरे मुँह में खुशी देने लगा। मेरी जीभ लंड को चूसने लगी।

जीजू की आंखें बंद थीं और उसने अपना हाथ मेरे सिर पर रखा और लंड चूसने का मजा लेने लगा।

मैंने 5 मिनट तक लंड को चूसा और निकाल कर जीजा को देखने लगा।

जीजू ने मुझे उठाया और अपने होठों को मेरे होठों पर रखकर किस करने लगा। मैने शुरू किया 

उसके होठों की गर्मी से उत्तेजित हो रहा है। (जीजा जी ने अपना लंड चुसाया)

जीजू ने धीरे से कहा- क्या अब तुम मेरे साथ सेक्स करोगे?
मैने हां कह दिया।

फिर जीजू ने अपने कपड़े उतारे और मुझे देखते हुए उतारने को कहने ही वाला था कि किसी ने दरवाज़ा बजाया।

हम दोनों डर गए। जीजू ने जल्दी से कपड़े पहने और मुझसे सोने में अभिनय करने को कहा।

मैंने भी यही किया। मैं अपने बिस्तर पर लेट गया और अपनी आँखें बंद कर लीं।

दरवाज़े पर मौसेरी बहन थी, मतलब जीजू की बीवी। हमारा सेक्स प्लान फ्लॉप हो गया।

दीदी छत पर आ गईं और मुझे सोता देख जीजा की गोद में समा गईं।

मेरी बहन ने सोचा कि मैं सो गया हूँ; उसने जीजा से कहा- चलो सेक्स कर लेते हैं।

जीजू की वापसी की पहल

यह पहले से ही गर्म था। उसे मेरी गांड की जगह अपनी बीवी की चूत चोदनी थी।

एक मिनट से भी कम समय में उसने दीदी के कपड़े उतार दिए और उसे कुतिया बनाकर चोदने लगा।
दीदी की कामोत्तेजक सिसकियाँ आने लगीं।

मुझे उन दोनों की सेक्स से भरी आवाजें सुनाई दे रही थीं, जिससे मेरी गांड में कीड़ा दौड़ रहा था।

जीजू काफी देर तक मेरी बहन को चोदता रहा। फिर दोनों एक ही बिस्तर पर सो गए।

मैं उन दोनों की चुदाई के कारण पूरी रात सो नहीं पाया।

सुबह बारात जाने वाली थी और दिन में ही शादी संपन्न होने वाली थी।
मैंने सोचा कि इस बार मैं जीजू के साथ सेक्स नहीं कर पाऊंगा।

कुछ देर बाद बारात रवाना हुई।
मैंने जीजू को देखा, वो काफी हॉट लग रहे थे। उसने सफेद पैंट और नीली शर्ट पहन रखी थी। सफेद पैंट कुछ पारदर्शी थी। उनका ब्लैक अंडरवियर साफ नजर आ रहा था।
उसका सूजा हुआ लंड देखकर मैं पागल हो गया।

तभी जीजाजी मेरे पास आए और बोले- मेरे साथ गाड़ी में बैठो।
मैंने कहा- दीदी कहां बैठेगी?
उन्होंने कहा कि वह अपने महिला समूह के साथ जाएंगी।

मैं यह सुनकर खुश हुआ और हां कह दिया। उसके बाद जब बारात निकली तो मैं और मेरे जीजा गाड़ी के पास आ गए और अंदर बैठ गए।
जीजू ड्राइविंग सीट पर थे और मैं उनके बगल में बैठ गया। मैं काफी उत्साहित हूँ।

जीजू ने मुस्कराते हुए कहा – चल बेटा !
मैं भी मुस्कुराया।

तभी एक अंकल आए और बोले- मुझे भी गाड़ी में बैठना है।
वह भी शादी में आया था।

जीजू उसे मना नहीं सका और उसे कार में बैठा लिया।

मुझे अंकल पर बहुत गुस्सा आया, फिर से प्लान फ्लॉप हो गया था।

फिर हम दोनों शादी वाले घर पहुंचे। चारों तरफ टेंट लगे हुए थे। शादी होने लगी, हम दोनों को एकांत बिल्कुल नहीं मिल रहा था। (जीजा जी ने अपना लंड चुसाया)

फिर जब खाने का समय हुआ तो मैं और मेरे जीजू एक साथ बैठे।
हमने साथ में खाना खाया।

जीजू ने कहा – तुम बहुत हॉट हो यार, तुमने मेरा लंड देख लिया, तुम्हें कैसा लगा?
मैंने कहा कि ठीक से देखा नहीं।
जीजू ने कहा- ठीक है मतलब अंदर नहीं देखा।

Escorts in Dwarka

मैं उसकी बातों पर मुस्कुराया।

उसने कहा- ठीक है, मैं तुम्हें अच्छे से दिखाऊंगा।
मैंने कहा- जब… तुम्हें आज शाम को वापस जाना है।
उसने कहा- चिंता मत करो… मैं दिखाता हूं।

कुछ देर बाद बारात के लौटने का समय हुआ; उसने मुझे कार के पास आने का इशारा किया।
मेरा दिल जोर-जोर से धड़कने लगा।

मैं गाड़ी के पास गया तो जीजू ने कहा कि गाड़ी में बैठ जाओ।
मैं कार की पिछली सीट पर बैठ गया। जीजू ने इधर-उधर देखा और अंदर आ गया।

जीजू ने कार का गेट लॉक किया और कहा- लिप किस करोगे?
मैं डर गया।

जीजू ने कहा- कोई मजबूरी नहीं है, तुम चाहो तो होठों को चूम सकते हो।
मैने हां कह दिया।

जीजू मेरे पास आया। उसने अपने होठों से मेरे होठों को चूमा और मुझे 5 मिनट तक किस किया।

अब उसने कहा- पैंट उतार दो… तुम्हें लंड देखना है ना?
मैने हां कह दिया।

उसने कहा- ठीक है, इस बार तुम इसे अपने हाथ से हटा लो।

फिर मैंने जीजू की बेल्ट खोली और लंड को छुआ। मैं उसके लंड की सूजन को महसूस कर सकता था।

मैंने पैंट का हुक और जिप खोली। वह थोड़ा उठा तो मैंने पैंट नीचे कर ली।
फिर मैंने लंड को अंडरवियर के ऊपर दबा दिया। जीजू ने फिर होठों को चूमा और कहा- देख!

मैंने अंडरवियर नीचे सरका दिया और लंड को देखकर पागल हो गया। मैंने लंड को हाथ में लिया और ऊपर नीचे करने लगा। कुछ मिनट के लिए मैंने लंड को ऊपर-नीचे किया।

तब जीजाजी ने कहा- लो मुह में ले लो!

मैं धीरे से नीचे गया और लंड को चूम लिया।
आज लंड से अजीब सी महक आ रही थी तो मैंने उसे कपड़े से साफ कर दिया। फिर लंड की चमड़ी नीचे की और जीजू के लंड की गुलाबी टोपी निकाली। मैंने सुपारे पर अपनी जीभ लगाई और लंड को अपने मुँह में ले लिया।

तभी ढोल-नगाड़े की आवाज आने लगी। (जीजा जी ने अपना लंड चुसाया)
अचानक आई इस आवाज से हम दोनों डर गए।

जीजू ने अपनी पैंट पेहेन ली और हम दोनों कार से बाहर आ गए।

अब विदाई हो रही थी, लेकिन मुझे दुख हो रहा था कि जीजू का लंड ठीक से नहीं चूस पा रहा था। वहां से हम दोनों वापस घर आ गए।

इस बार हमारी पूरी कार परिवार के सदस्यों से भरी हुई थी। बारात वापस गाँव आ गई और सब लोग खाना खाकर सोने चले गए।

हम सब सुबह वापस जाने वाले थे। मुझे बुरा लग रहा था कि मैं जीजू के साथ कुछ नहीं कर सकता।

सुबह जब सब वापस जाने की तैयारी कर रहे थे तो जीजाजी आए और मुझे अपना व्हाट्सएप नंबर दिया और कहा- वीडियो कॉल पर बात करेंगे।

मैं फिर से खुश हो गया और जीजू को धन्यवाद कहा।

जीजू ने कहा मुझे एक किस कर दो।

हम दोनों लोगों की नजरों से बचते हुए कमरे में दाखिल हुए और हमने एक लंबा लिप किस किया।

हम सब वापस शहर आ गए। मैंने जीजू का नंबर सेव कर लिया था और उसके साथ व्हाट्सअप पर चैट करने लगा था। 

आपको मेरी जीजा जी ने अपना लंड चुसाया शादी के दौरान गे सेक्स कहानी किसी लगी।

यदि आप ऐसी और कहानियाँ पढ़ना चाहते हैं तो आप “Readxstories.com” पर पढ़ सकते हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Delhi Escorts

This will close in 0 seconds