April 16, 2024
jiju ne ki bur chudai

नमस्ते, मेरा नाम नूर खान है। मैं मेरठ की रहने वाली हूं। आज ये जो जीजू ने की बुर चुदाई की कहानी मैं शेयर कर रही हूं, ये मेरे साथ रियल में हुआ केस है। मेरी उम्र 26 साल है, और ये कहानी पिछले साल की है।

मेरे परिवार में एक बड़ी बहन, एक छोटा भाई और मम्मी-पापा हैं। बड़ी बहन की शादी हापुड में हुई थी 3 साल पहले। लेकिन मेरी दीदी और जीजू गाजियाबाद में रहते थे। मेरे जीजू एक सॉफ्टवेयर कंपनी में काम करते थे। पिछले साल लॉकडाउन के समय पर दीदी की गर्भावस्था का आखिरी महीना ही बचा था, और जीजू लॉकडाउन की वजह से घर से ही काम कर रहे थे।

दीदी की ऐसी हालत में जीजू को खाने वगैरा की बहुत समस्या हो रही थी। तो मम्मी ने मुझे जीजू के यहां दीदी की देखभाल और जीजू के सपोर्ट के लिए भेज दिया। मैं वहा पहुंच कर काफी खुश थी। जीजू के फ्लैट पर सारी सुविधा थी, एसी वैगैरा सब। मैंने सोचा कि मेरी गर्मी बहुत बढ़िया निकलेगी।

लेकिन मुख्य शुरुआत के 5 दिन में ही अपने जीजू की नज़र मुझ पर टिकती हुई देखने लगी। जब भी मैं घर के काम-काज करती, तो वो लैपटॉप की साइड से मुझे निहारते।

मैं रंग की बहुत मेला हूँ। मेरा फिगर 34-28-34 का था, और लम्बी 5’6″। मुझे कुर्ती के साथ जींस या लेगिंग्स पहनने का शौक है, ज्यादातार यहीं पहनती हूं। लेकिन गरमी में लेगिंग्स ही ज्यादा पहनती थी। जीजू की नजर मेरी गांड और जांघों पर ज्यादा रहती थी, और स्तनों को भी निहारने का कोई मौका वो नहीं छोड़ते।

लेकिन मैंने कभी कुछ बोला नहीं। सच कहूं तो शुरुआत में 1 या 2 दिन के बाद मैं बोर होने लगी थी। लेकिन जीजू के इस व्यवहार का मज़ा मैं भी लेती थी। जब भी मैं देखती थी कि जीजू की नज़र थी मुझ पर, तो थोड़ा एक्स्ट्रा क्लीवेज कर लेती थी, या कुर्ती को अपनी जांघों से हटा देती थी के मैं भी उनको गरम करने लगती थी।

जीजू ने ये भाप लिया था. मुझे ये सब करके मजा आने लगा। कभी-कभार शादियों में भी जाती थी, तो जब कोई अंकल या बड़ी उम्र का आदमी मुझे हसरत से देखता था, मैं भी उसकी चिंगारी को आग दिया करती थी। वही खेल मैंने जीजू के साथ शुरू किया।

मुझे पता नहीं चला कि मैं कब इस खेल में इतना बस गई थी, कि मैं भूल गई थी वो मेरी दीदी के पति थे। जीजू भी अब मुझसे खुल कर हंसी-मज़ाक करते हैं, और जब भी मौका लगता है तो कमर या जगह भी टच करने की कोशिश करने लगते हैं। मैं उनकी आग को हवा देने लगी थी।

एक दिन रात के 9:30 बजे लाइट चली गई, जो कभी-कभी जाती थी। मैं दूसरे कमरे में थी. डिनर के बाद मैं अपने कमरे में थी, और जीजू दीदी अपने। फिर जीजू बहार आये.

जीजू: अरे लाइट कैसे चली गई? नूर खान का फ़ोन है तुम्हारे पास? किसी चीज़ में हाथ-पैर मार कर चोट नहीं खा लेना।

ये बोलते-बोलते जीजू मेरे कमरे में आये, और मुख्य बिस्तर पर बैठी थी। फिर उनके पीछे से मेरे स्तनों को अपनी बड़ी-बड़ी हथेलियों में दबा लिया और मसलने लगे।

मैं फुसफुसाती हुई बोली: उफफफ जीजू, ये क्या कर रहे हो?

इतने में जीजू ने मेरे होंठ अपने मुँह में भरे, और मेरे बेचारे स्तनों को मसल दिया। मैं कर भी नहीं पाई, और झपट कर खड़ी हो गई बिस्तर से। जीजू ने मेरे होंठ आज़ाद किये, और स्तनों को भी छोड़ दिया और कान में बोले-

जीजू: नूर खान अपनी दीदी को मत बोलना.

ये कह के वो हॉल में जा कर लाइट वालो को फोन मिलाने लगे। मैं धाम से बिस्तर पर बैठ गई। मेरे पूरे शरीर में करंट दौड़ गया। मैंने मन ही मन सोचा ये क्या हो गया। ये आग तो ज़्यादा तेज़ हो गई। इतने में जीजू की आवाज़ आई।

जीजू: अरे नूर खान यार ये तो प्रॉब्लम हो गई। कोई गलती हुई है. रात भर के लिए लाइट गायब हो गई है।

फिर वो मेरे कमरे के साइड आए, और तेज़ आवाज़ में ही बोले: नूर खान आज तो गर्मी में ही सोना पड़ेगा तुमको।

और बोलते-बोलते पहले उन्हें अपने होठों पर रख कर चुनना शुरू करें। फिर एक हाथ से मेरी गांड को दबते हुए दूसरे हाथ से मेरी कमर से मुझे पूरा खुद में दबा दिया। मेरे स्तन फूलने लगे, और निपल्स सख्त होने लगे। मेरी पूरी बॉडी कांप रही थी.

जीजू ने मेरे होठों को चूसना छोड़ कर गांड को और तेज़ दबाया, और मेरे कान में बोले-

जीजू: नूर खान ने कब से बेताब कर दिया था तुमने.

और मेरी गांड को छोड़ कर वापस अपने कमरे में चले गये। कुछ गर्मी से और कुछ इस कांड से मैं पूरी पसीने में भीग गई। पहली बार किसी ने मुझे टच किया था, वो भी एक पूरे मर्द ने। जीजू की उम्र 35 साल ऊपर थी, और ऊंचाई 6 फीट थी। बहुत भारी टाइप का वो.

मैं चुप-चाप बैठ गई बिस्तर पर, और मुझे पसीना आने लगे। इतने में जीजू ने आवाज़ लगाई-

जीजू: नूर खान, इधर आना.

मैं घबरा गई और उनके कमरे में पहुंच गई। बस फ़ोन की लाइट जल रही थी, और जीजू दीदी के पास बैठे थे।

मैं: हा जीजू, बोलिये.

जीजू: अरे लाइट तो है ना. अब क्या करे (जल्दबाजी बोले)?

मैं: मैं क्या बताउ जीजू? (मैंने सकापकाई हुई आवाज में जवाब दिया)

शालिनी: तू जा कर सोजा, इनका तो बस यहीं है। अब नहीं है तो क्या करे लाइट? कभी-कभी होती है ये समस्या (दीदी खिसियायी हुई आवाज में बोली)।

जीजू: अरे अब साली साहिबा आई है, तो यहीं कांड होंगे. लेकिन ऐसी गर्मी में भी तो नहीं सुला सकता इनको (जीजू ने हस्स कर बोला)।

शालिनी: तो करो फिर जो करना है। मैं थक गई हूं, मुझे सोने दो।

दीदी सोने जेन लगी तो जीजू ने बोला: अपनी दवाइयां तो लेलो।

और बोल कर फोन की लाइट से अलमारी से दवाइयाँ निकाल कर दीदी को दी और बोले-

जीजू: नूर खान अपनी दीदी को पानी ला कर देना।

शालिनी: इतनी दवाइ?

जीजू: अरे मल्टीविटामिन भी है.

ये बोल कर दीदी को दवाई दी, और बोले: नूर खान तुम भी जा कर आराम करो।

मैं वापस कमरे में आई और लेट गई। गर्मी और पसीने से हाल बुरा हो रखा था। लेते-लेते 12 बज गए. तभी जीजू ने अपने कमरे से मेरे कमरे में आ कर दरवाजा लगा दिया। मैं डरता हूं धीमी आवाज में बोली-

मैं: जीजू दीदी जाग जायेगी. आप पागल हो क्या?

कहते हुए मैं बिस्तर के पास खड़ी हो गई। जीजू ने मुझे आ कर भगवान में उठा लिया, और मेरी कमर सहलते हुए धीमे से मेरे कान में बोले-

जीजू: कुछ नहीं होगा, लेकिन अगर तुमने अपनी दीदी को शोर करके उठा दिया, तब बहुत कुछ होगा।

मैं चुप हो गयी. जीजू मेरी पसीने में भीगी बगीचे को चूमते हुए और सूंघते हुए बोले-

जीजू: नूर खान कोन सा परफ्यूम लगाती हो? गुलाब की तरह हो भी, और महक भी गुलाब जैसी है।

मैं जैसे ही कुछ बोलने को हुई, जीजू ने वापस मेरे होंठ चुनना शुरू कर दिया, और मुझे बिस्तर पर लिटा कर मेरे ऊपर चढ़ गए।

आगे की कहानी आपको अगले भाग में पढ़ने को मिलेगी। अगर आपको जीजू ने की बुर चुदाई की कहानी अच्छी लगे, तो इसको दोस्तों के साथ भी शेयर करें।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Surat Call Girls

This will close in 0 seconds