July 9, 2024
Kamuk Chachi ki Malish

नमस्कार दोस्तों, मेरा नाम रोहुल कुमार है। मैं Delhi से हूं. ये मेरी कामुक चाची की मालिश करके उनकी बुर की हवस की कहानी है. मेरी उम्र 22 साल है. हमारे पापा के बहुत सारे दोस्त हैं, उनमें से हमारे एक खास दोस्त हैं जिन्हें हम प्यार से चाचा कहते हैं।

वह कुछ वर्षों से हमारे साथ रह रहा था। अब चाचा भी जवान हो गये थे तो उन्होंने शादी करने की सोची। चाचा की शादी माँ की इच्छानुसार हो गयी और हमारी चाची गाँव से दिल्ली आ गयीं।

चाची दिखने में बहुत सुंदर थीं और उनके स्तन भी बहुत आकर्षक थे.

चाची ज्यादातर लाल रंग के कपड़े पहनती थीं जिससे उनका लुक और भी अच्छा लगता था. शुरू शुरू में चाची घर से बाहर नहीं निकलती थीं और सारा दिन मुझसे बातें करती रहती थीं।

मुझे भी चाची से बात करने में बहुत मजा आता था और वो भी मुझसे प्यार से बात करती थी. एक दिन जब चाची और मैं बात कर रहे थे और उस दिन भी चाची ने लाल रंग का सूट पहना हुआ था।

चाची का सूट बहुत ज्यादा खुला हुआ था और उनके चूचों की लाइन साफ़ दिख रही थी. मेरी नजरें उनके स्तनों पर ही अटकी हुई थीं और हस्ती चाची के रूप में उनके मुलायम स्तन उछल-कूद कर मुझे अपनी ओर आमंत्रित कर रहे थे।

ये बात शायद चाची को भी पता चल गयी थी. चाची ने मुझे बताया कि पता नहीं क्यों कुछ दिनों से उनके शरीर में बहुत दर्द हो रहा था. मैंने चाची से कहा कि शायद ये दिल्ली के पानी का असर है जो आपको सूट नहीं कर रहा है.

चाची मेरी तरफ देखकर हंस पड़ीं और बोलीं कि ये पानी का नहीं बल्कि किसी और चीज़ का असर है. मैं चाची की बात समझ कर हंसने लगा और बोला- आ, मैं तेरा दर्द फिर से दूर कर देता हूं.

चाची ने मेरी बात को सच मान लिया और मुझसे कहा कि आज तुम मेरी मालिश करो ताकि मुझे कुछ राहत मिल सके. अब चाची की जवानी देख कर मैं भी उन्हें खुश नहीं कर सका और उनके प्रस्ताव पर सहमत हो गया.

अब मैंने तेल लिया और चाची के पास बैठ गया. चाची का पूरा शरीर उनके सूट से ढका हुआ था और मालिश के लिए कोई जगह नहीं थी। चाची ने मुझे कुछ देर रुकने को कहा और अंकल की एक टी-शर्ट पहन कर आ गईं.

अब चाची ने अपनी टी-शर्ट को थोड़ा ऊपर उठाया और मुझसे अपनी पीठ की मालिश करने को कहा. मैंने हाथ में तेल लिया और चाची की पीठ पर मालिश करने लगा. चाची की पीठ बहुत मुलायम और मुलायम थी जिस पर मैं अपना हाथ घुमा रहा था।

अब चाची की पीठ की मालिश करते करते मेरा हाथ उनके पेट पर भी चल रहा था जिससे चाची भी थोड़ी कामुक होने लगी थीं. लेकिन अब चाची ने मुझे रोका और पीठ के बल लेट कर मालिश करने को कहा. मैंने हाथ में थोड़ा सा तेल लिया और उसके पेट पर लगा दिया.

तभी चाची ने मुझे रोका और कहा कि मुझे उनके पेट की नहीं बल्कि छाती की मालिश करनी है. यह सुन कर मैं चौंक गया लेकिन मैंने चाची को इस बारे में पता नहीं चलने दिया. अब मैंने अपना हाथ चाची के चूचों की तरफ बढ़ाया.

चाची ने टी-शर्ट के अन्दर कुछ भी नहीं पहना हुआ था और उनके दोनों नितम्ब पूरे नंगे थे। मैंने उसके दोनों स्तनों को अपने हाथों से पकड़ लिया और उन्हें मसलते हुए दबाने लगा।

कुछ ही देर में चाची पूरी तरह से वासना से भर गईं और बिस्तर पर लेट कर कराहने लगीं. मैं भी चाची के निपल्स को अपनी उंगलियों से दबा रहा था और उनके दोनों मम्मों को जोर जोर से दबा रहा था.

मैंने चाची की चूत पर तेल लगाया और अपना लंड डाल दिया. चाची सेक्स स्टोरी

अब चाची ने अचानक मेरी तरफ देखा और मुझे अपनी ओर खींचते हुए मुझे चूमने लगीं. हम दोनों एक दूसरे के होंठों को चूसने लगे. चाची के होंठ भी उनके जैसे ही मुलायम और मीठे थे और मैं काफी देर तक उनसे चिपकता रहा।

मैं भी चाची के साथ लेट कर उन्हें किस कर रहा था और अब चाची ने मेरा हाथ पकड़ कर अपने पजामे के अन्दर डाल कर अपनी चूत पर रख दिया। मेरे हाथ में अभी भी तेल था तो मैं चाची की चूत को मसलने लगा.

मैंने अपनी एक उंगली चाची की चूत में डाल दी और अन्दर-बाहर करने लगा और चाची लम्बी-लम्बी साँसें लेते हुए मुझे चूमने लगी। अब मैंने चाची का पजामा पूरा उतार कर दूर फेंक दिया और उनकी चूत को देखने लगा.

चाची की चूत एकदम चिकनी थी और उस पर एक भी बाल नहीं था. चाची का शरीर पूरी तरह से वासना से भर गया था और अब मैंने अपना लंड पैंट से बाहर निकाला और चाची की चिकनी चूत पर रख दिया।

मेरे हाथ के तेल से चाची की चूत पूरी गीली हो गयी थी. जैसे ही मैंने अपना लंड थोड़ा सा जोर लगाकर चाची की चूत में डाला तो वो फिसल गया और एक ही झटके में चाची की चूत को फाड़ता हुआ अंदर घुस गया।

चाची एकदम से चिल्ला उठीं लेकिन उन्हें मजा भी आया. अब मैं जोर जोर से चाची की चूत को चोदने लगा. चाची आहे हुई बिस्तर को नोच रही थी और मैं जोर जोर से उनकी चूत को चोद रहा था.

चाची की चूत एकदम चिकनी हो गई थी और मेरे लंड की स्पीड के कारण उनकी चूत से पानी निकलने लगा था. अब मैंने चाची को कुतिया बनने को कहा और चाची एक ही बार में एक चुदासी रंडी की तरह कुतिया बन गईं.

मैंने अपना लंड वापस चाची की चूत में पीछे से डाल दिया और उनको चोदने लगा. अब चाची को चोदे हुए काफी समय हो गया था और मेरा लंड भी झड़ने वाला था. मैंने ये बात चाची को बताई तो उन्होंने मुझे वीर्य उनकी चूत में डालने को कहा.

कुछ देर तक चाची की चूत चोदते हुए मैंने अपनी स्पीड बढ़ा दी और अचानक मेरे लंड ने सारा वीर्य चाची की चूत में छोड़ दिया.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Delhi Escort

This will close in 0 seconds