May 21, 2024
Virgin Girlfriend Ki Naram Choot

वर्जिन गर्लफ्रेंड की नरम चूत की चुदाई की कहानी : मैं अर्श हूं, मेरी उम्र 25 साल है, मेरी गर्लफ्रेंड का नाम सोनिया है, वह बहुत खूबसूरत है, शरीर का आकार एकदम सही है, वह मुझसे कुछ दूरी पर रहती है।

वह और उसके माता-पिता उसके घर पर रहते हैं और हम अक्सर सेक्स करते थे, कभी उसके घर पर तो कभी होटल में।

कभी-कभी हम किसी इंटरनेट कैफे में जाते थे और अपने सीने को चूमते थे, एक बार हमने कहीं घूमने का प्लान बनाया तो हम आगरा गए, वहां एक होटल में कमरा लिया और फिर हम यात्रा पर निकल गए।

शाम को वापस आये और गेट पर ताला लगते ही हम एक कोने में खड़े हो गये और हमें पता ही नहीं चला और लोग कपड़े उतारने लगे. चूमते-चूमते मैंने उसके शरीर के अंग को चूम लिया। मैंने उसके स्तनों को धीरे-धीरे चूसा और फिर उसकी चूत के अंदर आ गया, और उसकी चूत और छाती में काफी देर तक लंड चला, वो पहले ही एक बार झड़ चुकी थी,

मैंने उसे इसे लगाने का इशारा किया तो उसने भी कहा कि मुझे दे दो, मैंने अपने लिंग पर थोड़ा सा थूक लगाया और उसकी चूत पहले से ही गीली हो रही थी, मैंने अपने लिंग का सिर उसकी चूत पर सेट किया और हल्के से रगड़ा।

मैंने धक्का दिया तो मेरा लंड फिसल गया, फिर उसने अपने हाथ से मेरा लंड पकड़ लिया और मुझे धक्का लगाने को कहा, मेरे लंड का टोपा उसकी चूत में घुस गया और वो सिहर उठी.

मैं उसे चूमने लगा और उसका सिर सहलाने लगा.

फिर मैंने धीरे-धीरे लिंग को अंदर सरकाना शुरू किया, मेरे हर धक्के के साथ वो आह्ह आह्ह कर रही थी, कुछ देर बाद वो मेरे ऊपर आ गयी और बहुत मजा लेने लगी और आआह्ह आआह्ह कराहने लगी और हम दोनों सेक्स करते करते सो गये। रात को जब मेरी दोबारा आंख खुली तो मैंने देखा कि वो बेसुध होकर सो रही थी.

फिर उसका फिगर देखकर मेरे लंड में तनाव आने लगा, मैंने उसे किस करना शुरू कर दिया, फिर वो भी जाग गई और मेरा साथ देने लगी, जल्द ही हम दोनों सेक्स के लिए पूरी तरह से तैयार थे.

मैंने अपना लंड उसकी चूत पर रखा और धक्का दिया, लंड सरसराता हुआ उसकी चूत में घुस गया और वो सिसकियाँ लेने लगी और कहने लगी- धीरे-धीरे करो, फिर मैंने उसे डॉगी स्टाइल में आने को कहा।

तो उसने झट से अपने हाथ बिस्तर पर रख दिए और अपनी गांड उठा ली, मैंने धीरे से अपना लंड उसकी चूत में डाला, ऐसा लगा जैसे सर्कस हो, हम एक बार फिर चरम सीमा पर पहुँच गए और नींद में खो गए।

सुबह मुझे ऐसा लगा जैसे कोई मेरे लिंग से खेल रहा हो। मैंने आँखें खोलकर देखा तो मेरी गर्लफ्रेंड मेरे सोए हुए लंड को सहला रही थी. कुछ देर बाद मेरा लंड अपनी पूरी औकात पर आ गया, फिर वो

वो मुझे चूमने लगी और मेरे ऊपर आकर अपनी जीभ मेरे मुँह में डालने लगी, अब उसकी चूत मेरे सिरे से रगड़ खाकर गीली हो रही थी, लेकिन मेरा इरादा तो उसकी गांड चोदने का था.

मैंने उसे नीचे उतारा और बिस्तर पर खींच लिया, फिर मैंने अपना लंड उसकी चूत में डाला और धक्का देते हुए मैंने लंड को उसकी चूत से खींच लिया और उसकी गांड में डाल दिया, वह चिल्लाई और अचानक बोली,

वो बोली- मैंने अन्दर डाल दिया, मैं मर रही हूँ, निकालो इसे, लेकिन मुझे उसकी गांड मरवाने में मजा आ रहा था, इसलिए मैंने उसकी चीखों पर ध्यान नहीं दिया और जोर-जोर से धक्के मारता रहा और वो अपनी गांड उठा-उठा कर कराह रही थी। बहुत तंग था.

मेरा लंड एक एक करके चोदे जा रहा था, वही गाल अब शांत हो चुके थे और वो अब अपनी गांड मरवाने का मजा ले रही थी.

फिर मैंने अपना लंड बाहर निकाला और उसके मम्मों पर वीर्य गिरा दिया, वीर्य की कुछ बूंदें उसके मुँह पर भी गिरीं, वीर्य की बूंदों से वो और भी खूबसूरत लग रही थी, वो उठी और बाथरूम में जाने लगी, लेकिन खुद पर नियंत्रण नहीं जा रहा था, मेरी गांड फटने के कारण मेरी चाल ख़राब हो गयी थी।

फिर मैं उसे पकड़कर बाथरूम में ले गया, वो फ्रेश हुई और मैं भी फ्रेश हुआ। जब मैं बाहर आया तो वो शीशे के सामने खड़ी होकर अपने बाल संवार रही थी, बिल्कुल नंगी।

वो बहुत खूबसूरत लग रही थी, मैंने उसे पीछे से पकड़ लिया और चूमने लगा, फिर हम दोनों ने थोड़ा आराम किया और घूमने निकल गये, शाम को ताज महल से आने के बाद मैंने रास्ते से कंडोम ले लिया,

कमरे में आकर खाना ऑर्डर किया, खाना खाने के बाद फिर से चुदाई शुरू हो गई, उसकी खूबसूरती देखकर मेरा लंड बार-बार खड़ा हो रहा था। और हमने तब तक जम कर चुदाई की जब तक वह रुक नहीं गया।

हम दोनों जब भी उठते तो सिर्फ सेक्स ही करते थे, मैं इसके बारे में सोच भी नहीं सकता था. उसके चूचे देखने के बाद मेरा मन करने लगा कि दबा दूँ और दबाता ही रहूँ।

मुझे ऐसा लग रहा था मानो मेरा लंड उसकी चूत से बाहर ही नहीं निकलेगा और मैं बस उसे चोदता ही रहूँगा। जब भी हम दोनों थक जाते थे तो थोड़ी देर के लिए सो जाते थे ताकि हमें ज्यादा ताकत मिल सके और हम सेक्स का ज्यादा अच्छे से मजा ले सकें.

जब मेरा लंड उसकी चूत में घुसा तो ऐसा लगा जैसे मैं इस दुनिया में ही नहीं हूं. उसको भी मेरा लंड लेने में मजा आया. जब भी उसे समय मिलता तो वो मुझसे चुदाई कर लेती थी.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Delhi Escorts

This will close in 0 seconds