May 14, 2024
Khet me bhai ne Choda

अमरूद के खेत में भाई ने चोदा और अपनी हवस को ठंडा किया की कहानी में एक बारी फिर से आपका स्वागत है कहानी के इस भाग में पड़े की भाई ने मुझे खाट पर पटक कर चोद दिया और मेरी चूत को सुजा दिया। 

फिर हम घर आ गये, वो पूरा दिन मुझे घूरता रहा और अगली सुबह कॉलेज चला गया। फिर जब वो शाम को आया तो मैंने उससे दोबारा खेत पर चलने को कहा. शाम के 5 बज रहे थे और मौसम भी ख़राब हो रहा था. हमारा खेत हमारे घर से थोड़ा दूर था, करीब 30 मिनट का रास्ता था.

फिर हम खेत से थोड़ी ही दूर थे कि अचानक बारिश होने लगी, सर्दी का मौसम था और हम दोनों भीग गये. फिर हम भागकर अपने ट्यूबवेल वाले कमरे में गये और ताला खोलकर अंदर बैठ गये.

बारिश की वजह से मुझे बहुत ठंड लग रही थी और ठंडी हवाएं चल रही थीं, इसलिए मैंने अपने भाई से अंदर रखी कुछ लकड़ी लेने और आग जलाने को कहा। अब हमें कुछ राहत मिली और मौसम भी ख़राब हो गया, रात के 7 बजे थे और लगातार बारिश हो रही थी।

फिर जब पापा का फोन आया तो उन्होंने कहा कि बारिश हो रही है इसलिए तुम आज रात वहीं रुक जाओ, मेरी आंखें चमक उठीं और सारा प्लान मेरे दिमाग में आ गया.

फिर मैंने अपने भाई से कहा, वह बारिश में गया और कुछ अमरूद ले आया ताकि हम कुछ खा सकें और जब वापस आया तो उसने अपनी शर्ट उतार दी और आग पर हाथ सेंकने लगा। आग की गर्मी से मेरे कपड़े सूख चुके थे, ट्यूबवेल पर एक खाट है और बिछाने के लिए गद्दा और रजाई भी रखी हुई थी.

क्योंकि कटाई के समय या कटाई के समय पिताजी यहीं सोते हैं। फिर हमने 1 खाट पर सोने का फैसला किया. भाई ने गद्दा बिछाया और हम दोनों सोने लगे और खाट ज्यादा बड़ी नहीं थी.

तो इसलिए हमारा शरीर चिपक रहा था. भाई की पैंट गीली थी इसलिए मुझे ठंड लग रही थी. फिर मैंने अपने भाई से इसे उतारने के लिए कहा और उसने तुरंत इसे उतार दिया.

अब वो सिर्फ अंडरवियर में था. जंगल में चारों ओर अंधेरा था और हल्की-हल्की आवाजें आ रही थीं और भारी बारिश हो रही थी। फिर मैं दूसरी तरफ घूम गया और करीब आ गयी

1 घंटे के बाद मुझे अपने भाई का हाथ अपनी कमर पर महसूस हुआ और मैं चुपचाप लेटी रही। फिर कुछ देर बाद भाई का हाथ चलने लगा और वो मेरे पेट पर आ गया, मैं तो यही चाहती थी इसलिए मैंने चुप रहने का फैसला किया.

अब उसका हाथ मेरी नाभि से होता हुआ मेरे स्तनों की ओर आने लगा, वह हल्के से अपना हाथ मेरे स्तनों पर रखने लगा। तभी मुझे अपनी गांड पर कुछ चुभता हुआ महसूस हुआ और मेरी दिल की धड़कन बढ़ने लगी.

क्योंकि ये उसका लिंग था. अब उसका लंड मेरी गांड की दरार में जा चुका था तो मैं चुप रही, अब उसने अपना हाथ नीचे लाकर मेरी सलवार का नाड़ा खोल दिया. फिर भाई ने धीरे से अपने हाथ से मेरी सलवार को ढीला किया और उसे नीचे उतारने लगा, चारों तरफ अंधेरा था.

फिर उसने मेरी सलवार को घुटनों तक उतार दिया और अब उसने अपना हाथ मेरी पेंटी पर रख दिया और उसे सहलाने लगा. फिर उसने तुरंत अपना हाथ मेरी पैंटी के अंदर डाल दिया और उसे नीचे उतारने लगा. वह ऐसा व्यवहार कर रहा था,

जैसे वह सो रहा हो. अब उसने मेरी पैंटी भी घुटनों तक उतार दी थी. फिर 5 मिनट तक सहलाने के बाद उसने अपना लंड मेरी गांड से सटा दिया, शायद उसने अपना लंड भी बाहर निकाल लिया था, मैं आह्ह करके चुप हो गयी.

फिर उसने अपना एक हाथ मेरी चूत पर रखा और सहलाने लगा, ऐसा लग रहa था मानो मेरी चूत पर पानी का सैलाब आ गया हो, उसका पूरा हाथ गीला हो गया। अब शायद उसे भी समझ आ गया था कि मैं जाग रही हूँ।

तो उसने बिना समय बर्बाद किये अपने मोटे लंड का टोपा मेरी चूत के छेद पर रखा और रगड़ने लगा. मेरे मुँह से आह निकल गई, लेकिन मैंने आवाज बाहर नहीं आने दी और मुझे बहुत मजा आने लगा.

फिर मैंने अपनी गांड को थोड़ा पीछे की ओर किया ताकि उसका लंड मेरी चूत के छेद पर ठीक से सेट हो सके. अब वो मेरे मम्मों को हल्के से दबाने लगा और धीरे से एक झटका दिया और चिकनाई की वजह से उसके लंड का टोपा मेरी चूत में घुस गया, तो मेरे मुँह से आआआअहह निकल गयी, जो भाई ने सुन लिया था.

लेकिन न तो उसने कुछ कहा और न ही मैंने कुछ कहा, उसका लिंग बहुत मोटा था इसलिए मुझे दर्द हो रहा था। फिर उसने धीरे-धीरे अंदर दबाना जारी रखा और मैं कराहने लगी, उसका लगभग आधा लिंग अंदर चला गया था। अब मुझसे और बर्दाश्त नहीं हो रहा था तो मैंने अपना हाथ पीछे ले जाकर उसके लिंग पर रख दिया और वहीं रोक दिया.

लेकिन जब मेरा हाथ उसके लिंग पर गया तो मैं उसके लिंग को अपने हाथ में नहीं पकड़ पा रही थी, मुझे आश्चर्य हो रहा था कि इतना बड़ा लिंग मेरे अंदर कैसे जा रहा है। अब भैया उसी जगह आगे-पीछे होने लगे.

मुझे मजा आने लगा तो मैंने अपना हाथ उसकी गांड पर रख कर उसे अपनी तरफ दबाया और बोली आअइइइइइ माआआआ मर्रर्र गग्गीइइइइ आआअहह, मेरी सांसें अटक गईं और आंखों से आंसू आने लगे.

मुझे ऐसा लगा जैसे मेरी चूत फट गई हो, उसका लंड पूरा अंदर चला गया था इसलिए मैं जोर जोर से कराहने लगी और भाई मेरे मम्मों को जोर जोर से दबाने लगा और कुछ देर बाद मेरा दर्द कम हो गया.

और अब वो अपने हाथी जैसे लंड को पूरा अन्दर-बाहर करने लगा था. अब मैं सातवें आसमान पर थी, आआअहह आअहह ऊऊओह म्म्म्मम माआआ भाईईईईईई और्रर्र्र तेज्ज़्ज़्ज़्ज़्ज़ चोदो मुझे, रगड़ो मुझे, स्स्स्स्स्स्स आआ आआअहह आआअहह। फिर भाई भी मुझे तेज गति से चोद रहा था

और पूरे कमरे में थप थप थप थप की आवाज़ गूँज रही थी, क्योंकि वो मेरी बड़ी गांड पर ज़ोर ज़ोर से झटके मार रहा था. अब भाई ने मुझे सीधा किया और मेरी टाँगें खोल दी और बीच में आकर मेरे ऊपर लेट गया, उसका लिंग सही जगह पर सेट नहीं हो रहा था।

फिर भाई ने हाथ नीचे ले जाकर छेद पर रखा और एक ही झटके में अपना लिंग अंदर डाल दिया, आआआहह भाई आराम से, लेकिन वो तेजी से झटके मारने लगा और मेरे पैर अपने आप खुल गये और हवा में सीधे हो गये, वो सच में घोड़ा था. आआहह आआह आ आ आ आ आ आ म्म्म्म म्म्म्ह म्ह्ह्ह्ह्ह आआ आआ आआ आआ आआ आआ आआ आआ आआ आआ आआ आआ आआ एम्म्म्म म्म्म्म म्हह्ह्ह्ह मैं माआ में ोी ोी माँ मै तो मर गयी. भाई रुको प्लस्जज़

फिर उसने मुझे करीब 50 मिनट तक लगातार चोदा और में उसकी बाहों में चिपकी रही और आवाज़े निकालती रही और इस बीच में 3 बार झड़ चुकी थी. अचानक उसकी गति तूफ़ानी हो गई,

आअहह आअहह आअहह ऊऊहह म्म्म्म भाई मैं आ रही हूँ और मैं उससे कस कर चिपक गई और अपने नितंबों को उसके लंड पर दबाने लगी और इसी बीच वो भी झड़ गया और मेरी पूरी चूत उसके वीर्य से भर गई।

आज सचमुच मुझे महसूस हुआ कि मैं कली से फूल बन गयी हूँ। फिर हम थोड़ी देर लेटे रहे थे और फिर कुछ देर बाद हमने 6 बार और चुदाई की भाई ने मेरी चूत को सुजा दिया था और चूत से खून भी निकल दिया था मै रो रही थी। भाई बोला अबसे तू मेरी बहन नहीं तू मेरी खास रंडी है। फिर सो गये. अब हमें जब भी मौका मिलता है, हम सेक्स करते हैं और खूब मजे करते हैं.

धन्यवाद …

तो आज की कहानी आपको कैसी लगी हमें कमेंट के माध्यम से बताएं ऐसी ही और कहानियां पढ़ने के लिए हमारी Bhai Bahan Sex Stories को सब्सक्राइब करें और हमारी वेबसाइट के साथ बने रहे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Delhi Escorts

This will close in 0 seconds