May 14, 2024
Majburi bani chudai ki Vajah

आज की कहानी में पड़े एक लड़की की मज़बूरी बनी चुदाई की वजह पर उस वजह में भी ढूंढ लिया उस लड़की ने मजा

 हेलो दोस्तों कैसे हैं आप सब? मुझे उम्मीद है कि तुम सब अच्छे हो जाओगे. मेरा नाम सोनिया है और मैं दिल्ली से हूँ।
मेरी उम्र 24 साल है और मैं दिखने में सांवली हूँ लेकिन मेरा शरीर ऐसा है कि उसे देखकर हर कोई मुझे चोदने का मन करने लगता है। मेरी हाइट 5 फीट 8 इंच है और मेरा फिगर 32-34-38 है.
दोस्तो, मैं काफी समय से सेक्स कहानियाँ पढ़ रहा हूँ और मैंने सोचा कि मुझे भी अपनी कहानी आप लोगों के साथ शेयर करनी चाहिए। आज मैं आपके सामने अपनी कहानी पेश करने जा रहा हूँ।

यह मेरी पहली कहानी है और मेरे जीवन की सच्ची घटना है। मुझे उम्मीद है कि आप सभी को मेरी कहानी पसंद आएगी और मजा आएगा. तो अब मैं आपका ज्यादा समय न लेते हुए सीधे अपनी कहानी पर आता हूँ। अगर आप लोगों को मेरी कहानी में कोई गलती लगे तो प्लीज मुझे माफ कर देना.
यह घटना पिछले साल की है. दोस्तों मेरे घर में मेरे अलावा मेरी माँ और तीन बहनें है.
मेरे पिता की मृत्यु के बाद मानो मेरी जिंदगी में तूफान आ गया हो. मैं उस समय छोटा था, इसलिए मेरी मां मुझे स्कूल छोड़ने गईं और मुझसे कहा कि जब मैं काम पर जाऊं तो इन तीनों का ख्याल रखना। मैं यह भी समझ गया कि मेरा जीवन नियंत्रण में था।
लेकिन एक दिन जब मैं किसी काम से वहां गया जहां मेरी मां काम करती है तो वहां के मालिक ने मुझसे कहा, बेटा, अपने हालातों से लड़ना सीखो और अपनी पढ़ाई मत छोड़ना।
यही एकमात्र साधन है जिसके माध्यम से आप सफलता प्राप्त कर सकते हैं। फिर उन्होंने अपनी मां को भी समझाया. फिर उन्होंने मेरे एडमिशन और फीस का भी इंतजाम किया. फिर मैंने स्कूल जाना शुरू किया और मैं हमेशा प्रथम स्थान पर आता था।
पढ़ाई के प्रति मेरी लगन देखकर मेरी मां को लगा कि मुझे आगे पढ़ना चाहिए। फिर 12वीं के बाद मुझे कॉलेज में भी दाखिला मिल गया. फिर मैं कॉलेज भी अच्छे अंकों से पास कर गया. इसके बाद मैंने सोचा कि जब मैंने इतनी मेहनत की है तो मुझे सरकारी नौकरी की तैयारी भी करनी चाहिए।
मेरी पढ़ाई और समर्पण ने मेरी कड़ी मेहनत को सौभाग्य प्रदान किया। मेरा चयन एक बैंक में हो गया लेकिन उसके लिए मुझे दिल्ली जाना पड़ा। जब मैं दिल्ली आया तो मेरे मैनेजर ने मेरी बहुत मदद की.
अब मुझे किराये पर मकान की जरूरत पड़ी तो उन्होंने कहा कि एक पंडित जी हैं, वो अकेले रहते हैं और उनका मकान काफी बड़ा है. तो मैंने उनसे पूछा कि मैं एक मुस्लिम हूं और क्या वह मुझे अपने घर में रहने देंगे।
तो उन्होंने वचन दिया कि यदि तुम मेरा नाम लोगे तो मैं तुम्हें जीवित छोड़ दूंगा। मैंने कहा ठीक है और फिर बैंक से निकल कर पंडित जी के पास चला गया. मैंने पंडित जी से कमरे के बारे में बात की और उन्होंने मुझसे कहा कि ठीक है, तुम वहां रहना शुरू कर सकते हो।
फिर हम कुछ देर तक ऐसे ही बैठे रहे और नॉर्मल बातें करते रहे और अगली शाम को मैंने अपना सामान शिफ्ट कर लिया. जब से मुझे बैंक में नौकरी मिली है, मेरी घरेलू स्थिति काफी हद तक सुधर गई है।
मैं बहुत खुश था कि मैं अपने घर के लिए कुछ कर सका। पंडित जी 50 वर्षीय व्यक्ति हैं और उनकी पत्नी की शादी के दो दिन बाद ही मृत्यु हो गई।
वह काफी समय से इस घर में अकेले रह रहे थे. एक दिन मेरा नॉनवेज खाने का मन हुआ तो उन्होंने मुझे मना नहीं किया और कहा कि मैं भी उनके लिए बनाऊं. मुझे ख़ुशी थी कि वह मेरे साथ था.
कभी-कभी वो नॉनवेज ले आता था और कभी-कभी मैं भी उसके लिए ले आती थी. यहां तक कि उन्होंने मुझे अपनी रसोई में खाना बनाने की भी इजाजत दे दी।’ हम साथ में खाना भी खाते हैं.
एक बार मुझे कुछ पैसे घर भेजने पड़े क्योंकि मेरी माँ बीमार थी। मैंने पंडित जी से कहा कि मैं अगले महीने किराया दे दूंगा तो उन्होंने कहा कि देखो अगर तुम्हें अभी जरूरत है तो मुझसे 10 हजार और ले लेना.
जब आपके पास हो तो देते रहें। उस दिन मेरे मन में पंडित जी के प्रति सम्मान बढ़ गया। एक दिन की बात है, रविवार का दिन था तो मैं घर पर ही था। जब मैं नहा रही थी तो मैंने देखा कि पंडित जी मुझे नहाते हुए देख रहे थे.
फिर वह तेजी से वहां से हट गया. मुझे थोड़ा गुस्सा आया लेकिन मैंने उससे कुछ नहीं कहा. जब मैं नहाकर उसके पास गई तो वह मुझसे माफी मांगने लगा और अपने किए पर शर्मिंदा भी हुआ।
मैंने उससे कहा कि माफी मत मांगो, मैं तुम्हारी मजबूरी समझ सकता हूं. आप इतने सालों से अपनी पत्नी के बिना रह रहे हैं, मैं समझ सकता हूं कि आप भी सेक्स चाहते हैं. मैं भी एक लड़की हूं, मुझे भी शरीर चाहिए लेकिन मैं मजबूर हूं।’ हो सकता है मेरी मजबूरी सेक्स का कारण बन जाये.

आपने भी बिना सोचे-समझे मेरी मदद की, इसलिए अगर मैं आपके कुछ काम आ सका तो जरूर आपकी मदद करूंगा। मैं तुम्हारे बदन की आग भी बुझा सकता हूँ.
ये सुन कर वो खुश हो गया और मैं भी उसकी तरफ देख कर मुस्कुरा दी. फिर हम दोनों करीब आये और एक दूसरे के होंठों पर अपने होंठ रख दिये और एक दूसरे के होंठों को चूसने लगे. उसके मोटे होंठ मेरे मुलायम होंठों पर हावी हो रहे थे. 15 मिनट तक किस करने के बाद उसने मेरा कुर्ता उतार दिया और मेरी ब्रा के ऊपर से मेरे दूधों को दबाने लगा और मेरे मुंह से आहा ऊनंह ऊउम्म्ह आहाआ ऊउन्न्ह ऊउम्म्ह आहा ऊउन्न्ह ऊउम्म्ह की सिस्कारियां निकलने लगी |
फिर उसने मेरी ब्रा भी उतार दी और मेरे स्तनों को अपने मुंह में ले लिया और चूसने लगा एक एक करके मैं आहा ऊनंह ऊउम्म्ह आहाआ ऊउन्न्ह ऊउम्म्ह आहा ऊउन्न्ह ऊउम्म्ह करते हुए उसके सिर को सहलाने लगी |
वो मेरे स्तनों को बारी बारी से चूसते हुए मेरे निपल्स को भी खींच कर चूस रहा था और मैं आहा उम्म्ह उम्म्ह आहाआ उम्म्ह उम्म्ह आहा उम्म्ह उम्म्ह आहा उम्म्ह उम्म्ह आहा उम्म्ह उम्म्ह कर रही थी।
फिर मैंने उसकी धोती खोली और देखा कि मेरे सामने 8 इंच लंबा लंड अपना फन निकाले हुए बैठा है. फिर हम बिस्तर पर चले गए और मैं उसके लिंग को अपनी जीभ से चाटने लगी तो वह आहा ऊनंह ऊउम्म्ह आहाआ ऊउन्न्ह ऊउम्म्ह आहा ऊउन्न्ह ऊउम्म्ह करते हुए मेरे स्तनों को दबाने लगा जिससे मैं और भी उत्तेजित होने लगी |
उसके लंड को चाटने के बाद उसने उसे अपने मुँह में रख लिया और अन्दर-बाहर करते हुए चूसने लगी तो वो आहा ऊनंह ऊम्म्ह आहा ऊनंह ऊम्म्ह आहा ऊनंह ऊम्म्ह करते हुए मेरे मुँह को चोदने लगा.
मैं उसके लिंग को बहुत अच्छे से चूस रही थी और वह पिचकारी मारते हुए मजा ले रहा था। फिर उसने मुझे पूरी तरह से नंगी कर दिया और अपने बिस्तर पर लेटा दिया, मेरी दोनों टाँगें फैला दी और मेरी चूत को अपनी जीभ से रगड़ते हुए चाटने लगा तो मैं आआह उम्म्ह उम्म्ह उम्म्ह आहाआ उम्म्ह उम्म्ह आहा उम्म्ह उम्म्ह आहा उम्म्ह उम्म्ह आहा उम्म्ह उम्म्ह आहा उम्म्ह उम्म्ह आहा उम्म्ह उम्म्ह आहा उम्म्ह उम्म्ह आहा उम्म्ह उम्म्ह आहा उम्म्ह उम्म्ह आहा उम्म्ह उम्म्ह उम्म्ह आहा उम्म्ह उम्म्ह आहा उम्म्ह उम्म्ह आहा उम्म्ह उम्म्ह आहा उम्म्ह उम्म्ह आहा उम्म्ह उम्म्ह आहा उम्म्ह उम्म्ह आहा के साथ ले जा रहा था) करते हुए चाटने लगा।
मेरी चूत को चाटते हुए वो मेरी क्लिटोरिस को भी चूसने लगा तो मैं आहा ऊनंह ऊउम्म्ह आहाआ ऊउन्न्ह ऊउम्म्ह आहा ऊउन्न्ह ऊउम्म्ह करते हुए उसके सिर को अपनी चूत में दबाने लगी | मैं चाहती थी कि वो अपनी जीभ मेरी चूत में पूरी अन्दर तक डाल कर चूसे. उसने भी मेरा इशारा समझ लिया.
अब उसने अपना मोटा लंड मेरी चूत पर रखा और अंदर डाल दिया और धक्को के साथ मुझे चोदने लगा तो मैं आहा उम्म्ह उम्म्ह आहा ऊउन्न्ह ऊम्म्ह करते हुए आहें भरने लगी।
फिर उसने अपनी चोदने की स्पीड बढ़ा दी और जोर जोर से धक्के लगाते हुए मुझे चोदने लगा तो मैं भी आहा ऊनंह ऊम्म्ह आहा ऊनंह ऊम्म्ह आहा ऊउन्न्ह ऊम्म्ह करते हुए चुदाई में उसका साथ देने लगी |
फिर उसने मुझे वहीं घोड़ी बना दिया और पीछे से मेरी चूत में अपना लंड डाल कर मुझे चोदने लगा और मैं आहा उम्म्ह उम्म्ह आहा ऊउन्न्ह उम्म्ह आहा उम्म्ह उम्म्ह आहा उम्म्ह ऊउन्न्ह करते हुए अपनी गांड आगे पीछे करके चुदवा रही थी |
उसने मुझे करीब आधे घंटे तक चोदा और ढेर सारा वीर्य मेरी चूत में भर दिया. उसके बाद हम दोनों ने दो बार और सेक्स किया. अब हम लोग चुदाई के बाद एक साथ सोते हैं.
तो दोस्तो, ये थी मेरी जवानी की कहानी, उम्मीद है आपको पसंद आएगी, अगर पसंद न भी आए तो जाकर अपनी माँ को चोदना और उसकी गांड में अपना लंड डालना, छोड़ कर भाग जाना, अपनी बहन की बुर।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Delhi Escorts

This will close in 0 seconds