May 21, 2024
लालच देकर लंड चुसाया

आज की हिंदी सेक्स कहानी है "पड़ोस के भैया ने आइसक्रीम का लालच देकर लंड चुसाया" इस कहानी को पढ़ने के बाद आप अपना लंड हिलाने से नहीं रोक पाएंगे।

आज की हिंदी सेक्स कहानी है “पड़ोस के भैया ने आइसक्रीम का लालच देकर लंड चुसाया” इस कहानी को पढ़ने के बाद आप अपना लंड हिलाने से नहीं रोक पाएंगे।

नमस्कार दोस्तों! मैं रितिका हूं और किसी मॉडल से कम नहीं हूं। अभी हम एक बड़े शहर में रह रहे हैं। मेरे स्तनों और गांड का आकार भी आकर्षक है।
मेरे पड़ोस में कई लड़के मुझे वासना भरी नजरों से देखते हैं।

मैं दिन ब दिन जवान होती जा रही हूं और जवानी में ही मुझे सेक्स करने का मन करता है। मैं और मेरे दोस्त, हम सभी को सेक्स करने का मन होता है इसलिए हम आपस में सेक्स के बारे में बातें करते हैं।

मेरी कुछ सहेलियाँ भी अपने बॉयफ्रेंड के साथ सेक्स करती हैं। जब भी मेरा सेक्स करने का मन होता है तो मैं पोर्न फिल्में देख लेती हूं।

जो कहानी मैं आपको बताने जा रहा हूँ वो मेरी सच्ची कहानी है।

कभी-कभी मैं घर के काम से अपनी सहेली के साथ बाज़ार चली जाती हूँ.. क्योंकि मेरी माँ और चाची को बाज़ार जाने की इजाज़त नहीं है।

कभी-कभी मैं चाची के लिए छोले-चाट खरीदने बाजार भी जाता हूं। मेरी चाची बाज़ार का खाना बहुत खाती हैं और मैं भी उनका बहुत समर्थन करती हूं। मैं दिन में एक या दो बार बाजार जरूर जाती हूं।

हमारे पड़ोस में कुछ लड़के हैं जो जब मैं बाजार जाती हूं तो हमेशा मुझे वासना भरी नजरों से देखते हैं।

मेरे पड़ोस में वरुण नाम का एक भाई है जो बहुत अच्छा है लेकिन मुझे नहीं पता था कि वह भी मुझे वासना भरी नजरों से देखता है।

एक दिन जब मैं उससे बात कर रही थी तो वह मुझसे बात करते समय मेरे स्तनों को घूर रहा था। तब मुझे समझ आया कि ये वरुण भैया भी मुझे वासना भरी नजरों से देखते हैं। (लालच देकर लंड चुसाया)

मैं पहले से कुछ ज्यादा ही बाजार जाने लगी, जिससे आस-पड़ोस के लड़के मुझे और भी ज्यादा वासना की नजर से देखने लगे।

और कुछ लड़के मेरा पीछा करते हुए मेरे घर तक भी आ जाते थे। मुझे भी बहुत अच्छा लगा कि बहुत से लड़के मुझे पसंद करते थे। मैं भी पहले से ज्यादा सजने-संवरने लगी।

मुझे क्या पता था कि वरुण भैया, जिन्हें मैं अपना भाई मानती थी, वो मेरे बॉयफ्रेंड बन जायेंगे और मैं उनके साथ सेक्स करूंगी।

वरुण मुझसे कुछ ज्यादा ही बातें करने लगा था और कभी-कभी तो वह मेरे घर के बाहर भी खड़ा हो जाता था और मुझे देखकर मुस्कुरा देता था।

मैं हमेशा शाम को उससे बात करती हूं और मेरे दोस्त भी उससे बात करते हैं क्योंकि वह बहुत खुशमिजाज इंसान है।

मैं पहले से ही जानती थी कि वरुण भैया मुझे वासना भरी निगाहों से देखते हैं इसलिए मैं भी उन्हें अपने स्तन दिखाती रहती थी।

मेरे स्तन बहुत अच्छे हैं और गांड भी अच्छी है। शायद इसीलिए मेरे पड़ोस के लोग पागल हो गए हैं।

एक-दूसरे से बात करते-करते वरुण भैया और मैं एक-दूसरे को अच्छे से जानने लगे।

वह एक इंजीनियर था और लोग उसका बहुत सम्मान करते थे क्योंकि वह एक अच्छी कंपनी में काम करता था। वरुण भैया और मैं खूब बातें करने लगे और कभी-कभी एक-दूसरे को चिढ़ाने भी लगते थे।

गर्मी के दिन थे इसलिए वरुण भैया जब भी आइसक्रीम खरीदते तो मेरे लिए जरूर खरीदते। हम दोनों का एक दूसरे से मजाक करना आम बात हो गई थी।

हमें पता ही नहीं चला कि कब हमारी बातें कामुक बातों में बदल गईं और हम एक-दूसरे से सेक्स के बारे में बातें करने लगे।

भाई बात करते समय मुझसे किस मांगता था लेकिन मैं उसे किस नहीं देती थी। वो मेरे गालों को पकड़कर अपनी ओर खींचता था। हम दोनों बातें करते हैं और मजाक करते हैं। (लालच देकर लंड चुसाया)

एक दिन मैं घर पर अकेली थी, मेरे परिवार के सभी लोग बाहर गए हुए थे और मैं घर पर अकेली रह गयी थी। मैंने सोचा कि मैं अपनी सहेली को अपने घर बुलाऊंगी और उससे बात करूंगी। लेकिन मेरे दोस्त को भी आने में देर हो गयी।

तभी वरुण भैया मेरे घर के बाहर आये। मैं उसे अपने घर के अंदर आने के लिए नहीं कह रहा था। मुझे डर था कि अगर किसी ने हम दोनों को घर के अंदर देख लिया तो गड़बड़ हो जायेगी।

इसलिए मैंने घर के बाहर उससे बात करना शुरू कर दिया।’ वरुण भैया मेरे घर के गेट के बाहर खड़े होकर मुझसे बात कर रहे थे। मैं अपने घर के गेट पर खड़ी होकर बात कर रही थी।

मुझसे बात करते हुए वरुण भैया बोले- आज मुझे एक चुम्मा दे दो। आज तुम्हारे घर पर भी कोई नहीं है।

मेरी भी चूत में बहुत दिनों से खुजली हो रही थी। मैं अपनी चूत में उंगली करते-करते थक गई थी तो मैंने भाई से कहा- अगर तुम घर के अंदर आओगे तो मैं तुम्हें चूमूंगी।

Hot Girls Book at these hotels at the cheapest rate:

मैं भी उसे पसंद करने लगी। मैंने उससे कहा- अपनी आँखें बंद करो!

भैया ने अपनी आँखें बंद कर लीं और मैंने उनके गाल पर एक चुंबन दे दिया।

मैंने उससे कहा- अब तुम घर जाओ क्योंकि मेरी दोस्त भी आ रही है।

मैं नहीं चाहती थी कि मेरा दोस्त मुझे और वरुण भैया को एक साथ देखे।

उसने मेरी बात मान ली और अपने घर चला गया।

और उसके बाद जब भी मौका मिलता मैं और वरुण भैया एक दूसरे को किस कर लेते थे। 

जब वरुण भैया मुझे चूमते थे तो मेरे होंठों को खूब चूसते थे जिससे मैं गर्म हो जाती थी और कभी-कभी मुझे चूमते समय मेरे स्तनों को भी मसल देते थे। (लालच देकर लंड चुसाया)

हम दोनों बॉयफ्रेंड और गर्लफ्रेंड की तरह रहने लगे। हमारे बीच जो कुछ भी हो रहा था उसके बारे में सिर्फ हम दोनों को ही पता था।

मैं भी काफी समय से सेक्स करना चाहती थी और मेरी सहेली अपने बॉयफ्रेंड के साथ सेक्स करती थी इसलिए मुझे और भी ज्यादा सेक्स करने का मन करता था।

हम दोनों के अंदर सेक्स की आग जल रही थी। वरुण भैया मुझसे होटल ले चलने के लिए कहते थे, वो कहते थे कि हम होटल में आराम से सेक्स करेंगे। लेकिन मैंने होटल जाने से मना कर दिया क्योंकि मुझे पकड़े जाने का डर था।

कभी-कभी मैं वरुण भैया की मां के साथ बाजार भी जाती थी, जिससे मेरे और वरुण भैया की मां के बीच मधुर संबंध बन गए।

एक बार हम दोनों सेक्स करने के लिए उनके घर पर नंगे हो गये लेकिन हम सेक्स नहीं कर पाये क्योंकि पता नहीं कब वरुण भैया की माँ घर पर आ गयीं।

वरुण और मुझे सेक्स करने का मौका नहीं मिल रहा था। खैर हम दोनों एक दूसरे को किस भी करते थे 

बाकी जब भी हमें मौका मिलता और वरुण भैया मेरे स्तन चूसते।

कभी-कभी वो मेरी चूत में उंगली भी कर देता था और मैं भी उसका लंड हाथ में लेकर हिला देती थी। हम दोनों सेक्स करने के लिए बेताब थे। वरुण भैया मेरे स्तनों को दबा कर मुझे गर्म कर देते थे।

एक दिन मेरे परिवार के सभी लोग रिश्तेदारों से मिलने गये थे। मैं उनके साथ नहीं गयी क्योंकि मुझे अपने दोस्त के साथ कोचिंग जाना था। (लालच देकर लंड चुसाया)

मैं उस दिन घर पर अकेली थी और वरुण भैया मेरे घर आये। आज हम दोनों घर में अकेले थे और उसने आते ही मुझे चूमना शुरू कर दिया और मेरे स्तन भी दबाने लगा।

हम दोनों एक दूसरे का साथ दे रहे थे। मेरे स्तनों को दबाने के बाद वरुण भैया मेरा सलवार सूट उतारने लगे। कुछ देर बाद मैं उसके सामने ब्रा और पैंटी में खड़ी थी।

हम दोनों को वासना की गर्मी महसूस हो रही थी इसलिए हम दोनों मेरे बेडरूम में चले गये। वहां उन्होंने पंखा चालू कर दिया और नंगे हो गये और एक दूसरे को चूमने लगे। भाई मेरे नंगे बदन के ऊपर आकर मुझे चूम रहा था।

कुछ देर बाद वरुण भैया ने मेरी ब्रा उतार दी और मेरे स्तनों को चूसने लगे और साथ ही मेरी गर्दन पर भी चूम रहे थे।

ब्रा उतारने के बाद भाई ने मेरी पैंटी भी उतार दी और हम दोनों पूरे नंगी हो गए। और मेरे स्तनों को चूसने के बाद वो मेरी चूत को चाटने लगा।

आज मैं भी सेक्स करने के लिए तैयार थी। जब वरुण भैया मेरी चूत चाट रहे थे तो मैं और भी कामुक हो रही थी। मेरी चूत को चाटने के बाद भाई ने मेरी चूत का रस पी लिया और उसके बाद मेरी नाभि को अपनी जीभ से चाटने लगा।

मैं सेक्स करने के लिए पूरी तरह से तैयार थी। मैं बहुत दिनों से सेक्स के लिए तरस रही थी लेकिन मौका नहीं मिला इसलिए मेरी चूत बहुत गर्म हो गई थी।

वरुण भैया ने अपना लंड निकाला और मेरी चूत पर रगड़ने लगे। मैंने भाई के लंड का स्वागत करने के लिए अपनी टांगें खोल दीं। वो अपना लंड मेरी चूत पर रगड़ने के साथ-साथ मेरे मम्मे भी दबा रहा था।

(Note: क्या आप भी ऐसे सेक्स का मजा लेना चाहते हैं तो Escorts in Delhi से लड़कियों को बुक करके अपने अंदर की वासना को संतुष्ट कर सकते हैं)

वो मेरे स्तनों को दबाने के बाद अपना लंड मेरी चूत में डालने लगा और कुछ देर बाद उसने अपना पूरा लंड मेरी चूत में डाल दिया और मेरी चूत को चोदने लगा। (लालच देकर लंड चुसाया)

जैसे ही भाई का लंड मेरी चूत में गया, मैं जोर से चिल्ला उठी- उम्म्ह… अहह… हय… याह…

लेकिन भाई को मेरी कोई परवाह नहीं थी और हम दोनों सेक्स करने लगे और एक साथ एक दूसरे की बांहों में आ गये। किस भी कर रहे थे।

मैं पूरी तरह से उत्तेजित हो चुकी थी और वो मेरी चूत को चोद रहा था। हम बिस्तर पर सेक्स कर रहे थे जिससे बिस्तर भी हमारी चुदाई से पसीने से भीग गया था। सेक्स करते करते हम दोनों पूरी तरह से उत्तेजित हो गये और एक दूसरे का साथ देने लगे।

वरुण भैया का पूरा लंड मेरी चूत में अंदर-बाहर हो रहा था। कुछ देर बाद हम लोग सेक्स करते-करते थक गए। वरुण भैया मुझे चोदते समय कभी अपना लंड बाहर निकाल रहे थे तो कभी मेरे स्तनों को चूस रहे थे।

मेरे मम्मों को चूसने के बाद उसने अपना लंड मेरी चूत में डाल दिया और आराम से मेरी चूत को चोद रहा था। वो कभी कभी मेरी चूत को जोर जोर से चोद रहा था।

हम दोनों की कामेच्छा बिल्कुल भी काबू में नहीं थी। मेरी चूत पानी छोड़ कर पूरी गीली हो गयी थी जिससे वरुण भैया का लंड आसानी से मेरी चूत में अंदर-बाहर हो रहा था।

चुदाई करते करते कुछ देर बाद हम दोनों झड़ने वाले थे तो वरुण भैया मेरी चूत को जोर जोर से चोदने लगे और कुछ देर बाद हम दोनों चुदाई करते हुए झड़ गये। हम दोनों स्खलित हो गए और उसके बाद बेहोशी की हालत में बिस्तर पर नंगे लेट गए।

हमारी साँसें बहुत तेज़ चल रही थीं और मैं बहुत खुश थी क्योंकि मुझे बहुत दिनों के बाद सेक्स करने का मौका मिला था।

अब तक मैं अपने घर में अपने पड़ोसी वरुण भैया के साथ कई बार सेक्स कर चुकी हूं। आज भी जब भी मौका मिलता है हम दोनों सेक्स करते हैं। एक दो बार तो उसने मुझे अपने दोस्त के फ्लैट पर ले जाकर भी चोदा।

हमारे बीच के इस यौन संबंध के बारे में किसी को नहीं पता। अब एक दूसरे के साथ सेक्स करते करते हम दोनों एक दूसरे से खुल गये और हर तरह की बातें करने लगे। हम दोनों अभी भी एक दूसरे के संपर्क में हैं।’

आप सभी को मेरी कहानी कैसी लगी? आप सभी कृपया मुझे मेल करके बताएं। आपके मेल मुझे बहुत प्रोत्साहित करते हैं और आगे की कहानी बताने में बहुत मदद करते हैं। आप सभी मुझे मेल करें ताकि मैं आपको अपनी अगली कहानी जल्द बता सकूं।

तो दोस्तो, आपको मेरी यह चुदाई की कहानी कैसी लगी, जरूर बताएं।

अगर आपको यह लालच देकर लंड चुसाया कहानी पसंद आई तो हमें कमेंट बॉक्स में ज़रूर बताएं।

यदि आप ऐसी और चुदाई की सेक्सी कहानियाँ पढ़ना चाहते हैं तो आप “Readxstories.com” पर पढ़ सकते हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Delhi Escorts

This will close in 0 seconds