May 14, 2024
सेक्स सफर शुरू किया

आज की हिंदी सेक्स कहानी है "ऑफिस की लड़की को चोदकर अपना सेक्स सफर शुरू किया" इस कहानी को पढ़ने के बाद आप अपना लंड हिलाने से नहीं रोक पाएंगे।

आज की हिंदी सेक्स कहानी है “ऑफिस की लड़की को चोदकर अपना सेक्स सफर शुरू किया” इस कहानी को पढ़ने के बाद आप अपना लंड हिलाने से नहीं रोक पाएंगे।

नमस्कार दोस्तों! मेरा नाम सुमित है। मैं दिल्ली में रहता हूँ। आपने मेरी लिखी बहुत सी कहानियाँ पढ़ी होंगी। लेकिन जो कहानी मैं आपको अभी बता रहा हूं वो मेरे एक फैन करोल बाग से सुरेश जी ने भेजी है।

मैं इस कहानी को थोड़ा संपादित करके आपके सामने प्रस्तुत कर रहा हूँ। यह कहानी मूलतः सुरेश नामक व्यक्ति की है, जो इस मंच का नियमित पाठक भी है।

आगे की सेक्स कहानी मैं सुरेश जी के शब्दों में लिख रहा हूं.. आनंद लीजिए।

प्रिय मित्रो, नमस्कार… मैं सुरेश हूँ, अन्तर्वासना पर यह मेरी पहली सेक्स कहानी है। मैं हमेशा से अन्तर्वासना का नियमित पाठक रहा हूँ। मैं करोल बाग़, दिल्ली से हूँ… और 32 साल का नवविवाहित आदमी हूँ।

मैंने अन्तर्वासना पर कई लेखकों की कहानियाँ पढ़ी हैं। ये कहानियाँ इतनी कामुक और मनमोहक हैं कि मेरी भी इनमें रुचि हो गई। इन सेक्स कहानियों से प्रेरित होकर मेरी झिझक ख़त्म हो गई और आज मैं अपने साथ घटी सच्ची घटना को एक सेक्स कहानी के रूप में बता रहा हूँ। इस काम में सुमित जी ने मेरी मदद की है, मैं उनका आभारी हूं।

यह कहानी मेरी और मेरी ऑफिस की दोस्त साक्षी की है। उस समय मेरी उम्र करीब 28 साल थी और मैं अकेला था, इसलिए यह मेरा पहला अनुभव था।

उस समय मैं एक बिल्डिंग कंस्ट्रक्शन कंपनी में सेल्स मैनेजर के पद पर कार्यरत था। कंपनी का बहुत सारा काम मुझे खुद ही करना पड़ता था।

किसी कारणवश कुछ लड़कियों को कंपनी ने नौकरी से निकाल दिया। मुझे उसकी जगह कुछ नई लड़कियों को नौकरी पर रखने के लिए कहा गया।

मैंने एक अखबार में विज्ञापन दिया और इंटरव्यू के लिए समय और जगह भी बता दी। तय समय और दिन पर करीब 10-15 लड़कियां इंटरव्यू के लिए आईं। उनमें साक्षी भी थी।

सबसे पहले मैं आपको साक्षी से परिचित करा दूं। साक्षी 22 साल की थीं। उसकी लम्बाई 5 फुट 2 इंच थी, रंग एकदम गोरा था और उसके रसीले होंठ थोड़े बड़े थे। चेहरे पर गजब की मासूमियत।

उसके स्तन इतने उभरे हुए थे कि हर किसी का ध्यान पहली बार उन पर गया… शायद उसके स्तनों का आकार 34 इंच रहा होगा।

उसकी बड़ी-बड़ी काली आँखें उसके मासूम चेहरे पर एक अलग छाप छोड़ने में सक्षम थीं। वह अद्भुत लग रही थी। मुझे वह पहली नजर में ही पसंद आ गई। हालाँकि जो अन्य लड़कियाँ आई थीं, वे भी श्रेष्ठ और योग्य थीं, शायद साक्षी से भी ज्यादा, लेकिन न जाने क्यों, मेरा दिल साक्षी का पक्ष ले रहा था।

पूरे दिन इंटरव्यू के बाद सभी लड़कियों से कहा गया कि अगर आपका चयन हो गया तो एक-दो दिन में आपको कॉल करके जानकारी दे दी जाएगी। ये कह कर हमने सबको वापस भेज दिया।

इन सभी लड़कियों में से साक्षी इस नौकरी के लिए बहुत परफेक्ट नहीं लग रही थी, फिर भी उसमें क्षमता थी।

अगले दिन मैंने अपने सहकर्मियों से सभी लड़कियों के बारे में चर्चा की और हमने लगभग पांच लड़कियों का चयन किया और उनके नाम आगे की कार्रवाई के लिए हमारे मुख्य कार्यालय को भेज दिए।

उस दिन वह साक्षी पूरे समय मेरी आँखों के सामने घूमती रही। उसकी मासूम आंखें और मखमल जैसा बदन मेरे लंड को बार-बार खड़ा कर रहा था।

उसी रात मैंने साक्षी को गुडनाइट मैसेज भेजा तो उसका रिप्लाई भी आ गया। हम धीरे-धीरे अच्छे दोस्त बन गए। धीरे-धीरे हम दोनों मैसेज के जरिए जॉब के बारे में बात करने लगे। फिर उन्होंने मुझसे मेरा जॉब प्रोफाइल पूछा तो मैंने बताया कि मैं कंपनी में मैनेजर हूं और यह बहुत टेंशन वाला काम है।

मैसेज पर बात करते समय मैंने गलती से उससे कहा कि सेल्स जॉब में हमेशा एल लगता है।

मार खाने का मतलब है डिक से मार खाना, जब काम के दौरान आपके पीछे जोर से मार पड़ती है।

उन्होंने मुझसे पूछा कि एल महसूस करने का क्या मतलब है?

मैंने उससे बस यही कहा कि तुम्हें पता होगा, लेकिन तुम सिर्फ दिखावा कर रही हो।

उन्होंने कहा कि मैंने यह शब्द पहली बार सुना है।

मैंने उससे कहा कि यह एक वयस्क शब्द है।

उसने कहा- हां… मैं भी बालिग हूं।

शायद उसे सेक्स के बारे में ज्यादा जानकारी नहीं थी। इसलिए वो भी मुझसे बहुत खुल कर सारी बातें पूछ रही थी।

उसे सब बताते बताते मेरा लंड भी अंडरवियर में खड़ा हो गया।

मैंने उससे कहा- लंड को महसूस करना मतलब लंड को महसूस करना है।

( Note: Delhi Escorts में आप अपने मनचाहे पार्टनर के साथ सेक्स का आनंद ले सकते हैं )

इस पर उसने फिर पूछा- इस लंड का क्या मतलब है?

अब मैं उसे क्या बताऊं? मैसेज पर बात करते-करते ही मेरा लंड खड़ा होने लगा। मैंने उससे कहा कि लंड या लौड़ा वो जगह है जहां से हम मर्द पेशाब करते हैं और चूत मतलब वो जगह जहां से आप पेशाब करते हैं।

उसने मैसेज किया कि मुझे चूत के बारे में तो पता है, लेकिन लंड के बारे में पहली बार सुना है। हालाँकि अभी तक देखा नहीं है।

मैंने उससे बस इतना पूछा कि अगर तुम नौकरी ज्वाइन करोगी तो क्या तुम मेरा लंड देखना चाहोगी?

इस पर वह तुरंत सहमत हो गये। मेरा दिल खुश हो गया।

फिर मैंने खुद में दिलचस्पी लेते हुए कंपनी से बात की और उसका सिलेक्शन पक्का कर लिया।

मैंने उनसे कहा कि मुझे उम्मीद है कि आपका सिलेक्शन हो जाएगा।

वो मेरी बात से बहुत खुश हो गयी।

हम अब रोजाना सेक्स और चूत के बारे में बातें करने लगे थे, लेकिन अभी तक हम दोनों ने कभी फोन पर बात नहीं की थी।

उनका सिलेक्शन हो गया। उसके ऑफिस ज्वाइन करने के बाद मैंने उससे कहा, चलो मैं तुम्हें पूरी साइट दिखाता हूं।

मैं इसे साइट पर सैंपल फ्लैट में ले गया। उसे सारी साइटें दिखाने के बाद, मैं उसे आखिरी फ्लैट के बेडरूम में ले गया और उससे पूछा कि क्या उसे मुझे अपना लंड दिखाना चाहिए।

वो शरमा कर कुछ न कहते हुए चली गयी। मुझे लगा कि अब वह नहीं आयेगी।

फिर रात को उसने मुझे मैसेज पर बताया कि मैं तुम्हारा लंड देखना चाहती थी, लेकिन पता नहीं क्यों मैं घबरा रही थी।

अगले दिन मैं फिर उसे बहाने से सैंपल फ्लैट के बेडरूम में ले गया 

उसे साइट दिखाते हुए मैंने तुरंत अपनी पैंट और शॉर्ट्स नीचे खींच ली। मेरा साढ़े पांच इंच का काला लंड देख कर साक्षी एकदम से शरमा गयी।

फिर मैंने उसका हाथ अपने लंड पर रखा और उसे सहलाने को कहा। वो धीरे धीरे मेरे लंड को सहलाने लगी। उसे शर्म भी आ रही थी।

मैं उसके कपड़ों के ऊपर से ही उसके मम्मों को दबाने लगा। उसके स्तन बहुत बड़े थे इसलिए मेरे हाथ में नहीं आ रहे थे। वह धीरे-धीरे लंड की चमड़ी को आगे-पीछे करने लगी, इससे मुझे बहुत मजा आने लगा।

उसे भी अपने स्तनों को मसलवाने में मजा आ रहा था, वो भी उत्तेजित हो रही थी। हम दोनों धीरे धीरे सेक्स करने लगे।

हम दोनों काफी देर तक एक दूसरे को सहलाते रहे और मजा लेते रहे। तभी हमें कुछ आवाजें सुनाई दीं। ये आवाजें पास से ही आ रही थीं। हम दोनों ने अपने कपड़े ठीक किये और वहां से निकल गये।

दिल्ली में सस्ती और सेक्सी लड़कियां चुदाई के लिए बुक करे:

इसके तुरंत बाद मै कंपनी के काम के सिलसिले में कुछ दिनों के लिए दिल्ली चले गये। अब हम दोनों हमेशा मैसेज पर सेक्स चैट करने लगे।

मेरा लंड देख कर साक्षी भी मुझसे प्यार करने लगी। दिल्ली से आने के बाद जैसे ही मैं ऑफिस पहुंचा तो वहां मेरे और उसके अलावा कोई नहीं था।

मैंने उससे अपनी चूत दिखाने को कहा। मैंने आज तक कभी कोई चूत नहीं देखी थी। लेकिन वो अपनी चूत दिखाने में शर्मा रही थी।

मौका देख कर हम एक दूसरे को चूमने लगे। किस करते करते मैंने अपना हाथ उसकी पैंटी में डाल दिया। उसकी चूत पूरी गीली हो गयी थी और मेरा लंड भी बहुत टाइट हो गया था। हम दोनों पर सेक्स हावी होने लगा।

हम दोनों बिना किसी परवाह के एक दूसरे को बेतहाशा चूमने लगे। उसकी पैंटी उसकी चूत से पूरी गीली हो चुकी थी।

काफी देर तक चूमा-चाटी करने के बाद किसी की आवाज सुनकर हम दोनों अपने ऑफिस के काम में लग गये। यह हम दोनों के लिए एक नया अनुभव था।

उसके बाद हम रोज ऑफिस जल्दी आने लगे और एक-दूसरे को चूमते रहे। मैंने बहुत सी ब्लू फिल्में डाउनलोड कर रखी थीं और हर वक्त उन्हें देखकर गर्म होता था।

ये हमारा रोज का काम हो गया है। मैं रोज सुबह ऑफिस आने के बाद देखता कि साक्षी ने कौन सी पैंटी ब्रा पहनी है और उसे उसके स्तनों पर दबा देता।

कभी-कभी अकेले में मौका मिलता तो मैं उसकी चूत में उंगली भी कर लेता था। उन्होंने भी इन सबका लुत्फ़ उठाया। वो भी हर वक्त मेरे लंड से खेलने लगी।

एक दिन दोपहर को ऑफिस में कोई नहीं था। किसी को भी नहीं आना था। तो मैंने अपना लंड निकाला और उसके हाथ में दे दिया। साथ ही उसे लंड को मुंह में लेने के लिए भी कहा।

चूंकि उसने ब्लू फिल्म में लंड चूसते हुए देखा था, इसलिए उसे इस बात का कोई मलाल नहीं था। वो बड़े जोश से मेरा लंड अपने मुँह में लेने लगी।

किसी लड़की से लंड चुसवाने का यह मेरा पहला अनुभव था। कुछ ही देर में मैं झड़ने वाला था और मेरे लंड से पानी निकल गया।

इसके बाद मैं उसे ऑफिस के वॉशरूम में ले गया और उसकी पैंटी नीचे खींच कर उसकी चूत में उंगली करने लगा। वह अब सेक्स के प्रति बहुत खुली थी। उसकी चूत बहुत गीली हो गयी थी।

कुछ देर बाद वो नीचे बैठी और तुरंत मेरा लंड अपने मुँह में ले लिया। वो बड़े प्यार से मेरा लंड चूसने लगी। थोड़ी देर लंड चूसने के बाद मैं झड़ने लगा।

मेरा लंड अब नियंत्रण में नहीं था और एक बड़ी धार के साथ मैं उसके मुँह में स्खलित हो गया। उसने भी सारा वीर्य अच्छे से पी लिया।

इसके बाद हम दोनों एक दूसरे को चूमते रहे। कुछ ही देर में हम दोनों उत्तेजित हो गए और सेक्स के मूड में आ गए।

मैंने उसे वॉशरूम में ही डॉगी स्टाइल में खड़ा कर दिया। फिर झटके से उसकी चूत में लंड डाल दिया। उसकी चूत बहुत टाइट थी इसलिए वो रोने लगी। उसकी चीख भी निकल गई।

थोड़ी देर रुकने के बाद मैंने फिर से उसकी चूत में एक जोरदार धक्का मारा और अपना पूरा लंड उसकी चूत में डाल दिया। उसे बहुत दर्द हो रहा था।

पूरा लंड घुसाने के बाद मैं उसके मम्मों को सहलाता रहा और उसकी गर्दन पर चूमता रहा। इससे उसे राहत मिली और वो अपनी गांड हिलाने लगी।

मेरा लंड आगे पीछे होने लगा था। अब वो भी मजे से अपनी चूत चुदवा रही थी।

मैं काफी देर तक उसकी चूत को चोदता रहा। अचानक वो अकड़ कर सख्त हो गयी और उसका रस निकल गया। उसकी चूत की बारिश से मैं भी पिघल गया और मैंने अपना सारा वीर्य उसकी चूत में छोड़ दिया।

ये हमारा पहला सेक्स था।

इसके बाद हम दोनों ने कंडोम के साथ ही सेक्स करना उचित समझा।

नये अनुभव के कारण पहली चुदाई के बाद उसकी चूत में दर्द बढ़ गया और मेरे लंड में भी दर्द होने लगा।

हालाँकि हम दोनों ने अपने पहले सेक्स का भरपूर आनंद लिया। अब हम दोनों हफ्ते या 15 दिन में कम से कम एक बार सेक्स करने लगे। वो मुझसे 6 साल छोटी थी, लेकिन फिर भी उसे मुझसे प्यार हो गया।

मैंने उससे पहले ही कह दिया था कि मैं तुमसे शादी नहीं कर सकता और वह भी इसके लिए पहले से ही तैयार थी। क्योंकि उसे भी बदनामी का डर था और इसलिए हम सिर्फ अपनी यौन भावनाओं के लिए एक साथ आये थे।

उसके बाद कुछ दिनों तक हम ऑफिस में छुप छुप कर चुदाई का खेल खेलते रहे।

कुछ महीनों बाद उन्हें कंपनी ने नौकरी से निकाल दिया और हमारा रिश्ता भी वहीं ख़त्म हो गया। वह आज भी मुझसे मिलती है, लेकिन सेक्स के बारे में बात नहीं करना चाहती।

आज भी उसके बड़े स्तनों को फिर से प्यार करने का मन करता है। लेकिन शायद वो दोबारा मेरे साथ सेक्स नहीं करना चाहती थी।

दोस्तों, मेरी यह सेक्स कहानी बिल्कुल सच्ची है, मुझे जो भी अनुभव हुआ, वो मैंने आपके सामने ज्यों का त्यों लिख दिया है। आपको मेरी सेक्स कहानी कैसी लगी?

तो दोस्तो, आपको मेरी यह चुदाई की कहानी कैसी लगी, जरूर बताएं।

अगर आपको यह सेक्स सफर शुरू किया कहानी पसंद आई तो हमें कमेंट बॉक्स में ज़रूर बताएं।

यदि आप ऐसी और चुदाई की सेक्सी कहानियाँ पढ़ना चाहते हैं तो आप “Readxstories.com” पर पढ़ सकते हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Delhi Escorts

This will close in 0 seconds