May 21, 2024
Massage ke Bahane Gand Maari

हेलो दोस्तों, मेरा नाम राहुल है और मैं दिल्ली में रहता हूँ।और आज मैं अपनी लाइफ की एक रियल स्टोरी बता रहा हूँ कैसे मेरी Massage ke Bahane Gand Maari। मेरी उम्र 18 साल है और आज की हिंदी गे कहानी कुछ समय पहले की है। मैं आपको पहले अपने बारे में बता दूं, मैं एक प्यारा सा लड़का हूं। छोटी हाइट है और औसत जिस्म है। जिस्म गोरा चिट्टा है और बिल्कुल चिकना है।

मेरी गांड थोड़ी मोटी है और गोल गोल है. गुलाबी गुलाबी निपल्स हैं और 6 इंच का लंड है. मैं बिल्कुल शरीफ सा लड़का था जिसे सेक्स का कुछ पता नहीं था।

हुआ कुछ यूँ के मेरे बाल बहुत बड़े हो गए थे। आमतौर पर तो में घर के करीब ही एक सैलून से बाल कटवाता था लेकिन इस बार मैंने करीब ही दूसरा सैलून में ट्राई करने का सोचा। सुबह सुबह का वक्त था और सैलून बिल्कुल खाली था।

अंदर एक आदमी बैठा था। लम्बा कद था और बिल्कुल फिट बॉडी थी उसकी। उम्र में 40 से ऊपर का लग रहा था। उसकी नज़र जब मेरी तरफ परी तो उठ के आया मेरे पास।

और मुझे सर से पांव तक देखा और मैं छोटी टाइट शॉर्ट्स और टी शर्ट पहनकर गया था, लग भी काफी क्यूट लग रहा था। उसकी नज़र मेरी तांगों पे थी। फिर थोड़ी हैलो कि और अपना नाम विजय ठाकुर बताया।

विजय: हाँ बच्चे क्या करवाना है?

मैं: मुझे बाल कटवाने हैं

विजय: कहां के.. हाहा

मैं: सर के बाल और कहाँ के..

विजय: तुम जहां के बोलोगे काट दूंगा.. चलो आओ बैठो।

मुझे बैठाया और वो मेरे बाल कटने लगा। 40 मिनट बाद में कटिंग हो गया। विजय हेयरकट के बाद मेरे सर की तेल से मालिश करने लगा..

विजय: मजा आ रहा है?

मैं: जी सुकून मिल रहा है.

विजय: बहुत थका थका लग रहा है तू?

मैं: हां वो परीक्षा चल रहे थे परीक्षा में गुसा हुआ था।

विजय: मसाज करवा लो ना फिर पूरे जिस्म में सुकून आ जाएगा।

मैं: नहीं मेरे पास सिर्फ हेयरकट के पैसे हैं।

विजय: अरे बच्चे तू मुझे बहुत अच्छा लगा इसके लिए तुझसे पैसे नहीं लूंगा।

मैं: सच में आप फ्री में करोगे?

विजय: बिल्कुल मेरी जान…तुझे इतना सुकून दूंगा तू अगली बार खुद आएगा।

विजय ने मुझसे पूछा एक कमरे में ले गया जहां सिर्फ एक सिंगल बेड था और कुछ नहीं।

विजय: तू अपना कपड़ा उतार के लेट जा में तेल वगेरा लेके आता हूं।

मैं: कपडे क्यों उतरूं..? मैं नहीं उतर सकता.

विजय: फिर तेरे कपडा गंदा हो जाएगा.. देखा यहां कोई नहीं आएगा शर्मा मत, हम दोनों मर्द ही हैं ना तू टेंशन ना ले।

उसके बाद विजय बहार सैलून का दरवाजा बंद करने चला गया। मैं अंदर सोच रहा था कि शायद मना करदुं और चला जाऊं।

लेकिन मेरा दिल कर रहा था मसाज ट्राई करने का और वो भी फ्री में मिल रही थी। मैं एक बच्चे के दिमाग का लड़का था।

मैंने अपने कपड़े उतारे और सिर्फ अंडरवियर में बैठ गया बेड पे। विजय थोरी देर में आया और उसके हाथ में 3-4 तेल की बोतलें थीं।

विजय ने मुझे उनकी महक दिलवाई और पूछा कौनसी अच्छी लगी। मुझे जो अच्छी लगी मैंने बताया।

विजय ने मुझे बिस्तर पर लेटाया और फिर मुझे आँखें बंद करने को बोला। फिर मुझे सीने पर तेल गिरता महसूस हुआ और फिर मेरे सीने पर उसका मज़बूत अपने सीने पर गिरता महसूस हुआ।

विजय आहिस्ता आहिस्ता मेरे निपल्स को रगड़ रहा था। मुझे उसकी मसाज से काफ़ी सुकून महसूस हो रहा था।

विजय ने फिर मेरे जोड़ों को मसाज की और आहिस्ता आहिस्ता मेरी टांगों की मसाज की। मेरी जांघों को नंगे प्यार से मसाज कर रहा था और मुझे काफी सुकून मिल रहा था।

उसने फिर मुझे उल्टा होने को बोला। पहले उसने मेरी पीठ की मसाज की फिर वापस मेरे टंगों पे। आहिस्ता आहिस्ता मसाज करते वो मेरी गांड तक पंहुचा ।

उसने मेरा अंडरवियर पकड़ा और खींच दिया। मुझे सदमा हुआ लेकिन उसने मुझे बताया के गंदा हो रहा था इसलिए उतार दिया। मैंने वापस आंखें बंद कर लीं.

मेरा अंडरवियर उतारने के बाद विजय सिर्फ मेरी गांड की मसाज कर रहा था। मेरी गांड पे उसके खुरदुरे हाथ लग रहे थे।

मेरी गांड भी दबा रहा था. मुझे पता नहीं क्यों मजा आ रहा था. अचानक मुझे गांड के छेद पर उसकी उंगली महसूस हुई। वो अपनी उंगली को गोल गोल करके घुमा रहा था उफ़ क्या मज़ा आ रहा था।

अचानक उन्हें उंगली अंदर डाल दी और मुझे दर्द हुआ। मैं दर्द से उठ गया लेकिन उसने मेरी पीठ रगड़ना शुरू कर दी और मुझे आराम करने को बोला।

Escorts in Delhi

मैं वापस आ गया और उसने उंगली वापस डाल दी। उफ्फ वापस से दर्द हुआ. आहिस्ता आहिस्ता दर्द कम हो गया और वह भी अपनी स्पीड तेज़ तेज़ कर रहा था। मुझे भी अब मजा आ रहा था.

विजय ने मेरी कमर पकड़ी और मुझे उठा दिया। मुझे उसने डॉगीस्टाइल पोजीशन में सेट किया और फिंगरिंग शुरू की। विजय ने मेरा लंड पकड़ा और हिलाने लगा। उफ्फ क्या मजा था मैं तो पागल हो रहा था।

10 मिनट के बाद मेरे लंड से सफेद सफेद माल निकलना शुरू हो गया और मुझे मजा आने लगा। मैं बिस्तर पर गिर गया और बहुत थकान हो रही थी। लेकिन विजय ने नहीं रोका उसने वापस मेरी गांड फैलायी और फिंगरिंग करने लगा।

विजय: मजा आया बच्चा?

मैं: मम्म.. बहुत ज्यादा मजा आया.

विजय: रुक तुझे और मज़ा देता हूँ।

ये बोलके विजय ने दूसरी उंगली भी घुसा दी। उफ्फ वापस से दर्द हुआ लेकिन मैंने बर्दाश्त किया। 15 मिनट फिंगरिंग के बाद उसने तीसरी फिंगर भी घुसा दी.. मैं वापस दर्द में उछल गया लेकिन थोड़ी देर बाद वो भी ख़तम हो गया और मैं वापस मजे में आ गया।

विजय: मजा आ रहा है ना?

मैं: हां आप रुक क्यों गए बहुत मजा आ रहा था।

विजय: आंखें बंद करके लेट जा मैं वापस डाल रहा हूं।

मैंने वैसा किया जैसा विजय ने बोला। विजय ने मेरी टांगें फैलाईं और फिर काफी सारा तेल मेरे छेद पे लगाया और फिंगर से अंदर तक डाला।

फिर मुझे कुछ मोटा मोटा होल पे फील हुआ। विजय ने मुझे गहरी सांस लेने को बोला और फिर एक झटका दिया। मैं जोर से चिल्लाया।

मैंने पीछे मुड़के देखा तो विजय बिल्कुल नंगा था और मेरी गांड में उसने अपने लंड का टोपा घुसाया हुआ था। मैं उठ गया क्योंकि मुझे काफी दर्द हो रहा था और उसने अपना लंड निकाला।

मैं: तुम क्या कर रहे हो..?

विजय: बच्चा सुन तुझे मजा आ रहा था ना?

मैं: हां लेकिन अब काफी दर्द हुआ.

विजय: मेरी जान थोड़ा दर्द बर्दाश्त करले बहुत मजा आएगा।

मैं: नहीं, आप उंगली डालो बस और कुछ नहीं।

विजय: कोशिश तो कर मजा ना आया निकाल देंगे।

मेरी नज़र उसके लंड पे पड़ी काफ़ी लम्बा लंड था और काफ़ी मोटा भी। तकरीबन 9 इंच का लंड था उसका। मैंने थोरी देर सोचा फिर मान गया।

क्योंकि उसकी फिंगरिंग से दर्द हुआ लेकिन बाद में मजा भी आया। विजय को मैंने हां बोल ही दिया। विजय ने मेरी टांगें उठाईं और काफी तेल लगाया। मेरे छेद पर उसने लंड सेट किया और मेरी गांड के नीचे तकिया रख दिया।

आहिस्ता आहिस्ता वो ज़ोर लगा रहा था और उसका टोपा अंदर चला गया। दर्द से मेरी आँखें बंद हो गयीं। लेकिन विजय ने थोरी देर मुझे आराम करने दिया।

फिर आहिस्ता आहिस्ता उसने लंड डाला. उसका आधा लंड अंदर जा चुका था और मैं दर्द से मर रहा था। विजय से भी अब कंट्रोल ना हुआ उसने मेरे हाथ पकड़ कर और अपने हाथों से मिला दिए।

फिर अचानक से उसने एक झटका में पूरा लंड घुसा दिया। मैं चिल्ला भी नहीं पा रहा था क्योंकि वो मेरे होठों को आज़ाद नहीं कर रहा था। विजय स्पीड से लंड अंदर बाहर कर रहा था।

15 मिनट तक उसने किसिंग की और मुझे दबोच के रखा। लेकिन अब आहिस्ता आहिस्ता दर्द कम हो रहा था।

विजय का लंड मुझे पेट तक लग रहा था। विजय ने अपना होंठ हटाये और मुझसे उल्टा डॉगीस्टाइल में करदिया। फिर स्पीड से चोदने लगा. मेरे लंड को भी मसल रहा था.

विजय के हर झटके में मुझे मजा आ रहा था। 15-20 मिनट की चुदाई के बाद में फिर से चुदाई हो गई। लेकिन विजय विजय ने मुझे 30 मिनट और चोदा।

फिर उसने एक जोरदार झटके से पूरा लंड अंदर तक डालडिया और मुझे गांड में गरम गरम माल महसूस होने लगा।

मुझे ऐसा लग रहा था कि किसी ने गांड में पानी का पाइप खोला। विजय फिर मेरे ऊपर लेट गया और उसका लंड मेरी गांड में ही था। मैं भी बहुत थक चुका हूँ और अब मेरी गांड वापस से धुक रही थी।

विजय: देखा कितना मजा आया.

मैं: हम्म.. लेकिन दर्द भी हुआ.

विजय: रोज करवाएगा तो नहीं होगा।

मैं: मतलब मुझे रोज़ आना पड़ेगा?

विजय: वो तेरी मर्जी है. तुझे अगर मजा आया तो आ जाना में रोज तेरी गांड मारूंगा क्योंकि तेरी गांड ने बहुत मजा दिया मुझे।

उसके बाद में उठा और गांड को कपड़े से साफ किया। अपने कपडे पहनने लगा तो विजय ने मुझे रोका और मेरी गांड की पिक्चर निकली।

फिर में शॉर्ट्स पहन के वापस घर चला गया। मुझसे तो चला भी नहीं जा रहा था गांड में इतना दर्द हो रहा था। और घर जाके में सो गया.

मैं सीधा साधा लड़का यूनिवर्सिटी में हमेशा पढ़ाई के चक्कर में गांड फड़वाने वाला एक दिन गांडू बन जाऊँगा कभी सोचा नहीं था ।

अगले दिन दर्द बिल्कुल ख़तम हो गया और अब मेरी वापसी चाहत होने लगी चुदाई की। उसके बाद क्या मैं गया फिर विजय के पास वो मुझे देख के मुस्कुरा दिया।

वो किसी के बाल काट रहा था और बाल काटने के बाद उसने सैलून बंद कर दिया और फिर मेरी गांड के मजे के लिए और मेरी चुदाई की। उसने मेरी गांड 2 बार मारी और मेरी गरमी उतारी।

उसके बाद में विजय के पास हर दूसरे दिन जाता था और अपनी गांड मरवाता था। आहिस्ता-आहिस्ता मैंने दूसरों से भी मिलना शुरू कर दिया। आज भी जब मौका मिलता है विजय के साथ सेक्स कर लेता हूं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Delhi Escorts

This will close in 0 seconds