May 14, 2024
मुसल लंड से चोदा

आज की हिंदी सेक्स कहानी है "चुदाई की प्यासी मकान मालकिन को अपने मुसल लंड से चोदा" इस कहानी को पढ़ने के बाद आप अपना लंड हिलाने से नहीं रोक पाएंगे।

आज की हिंदी सेक्स कहानी है “चुदाई की प्यासी मकान मालकिन को अपने मुसल लंड से चोदा” इस कहानी को पढ़ने के बाद आप अपना लंड हिलाने से नहीं रोक पाएंगे।

सभी को नमस्कार! मेरा नाम मोहित लाला है। यह कहानी लिखने के समय मेरी उम्र 50 वर्ष है। यह सेक्स कहानी मैंने आप सभी पाठकों के मनोरंजन के लिए लिखी है। आशा है आपको इसे पढ़कर मोहित आएगा।

मैं किराये के मकान में रहता हूँ। मेरे मकान के ऊपर वाले मकान में मकान मालिक का परिवार रहता है, जिसमें एक खूबसूरत शादीशुदा लड़की अपनी 4 साल की बेटी के साथ रहती है। उनके लगभग 28 वर्षीय पति दूसरे जिले में 10 स्कूल शिक्षक के रूप में काम करते हैं, इसलिए वह केवल छुट्टियों के दौरान ही घर आते हैं।

इस नये घर में आये अभी एक महीना ही हुआ था कि मुझे मकान मालकिन का असली चेहरा देखने को मिला।

एक दिन मैं अपने मकान का किराया देने ऊपर वाले मकान पर जा रहा था। जब मैं दरवाजे के पास पहुंचा तो कराहने की बहुत हल्की आवाजें आ रही थीं।

मैं पचास साल का अनुभवी आदमी हूं। इन आवाज़ों को सुनकर मुझे अपनी पत्नी के साथ मनाई गई शादी की रात याद आ गई। उस दिन मैंने अपनी नवविवाहिता पत्नी को अपनी पूरी 26 साल की ताकत से चोदा। वह चार दिन तक लंगड़ाकर चलती रही।

जब भी मैं उस दिन के बारे में सोचता हूं तो मेरे पूरे शरीर में कामुक कंपन महसूस होता है।

मैं इन यादों से तब बाहर आया जब 5000 रुपये के नोट मेरे हाथ लगे।
मुझे लगने लगा कि मकान मालकिन जरूर किसी के साथ सेक्स कर रही है।

फिर भी मेरा दिल नहीं मान रहा था, उसका पति तो बाहर दूसरे जिले में है, फिर अंदर कौन है?

मैंने धीरे से खिड़की को थोड़ा सा बालकनी की तरफ धकेला।

हाय भगवान्! क्या हो रहा है? दो हट्टे-कट्टे आदमी मकान मालकिन के साथ मौज-मस्ती कर रहे थे। वह बिस्तर पर लेटी हुई बार-बार कराह रही थी। उसके ऊपर, एक मोटा आदमी अपने बड़े पेट के साथ उस लड़की के ऊपर था और अपने नितंबों को ऊपर-नीचे कर रहा था और अपने लंड को अंदर-बाहर कर रहा था।

दूसरा आदमी एक हाथ से लड़की के स्तनों को जोर-जोर से दबा रहा था और दूसरे हाथ से अपने तने हुए लंड को सहला रहा था। जो आदमी स्तन दबा रहा था वह मेरे इलाके का बदमाश नेता था, मैंने जब उसे ध्यान से देखा तो मुझे पता चला।

उसे चोदने वाला लड़का उसका दोस्त हो सकता है। (मुसल लंड से चोदा)

मैं मन ही मन उस नेता को गाली देने लगा, ‘साले! मूर्ख! वह अपने फील्ड का काम ठीक से नहीं करता और यहां आकर अपने खड़े लंड पर खूब अच्छी तरह से चुदाई करवा रहा है।

मेरा ध्यान उस लड़की पर गया। आह… आह… उसका नंगा बदन देख कर मेरे तन बदन में आग लग गयी। मेरा मन कर रहा था कि उसके दोनों बड़े-बड़े स्तनों को अपने हाथों से दबा दूँ। उसके गोरे नंगे बदन को देख कर मेरा रोम रोम उत्तेजित हो रहा था।

अब नेता जी की बारी थी चोदने की। उसका पेट काफी बाहर निकला हुआ था। उसने लड़की को कुतिया बनाया और चोदने लगा। नेता पीछे से धक्के मारे जा रहा था और मालकिन दर्द से कराह रही थी।

मेरी आँखें उसके लटकते हुए दोनों स्तनों को देखने का मोहित ले रही थीं। मैं उसके नंगे बदन को अपनी बांहों में लेने के लिए और अपने लंड को उसकी चूत में घुसाने के लिए तड़प रहा था। मेरा लंड बाहर आने के लिए फुंफकारने लगा और पूरा खड़ा हो गया।

मैंने अपनी पैंट की चेन खोली और अपने सख्त लम्बे लंड को हाथ से पकड़ कर जोर से बाहर खींच लिया। मेरे लंड से पानी निकल चुका था।
मैंने मन ही मन कहा- एक दिन मैं तुम्हें जरूर चोदूंगा, कुतिया! वरना मेरा नाम भी मोहित नहीं है।

उसके नग्न शरीर को देखने के बाद, मैंने अपनी आँखें बंद कर लीं और उस लड़की को चोदने की कल्पना करते हुए अपने खड़े लंबे लंड को सहलाने और हस्तमैथुन करने लगा। करीब दस मिनट बाद मेरे लंड से रस निकलने लगा।

मेरे लंड से रस निकलने के बाद भी मेरा लंड अपने सामान्य रूप में नहीं आया। अभी भी उसकी चूत में घुसने के लिए तरस रहा था। मैं फिर से उसके नंगे बदन को देख कर जोर जोर से मुठ मारने लगा।

इस बार बहुत सारा रस निकला और कुछ देर बाद मुझे कुछ राहत महसूस होने लगी। मैंने अपनी पैंट खोली और अपना लंड अन्दर डाला और बिना किराया दिए अपने घर वापस जाने लगा।

अपने घर पहुँच कर मैं सोफे पर बैठ गया। तभी मेरी पत्नी आई और मेरे कंधों को जोर से हिलाते हुए बोली- कहां खो गए? क्या तुम्हें ऑफिस नहीं जाना है?
मेरे मन में सिर्फ उसे चोदने का ही ख्याल था। मैं सपने में अपनी उंगलियाँ उसकी चूत में अन्दर-बाहर कर रहा था। बहुत मज़ा आ रहा था… उह… उह… उसकी कराहें।

मेरी पत्नी भी मेरे सपने देखने में हस्तक्षेप करती थी। क्या कोई आदमी किसी जवान लड़की को सपने में भी नहीं चोद सकता?

इन सपनों से बाहर आकर मैंने कहा- नहीं मैडम! ऑफिस नहीं जाऊंगा, अभी बहुत कमजोरी महसूस हो रही है।
वो बोली- लेकिन कुछ देर पहले तक तो तुम बिल्कुल ठीक लग रहे थे, अब क्या हुआ?
मैंने कहा- अरे मैडम! बीमारी कहीं भी, कभी भी हो सकती है…खासकर हृदय रोग।

मेरे बोलने के बाद वो चुप हो गयी।

मैंने अपनी पत्नी के चेहरे की तरफ देखा तो वह मेरी टांगों के बीच के उभार को देख रही थी। तभी वह मेरे पास आकर बैठ गई और मेरे चेहरे को संदेह की दृष्टि से देखने लगी।
मैं डर गया.. मैं समझ गया कि मेरी चोरी पकड़ी गई है। (मुसल लंड से चोदा)

वो मेरे खड़े लंड के ऊपर मेरी पैंट को छूते हुए बोली- यहां गीला है … आप किराया देने गये थे ना? क्या आप अपनी मालकिन को चोदने की योजना बना रहे हैं?
मैं तुरंत पीछे हट गया और बोला- अरे! आप क्या कह रहे हैं… मुझे मालकिन को चोदना चाहिए… नहीं नहीं, ऐसा नहीं है।
मैंने मन में कहा, ‘कैसी पत्नी मिली है मुझे… व्यावहारिक बातें समझती ही नहीं और जो नहीं समझना चाहिए वही समझती है… आउच!’

पत्नी ने फिर पूछा- तो बताओ, तुम वहां भीग कैसे गए?
मैंने थोड़ा गुस्से से कहा- सच सुनना है तो सुनो। आप दिन-रात व्यस्त रहते हैं 

भजनों और प्रार्थनाओं में… तुम्हारे साथ सेक्स किये हुए एक महीना हो गया है… मेरा लंड आज खड़ा हो गया था… उसे शांत करने का एक ही उपाय था। जब मैंने हस्तमैथुन किया तो क्या हुआ?

मेरी पत्नी थोड़ा झिझकते हुए बोली- अब मेरा सेक्स करने का मन नहीं होता.. आप अपनी हवस मिटाने के लिए कोई और क्यों नहीं ढूंढ लेते.. मैं आपसे कुछ नहीं कहूँगी।

मैंने ख़ुशी से कहा- सच्ची जान! क्या तुम मजाक कर रहे हो?

उसने दूसरी बार समझदारी दिखाई और बोली- तुम बहुत खुश हो रहे हो। क्या किसी को पहले से ही ढूंढ लिया है?
मैंने तुरंत कहा- हां… ऊपर मालकिन।
वो हैरान होकर बोली- क्या जवान औरत है! क्या वो लड़की आपके मोटे लंड का झटका झेल पाएगी? तुम इसकी चूत तो फाड़ ही डालोगे, जैसे पहले मेरे साथ किया करते थे।

मैंने अपनी बीवी को अपनी बांहों में भर लिया और बोला- मेरा लंड बर्दाश्त करना उसका काम है। आप जैसी पत्नी हर किसी को मिले जो अपने पति को खुली छूट देती है और अपने पति के बारे में सोचती है।

उस रात मैंने सपने में मकान मालकिन को खूब चोदा और रात को मुझे मतिभ्रम हो गया जिसके कारण सुबह मैंने जो लुंगी पहनी हुई थी उसमें से बहुत अच्छी खुशबू आ रही थी। (मुसल लंड से चोदा)

सुबह उठते ही सबसे पहले ख्याल उस रंडी को चोदने का आया। उस रंडी का नंगा गोरा बदन मेरी आँखों के सामने तैरने लगा। एकदम से मेरा काला लंड खड़ा हो गया और लुंगी के बीच से बाहर आ गया।

मैं रात को अंडरवियर नहीं पहनता… दिन में ऑफिस में मेरा लंड अंडरवियर के अन्दर तना हुआ रहता है और रात को आराम करता है।

जब मेरी पत्नी मुझे चाय देने आई तो उसकी नज़र सबसे पहले मेरे चेहरे की बजाय मेरे खड़े लंड पर पड़ी। वो चाय पकड़ते हुए थोड़ा हैरान हुई और बोली- तुम पचास साल के हो, फिर भी तुम्हारा लंड हमेशा गर्म रहता है.. तुम्हारा काला केला तो है ही। अभी भी बहुत छोटा है।

मैंने भी अपनी मूंछों पर ताव दिया और फिर अपना काला केला हाथ में पकड़ कर अपनी बीवी की तरफ देखते हुए कहा- ये मोहित लाला का लौड़ा है… ये तब तक शांत नहीं होगा जब तक ये उस रंडी को नहीं चोद देगा… देख लेना। मेरा लंड कैसे सांप की तरह फनफना रहा है … अब तो बस छेद ढूंढ रहा है।
पत्नी बोली- आज भी तुम्हें ऑफिस जाना है या नहीं?
मैंने एक हाथ से लंड सहलाते हुए कहा- नहीं … मैंने तीन दिन की छुट्टी ले ली है।

हॉट लड़कियां सस्ते रेट में इन जगह पर बुक करें :

करीब एक घंटे बाद मैं किराये के पैसे लेकर एक शर्ट और नई लुंगी पहन कर ऊपर जाने लगा। मकान मालकिन के घर पहुंच कर घंटी बजाई।
उसने दरवाज़ा खोला और मुझे देखते ही बोली- अरे लाला जी! आओ, किराया देने आए हो? मुझे बुला लिया होता!

उनके आखिरी शब्द सुनकर मैंने कहा- मैं कल रात को तुम्हें फोन करने की सोच रहा था लेकिन नहीं किया।
वह थोड़ा मुस्कुराई। ऐसा लगा मानो वह मेरी द्विअर्थी बात का असली मतलब समझ गयी हो।

उसने अपना स्वर छोड़ते हुए कहा- हां, तुम्हें तो रात को ही फुरसत मिलती होगी, दिन भर तो ऑफिस में ही रहते होगे।
मैं एक सोफ़े पर बैठ गई और वह मेरे ठीक सामने सोफ़े पर बैठ गया। उसके बालों से शैंपू की खुशबू आ रही थी… वो अभी-अभी नहाकर आई थी और उसने लाल और सफेद मिक्स्ड डिज़ाइन की साड़ी पहनी हुई थी। उसके ब्लाउज के ऊपर उसके दो पके हुए रसीले आम दिख रहे थे। उसकी पतली कमर मेरे दिल को घायल कर रही थी।

मैं सोफ़े पर बैठा ही था कि मेरा लंड कहर बरपाने को तैयार होने लगा… मेरी दोनों बड़ी-बड़ी टखनों और टांगों के बीच लटके काले केले में खून का प्रवाह बहुत तेज़ी से बढ़ने लगा। मैंने अपनी शर्ट की जेब से पैसे निकाले और देने लगा।

जब उसकी कोमल उंगलियाँ मेरी उंगलियों को छूती थीं, तो ऐसा लगता था जैसे मेरे पूरे शरीर में आग लग गई हो और यह आग उसकी गहरे लाल रंग की साड़ी ने और भी भड़का दी थी।

वो बोली- और बताओ तुम्हारा काम कैसा चल रहा है?

मैंने कामुक आवाज में कहा- काम तो अच्छा चल रहा है, बस एक काम बाकी है।

फिर उन्होंने बात संभालते हुए कहा- आजकल फैक्ट्री का काम थोड़ा धीमा है।

हम दोनों बातें कर रहे थे कि अचानक मालिक का सफेद, घने बालों वाला पालतू कुत्ता मेरे पैरों के पास आया और भौंकने लगा और अपने दांतों से मेरी लुंगी खींचने लगा। इस अचानक खिंचाव से मेरी लुंगी की गांठ खुल गई और पचास साल से जमा किया हुआ काला माल दिखने लगा। (मुसल लंड से चोदा)

मैंने मालकिन की तरफ देखा.. उनकी नजरें मेरे तने हुए लंड को ही देख रही थीं।

मैंने झट से उसे अपनी लुंगी से छुपा लिया।

जब मालकिन ने कुत्ते को डांटा तो वह वहां से चला गया।

अब मैं खड़ा हुआ और अपनी लुंगी को ठीक से टाइट करने लगा। मालकिन की नजरें अब भी मेरी टांगों के बीच टिकी हुई थीं।

वो खड़ी हुई और मेरे पास आकर मेरी लुंगी के ऊपर से मेरे लंड को सहलाने लगी। कुछ सेकंड के बाद मेरे दोनों बड़े स्तन ज़ोर से दब गये।

मैं गहरी साँसें ले रहा था… मुझे मजा आने लगा… जब उसने अपने होंठ मेरे होंठों पर रखे तो मेरे मन में उसके रसीले होंठों को चूसने का ख्याल आया था। मैंने उसके चेहरे को कस कर पकड़ लिया और जोर जोर से उसके रसीले होंठों का रस पीने लगा। कितने सालों बाद ऐसे रसीले होंठ मिले थे?

उसने लुंगी के अन्दर हाथ डाल कर मेरा काला केला बाहर निकाल लिया और उसे पकड़ कर आगे-पीछे करने लगी। कभी-कभी तो वो मेरे केले को जोर से भी दबा देती थी।

कुछ मिनट बाद वो मेरी हथकड़ी अपने चेहरे से हटाने लगी। मैंने उसके चेहरे से अपना हाथ हटा लिया। वो तुरंत घुटनों के बल बैठ गई और मेरा लंड, जो 90 डिग्री पर खड़ा था, अपने मुँह में लेकर चूसने लगी।

ऐसा लग रहा था मानो वो लंड नहीं बल्कि चॉकलेट चूस रही हो. 

मेरे मुँह से कराहें निकलने लगीं- आ… आ… ह… ह… क्या चीज़ है… मज़ा आ रहा है… और जोर से चूसो!

मेरा लंड तो आधा भी उसके मुँह में नहीं जा पा रहा था, लेकिन जब वो लंड के छेद के किनारे को अपने कोमल होंठों से रगड़ती थी, आह… क्या मजा आ रहा था।

उसके द्वारा होंठों को चूसना और मेरे लंड को चूसना पंद्रह मिनट तक चलता रहा।

फिर मैंने कहा- बस मेरी रानी! क्या तुम सिर्फ मेरा लंड चूसना चाहती हो या उससे चुदना भी चाहती हो?

यह कह कर मैंने उसे अपनी बांहों में उठा लिया और एक कमरे की ओर जाने लगा। वह अपना बायाँ हाथ मेरी शर्ट के अंदर ले जा रही थी और मेरी छाती पर बालों को सहला रही थी। मैं इतना उत्तेजित हो रहा था कि बस उसे ज़मीन पर लिटा कर चोदने के बारे में सोच रहा था।

लेकिन बिस्तर पर सेक्स करने में ज्यादा मजा आता है, इसलिए मैं कमरे में पहुंचा और उसे बिस्तर पर पटक दिया और उत्तेजना में अपनी शर्ट खोलने लगा। वो भी अपनी साड़ी खोलने लगी। अपनी शर्ट खोलने के बाद उसने अपनी लुंगी भी एक झटके में खोल दी.. वो मुझे अपने कपड़े खोलते हुए देख रही थी और मैं उसे देख रहा था।

मुझे अंडरवियर न पहने देख कर वो बोली- तुमने तो मुझे चोदने का इंतजाम पहले ही कर लिया था?
मैंने कहा- तुम्हें अब पता चल रहा है… मेरा लंड कल सुबह से ही तुम्हारी चूत में जाने के लिए तड़प रहा है।

वो अपनी साड़ी खोल रही थी और ब्लाउज खोल रही थी। मैं नंगी ही बिस्तर पर कूद कर खड़ा हो गया। वो कुछ कहने ही वाली थी कि मैंने अपना काला सख्त केला उसके मुँह में ठूंस दिया। फिर वो उसे चूसने लगी। (मुसल लंड से चोदा)

मैंने कराहते हुए कहा- तुझे चोदने के बाद बात करूंगा रानी!
उफ़… उफ़… मेरे लंड का उसके मुँह में अंदर-बाहर आना-जाना… मोहित की कोई सीमा नहीं थी।

मैंने कहा- रानी! ये काम तो बहुत पहले हो जाना चाहिए था… उफ़… आह… हा… चूसो… चूस-चूस कर मेरा लंड काला कर दो।

फिर उसे बिस्तर पर लेटा कर मैं जल्दी से उसका साया खोलने लगा। साया तो खुल गया लेकिन उसकी अंदर की पैंटी नहीं खुल रही थी। पैंटी बहुत टाइट थी।

मेरी बेचैनी देख कर वो हंसने लगी और बोली- लाला जी! थोड़ा शांत हो जाओ… यहां तक कि शादी की रात को भी, मेरे पति कभी इतने कामुक और चुदाई के लिए उत्सुक नहीं थे, जितने तुम अब हो!

यह कहते हुए उसने अपनी टाइट पैंटी एक ही बार में उतार दी और मैंने अपना पचास साल का मांसल और मजबूत शरीर उसके नंगे शरीर पर रख दिया और उसके दो बड़े स्तनों को अपने मुँह में लेकर चूसने लगा। बीच-बीच में मैं उसके दोनों मम्मों को अपने हाथों से जोर से दबा देता और उसके मुँह से कराह निकल जाती।

वो अपने हाथों से कभी मेरी पीठ तो कभी मेरे चेहरे को सहला रही थी। अब तक मेरा लंड अपनी अधिकतम लम्बाई प्राप्त कर चुका था।

मैं अपने लंड को दाहिने हाथ से पकड़ कर उसकी योनि के पास लाया और एक ही झटके में अन्दर डाल दिया। हर झटके के साथ उसकी चीख निकल जाती थी।
शुरू में तो मेरा पूरा लंड अन्दर नहीं जा रहा था…

मैंने कहा- कितनों से चुद चुकी हो, फिर भी तेरी चूत ढीली नहीं हुई?
वो बोली- मुझे आज तक इतना मोटा और लम्बा लंड नहीं मिला, लाला जी!
मैंने कहा- कोई बात नहीं, आज ये ढीला हो जायेगा।

इतना कह कर मैंने और जोर से धक्का लगाया.. इस बार मेरा लंड काफी अन्दर तक चला गया था। वो दर्द से कराहने लगी और बोली- तुमने तो आज मेरी फाड़ दी। उम्म्ह… अहह… हय… याह…

मैंने अपना चुदाई का काम जारी रखा। पांच, छह झटकों के बाद उसे भी मजा आने लगा और कहने लगी- चोदो … और चोदो।

कुछ मिनट बाद वो कुतिया बन गई और मैं उसे पीछे से चोदता रहा। उसे कुतिया बन कर चुदना बहुत पसंद था। फिर करीब बीस मिनट के बाद मैं फचाक-फचाक की आवाजें करते हुए उसके अंदर ही झड़ गया।

आख़िरकार मेरे लंड के गर्म वीर्य ने उसकी प्यास बुझा दी।
वो बोली- धन्यवाद लाला जी! मुझे सेक्स के चरम बिंदु पर पहुंचाने के लिए… आज जैसे चरम बिंदु पर मैं पहले कभी नहीं पहुंची था।

और हम दोनों एक दूसरे की बांहों में आराम करने लगे। एक दूसरे के शरीर की गर्माहट हमें खुश और सुकून दे रही थी।

आपको ये चुदाई कहानी कैसी लगी, आप मुझे मेल और कमेंट्स में बता सकते हैं।

तो दोस्तो, आपको मेरी यह चुदाई की कहानी कैसी लगी, जरूर बताएं।

अगर आपको यह मुसल लंड से चोदा कहानी पसंद आई तो हमें कमेंट बॉक्स में ज़रूर बताएं।

यदि आप ऐसी और चुदाई की सेक्सी कहानियाँ पढ़ना चाहते हैं तो आप “Readxstories.com” पर पढ़ सकते हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Delhi Escorts

This will close in 0 seconds