July 16, 2024
नौकर ने मकान मालकिन की बेटी को जबरदस्ती चोदा

नमस्कार दोस्तों, मेरा नाम हनी सिंह है और मै लाया हू एक मजेदार चुदाई स्टोरी, आज मै आपको बताने जा रहा हू की कैसे नौकर ने मकान मालकिन की बेटी को जबरदस्ती चोदा , मै दावे के साथ कह सकता हू इसे पढ़कर आपकी पैंट गीली हो जाएगी तो चलिए शुरू करते है बिना किसी देरी के,

मैं कोलकाता से पूजा हूं। मैं एम.ए. का छात्रा हूँ। मैं आपको अपनी कहानी बताने जा रही हूँ जो मेरे साथ घटित हुई जब मैं 12वीं कक्षा की परीक्षा देने के बाद फ्री हुई ।

मेरे माता-पिता सरकारी नौकरी में हैं. इसलिए मैं पूरे दिन घर पर अकेली रहती थी. हमारा एक कल्लन नाम का नौकर भी हमारे साथ रहता है. उसकी उम्र करीब 28 साल है और वो एक अच्छा, स्वस्थ्य और ताकतवर आदमी है.

एक दिन मैं अकेला बैठी था. मम्मी-पापा अभी ऑफिस गए हुए थे. कल्लन मेरे पास आया और बोला, क्या कर रहे हो? मेंने कुछ नहीं कहा। वह बोला- मैडम साहब, अगर आप बुरा न मानें तो एक बात बताऊं.

मैंने कहा, बताओ. वह बोली- सर, आज मुझे अपनी पत्नी की बहुत याद आ रही है. उनकी पत्नी इंदौर के गांव में रहती हैं. मैंने कहा, बताओ मैं क्या कर सकती हूं.

उसने कहा- मैडम साहब, थोड़ी देर मुझसे बात कर लीजिए. इससे मुझे थोड़ा हल्का महसूस होगा. मैंने कहा, कोई बात नहीं. मैं उसके परिवार के बारे में पूछने लगी .

बातचीत के दौरान वह बोला- मैडम साहब, हम अपनी बीवी के साथ खूब एन्जॉय करते हैं. मैंने कहा, आप किस बारे में बात कर रहे हैं? आप किस मजे का आनंद लेते हैं? वह बोला- मेम साहब को सेक्स में बहुत मजा आता है.

मैंने पूछा- इस सेक्स में क्या मजा है? उसने कहा, मैडम , आज मैं आपको पूरी बात विस्तार से समझाऊंगा. फिर उसने कहा- पहले मैं उसके सारे कपड़े उतारता हूँ, फिर उसके पूरे शरीर को चूमता हूँ।

फिर मैं उसके शरीर पर हाथ फिराता हूं, ऐसा करने से वह भी उत्तेजित हो जाती है। फिर मैंने उसके स्तन चूसता । मैंने उसे टोका, मुझे कुछ समझ नहीं आ रही है.

उसने कहा- मैडम, चिंता मत कीजिए, मैं आपको प्रैक्टिकल के बाद बताऊंगा। इससे पहले कि मैं कुछ समझ पाती, उसने मुझे चूमना शुरू कर दिया. मैंने उस दिन स्कर्ट टॉप पहना हुआ था. उसने मेरे दोनों हाथ पकड़ लिए

एक हाथ से इसे अपनी पीठ के पीछे कस लें। और वो मेरे होठो को चूसने लगा। उसकी सांसों से शराब की गंध आ रही थी. वह एक शक्तिशाली व्यक्ति थे.

वह बोला पूजा मैडम सर आपके होंठ बहुत रसीले हैं। इतने रसीले होंठ तो मेरी बीवी के भी नहीं हैं. मैंने कहा- कल्लन , अब बहुत हो गया. अब मुझे छोड़ दो।

वो बोला- मैडम, मैं आज 4 बजे की ट्रेन पकड़ कर निकलूंगा. लेकिन जाने से पहले मैं तुम्हें अच्छे से चोदना चाहता हूँ।

उसने कहा, मैडम साहब, आपके हाथ तो सिर्फ प्यार के लिए हैं। उसने मुझे पीछे से पकड़ लिया और मेरे साथ सोफे पर बैठ गया. मैं उसकी गोद में बैठ गई वो मेरे पेट पर हाथ फिराने लगा.

फिर धीरे-धीरे वह अपना हाथ मेरी छाती पर ऊपर की ओर लाने लगा, उसका हाथ मेरी छाती पर आ गया। वो मेरी छाती को कस कर दबाने लगा. ये मेरे लिए बहुत दर्दनाक था.

मैं चिल्लाई, ऊऊऊ मुझे छोड़ दो, लेकिन उसने मेरे स्तनों को मसलना जारी रखा। फिर उसने अपने दूसरे हाथ से मेरे टॉप के बटन खोल दिये. वो अपना हाथ टॉप के अंदर ले गया. और मेरे स्तन दबाने लगा.

मेरे शरीर में झुरझुरी सी होने लगी. जिन्दगी में पहली बार किसी का हाथ मेरे स्तनों को छू गया। कुछ देर तक तो मुझे उसका स्पर्श अच्छा लगा लेकिन वो बहुत जोर से दबा रहा था.

मुझे भी बहुत दर्द हो रहा था. फिर उसने मेरा निपल ढूंढ लिया और उसे मसलने लगा. मेरी चुचियों को मसलने से मेरे शरीर में मीठी आग भरने लगी. मेरे शरीर में एक आनंद की अनुभूति फैलने लगी थी.

मेरी चूत गीली होने लगी. लेकिन वह इस बात से अंजान था. कुछ देर बाद उसने अपने दूसरे हाथ से मेरे टॉप को थोड़ा ऊपर उठाया और फिर दोनों हाथों से झटका देकर टॉप को उतार कर दूर फेंक दिया.

फिर उसने मेरी ब्रा की पट्टियाँ नीचे कर दीं और मेरे स्तन उछल कर ब्रा से बाहर आ गये। उसने दोनों स्तन पकड़ लिये और धीरे-धीरे दबाने लगा।

यह कितना मधुर एहसास था. अब मैं विरोध नहीं कर रही थी , न ही करना चाहता थी . मैं होने वाली अद्भुत चुदाई का आनंद लेने लगा थी । उसने मुझे खड़ा कर दिया.

मेरी स्कर्ट का हुक खोला और एक ही झटके में मेरी स्कर्ट और पैंटी उतार दी. इस तरह उसने मुझे पूरी नंगी कर दिया. फिर उसने अपनी शर्ट और लुंगी उतार दी. वह भी पूरा नंगा था.

उसका शरीर बहुत मजबूत था और उसका लिंग लगभग 7 इंच लंबा और लगभग 2 इंच मोटा था। पहले तो मैं उसे देखता ही रह गयी . उसका शरीर सुगठित था. लंड एकदम तना हुआ था. फिर मैं उसे देखकर बहुत डर गयी .

उसने मुझे पकड़ कर बिस्तर पर लिटा दिया और मेरे ऊपर बैठ गया। पहले उसने मेरे पूरे शरीर को चूमा, फिर मेरे स्तनों को दबाया और फिर उन्हें मुँह में लेकर बारी-बारी से चूसने लगा।

एक मस्ती का एहसास मेरे दिलो-दिमाग पर हावी होने लगा। उसके शरीर का ललचाता दबाव मुझ पर असर करने लगा. मेरी चूत में एक अजीब सी खुजली होने लगी. खुजली बढ़ती गयी.

मेरे निपल्स खड़े हो गये थे. उसने अपना लंड मेरी चूत पर रखा और एक झटका दिया. लंड थोड़ा अन्दर चला गया. मैं चीख पड़ी, आआइइइइइइइइइइइइइइइइइइइइइइइइइइइइइइइइइइइइइइइइइइइइइइइइइइइइइइइइइइइइइइइइइइइइइइइइइइइइइइइइइइइइइइइइइइइइइइइइइइइइइइइइइइइइइइइइइइइइइइइइइइइइइइइइइइइइइइइइइइइइइइइइइइइइइइइइइइइइइइइइइइइइइइइइइइइइइइइइइइइइइइइइइइइइइइइ

फिर उसने एक जोरदार झटका मारा और लंड करीब आधा अन्दर चला गया. मेरी सील भी टूट गयी. मेरी चूत से खून निकलने लगा. मैं चीखना चाहती थी लेकिन उसने मेरे होंठों को अपने होंठों में दबा लिया, बोला- मैडम, आप बहुत मस्त हैं. आज तुम्हारी सील तोड़ने में मुझे मजा आ गया.

उसने एक और जोरदार झटका मारा और उसका लंड पूरा मेरी चूत में घुस गया. मैं चीखना चाहता थी लेकिन चिल्ला नहीं सकी । मेरे आंखों से आंसू टपक रहे थे.

उन्होंने कहा, मैं थोड़ा रुक जाता हूँ . फिर उसने मेरे स्तनों को चूसना शुरू कर दिया. इससे मुझे बहुत आराम मिला और मेरा दर्द भी कम हो गया. फिर उसने धीरे-धीरे अपना लिंग अन्दर-बाहर करना शुरू कर दिया।

फिर दर्द की एक धीमी लहर उठी, लेकिन अब मुझे भी मजा आ रहा था. कुछ देर बाद दर्द बिल्कुल दूर हो गया. अब तो बस मजा ही मजा था. पूरे आनंद के साथ

मुझे चोदा. उसका मोटा और ताकतवर लंड मेरी चूत की खुजली शांत करने में लगा हुआ था. मैंने भी अपनी गांड उठा कर उसका साथ दिया. खूब उछल उछल कर उससे चुदवाया। कुछ देर बाद मैं स्खलित हो गया.

लेकिन वो अभी भी पूरी ताकत से चोद रही था. उसने मेरी टांगें ऊपर उठा दीं. फिर उसने उसे बायीं ओर घुमाया और मेरी गांड पकड़ कर मुझे घोड़ी बना दिया. मैंने इस पोजीशन का भरपूर आनंद लिया.

मैं एक बार फिर चरम सीमा पर पहुंच गयी . एक घंटे तक चोदने के बाद वो ठंडा हो गया. 15 मिनट बाद उसने मुझे फिर से पकड़ लिया और मेरी चूत चाटने लगा. उसने अपनी जीभ मेरी चूत के अन्दर डाल दी. मैं फिर से

मैं आनंद के सागर में गोते लगाने लगी . मुझे असीम सुख मिलने लगा. इस बार उसने मुझे लिटाया और अपना लंड मेरे मुँह में डाल दिया. लंड बहुत मोटा था.

फिर भी मजे के मारे मैंने उसे खूब चूसा। मैंने लंड को दांतों से जोर से दबाया और काटा . वो अपनी स्वादिष्ट जीभ से मेरी चूत को चाटने लगा. इस तरह मैं एक बार फिर गर्म हो गयी.

इस बार उसने मुझे बिस्तर पर खड़ा किया और मेरी चिकनी गांड में अपना लंड डाल दिया. इससे मुझे बहुत दर्द हुआ. करीब आधे घंटे तक मेरी गांड चोदने के बाद वो ठंडा हो गया.

मेरा हर अंग दर्द कर रही था. उसके बाद साढ़े तीन बजे तक उसने मुझे पांच बार चोदा और फिर जल्दी से अपने कपड़े लेकर भाग गया. जाते-जाते उसने कहा, मैडम साहब, मैं आपको हमेशा याद रखूंगा।

तुम मेरी सेक्स की देवी हो. जो सुख तुमने मुझे दिया है वो आज तक किसी औरत में नहीं है . उस दिन के बाद मैंने ये बात किसी को नहीं बताई, लेकिन मुझे उसकी चुदाई की याद आती रहती है .

सच कहूं तो मैंने भी इसका भरपूर लुत्फ उठाया. अगर आपको कहानी पसंद आई हो तो इसे अपने दोस्तों के साथ जरूर शेयर करें. हमारी वेबसाइट antarvasnastory.net.in आपके लिए ऐसी मजेदार सेक्स कहानियां लाती रहेगी।

दोस्तों मुझे मेरी कहानियों पर बहुत अच्छी प्रतिक्रिया मिल रही है. मुझे उम्मीद नहीं थी कि आप सबको मेरी कहानी इतनी पसंद आएगी. तो देखा आपने कैसे नौकर ने मकान मालकिन की बेटी को जबरदस्ती चोदा ,दोस्तों कैसी लगी मेरी स्टोरी मैंने कहा था आपकी पैंट गीली होने वाली है , तो चलिए मिलते है अगली स्टोरी मैं तब तक के लिए अपना दिन रखिये | और हिंदी सेक्स स्टोरी पढ़ने के लिए हिंदी सेक्स स्टोरी पर क्लिक करे

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Delhi Escort

This will close in 0 seconds