July 9, 2024
विधवा भाभी की चूत

नमस्कार दोस्तों, मेरा नाम हनी सिंह है और मै लाया हू एक मजेदार चुदाई स्टोरी, आज मै आपको बताने जा रहा हू की कैसे विधवा भाभी की चूत चोदकर भाभी की प्यास भुजाई , मै दावे के साथ कह सकता हू इसे पढ़कर आपकी पैंट गीली हो जाएगी तो चलिए शुरू करते है बिना किसी देरी के,

हैल्लो दोस्तों, मेरा नाम प्रशांत है और मेरी उम्र 24 साल है और में अपने पूरे परिवार के साथ फरीदाबाद में रहता हूँ. वैसे मैं एक छोटे सामान्य परिवार का लड़का हूं.

दोस्तों, आज जो मैं आपको बताने जा रहा हूँ वो 1 साल पहले मेरे साथ घटी एक सच्ची घटना है, जिसमें मैंने अपने मकान मालिक की विधवा बहू की मजबूरी को समझते हुए उसे चोदकर उसके साथ-साथ अपनी यौन भूख को भी शांत किया। और उसने अपना काम पूरा कर लिया जो मैं पिछले कुछ दिनों से करने की योजना बना रहा था, क्योंकि उसके गोरे चेहरे और कामुक शरीर के कारण, वह उतनी उम्र की नहीं लगती थी और वैसे भी, उसके पति की कई साल पहले मृत्यु हो चुकी थी। हो जाने के बाद वो अपनी बिना चुदी हुई चूत को अपने साथ लेकर घूम रही थी

और मैंने उसे चोदकर उसकी इच्छा पूरी कर दी. अब सुनिए मेरी कहानी जिसके लिए आज हम सब साथ हैं क्योंकि मैं भी पिछले कई सालों से सेक्सी सच्ची कहानियाँ पढ़ता आ रहा हूँ और उनके मजे लेता आ रहा हूँ और आज मैं अपनी आप बीती सुनाने जा रहा हूँ।

दोस्तों आज से करीब 1 साल पहले हम सभी लोग एक किराये के मकान में रहते थे. हम लोग उस घर की पहली मंजिल पर रहते थे और हमारी मकान मालकिन ग्राउंड फ्लोर पर अपनी विधवा बहू के साथ रहती थी और उसकी बहू का नाम संगीता था। वह 33 साल की थी और हम उसे हमेशा संगीता भाभी कहते थे।

दोस्तों संगीता भाभी एक बहुत ही अच्छे व्यवहार वाली महिला थी और वो एक शांत स्वभाव की महिला थी. उनका एक 9 साल का बेटा था जो उस समय एक हॉस्टल में रहता था और वहीं पढ़ता था और वो खुद एक छोटे से स्कूल में टीचर थी और उसका घर पर अकेले बैठने का मन नहीं करता था.

इसलिए पिछले कुछ सालों से वह पास के एक प्राइवेट स्कूल में बच्चों को पढ़ाने लगी थी और वह मुझे बहुत पसंद थी और उसका बात करने का तरीका और उसका व्यवहार खुशमिजाज स्वभाव का था इसलिए वह मुझे शुरू से ही बहुत पसंद थी.

मैं उसकी ओर आकर्षित था और जब भी वह घर के पीछे बाथरूम में कपड़े धोती थी तो मैं खिड़की के पीछे छुप जाता था और ऊपर से उसे देखता रहता था। जब वह कपड़े धोने में व्यस्त रहती थी तो वह बैठ जाती थी और अपनी गोरी छाती मेरी ओर कर देती थी और मउसके लटके हुए बूब्स बहार की और आ जाते थे ।

मैं स्तनों को देखकर मन ही मन खुश होता था और फिर कुछ देर बाद उस खूबसूरत नज़ारे को देखकर उत्तेजित हो जाता था और खिड़की पर लगे पर्दे के पीछे छिप जाता था और उन्हें देखते हुए उनके नाम से हस्तमैथुन करता था।

अब में चाहता था कि वो मेरी सेक्स की भूख को हमेशा के लिए शांत कर दे और अब मेरी हॉट सेक्सी भाभी को देखकर मेरी हालत इतनी खराब हो गई थी कि रात को भी मेरा वीर्य निकलने लगा और मैंने उसे नींद में भी चोदा. मैं सपने देखने लगा. फिर एक दिन दोस्तों किसी कारण से ऊपर के बाथरूम में पानी नहीं था

तो में नहाने के लिए घर के पीछे वाले बाथरूम में नीचे चला गया और जब मैंने बाथरूम का दरवाज़ा बंद किया तो वो बंद नहीं हुआ तो मैंने कई बार कोशिश की कुंडा डाल दूँ यह पर। हां, लेकिन यह अभी भी फिट नहीं हुआ क्योंकि पानी के कारण दरवाजा फूल गया था और इसलिए इसे फिट करना बहुत मुश्किल था। फिर मैंने मन में सोचा कि कौन आएगा? क्योंकि वैसे भी इस समय संगीता स्कूल गयी होगी और उसकी सास अभी भी सो रही होगी.

फिर दोस्तों यह बात सोचकर मैंने दरवाज़ा थोड़ा सा बंद किया और नहाने लगा और तभी अचानक से मेरा ध्यान उस दरवाज़े के पीछे लटकी हुई पेंटी और ब्रा पर गया. दोस्तों शायद सुबह जल्दी स्कूल जाने की वजह से संगीता हमेशा स्कूल से वापस आने के बाद अपने कपड़े धोती थी, इसलिए उस समय वो दरवाजे पर लटके हुए थे और मैंने तुरंत उस पेंटी को नीचे उतारा और उसे सूंघने लगा.

फिर मैंने सूंघकर महसूस किया कि उस पेंटी से बहुत तेज खुशबू आ रही थी और पेंटी का अगला हिस्सा जो हमेशा चूत के सामने चिपकता है उस जगह से बहुत टाइट था और मानो उस पेंटी में नशा भरा हुआ था जिसे देखकर में उसे सूँघो तो उस ब्रा से पाउडर की हल्की सी गंध आ रही थी। फिर मैंने वहां से संगीता का तेल उठाया और अपने एक हाथ में लेकर लंड पर लगाया और लंड की मालिश करने लगा, जिससे लंड एकदम चिकना और चमक गया.

अब में जोश में आकर पागलों की तरह हर चीज़ को सूँघ रहा था और मुझे हर जगह से संगीता के बदन की खुशबू आ रही थी और में उसे सूँघते हुए अपने लंड को ज़ोर-ज़ोर से हिला रहा था। फिर मैंने बाथरूम की दीवार पर पानी डाला और पागलों की तरह अपना लंड दीवार पर रगड़ रहा था. मानो वो कोई दीवार नहीं बल्कि संगीता की गांड हो और फिर अचानक से मैं स्खलित हो गया और उस दिन मेरे लंड ने ढेर सारा गाढ़ा सफेद पानी छोड़ दिया.

दोस्तों सच कहूँ तो उस दिन मुझे बहुत अच्छा लगा और अब में हर दिन नीचे वाले बाथरूम में नहाने जाने लगा और हर दिन ब्रा और पेंटी को सूंघता, अपने लंड को हिलाता और पेंटी में ही अपना वीर्य निकाल देता, लेकिन एक दिन मैंने खुद को वहां पाया। लेकिन संगीता के कपड़े नहीं मिले और फिर मुझे शक हुआ कि उसने मेरे लंड को सूंघा है या उसने अपनी ब्रा और पेंटी पर मेरा वीर्य देखा है, इसलिए आज वो बाथरूम से अपने कपड़े उठाकर ले गयी.

फिर अगले दिन दोपहर को करीब 2 बजे जब में नहाने के लिए उसी बाथरूम में गया तो मैंने देखा कि वहां पर एक बहुत ही सुंदर पेंटी और ब्रा लटकी हुई थी. मैं उनको देख कर बहुत खुश हो गया और उन्हें सूंघने और चाटने लगा. दोस्तों मैं सेक्स का इतना दीवाना हो जाता हूँ कि किसी विधवा भाभी की चूत या और गांड का छेद भी चाट लेता हूँ.

अब में उस समय भाभी के बारे में सोचकर अपने लोड़े को पकड़कर पागलों की तरह हिला रहा था और उनकी पेंटी को भी सूंघ रहा था. मेरा लंड, जो अब पूरी तरह से खड़ा हो चुका था, भी उस मुलायम पैंटी का आनंद ले रहा था। तभी अचानक से किसी ने आकर दरवाज़ा खोला, लेकिन में तो अपनी दोनों आँखे बंद करके मज़े से मुठ मार रहा था इसलिए मेरा लंड पूरा खड़ा हो गया था और लाल हो गया था.

फिर अचानक मेरी आँख खुली तो देखा कि संगीता अब मेरे सामने खड़ी थी. मैं बिल्कुल भूल गया था कि आज शनिवार है और संगीता उस दिन स्कूल से जल्दी आ जायेगी, लेकिन आज मेरे साथ ऐसा हो चुका था. वो अपने स्कूल से जल्दी आ गयी थी और उसे सामने देखकर मेरी गांड फट गयी. उसने मुझे उस हालत में देखकर बहुत गुस्से से मेरी तरफ देखा और फिर उसने तुरंत झटके से अपनी पेंटी मेरे हाथ से छीन ली और वो मुझे उसी गुस्से से देखती हुई चली गयी.

अब उसका वो गुस्सा देखकर मेरा पूरा बदन सूख गया और में बहुत डर गया. मैं उसी वक्त तेजी से बाथरूम से बाहर आया और तुरंत ऊपर चला गया. फिर मैंने मन में सोचा कि शायद वो सीधे मेरी माँ के पास गई होगी और उन्हें उस हरकत के बारे में बताया होगा, लेकिन उन्होंने ऐसा नहीं किया और फिर भी में पूरे दिन घर में डरा हुआ रहा.

मैं छत पर इधर-उधर घूमता रहा और सोचने लगा कि अगर वो आएगी तो सही मौका देखकर उससे अपनी गलती के लिए माफी मांग लूंगा और शाम को 5:00 बजे एक बच्चा नीचे से मुझे बुलाने आया. वह संगीता से ट्यूशन पढ़ता था। उसने मुझसे कहा कि मैडम तुम्हें बुला रही हैं. फिर वह नीचे आया और संगीता के पैर छूकर माफी मांगने की सोच रहा था।

कुछ देर बाद मैंने नीचे जाकर देखा तो नीचे कोई नहीं था, क्योंकि संगीता की सास सत्संग सुनने के लिए घर से बाहर गयी हुई थी और तब तक उन्होंने अपने पास ट्यूशन के लिए आने वाले बच्चों को छुट्टी दे दी थी और जब मैंने हिम्मत करके संगीता के घर गया, जब मैं कमरे में गया तो देखा कि उसने हल्के गुलाबी रंग का नाइट गाउन पहना हुआ था, जिसे देखकर लग रहा था कि यह उसकी शादी के समय का गाउन है।

तब वो एक टेबल पर बैठकर कुछ लिख रही थी और में उस समय उसके पीछे खड़ा था और अब उसने मेरी तरफ देखे बिना मुझसे कहा कि तुम यहाँ उसके पास आओ. अब में बहुत चकित हो गया और चुपचाप उसके पास चला गया. फिर उसने मुझसे कहा कि तुम अभी यहीं बैठो और उसके कहने पर में चुपचाप उसके पास बैठ गया और मैंने देखा कि वो अभी भी कुछ लिख रही थी और फिर उसने मेरी तरफ देखे बिना कहा.

संगीता – तुम इतने दिनों तक मेरे कपड़ों के साथ क्या कर रहे थे?

मैं: संगीता जी प्लीज़ मुझे माफ़ कर दो और जो भी गलती से हुआ. ऐसा दोबारा कभी नहीं होगा और तुम्हें मेरी तरफ से शिकायत का कोई मौका नहीं मिलेगा, बस एक बार मुझे माफ़ कर दो।

संगीता : मैं तुमसे ये सब नहीं पूछ रही. सबसे पहले ये बताओ कि तुम मेरी पैंटी के साथ क्या कर रहे थे?

दोस्तों उसके मुहं से पेंटी शब्द सुनकर मुझे बहुत अजीब लगा और इसलिए में थोड़ा फ्री हो गया. मैं मन ही मन उसको चोदने का सपना सच होता देख बहुत खुश था, जिससे मुझे आगे बढ़ने की हिम्मत मिल रही थी.

संगीता : क्या मुझे तुम्हारी माँ को बताना चाहिए कि तुम आजकल कैसे काम करने लगी हो?

में : प्लीज़ मेरे परिवार को कुछ मत बताना, प्लीज़ अपना मुँह बंद रखना, नहीं तो मेरे साथ बहुत बुरा हो सकता है।

अब संगीता मेरी बात सुनकर हल्की सी मुस्कुराई और वो मुझसे कहने लगी.

संगीता – अगर तुम मेरा मुँह बंद करना चाहते हो तो करो, तुम्हें रोका किसने है? तो फिर इसमें आपका भी फ़ायदा है और मेरा भी?

में : हाँ मुझे समझ नहीं आया कि आपका इससे क्या मतलब है और आप क्या कह रहे है?

संगीता – हाँ, अगर तुम मेरा मुँह बंद करना चाहते हो तो करो, मेरा मुँह बंद करो, हाँ मैं भी तैयार हूँ।

में : हाँ ठीक है आप कहो तो कर लूँगा, लेकिन काम पर कैसे करूँ?

संगीता – पागल, तेरा लंड तो 6 इंच लम्बा है. क्या मैं आपको बताऊं कि किसी लड़की का मुंह कैसे बंद करें? अब चलो, अपने होंठ मेरे होंठों पर रख दो और आज मेरा मुँह हमेशा के लिए बंद कर दो।

दोस्तों अब में संगीता की वो बातें सुनकर बिल्कुल पागल हो गया और फिर में थोड़ा डरते हुए उसकी तरफ जाने लगा, लेकिन वो अचानक से उछलकर मुझसे चिपक गई और उस समय उसका पूरा शरीर मुझसे सांप की तरह लिपटा हुआ था और उसने किस किया. मेरे होंठ। चूसने लगा. फिर उसने मेरे दोनों होंठों को करीब दस मिनट तक चूसा और फिर एक-एक करके चूसने लगी. कभी उसका ऊपरी होंठ तो कभी उसका निचला होंठ और उसके बाद उसने मुझे गले लगा लिया।

अब वो मुझसे कहने लगी कि प्रशांत में कई सालों से अकेली हूँ और मैंने पिछले सात साल से सेक्स नहीं किया है और इतने दिनों से मैंने कोई लंड नहीं देखा है और आज तुम्हारे जैसा दमदार लंड देखकर में पागल हो गई हूँ. . आज तुम मेरी कई सालों की प्यास बुझा दो और में पूरी जिंदगी सिर्फ तुम्हारी बनकर रहूंगी और मेरी इस प्यासी जिंदगी में तुम मुझे अपना लंड चुसवाने का वो सुख दो जिसके लिए में बहुत दिनों से सोच रही हूँ और कहने के बाद यह, अब वह मेरी कलम है. वो मेरे लिंग को जोर जोर से मसलने लगी. फिर मैंने उससे कहा कि संगीता में तुमसे बहुत प्यार करता हूँ और आज में तुम्हारी सेक्सी चूत का मज़ा लेना चाहता हूँ. मैं तो कब से तुम्हें चोदने के सपने देख रहा हूँ.

संगीता : हाँ, आओ मेरी जान, आज मेरी चुदाई का मज़ा चुरा लो और मुझे भी वो मज़ा देकर पूरा करो।

फिर मैंने उससे कहा कि ऐसे नहीं, तुम्हारे बदन की आग इतनी जल्दी नहीं बुझेगी, में आज रात को आऊंगा. तुम पीछे का दरवाज़ा खोलो और अपनी चूत के बाल भी साफ़ करो, बहुत दिनों से तुमने चुदाई नहीं करवाई है और इसे साफ़ करना भी बहुत ज़रूरी है. यह कहते हुए मैंने अपना एक हाथ उसकी चूत पर रख दिया और फिर छूकर महसूस किया कि उसके सारे कपड़े गीले हो गये थे और उसकी चूत ने अपना रस छोड़ना शुरू कर दिया था, क्योंकि वो बहुत दिनों से प्यासी थी. दोस्तों उसके बाद मैंने उसे खूब चोदा और उसने भी बड़े मजे से चुदाई का मजा लिया.

दोस्तों मुझे मेरी कहानियों पर बहुत अच्छी प्रतिक्रिया मिल रही है. मुझे उम्मीद नहीं थी कि आप सबको मेरी कहानी इतनी पसंद आएगी. तो देखा आपने कैसे विधवा भाभी की चूत चोदकर भाभी की प्यास भुजाई ,दोस्तों कैसी लगी मेरी स्टोरी मैंने कहा था आपकी पैंट गीली होने वाली है , तो चलिए मिलते है अगली स्टोरी मैं तब तक के लिए अपना दिन रखिये | और हिंदी सेक्स स्टोरी पढ़ने के लिए हिंदी सेक्स स्टोरी पर क्लिक करे

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Delhi Escort

This will close in 0 seconds