May 21, 2024
padosan sex story

मेरे सभी दोस्तों को नमस्कार. मैं आशुतोष राणा हूं और Delhi का रहने वाला हूं। मेरी लंबाई 5 फीट 11 इंच है और रंग गोरा है. मेरा लंड 6.5 इंच है और अगर किसी को चोदने में दिलचस्पी हो तो वो मुझसे संपर्क कर सकता है.

वैसे मैं खुद को बहुत सरफराज रेटिंग देता हूं

लेकिन मेरे सभी दोस्त मुझे बहुत मादरचोद स्टार्स वाला मानते हैं। मैंने बहुत सी लड़कियों को पटाया है और उनमें से अधिकतर को चोदा है लेकिन आज की पड़ोसन सेक्स स्टोरी अलग है. मैंने अपने घर पर एक लड़की को चोदा जिसे मैं नापसंद करता था। तो अब मैं आपको अपनी कहानी बताता हूं.

यह कहानी उस समय की है जब मैं अपने घर की छत पर खड़ा था और मेरी नजर एक लड़की पर पड़ी. वो लड़की मेरे पड़ोसी के घर की छत पर थी. देखते ही मेरे मुँह से निकला, ”बाबा, क्या कमाल है”.

फिर मैंने उसी घर में रहने वाली छोटी बच्ची से पूछा बेटा ये कौन है? तो उसने बताया कि वह शंख की बहन है. मुझे कुछ याद आया तो मैंने पूछा कि क्या मेरी माँ को बचपन में यहीं पढ़ाया गया था? उसने कहा हाँ, यह वही है। दरअसल, मैं और मैं बचपन में खूब खेलते थे और फिर वह बाहर चले जाते थे।’

अगले दिन मैं छत पर घूम रहा था तो वो भी मुझे छत पर दिखी तो मैंने उसे दिखाया. तो वो मेरे पास आई और मैंने मुझसे पूछा? तो उन्होंने कहा, हां क्यों नहीं, आप अक्की को कैसे भूल सकते हैं. फिर हम दोनों बातें करने लगे कि तुम अभी क्या कर रहे हो और कितने दिन और यहाँ रुकोगे? तो उन्होंने कहा, अभी तो मैं दो महीने रुका हूं.

मैंने कहा अच्छा मतलब अभी मेरे पास बहुत समय है. तो उन्होंने क्या कहा? तो मैंने कुछ नहीं कहा, फिर उसने मुझे एक दोस्ताना मुस्कान दी। मुझे एहसास हुआ कि मैं दूर चला गया था. फिर हम दोनों छत पर आ जाते थे और ऐसे ही बातें करते थे.

हम जब भी बात करते थे तो उसकी बातों से मुझे लगता था कि लड़की सेक्स कर रही है, लेकिन एक दिन जब वह मेरे घर के सामने से गुजरी तो उसे ध्यान से देखने पर मुझे समझ आ गया कि लड़की पहले भी चुद चुकी है. अब जब मेरे शेयर मार्केट में थे तो उसी दिन शाम को मैंने सपना से कहा कि तुम मुझे बहुत अच्छी लग रही हो.

तो सपना ने कहा कि मैंने ऐसा कुछ नहीं सोचा. तो मैंने कहा कि कोई बात नहीं, अब सोचो. तो उन्होंने कहा ठीक है सोचो कल के बारे में बताओ. फिर अगले दिन वो छत पर आई और मैंने उससे पूछा कि उसने क्या सोचा? तो वो दोस्त अक्की तुम मेरे अच्छे दोस्त हो.

तो मैंने टोकते हुए कहा कि हमें अपना रास्ता आगे बढ़ाना चाहिए. तो वो शांत हो गया तो मैं उसकी छत पर गया और उसे कमर से पकड़ लिया और कहा कि सपना मैं तुमसे प्यार करता हूँ और उसे चूम लिया।

वो शरमा गया और मैं समझ गया कि उसकी तरफ से भी हां है. फिर वो और मैं एक तिहाई जवानी को थामे छत पर रह गए, वो एक बार फिर हमारी छत पर जूडी है। मुझे कभी-कभी यह देखने का मौका मिलता है कि कोई क्या उपयोग कर रहा है जब वह नहीं देख रहा हो।

डिनर के बाद हम दोनों घूमने निकले और वहां भी मैंने मौका देखकर उसे किस कर लिया. तीन दिन तक मैं यही सोचता रहा कि वह मेरे निर्दोष होने का नाटक क्यों कर रही है? तो एक दिन रात को मोबाइल पर चैट करते समय मैंने पूछ लिया कि क्या तुमने कभी सेक्स किया है? तो वो बोली कि नहीं जान, मैंने कभी नहीं किया.

तो मैंने कहा था कि मैंने ऐसा तो कई बार किया है, लेकिन अब तो बस मुझे प्यार हो गया है, उस दिन मैंने जो देखा उससे मुझे लगा कि मैंने भी कभी ऐसा किया होगा. तो उसने बताया कि मेरा एक लुटेरा मुझे रोज चोदता था, लेकिन उसने मुझे धोखा दिया और मुझे किसी न किसी लड़की के पास छोड़ दिया.

उसकी छत पर एक कमरा था जहाँ सिर्फ कबाड़ रखा रहता था। तो मैं उसे वहां ले गया और उसे दबाने लगा और चूमने लगा. मैंने उसका टॉप उठाया और उसकी ब्रा नीचे खींच कर उसके स्तनों को चूसना शुरू कर दिया।

वह डर के मारे आवाज नहीं कर रही थी. फिर मैंने अपना हाथ उसकी चूत पर रख दिया और सहलाने लगा. वो धीरे धीरे आअहाहा आअह्ह आआआ आअह्ह्ह करने लगी. तभी नीचे से सपना को किसी ने आवाज़ दी तो उसने जल्दी से खुद को ठीक किया और नीचे भाग गई। मैं भी कमरे से बाहर आ गया और अपनी छत पर चला गया.

अब मेरे मन में उसे चोदने का ख्याल घूम रहा था और मैं सोच रहा था कि उसे कैसे चोदूँ। मेरा कमरा पहली मंजिल पर है इसलिए मैंने उसे अपने घर पर आमंत्रित किया। उस समय घर पर माँ और पापा नहीं थे और केवल दादी ही थी जो नीचे वाले कमरे में आराम कर रही थी।

मेरे कमरे की सीढ़ियाँ आँगन के बाहर हैं इसलिए अगर कोई मेरे कमरे में आता तो किसी को पता भी नहीं चलता। जैसे ही वो मेरे कमरे में आई, मैं उसे ऊपर से नीचे तक देखने लगा. वो बहुत सेक्सी लग रही थी और मेरा मन कर रहा था कि अभी उसे चोद दूं. लेकिन मैंने खुद पर कंट्रोल किया और हम दोनों बेड पर जाकर बैठ गये. मैंने अपना सिर उसकी गोद में रख दिया और लेट गया।

कुछ देर बाद उसने मुझे जोरदार किस किया तो मैंने उसे पकड़ लिया और दबाव देकर किस करने लगा. फिर मैंने उसे लेटा दिया और उसके ऊपर चढ़ गया और उसे किस किये जा रहा था. फिर मैंने उठकर अपना होम थिएटर चालू किया और दरवाज़ा बंद कर दिया। मैंने होम थिएटर की आवाज़ थोड़ी तेज़ रखी थी ताकि आवाज़ बाहर तक न पहुँचे। फिर मैंने जाकर उसका टॉप उतार दिया और उसकी ब्रा खोल दी और दूध चूसने लगा।

उसके स्तन बड़े थे और निपल्स काले थे लेकिन मुझे उसके स्तन चूसने में मजा आ रहा था। फिर मैंने उसकी लेगिंग्स और पैंटी उतार दी और उसकी चूत को देखा तो मजा आ गया. उसकी चूत एकदम साफ और थोड़ी मोटी थी. इतनी मोटी चूत देख कर मैं उस पर टूट पड़ा.

मैं उसकी चूत को चाटने लगा और मुझे उसकी चूत का स्वाद बहुत अच्छा लग रहा था. मैंने करीब 10 मिनट तक उसकी चूत चाटी और फिर जाकर बिस्तर पर लेट गया. उसने मेरा पजामा उतार दिया और अंडरवियर भी. फिर उसने मेरे लंड की तरफ देखा और कहा कि तुम्हारा तो बड़ा है और फिर मेरा लंड चूसने लगी.

जब वो लंड चूस रही थी तो मुझे लगा कि उसने कहीं से लंड चूसने की ट्रेनिंग ले रखी है. क्योंकि आज तक किसी ने मेरा लंड ऐसे नहीं चूसा था. मुझे बहुत मजा आ रहा था इसलिए कुछ देर बाद मैंने अपना पूरा मुठ उसके मुँह में छोड़ दिया.

वह भागकर बाथरूम में गई और गरारे करने लगी। मेरा लंड अभी भी खड़ा था इसलिए मैं उसके पीछे बाथरूम में गया और पीछे से अपना लंड उसकी चूत में डाल दिया। उसके मुँह से अचानक आआअह्ह्ह्ह निकल गयी.

फिर मैंने उसे वहीं कुछ देर तक ऐसे ही चोदा और फिर बाहर बिस्तर पर ले आया. वो बिस्तर पर लेट गई और मैंने उसका पैर अपने कंधे पर रखा और उसकी चूत में लंड डाल कर उसे चोदने लगा.

फिर मैंने उससे पूछा कि क्या वह अपनी गांड मरवाती है तो उसने कहा हां, हर 2-3 दिन में एक बार। तो मैंने उसकी गांड में उंगली की और फिर अपना लंड डाल दिया. जैसे ही मैंने अपना लंड उसकी गांड में डाला तो वह जोर से चिल्ला उठी.

तो मैंने उसका मुँह बंद कर दिया और उसे चोदने लगा. फिर कुछ देर बाद मैं झड़ गया और हम दोनों बिस्तर पर लेट गये. फिर उसने अपने कपड़े पहने और अपने घर चली गयी.

उसके बाद हमने कई बार सेक्स किया, कभी मेरे घर पर तो कभी उसके छत वाले कमरे में। एक बार तो मैंने उसे बाहर सुनसान सड़क पर भी चोदा. फिर कुछ दिनों के बाद वो अपने मामा के यहाँ चली गयी लेकिन जब भी वो आती तो हम सेक्स करते रहते।

फिर अगले दिन हम मिले और उनके दर्द और पीड़ा की यादें देखीं। एक दिन जब हम दोनों छत पर आये तो वो बोली- देखो, मैं नई लगूंगी. तो मैं उसकी छत पर कूद गया और कहा, ‘लगी, यह अच्छा है।’ फिर मैंने उसे पकड़ लिया और चूमने लगा.

ऐसी ही और Hindi Sex Story पढ़ने के लिए हमारी Readxstories.com को सब्सक्राइब करें ताकि आपके पास सबसे पहले नई और सेक्सी कहानिया पहुंच पाए।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Delhi Escorts

This will close in 0 seconds