May 21, 2024
पति के दोस्त ने चोदा

हेलो दोस्तों, मैं आपकी पिया, आज फिर आपको एक लड़की की सेक्स स्टोरी सुनाने आई हूँ जिसका नाम "पति के दोस्त ने चोदा जब घर पर कोई नहीं था" है।

हेलो, दोस्तों, मैं आपकी पिया, आज फिर आपको एक लड़की की सेक्स स्टोरी सुनाने आई हूँ जिसका नाम “पति के दोस्त ने चोदा जब घर पर कोई नहीं था” है आगे की कहने उस लड़की की ज़ुबानी।

दोस्तों मेरा नाम आशिका है। अब मैं अपनी आज की सेक्स स्टोरी आपके सामने रख रहा हूँ। यह मेरी शादी के 3 साल बाद की है। यह घटना मेरे जीवन में मेरी चूत की सबसे बुरी चुदाई में से एक है।

मेरे पति प्राइवेट जॉब करते हैं। उसे लंबे समय तक काम करना पड़ता है, इसलिए वह देर रात ही घर आते है। कई बार उन्हें अपने काम की वजह से शहर से बाहर जाना पड़ता है।

लेकिन ये उन दिनों की बात है जब मैं सेक्स को लेकर इतनी उतावली नहीं होती थी। मेरे पति के ऑफिस में उनका एक दोस्त भी था। उसका नाम विजय था।

क्योंकि मेरे पति शहर से बाहर गए हुए थे, इसलिए मेरे पति ने उनसे कहा कि अगर मुझे कुछ चाहिए तो मैं विजय को बता दूं। विजय कई बार मेरे घर आया करता था और मैं उसे अच्छे से जानती थी।

उस दिन जब मेरे पति घर से बाहर दूसरे शहर गए हुए थे तो विजय का फोन आया कि कुछ भी चाहिए तो बस एक बार फोन कर देना। मैं ले आउंगा।

मैंने कहा- ठीक है। अगर मुझे कुछ चाहिए होगा तो मैं आपको बता दूंगी।

विजय से मेरी कई बार बात हुई थी तो हमारे बीच ऐसा वैसा कुछ नहीं था।

एक दिन की बात है जब मेरे सास ससुर घर पर नहीं थे। उस समय मैं नहाने के लिए बाथरूम के अंदर गयी हुई थी। मेन गेट पर ताला लगाना भूल गई।

Escorts in Aerocity

जब में नाहा कर केवल तौलिया लपेट कर बाथरूम से बाहर निकली तो मैंने देखा कि विजय अंदर आ चुका था। उन्हें देखकर मैं एक बार तो डर गई और फिर शरीर छिपाकर कहने लगी- तुम कब आए?

उसने कहा- अभी थोड़ी देर पहले ही आया हूं। जब मैं आया तो घर का मेन गेट खुला था और घर में कोई नहीं था। मैंने आपको कई बार फोन किया लेकिन आप शायद आवाज नहीं सुन पाए क्योंकि आप बाथरूम में थे।

मैंने कहा- हां, मुझे अंदर कुछ सुनाई नहीं दे रहा था।

उस दिन मैंने विजय के लिए चाय बनाई और फिर कुछ देर बात करके वह चला गया।

लेकिन उस दिन के बाद मुझे एक बात नोटिस होने लगी कि विजय मेरे शरीर को घूरने लगा। मैंने अक्सर उसे मेरी गांड और मेरे चूचो को घूरते देखा था। कई बार वो किसी न किसी बहाने से मेरे चूचो को छूने की कोशिश करता था।

लेकिन मैं उसमें कोई दिलचस्पी नहीं दिखा रही थी। मुझे पता था कि उनके दिमाग में मेरे लिए क्या चल रहा है। लेकिन मैंने कभी यह जाहिर नहीं होने दिया कि मैं उसकी हरकतों के पीछे का मतलब समझ रही हूं कि वो मेरी सेक्स ड्राइव को जगाकर मुझे चोदने की कोशिश कर रहा है।(पति के दोस्त ने चोदा)

सच कहूं तो मुझे वास्तव में उसमें कोई दिलचस्पी नहीं थी, इसलिए मैं उसकी हरकतों को नजरअंदाज कर देती थी।

इसी तरह तीन-चार दिन बीत गए। एक दिन जब घर पर कोई नहीं था तो मुझे बाजार से एक सामान चाहिए था। मैंने विजय को फोन किया और सामान मंगवा लिया।

जब वह सामान देने अंदर आया तो मैंने उनके हाथ से सामान लेने के लिए हाथ आगे बढ़ाया। लेकिन विजय की जिप में लटके उनके लंड से न जाने कैसे मेरा हाथ लग गया। या फिर विजय ने जानबूझकर मेरे हाथ से उनके लंड को छुआ था।

उनके लंड को छूते ही करंट मेरे शरीर में दौड़ गया और मैंने अपना हाथ पीछे खींच लिया। फिर मैंने सामान ध्यान से लिया।

जब मैं किचन में सामान रखकर वापस आई तो मैंने उनके लंड को नीची निगाहों से देखा तो उसका लिंग खड़ा होना शुरू हो गया था, पैंट में उनके लिंग का आकार अलग दिखाई दे रहा था।

मैं न चाहते हुए भी उनके लंड का साइज देख पा रही थी। उनके लंड का साइज बहुत बड़ा लग रहा था। पैंट के अंदर खड़े लंड को देखकर मुझे कुछ होने लगा। मेरी चुदने का मन जागने लगी थी।

फिर मैंने उन्हें बैठने को कहा। मैं चाय बनाने किचन में चली गई। जब मैं वापस आई तो वो सोफे पर बैठा था। उनकी टांगें फैली हुई थीं और उनका लंड अगल-बगल से दिख रहा था। वो मुझसे सेक्स की अनुमति मांग रहा था।

मैंने एक-दो बार उनके लंड को देखा तो उनके लंड में एक उछाल सा आ गया। मैं थोड़ा घबरा गई। विजय का लंड काफी बड़ा और मोटा लग रहा था।

फिर मैं उनके सामने सोफे पर बैठ गई और चाय पीने लगी। उनके बाद मुझे याद आया कि मैं उनके लिए कुछ खाने का सामान लाना भूल गई थी। मैं फिर उठी और किचन में जाकर बिस्कुट खोल कर प्लेट में रख कर लाई।

फिर वो पीछे से आया और अपने लंड को मेरे चूतड़ों पर टच करते हुए मुझे अपनी बाहों में लेने की कोशिश करने लगा।

मैने कहा आप क्या कर रहे हैं?

लेकिन वो नहीं रुका। उसने अपना सीधा लंड पूरा मेरी गांड पर रख दिया था। उसका लंड मेरे कपड़े फाड़ने वाला था क्योंकि वो अंदर घुसने के लिए मेरी गांड की दरार पर था।

फिर वो मेरी गर्दन को किस करने लगा और मेरे निप्पलों को दबाने लगा। अब मेरा मन भी करने लगा था। मैंने अपनी गांड उनके लंड पर लगा दी। फिर उसने मुझे अपनी तरफ कर लिया और हम दोनों के होंठ एक दूसरे के होठों को छू गए।

उसके बाद हम दोनों एक दूसरे के होठों को जोर जोर से चूसने लगे। कुछ देर वहां किचन में वो मुझे चूसता रहा और मेरे निप्पलों को दबाता रहा।(पति के दोस्त ने चोदा)

फिर उसके बाद उन्होंने मुझे उठाया और बेड रूम में ले गए। और मुझे लेजाकर बिस्तर पर पटक दिया और अपने कपड़े उतारने लगे। उसने अपनी कमीज उतार दी। फिर वो मेरे ऊपर आ गया और फिर से मेरे निप्पलों को अपने मुँह में भरने लगा। फिर उसने मेरा टॉप उतार दिया और मेरी ब्रा खोलकर मुझे ऊपर से नंगा कर दिया।

मेरे बूब्स अब फ्री थे। वो उन पर टूट पड़े और मुझे लिटाकर जोर जोर से चूसने लगे। फिर उसने मेरा पायजामा भी उतार दिया और मेरी पेंटी भी निकाल कर मेरी चूत में उंगली करने लगा।

अब मैं पूरी तरह गर्म हो चुकी थी। मैं पैंट के ऊपर से पकड़ कर उनके लंड को सहलाने लगी।

काफी देर तक हम दोनों इसी तरह एक दूसरे को सहलाते रहे। फिर वो अपनी पैंट के बटन खोलने लगा। जब उसने अपनी पैंट उतारी तो उसका लंड उनके अंडरवियर में बहुत बड़ा लग रहा था। अगले ही पल उसने अपना कच्छा भी नीचे कर लिया।

अपने पति के दोस्त के लंड को देखकर मेरी आँखें आश्चर्य से फैल गयीं। उनका लंड बहुत बड़ा था और मेरे पति से काफी मोटा भी था। उनके लंड में एक बात और ख़ास लग रही थी। वो बहुत गोरा भी था। मेरे पति का लंड उससे कहीं ज्यादा काला था।

Read More Stories:

फिर उसने अपना लंड हाथ में लेकर हिलाया और फिर मुझे दे दिया। जब मैंने उनके लंड को अपने हाथ में लिया तो वो बहुत भारी लंड था। मैंने उसे अपने हाथ में लिया और उसे आगे-पीछे करने लगी। वो तेजी से सिसकियां लेने लगा।

फिर उसने अपना लंड मेरे मुँह में दे दिया। मेरे मुंह से उसका लंड संभाला नहीं जा रहा था। मेरा दम घुटने लगा। मैंने उसे हटाने की कोशिश की लेकिन वो नहीं रुका और मेरे मुंह में धक्के मर कर देता रहा। कई मिनट तक लंड को चूसने के बाद उसने अपना वीर्य मेरे मुँह में निकाल दिया।

मैंने उनके मोटे लंड का सारा वीर्य पी लिया।

झड़ने के बाद उसने मेरी पैंटी उठाई और उससे अपना लंड साफ़ किया। मैं हवस के वशीभूत होकर अपने पति के दोस्त का लंड फिर से चूसने लगी। मैं सोते हुए लंड को मजे से चूसती रही और पाँच मिनट बाद मैंने उनके लंड को फिर से खड़ा कर दिया।

अब मुझे भी उनके लंड को चूमने की इच्छा होने लगी। मैंने इतना बड़ा लंड सिर्फ न्यूड फिल्मों में ही देखा था।

जब विजय का लंड पूरा खड़ा हो गया तो उसने मुझे वापस बिस्तर पर धकेल दिया और मेरी टांगों को अपने हाथों में ले लिया। उसने अपना लंड मेरी चूत पर रखा और फिर एक धक्का दे दिया। उसने मेरी जान निकाल दी। उम्म्ह… आह… हाय… ओह… ये पहली बार है जब मैंने अपनी चूत में इतना मोटा लंड लिया था।

वो अपना लंड अंदर डालता चला गया। मुझे बहुत दर्द होने लगा लेकिन उसने बिना देर किए मुझे चोदना शुरू कर दिया। वो गाली देते हुए मेरी चूत को चोदने लगा। मुझे भी उनके मुंह से गालियां सुनना अच्छा लग रहा था। अब मैं भी सम्भोग का पूरा आनंद लेने लगा था।

कई मिनट तक उसने मेरी चूत को इसी पोजीशन में चोदा और फिर मुझे खड़ा कर दिया। उसने मेरा एक पैर उठा लिया और फिर से चोदने लगा। वो गाली देते हुए फिर से मुझे चोदने लगा।

उसने कहा – साली रंडी, मैं बहुत दिनों से तेरी चूत चोदना चाहता था। आज मैं तेरी चूत को इतना चोदूंगा कि तुझे चलने फिरने के लायक भी नहीं छोड़ूंगा।

यह कहकर वो बुरी तरह धक्के लगाने लगा। मेरी चूत फटने लगी। मुझे अपनी चूत में दर्द होने लगा लेकिन वो रुक नहीं रहा था। उनके धक्कों के दर्द से मेरी आँखों से पानी निकलने लगा। लेकिन फिर भी मैं उसका साथ दे रही थी क्योंकि मैं दर्द में होने के बावजूद मजा भी ले रही थी।(पति के दोस्त ने चोदा)

कई मिनट तक मेरी चूत को रगड़ने के बाद उसने मुझे उल्टा कर दिया और फिर मेरी गांड को तकिए पर रख दिया। मुझे बिस्तर पर उल्टा लिटाकर उसने मेरी गांड पर थूका और अपना लंड मेरी गांड के छेद पर रगड़ने लगा और फिर अचानक उसने अपना लंड मेरी गांड में घुसा दिया।

मैं अधमरी सी हो गई थी। मुझे बहुत तेज दर्द हो रहा था लेकिन उसने मेरे निप्पलों को जोर से दबाना शुरू कर दिया और मेरा ध्यान मेरे निप्पलों को दबाने पर चला गया। कुछ ही देर में मेरा दर्द कम होने लगा और फिर उसने अपने लंड को मेरी गांड में आगे-पीछे करके मेरी गांड को चोदना शुरू कर दिया। अब मैं दर्द में रोने के बजाय हंस रही थी।

उसने कहा- साली रंडी, मैं तेरी हंसी को रोने में बदल दूंगा। तुम्हारी चूत अभी इतनी टाइट नहीं है, लेकिन तुम्हारी गांड बहुत मज़ा दे रही है। मुझे भी उसका बड़ा लंड गांड में लेने में मज़ा आ रहा था। मेरा मन हुआ कि उसका लंड ऐसे ही अपनी गांड में लेती रहूं।

Escorts in Mahipalpur

वो कहने लगा- रंडी, तुझे तो रोज चोदने का मन करता है।

मैंने कहा- फिर इतनी देर क्यों रुके थे।

उन्होंने कहा- मैं बस सही मौके का इंतजार कर रहा था।

मैंने कहा- तुम जब चाहो मेरी चूत चोद सकते हो।

उसने कहा- मैं भी रोज तेरी गांड चोदूँगा भाभी। भाभी, मैं तुम्हें एक बड़ी रंडी बनाकर छोडूंगा।

इतना कहकर वो अपना लंड पूरी तरह से मेरी गांड में घुसाने लगा। उनके बाद उसने मुझे फिर से सीधा किया और अपना लंड मेरी चूत में घुसा दिया। अब उसने मेरी गांड को दोगुने जोश के साथ चोदना शुरू कर दिया।

फिर कई मिनट तक मेरी चूत को चोदने के बाद उसने अपना माल मेरी चूत के अंदर ही छोड़ दिया। मेरी चूत लगभग फट चुकी थी।(पति के दोस्त ने चोदा)

हम दोनों इसी तरह नंगे पड़े रहे और फिर सो गए। जब मैं शाम को उठी, तो मैं वास्तव में चल नहीं सकी। उसने मेरी चूत और गांड को ढंग से चोद दिया था।
उनके बाद जब सास-ससुर के आने का समय हुआ तो विजय चला गया।

जब तक मेरे पति घर नहीं आए तब तक मैं विजय के लंड से चूत और गांड चुदवाती रही। एक रात मैंने सास-ससुर की मौजूदगी में उससे चुदाई भी करवाई। लेकिन उस रात सेक्स सिर्फ एक बार किया गया क्योंकि वो उठने से डर रहा था। इस तरह विजय ने मेरी चूत और गांड को चोद-चोद कर ढीला कर दिया।

यदि आप ऐसी और कहानियाँ पढ़ना चाहते हैं तो आप “Readxstories.com” पर पढ़ सकते हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Delhi Escorts

This will close in 0 seconds