May 21, 2024
Pehli Chudai Ka Sapna 4

पिछला भाग: Pehli Chudai Ka Sapna 3

मेरा नाम जैस्मिन है और मैं दिल्ली की रहने वाली हूँ। मैं अपनी Hindi Sex Story मेरी पहली चुदाई का सपना मेरे ड्राइवर ने पूरा किया का भाग-4 लेकर आई हूं।

मैं उम्मीद करती हूं Free Hindi Sex Kahani पिछला भाग आपको पसंद आयी होगी और अगर आपने अभी तक पिछला भाग नहीं पढ़ा है तो पहले वो पढ़े।

कहानी में आपने अभी तक पढ़ा जीतेन्द्र भैया मेरी गर्म जवानी का तोफा अपने दोस्त को दिया अब आगे पढ़े। Pehli Chudai Ka Sapna 4

वो खुश होके बोला, “वाह विजय, अपने गिफ्ट का सही इस्तमाल कर रहा है तू। चल आजा केक काटेंगे।

” विजय बोला, “मैं जरा पेशाब करके आया।” जीतेन्द्र बोला, “अरे विजय भाई, जा कह रहे हो, मुतना है तो यहाँ आओ, एक और चीज़ दिखाता हूँ।”

विजय सोच में पड़ गया की अब जीतेन्द्र क्या दिखाने वाला है। जीतेन्द्र ने मुझे बोला, “जैस्मिन, ज़मीन पर सीधे लेट जाओ।

” मैं ज़मीन पे लेट गई. फिर जीतेन्द्र ने विजय को मेरे सर के पास खड़े होने बोला और खुद मेरे पेट के ऊपर खड़ा हो गया।

जीतेन्द्र ने विजय को इशारे से मूतने को बोला। विजय चौक गया. वो बोला,

“अरे नहीं जीतेन्द्र भाई, जैस्मिन बेबी के ऊपर मुतना?” जीतेन्द्र बोला, “जैस्मिन को ये सब पसंद है। है ना जैस्मिन बेबी, बताओ विजय को।”

मैंने हां में अपना सिर हिला दिया। विजय ने मुझे लाट मारी और बोला अच्छे से बताओ।

मैंने बोला, विजय भैया, मुझे मूत में नहाना और मूत पीना अच्छा लगता है। ये सुनते ही, विजय हस पड़ा और दोनों मेरे ऊपर मुतने लगे।

विजय अपनी मूत की धार सीधा मेरे मुँह पर मार रहा था।

जिसे बहुत सारा मूत मेरे मुँह में भी चला गया। मैं पूरी तरह मुत में गीली हो गई थी। अब उन्हें मुझे उठने को और खुद साफ करने को बोला।

जीतेन्द्र और विजय ने केक काटा और आनंद लेने लगे। वो लोग मेरे निपल पर केक लगा के चाट रहे थे,

और अपने लंड पर केक लगा के मुझे भी खिला रहे थे। यही सब आनंद चल रहा था।

जीतेन्द्र ने अपनी उंगली में बहुत सारी केक की क्रीम उठाई और अपनी गांड के छेद पे लगा दी। फिर उसने मुझसे कहा, “जैस्मिन, तुम्हें पता है क्या करना है?”

मैं एक आज्ञाकारी रंडी की तरह हो गई और जीतेन्द्र की गांड पे से क्रीम चाट चाट के खाने लगी। मैंने जीतेन्द्र की गांड चाट के साफ कर दी थी।

ये देख के विजय को जोश आ गया. उसने भी उंगली भर के क्रीम अपनी गांड के छेद पे लगाई और मुझे साफ करने को कहा। मैंने विजय की गांड भी चाट के साफ़ करदी।

बस यहीं आनंद चल रहा था, और कब 2.30 बज गए पता ही नहीं चला। विजय बोला, “जीतेन्द्र भाई कहीं बाहर चलते हैं।

गाड़ी में ड्राइव लगा के आते हैं।” मैंने कहा कि मैं भी अब जाती हूं। जीतेन्द्र बोला, “अरे तुम भी हमारे साथ चलोगी।” हम तीनो ने कपड़े पहने और गाड़ी लेके निकल गए।

हम काफी देर तक सड़क पर चक्कर लगा रहे थे। जीतेन्द्र और विजय बियर पी रहे थे और मैं पीछे बैठी थी।

हम लोग करीब 4 बजे तक घूमते रहे। जीतेन्द्र, विजय को हमारी चुदाई के किस्से सुना रहा था।

कैसे उसने मुझे फंसाया और घर में नंगी दौड़ाया और अब मैं उसकी रंडी की तरह रहती हूं।

विजय ये सब मजे से सुन रहा था और उसे फिर ठरक जाग रही थी।

वो बोला, “जीतेन्द्र भाई, मेरा तो फिर से करने का मन कर गया।” जीतेन्द्र ने गाड़ी एक सुनसान सड़क पे लगाई और बोला, “चल शुरू होजा।”

जीतेन्द्र ने मुझे गाड़ी के बाहर उतारा नंगी होने को कहा। मैं हिचकिचा रही थी. जीतेन्द्र बोला, अपने आप उतर जा या हम ज़बरदस्ती तुझे नंगा कर देंगे।

मैं उतर गई और कपड़े भी उतार दिया। सड़क पर अँधेरा था और बिल्कुल सुनसान थी।

विजय ने अपनी पैंट नीचे करी और लंड मेरे मुँह में इस प्रकार दिया। मैं उसका लंड चूसने लगी. तभी जीतेन्द्र भी आ गया और उसने भी अपनी पैंट नीचे करदी।

मैं दोनों का लंड एक साथ चूस रही थी। 10 मिनट चूसने के बाद दोनो के लंड फिर से तन गये।

विजय मेरा मुँह चोदता रहा और जीतेन्द्र मेरे पीछे आके मेरी गांड मारने लगा। दोनों मिलके मुझे आगे पीछे से चोद रहे थे।

ये चुदाई 20 मिनट तक चली और दोनों ने एक साथ ही मेरे अंदर झाड़ दिया। जीतेन्द्र ने मेरी गांड में और विजय ने अपनी मलाई मेरे मुँह में निकाल दी, जो मैंने सारी गटक ली।

विजय ने कहा, “जीतेन्द्र भाई, बीयर पीके मूत आ रहा है, मेरी मानो तो इसका मुंह भरदे मूत से।

” बिना सोचे, दोनों ने मुतना शुरू कर दिया। जीतेन्द्र मेरी गांड में मूत रहा था और विजय ने अपना मूत मेरे गले के नीचे उतार दिया था।

जीतेन्द्र ने पहले भी कई बार मुझसे पूछा है। पर मैं अपनी गांड में पहली बार ले रही थी। मुझे लग रहा था कहीं मेरी गांड मोटी हो ना जाए।

दोनों ने अपना लंड बाहर निकाल लिया और मेरी हालत पे हंसने लगे। दोनों ने अपनी पैंट चढ़ा ली, पर मैं अभी भी नंगी सड़क पे बैठी हुई थी।

मुझे भी ज़ोर की सुसु लगी थी, तो मैंने भी वही सड़क पर मूत दिया। दोनों ये देख कर कह रहे हैं, “देखो ये है बड़े घर की लड़की।

यहां सड़क पर नंगी होके मूत रही है। इतनी रात को अपने ड्राइवर और गार्ड से चुद रही है।” केह के दोनों हंसने लगे.

जीतेन्द्र बोला, “अब भूख लगी है. सामने फ्लाईओवर के उस तरफ एक ढाबा है, वाह चलते हैं।

” विजय बोला, “जैस्मिन को छोड़ देते हैं। जीतेन्द्र ने कहा, “जैस्मिन तुम घर जाओ, हम लोग पेडल चले जायेंगे।”

मैं उठी और अपने कपड़े ढूंढने लगी। मैंने गाड़ी में भी देखा, पर मेरे कपड़े कहीं नहीं थे। विजय और जीतेन्द्र वहां से जा चुके थे।

मैंने उनकी तरफ देखा तो वो फ्लाईओवर के ऊपर खड़े मुझे देख रहे थे। और मेरे कपड़े हाथ में लेके हिला रहे थे। उन्हें मेरे कपडे फ्लाईओवर से नीचे फेंक दिया।

मेरे पास अब कोई कपड़े नहीं थे। मैं सड़क पर नंगी खड़ी थी। सुबह के 5 बज रहे थे, कुछ ही देर में दिन निकलने वाला था।

मेरे पास और कोई रास्ता नहीं था. मैंने जल्दी से गाड़ी शुरू कर दी और घर आ गई। गेट पर गाड़ी रोकी तो गार्ड देखने आया।

मैं गाड़ी में नंगी बैठी हुई थी, मैंने अपने स्तन हाथ से छुपाये थे। गार्ड ने मुझे देखा और गेट खोल दिया। मैंने गाड़ी लगाई और जल्दी से अपने कमरे की तरफ भाग गई।

इतने दिनों से मैं गार्ड की नजरों से बच के अपने कमरे में जाती थी। पर आज गार्ड ने मुझे नंगी देख ही लिया।

मैं अपने कमरे में आ गयी और अपने बिस्तर पर लेट गयी। आज की रात मुझे हमेशा के लिए याद रहने वाली थी। आज रात मैंने वो सब किया जो आजतक कभी नहीं किया था।

मैं सेक्स की दीवानी हो गई थी और किंकी और डर्टी सेक्स करने की सब हद पार कर चुकी थी।

उस दिन के बाद से, जीतेन्द्र और विजय रोज़ मुझे चोदा करते थे, कभी अकेले और कभी मिलके।

ये Hindi Sex Kahani आपको कैसी लगी प्लीज कमेंट में जरूर बताएं और ऐसी कहानी पढ़ते रहे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Delhi Escorts

This will close in 0 seconds