May 21, 2024
Randi Bana Kar Chudi 2

मेरा नाम है कोमल शर्मा हैं और मैं दिल्ली के Chanakyapuri की रहने वाली हूँ. बुआ के लड़के के साथ रंडी बनकर चुदी का भाग -2 लेकर आई हूँ मैं 

उम्मींद करती हूँ की आप सभी को  पिछला भाग पसंद आया होगा और अगर आप ने नहीं पढ़ा है तो यहाँ जाए  

पिछला भाग पढ़े:- बुआ के लड़के के साथ रंडी बनकर चुदी भाग -1

तो दोस्तों चलो बिना समय बर्बाद किये आज की कहानी बुआ के लड़के के साथ Randi Bana Kar Chudi 2 

शुरू करते है 

भाई: और अभी पीना भी मत, रुको.

फ़िर भाई ने फ़ोन उठाया, और बोले: चल मादरचोद मुँह खोल।

तो मैंने मुँह खोला और भाई ने ऐसे ही मेरी तस्वीर लेली।

फ़िर भाई बोले: चल अब पी जा इसे।

अब आगे ,

मैं पी गई. उसका स्वाद कुछ अजीब सा था, लेकिन मज़ेदार था। फ़िर भाई ने मुझे बिस्तर पर लिटाया और अब वो मेरे ऊपर आ गए, और मेरी चूत पे लंड सहला के मुझे तड़पाने लगे।

तभी मैं बोली: चोद दो ना भाई, क्यों तड़पा रहे हो? आज चूत का बना दो भोंसड़ा, चोद दो मुझे।

भाई ये सुन के बोले: हा रंडी, तेरी तो मैं चूत और गांड दोनो आज फाड़ दूँगा।

ये बोल के भाई ने लंड को चूत पे सेट किया, और एक ज़ोर का धक्का लगाया। भाई के लंड का 3 इंच ही गया होगा अंदर और मुझे इतना दर्द हुआ कि मैं जोर से चिल्लाने लगी और भाई को कहने लगी।

 मैं: भाई से कहा की आपने लंड बहार निकालो, मुझे  दर्द हो रहा है। और अंदर जलन भी काफी हो रही है.  इसे बहार निकालो. मुझे कुछ नहीं करना, प्लीज बाहर निकालो।

ये सुन कर भाई बोले: साली रंडी, अभी तो चुदवाने के लिए तड़प रही थी। अब नहीं चुदवाना क्या. चुप-चाप लंड लेले

भाई ने फिर एक और ज़ोर का झटका मारा, और चूत से खून निकलने लगा। मुझे बहुत दर्द हो रहा था, पर भाई मान ही नहीं रहे थे। अब मुझे  दर्द के मारे रोना आ रहा था, और मैं ज़ोर-ज़ोर से रोते हुवे कहने लगी –

मैं: भाई मैं आपकी बहन हूं। प्लीज मुझे   नहीं करना. बहुत दर्द हो रहा है प्लीज.

पर भाई ने एक ना सुनी और बोले: तू मेरी रंडी बहन है, और रंडी का काम होता है अपने मालिक का कहा मानना। और तू भी वही करेगी.

भाई थोड़ी देर रुके, और मैं थोड़ी शांत हुई। फिर ज़ोर के झटके से पूरा लंड मेरी चूत में चला गया, और अब अंदर-बाहर करना भी शुरू कर दिया था भाई ने।

मैं भाई को कह रही थी: कृपया मत करो, दर्द होता है मुझे।

लेकिन भाई पे चूत चुदाई ( Chut Chudai ) का भूत सवार था, और वो ज़ोर-ज़ोर से चूत मार रहे थे। थोड़ी देर बाद दर्द कम हुआ, और अब मुझे मजा आने लगा।

मैं बोली: चोदो भाई चोदो, अह्ह्ह्ह फाड़ दो इस चूत को आह्ह्ह्ह। भर दो आह्ह्ह्ह अपना पानी इस चूत में। फाड़ दो इसे अह्ह्ह्ह.

और भाई अब और तेजी से चोदने लगे. करीब 15 मिनट तक भाई ने मेरी हार्डकोर चुदाई की, और फिर मेरी चूत में ही झड़ गए, और फिर फोन से अब मेरी चूत से निकलते पानी के साथ पूरी नंगी फोटो खिंची। और हां बीच में 2 बार झाड़ चुकी थी।

मैंने बोला: ऐसे भी कोई अपनी बहन को चोदता है क्या? मैं आपकी बहन हूं, प्रोफेशनल रंडी नहीं, इस तरह से चोद रहे हो।

भाई बोले: नहीं है तो बन जाएगी. प्रोफेशनल रंडी बना दूंगा तुझे आज।

अब भाई ने बोला: इसे चूस-चूस कर फिर से खड़ा कर रंडी।

मैं भी अच्छी रंडी की तरह भाई के लंड को चाटने ( Land Chusai ) लगी।  अब मैं लंड चाट-ते हुए भाई की आँखों में आँखें डाल कर हस्-हस रही थी बिलकुल एक पक्की रंडी की तरह लंड चूसे जा रही थी।

थोड़ी देर बाद भाई झड़ने वाले थे, तो मेरे मुँह को पकड़ा और ज़ोर-ज़ोर से मुँह चोदने लगे। फ़िर थोड़ी देर में वो झड़ गये। अब मैंने उनका पूरा पानी पी लिया। फिर उन्होंने मुझे बिस्तर पर लिटा दिया, और अब हम 69 पोजीशन में आ गए। भाई मेरी चूत चूस रहे थे, और मैं उनका लंड।

भाई ने एक उंगली डाली, और अपनी जीभ से ज़ोर-ज़ोर से चाटने लगे। मैं भी उनका लंड ज़ोर-ज़ोर से मुँह में लेने लगी। भाई ने बोला-

भाई: रंडी तेरी चूत तो साली ढीली ही नहीं पड़ रही। अभी भी वैसे की वैसी ही है.

मैं बोली: क्यों नहीं होगी, आपकी रंडी बहन जो है।

ये सुन के भाई ज़ोर-ज़ोर से चाटने लगे। मैं थोड़ी ही देर में झड़ गई, और भाई ने मेरा सारा पानी पी लिया। अब वो मेरे स्तन के साथ खेल रहे थे, और मैं सिसकियाँ भर रही थी। वो स्तनों को काट-काट के पूरा लाल बना चुके थे, और थोड़ी देर खेलने के बाद बोले-

भाई: चल रंडी साली, कुतिया बन जा.

ऐसा बोलते ही मैं एक अच्छी रंडी की तरह बिस्तर पर घोड़ी बन के बैठ गई। अब भाई का मन चूत नहीं गांड मारने का था। तो भाई आगे बढ़े और ज़ोर से मेरी कमर पकड़ के मेरी गांड पे दोनो तरफ ज़ोर से चांटे मारे।

मैं बोली: भाई दर्द हो रहा है.

तो भाई ने दो और चांटे लगा दिए और बोले: साली रंडी, दर्द हो रहा है हा।

और फिर दो बार मारा और बोले: चल मादरचोद, बोल कि मेरे मालिक मेरी गांड फाड़ दो। मैं आपकी रंडी हूं, रंडी बहन हूं.

और फिर से भाई ने चांटे मारे, और बोले: बोल बे साली।

मैं बोली: मालिक मेरी गांड फाड़ दो. मैं आपकी रंडी बहन हूं. आप मेरी गांड मार के मेरी चुदाई की भूख शांत कीजिये।

ये सुन के भाई ने मेरी गांड के छेद में अपना आधा लंड एक ही झटके में डाल दिया। अब मैं फिर से दर्द से कराह रही थी। पर भाई रुके नहीं, और दूसरे झटके में पूरे लंड को गांड में डाल दिया।

मेरी गांड से अब खून निकल रहा था, पर भाई को कुछ फ़र्क नहीं पड़ा, और भाई ने ज़ोर-ज़ोर के झटके शुरू कर दिए।और मेरी गांड की चुदाई  ( Gand Ki Chudai )करे जा रहे थे , मैं फिर रो रही थी, और ज़ोर-ज़ोर से चिल्ला रही थी-

मैं: अह्ह्ह्ह भाई धीरे, धीरे अह्ह्ह्ह दर्द अह्ह्ह्ह दर्द हो रहा है, धीरे अह्ह्ह्ह.

और भाई बोले: चुप रंडी.

और फिर और ज़ोर से चोदने लगे. थोड़ी देर बाद दर्द कम हुआ, लेकिन दर्द तो अभी भी हो रहा था। पर चुदाई से मजा भी आ रहा था.

भाई थोड़ी ही देर में गांड में झड़ गए, और फिर हम दोनों शांति से बिस्तर पर लेट गए।

भाई बोले: क्या माल है तू बहनचोद, मजा ही आ गया.

मैं बोली: आख़िर बहन किसकी हूं.

भाई ने कहा, मेरी तरफ देख कर मुझे किस किया, और फिर पूरी रात हमने 2 बार और चुदाई की। भाई ने अच्छे से मेरी चूत और गांड मारी। छुट मारते-मारते भाई बोल रहे थे-

भाई: साली रंडी, तेरी चूत तो अभी भी टाइट  है साली। ढीली ही नहीं हो रही मादरचोद. मजा आ रहा है अभी भी टाइट चूत को चोद कर।

ये सुन कर मैं मन ही मन मुस्कुरा रही थी। फिर 1 महीने तक जब तक बुआ वापस घर नहीं आई, तब तक भाई ने मुझे हर जगह चोदा, किचन में, बाथरूम में, हॉल में। एक भी जगह नहीं छोड़ी थी घर की, जहां भाई ने मुझे चोदा ना हो।

तो दोस्तों ये थी मेरे कहानी मुझे मेरे तपड़ती चूत की प्यास भाई के लंड से बुझी। …… 

तो दोस्तों xxx कहानी कैसे लगी कॉमेंट करे 

और ऐसे और Real Hindi Sex Story को पड़ने के लिए readxxstories.com पर जाए। 

मिलते है जल्द ही एक और नई Real Sex kahani के साथ। 

धन्यवाद। 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Delhi Escorts

This will close in 0 seconds