May 14, 2024
Pehli Chudai Ka Sapna

मेरा नाम जैस्मिन है और मैं दिल्ली का रहने वाला हूं। मैं ReadXStories.Com का धन्यवाद करती हूँ जो मुझे अपनी आप बीती Hindi Sex Story आप सभी के साथ साझा करने का अवसर दिया।

कहानी है – कैसे मेरी पहली चुदाई का सपना ( Pehli Chudai Ka Sapna ) मेरे ड्राइवर ने पूरा किया

नमस्ते दोस्तों। मेरा नाम जैस्मिन है. मेरी उम्र 24 साल है. मैं एमबीए कर रही हूं. मैं अपने माता-पिता के साथ रहती हूं।

मेरे मम्मी पापा एक बड़ी कंपनी के मालिक हैं। हमारे घर में काफी नौकर हैं, ड्राइवर और सुरक्षा गार्ड हैं।

मेरी Hindi Sex Kahani तब की है जब मैं 20 साल की थी और कॉलेज के तीसरे साल में थी।

मेरा फिगर बहुत सेक्सी था, 32-28-34. कॉलेज में मेरा बॉयफ्रेंड था राहुल. हम दोनों एक दूसरे को पसंद करते थे।

हमारे रिश्ते को 1.5 साल हो चुका था। पर हम अभी तक दूसरे बेस तक ही गए हैं।

मेरा मन था मेरा पहला सेक्स राहुल के साथ हो। क्योंकि मैं उससे प्यार करती थी।

एक दिन मम्मी पापा ने बताया की उन्हें वीकेंड पे कहीं बाहर जाना है किसी दोस्त की शादी में।

तो उस वीकेंड घर बिल्कुल खाली रहेगा। मैंने राहुल के साथ प्लान बनाया और मम्मी पापा के जाने के बाद उसे घर बुला लिया। अब हम दोनों मेरे रूम में थे।

मैंने घर के सभी नौकरों को अपने क्वार्टर में जाने के लिए कह दिया था।

मैं और राहुल के कमरे में बिल्कुल अकेले थे। हम दोनों किस कर रहे थे. वो मेरे स्तन दबा रहा था जिसे मुझे मजा आ रहा था।

मैंने राहुल की पैंट की ज़िप खोली और उसका लंड बाहर निकालने लगी।

राहुल ने मेरा टॉप उतार दिया और ब्रा भी। कुछ ही देर में मैं राहुल के सामने पूरी नंगी हो चुकी थी।

मैं राहुल का लंड ज़ोर से स्ट्रोक कर रही थी। मैं सेक्स के लिए तैयार थी पर तभी राहुल का ऑर्गेज्म हो गया और वो झड़ गया।

ये देख कर मुझे गुस्सा आ गया. मैंने बोला, “राहुल, तुम क्या? इतनी जल्दी हो भी गया?

” वो मुझे सॉरी सॉरी बोलने लगा और जल्दी जल्दी कपड़े पहनने लगा। मैं उसने रुकने के लिए बोलू। इसे पहले ही वो मुझे बाय बोलके चला गया।

मैं अपने बिस्तार पर नंगी लेटी हुई अपनी किस्मत को रो रही थी।

मेरा सपना टूट गया था. क्यूकी मेरा बॉयफ्रेंड नामर्द निकला। इतने में डोरबेल बजी तो मैं अपना बाथरोब पहन के देखने गई।

बहार हमारा ड्राइवर जीतेन्द्र भैया खड़े थे. मैने चिल्ला के बोला, “क्या है?” तो वो बोले,

“जैस्मिन बेबी आपका दोस्त गाड़ी निकालते हुए गमला तोड़ दिये।” मैने गुस्से में कहा, “साला नामर्द. अन्दर तो कुछ हुआ नहीं. बहार गमला तोड़ दिया।”

तभी मुझे एहसास हुआ कि मैं क्या बोल रही हूं। मैंने देखा जीतेन्द्र भैया मेरी नंगी टांगे देख रहे थे।

मैं जीतेन्द्र भैया के बारे में कुछ बता दूं। वो 33 साल के 6 फीट लंबे. मस्कुलर मर्द है. एकदम लंबा सांवला और हैंडसम टाइप का. जीतेन्द्र भैया मेरी तरफ देख रहे थे। और सब समझ गए क्या चल रहा है।

मैंने उनसे कहा, “आपको कुछ चाहिए?” तो वो बोले, “कुछ नहीं, जैस्मिन बेबी।

बस इन नामर्द लड़को से दूर रहना। इनकी नज़र तुम्हारे पैसों पर है।”

मुझे गुस्सा आ गया. मैंने बोला, “आप उसे नामर्द क्यों बोल रहे हैं? आपको क्या पता राहुल असली मर्द है या नहीं?”

तो वो बोले, “जैस्मिन बेबी। हमने भी दुनिया देखी है. कोई बात नहीं.

मैं जाता हूं और असली मर्द देखने का मन हो तो मेरे कमरे पर आ जाना।” ऐसा कह वो चले गए और मैं भी अंदर आ गई।

मैं सोच में पड़ गई के उन्होंने मुझे ऐसा क्यों कहा। वो ऐसा क्या दिखाएंगे.

मैं यही सब सोचते हुए रात को 8 बजे उनके कामरे पे गई। मैने टॉप, शॉर्ट्स, ब्रा और पैंटी पहनी थी।

मैंने रूम पे नॉक किया. जीतेन्द्र भैया ने दरवाज़ा खोला और बोले, “आ जाओ मैं तुम्हारी ही प्रतीक्षा कर रहा था।

” मैंने देखा जीतेन्द्र भैया बस निचले हिस्से में। उनकी मस्कुलर बॉडी देख के मैं इम्प्रेस ही हो गई।

वो फिर राहुल को बुरा भला बोलने लग गए। बोले, “ये कॉलेज के नामर्द लड़कों के लिए कुछ नहीं है। असली मर्द तो तुम्हारे सामने खड़ा है।”

मैं गुस्से से बोली, “तुम्हें कोई हक नहीं राहुल को गाली देने का।

” तभी जीतेन्द्र भैया ने मुझे ज़ोर का थप्पड़ मारा। मैं एक बार को सुन्न पड़ गई। मेरी आँखों में आँसू आ गये।

मैं उसपे चिल्लाई की, “तुम्हारी हिम्मत कैसे हुई मुझे मारने की?

” तो उसने मेरा हाथ पकड़ के मोड़ दिया और एक और थप्पड़ लगा दिया। वो बोला, “चुप। चिल्लाना नहीं मेरे सामने।”

और कहते हुए एक और ज़ोर का थप्पड़ लगा दिया। मैं तो एकदम सुन्न पड़ गई थी.

उसने मेरे दोनों हाथ पकड़े और मेरे शॉर्ट्स और पैंटी एक साथ नीचे उतार दिए। मेरी चूत उसके सामने नंगी हो चुकी थी।

मैं हिल भी नहीं पा रही थी। मुझे जीतेन्द्र ने कस के पकड़ा हुआ था।

तभी जीतेन्द्र भैया ने मेरी चूत पर अपनी उंगली शुरू कर दी। मेरी चूत में ज़ोर की सनसनी हुई। उसने मेरे हाथ बांध के मुझे बिस्तार पे लिटा दिया।

मेरी तांगे उठा के चूत पे अपना मुँह दे दिया और ज़ोर से चाटने लग गया। ये सब मेरे साथ पहली बार हो रहा था।

मेरी चूत में सांसनाहत हो रही थी. ये फीलिंग हाय मेरे लिए बिल्कुल नई थी। और मैं इसे एन्जॉय कर रही थी।

तभी उसका हाथ मेरे टॉप पर गया और वो स्तन दबाने लगा। मैं अब बिल्कुल भी विरोध नहीं कर रही थी।

ये देख के जीतेन्द्र भैया मुझे छेड़ने लगे। बोले अब आया ना मजा असली मर्द का. मैं कुछ नहीं बोली.

उसने मेरा टॉप उतरना चाहा पर मेरे हाथ बंधे हुए थे तो उसने फाड़ ही दिया।

और मेरी ब्रा भी उतार दी. अब मैं जीतेन्द्र भैया के आगे बिलकुल नंगी लेटी हुई थी। वो मेरी तरफ देख रहे थे. मेरे गोरे बदन को निहार रहे थे.

जीतेन्द्र भैया ने अपना पजामा उतारा। उनको कच्छा नहीं पहचाना था. उनका 9” लंबा लंड लटक रहा था। वो मेरे मुँह की तरफ आये और मेरे मुँह में लंड डालने लगे।

जब मैंने विरोध किया तो एक और थप्पड़ लगा दिया। वो बोले मुँह में ले लो. मजा आएगा.

मैंने हमेशा से पोर्न में देखा था कि लड़की लंड चूसती है पर कभी राहुल के साथ भी हिम्मत नहीं हुई लंड चूसने की।

पर यहाँ तो ज़बरदस्ती मेरे मुँह में लंड थूस दिया था। मैं चूसने लगी. लंड का नमकीन स्वाद आने लगा. और धीरे धीरे लंड पूरा खड़ा हो चुका था।

जीतेन्द्र भैया ने मेरे हाथ खोल दिये थे। और उन्होंने मुझे घोड़ी बनने को कहा।

मैं बिस्तर पर घोड़ी की पोजीशन में आ गई। उन्होंने अपना लंड मेरी वर्जिन चूत पे रखा। मुझे चूत पर एक अजीब तो बिजली दौड़ गई।

फिर लगा झटका. जीतेन्द्र भैया का लंड मेरी चूत में था. मेरी सील टूट चुकी थी.

मैं चिल्ला पड़ी. उन्हें एक ज़ोर का चांटा लगया मेरी गांड पे और चुप होने के लिए बोला। अब उन्हें धीरे-धीरे मुझे चोदना शुरू कर दिया था।

मेरी सिसकियाँ निकल रही थी. वो मुझे लगतार चोद रहे थे. थोड़ी ही देर में मैं झड़ गई।

पर जीतेन्द्र भैया कहा रुकने वाले थे। अनहोन सेम पोजीशन में मुझे 15 मिनट तक चोदा।

फिर मुझे सीधा लेटने को बोला. उन्होंने मेरी तांगे उठाई और पूरा लंड मेरी चूत की गहराई में डाल दिया।

मैंने अपने हाथों को अपना मुँह बंद कर रखा था। वो मुझे चोद रहे थे.

अचानक मैंने देखा उनको मेरा फोन लिया और मेरी वीडियो बनाने लगे।

मैं ऐसी स्थिति में थी के उन्हें रोक नहीं सकती थी। मैं सेक्स के नशे में डूबी हुई थी।

मेरा पहली बार सेक्स करने का सपना मेरे ड्राइवर के साथ पूरा हो रहा था।

मैं फ़िर से झड़ गई थी। पर जीतेन्द्र भैया रुकने का नाम नहीं ले रहे थे। उन्होंने मुझे और 20 मिनट तक चोदा।

फ़िर वो मेरे ऊपर आये और अपना लंड हिलाते हुए अपने लंड की मलाई मेरे मुँह और स्तन पे गिरा दी।

मुझे कुछ सांसें आईं. जीतेन्द्र ने सारी मलाई अपनी उंगलियों में उठाई और मेरे मुँह में डालने लगे।

मैंने मना किया तो उन्हें मेरी नाक बंद कर दी और मजबूरन सारी मलाई गतकनी पड़ी।

मुझे अन्दर से अपमानित महसूस हो रहा था पर मज़ा भी आ रहा था।

वो बोले, “क्यों जैस्मिन बेबी? आया असली स्वाद मर्द का?” मैं कुछ नहीं बोली और उठ के जाने लगी।

मेरा टॉप तो पहले ही मोटा चुका था। मैंने अपनी ब्रा मांगी तो बोले ब्रा नहीं मिलेगी। उन्होंने अपनी पुरानी टी-शर्ट पहनने को दी।

मैं जाने लगी तो बोले, “जैस्मिन बेबी, दो बातों का ध्यान रखना। अपने डैडी को इस सब के बारे में कुछ मत बोलना।

ध्यान रहे तुम्हारा वीडियो है मेरे पास। और दूसरा अगर दोबारा आने का मन हो तो ब्रा पैंटी पहनने के आना।

क्योंकि अगर वो पहन के ना आई तो नंगी ही वापस जाओगी।”

मैं हां कह के वहां से निकल आई और अपने कमरे की तरफ आते हुए एक तरफ अपमानित महसूस कर रही थी। पर दूसरी तरफ़ ख़ुश भी हो रही थी।

ये थी दोस्तो मेरी पहली चुदाई की कहानी ( Pehli Chudai ki Kahani )। आगे की कहानी मैं अगले भाग में सुनूंगी।

जब जीतेन्द्र भैया ने मुझ पर हावी होने की कोशिश की और मेरी गांड भी मारी।

कहानी कैसी लगी कमेंट में ज़रूर बताये। मिलते अगले किसी दिलचस्प कहानी के साथ। 

अगला भाग – Pehli Chudai Ka Sapna 2

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Delhi Escorts

This will close in 0 seconds