May 14, 2024
Sauteli beti ki gand chudai

वेबसाइट के पाठकों को मेरा नमस्कार मेरा नाम साक्षी मित्तल है मैं दिल्ली में अपनी पढ़ाई के लिए रहती हूं मेरा होमटाउन भोपाल है दिल्ली में मैं सौतेले पापा के साथ रहती हूं यहां पर मेरा खाना पीना और चुदना सब अच्छे से हो जाता है मैं देखने में बहुत खुबसूरत हूं यानी बाला की खुबसूरत हूं कोई भी लड़का मुझे देख ले तो उसको तर्क ही चढ़ जाती है और दिल्ली मुझे बहुत अच्छी लगी और इन दिनों मैं सेक्स का खूब मजा ले रहा हूं.

आज की कहानी में पढ़े: सौतेले बाप ने कामवासना जगा कर सौतेली बेटी की गांड चुदाई करके अपनी राखेल बना लिया और उसकी चूत में अपना माल दिया

वो भी अपने पिता के साथ अपने ही घर में. मैं आपको बता रही हूं कि ये कैसे संभव हुआ. असल में वह मेरे सौतेले पिता हैं. मेरे असली पिता अब इस दुनिया में नहीं हैं, इसलिए मेरी मां ने दूसरी शादी कर ली है.

मेरी मां इस वक्त 32 साल की हैं और मेरे नये पिता 40 साल के हैं. मेरे नये पिताजी की पत्नी किसी और के साथ भाग गयी और फिर तलाक हो गया।

मेरी माँ और पिताजी की मुलाकात एक वैवाहिक वेबसाइट पर हुई थी। धीरे-धीरे बात आगे बढ़ी और मां ने दूसरी शादी कर ली. मैं इकलौता बच्चा हूं इसलिए मैं भी अपनी मां के साथ दिल्ली आ गयी.

मेरे नये पिता का अपना व्यवसाय है। उनके पास बहुत पैसा है और सबसे बड़ी बात ये है कि वो बहुत अच्छे इंसान हैं. वह देखने में बेहद खूबसूरत, हॉट और सेक्सी हैं।

मेरी मां भी बहुत खूबसूरत हैं, मुझमें और मेरी मां में ज्यादा अंतर नहीं है, ऐसा लगता है कि हम दोनों बहनें हैं. जब मैं दिल्ली आयी तो मैं और मेरी मां बहुत खुश हुए.

क्योंकि हम दोनों की खुशियां दोबारा लौट आई थीं. मेरा अपना कमरा, माँ और पिताजी का अलग कमरा। बड़ा फ्लैट और दो गाड़ियाँ, किसी चीज़ की कमी नहीं।

पापा भी इसकी बहुत सराहना करते हैं. लेकिन अब पता चला कि मामला सेक्स तक कैसे पहुंचा. हुआ ये था कि माँ भी कई सालों से लंड की भूखी थी. और मेरे नये पापा को भी चूत चाहिए थी.

इसलिए वे दोनों ऐसे रह रहे थे जैसे वे एक लड़का और लड़की हों। दोनों के कमरे रात नौ बजे बंद हो जाते थे. और फिर पूरी रात मुझे सिर्फ आह आह आह की आवाज़ सुनाई दी जो मेरी माँ चुदवाते समय निकालती थी। तो मैं भी गरम हो जाती थी.

वो दोनों बंद कमरे में सेक्स करते थे और मैं दरवाजे के पास खड़ी होकर बस अपने मम्मे दबाती थी और अपनी चूत सहलाती थी. और इससे ज्यादा वो कुछ नहीं कर पाई. जब वो दोनों शांत हो जाते थे तो मैं अपने कमरे में भाग जाती थी।

फिर पापा फ्रेंच जांघिया पहनकर बाथरूम जाने के लिए निकलते थे और उनको देखकर मेरी चूत और भी गीली हो जाती थी. मैं अपने कमरे से झाँकती रही।

वो लोग सोचते थे कि मैं सो रही हूँ लेकिन मैंने बताया कि जब भी मैं सोती थी तो चुदाई की आवाजें और सेक्सी आवाजें सुन कर मेरी नींद उड़ जाती थी और फिर मुझे लंड के सपने आते थे.

फिर जब माँ आती थी. तो उसने भी सिर्फ तौलिया लपेटा हुआ था और नीचे उसके स्तन खुले हुए थे। तो काश कोई मुझे भी ऐसे ही चोदता. दोस्तों माँ दूसरी शादी करती है और उसकी एक बेटी है.

उस बेटी पर क्या बीतती है ये मुझसे ज्यादा कोई नहीं समझ सकता. क्योंकि जब दूसरी शादी में दूसरी पारी शुरू होती है तो माता-पिता का हनीमून एक युवा जोड़े से भी ज्यादा हॉट होता है।

लेकिन इसका खामियाजा जवान बेटी को भुगतना पड़ता है क्योंकि घर का माहौल सेक्स के प्रति प्यार से भरा होता है और इसे जवान बेटी सिर्फ महसूस ही कर सकती है।

धीरे-धीरे मैं काफी कामुक हो गई और मेरे अंदर की वासना भी जाग गई। मैं भी सेक्स के सपने देखने लगी. सच बताऊं तो मुझे अपने पापा से प्यार हो गयी थी, लेकिन ये सिर्फ मैं ही जानती थी.

मैं उसके सपने देखती थी और चाहती थी कि जैसे वह मेरी माँ को संतुष्ट करता है, कोई मेरे साथ भी वसा ही करे । लेकिन मेरा सपना हकीकत में बदल गया लेकिन मुझे पहला कदम उठाना था और उसने मुझे चोद दिया।

अब मैं आपको बताती हूं कि ऐसा कैसे हुआ. एक दिन मेरी दादी की तबीयत खराब हो गई. वह सोनागाछी में रहती है. उन्हें ब्रेन हेमरेज हुआ और वह बहुत बीमार हो गईं। सोनागाछी से बुलावा आया तो मां को सोनागाछी जाना पड़ा.

जिसके चलते मां चली गईं, सिर्फ मुझे नहीं ले गईं.’ पापा ने भी कहा नहीं, वह नहीं जायेगी. क्योंकि आजकल ये सुरक्षित नहीं है. पापा एक पिता की हैसियत से ये सब कह रहे थे.

तभी मुझे अपने अंदर झुनझुनी महसूस होने लगी। अब मुझे पता चला कि मैं दिल्ली में रहूंगी, मां सोनागाछी जाएंगी और पापा घर पर रहेंगे. और शाम को माँ चली गयी.

पापा मेरे लिए वो सारी चीजें लेकर आए ताकि मुझे ऐसा न लगे कि मैं अपनी मां को मिस कर रही हूं। वह बहुत ख्याल रखने लगे. लेकिन मैं हताश थी और कोई बहाना सोच रही थी कि कैसे चोदूँ, अगर उसने मना कर दिया तो क्या कहूँ।

फिर मैंने Readxstories सेक्स स्टोरी पर कहानियाँ पढ़ीं जिनमें एक बेटी थी जिसका हाल भी मेरे जैसा ही था और वो भी अपने बाप से चुदाई करवाती थी। मुझे बहुत मज़ा आया। लगा कि अगर वो चुदाई करवा सकती है तो मैं क्यों नहीं. खाना खाने के बाद पापा अपने कमरे में चले गये और मैं भी अपने कमरे में चली गई.

उस रात मैंने नाईट सूट पहना था जिसमें मेरा बदन साफ़ दिख रहा था। मेरे स्तन गोल दिखाई दे रहे थे और निपल्स भी दिखाई दे रहे थे।

मेरी गोल गांड बाहर दिख रही थी. वह भी अच्छी तरह से तैयार थी. लेकिन पापा ने कोई लाइन नहीं दी, उन्होंने मुझे देखा लेकिन उनका मन नहीं ललचाया.

और मैं चाहती थी कि उनका मन मुझे चोदने का हो, इसलिए मैं आगे-पीछे हिल रही थी। यह मेरे पापा के लिए काम नहीं आया, मुझे गुस्सा भी आ रहा था। मै अपने कमरे में चली गयी और वह भी अपने कमरे में चला गया. फिर मैंने कहानियां पढ़ना शुरू किया. कुछ कहानियाँ पढ़ते ही मेरे शरीर में बिजली दौड़ने लगी।

मैं अपने स्तनों को सहलाने लगी और अपनी चूत में उंगली करने लगी. मेरे दांत किटकिटा रहे थे. मेरे होंठ सूखे लग रहे थे. इस तरह मैं कामुक हो गयी. और मेरी चूत काफी गीली हो गयी थी. तभी मुझे कुछ आवाज सुनाई दी, ये पापा की आवाज थी.

मैं उठ कर उसके कमरे में गया तो दरवाज़ा थोड़ा खुला पाया। टीवी चालू था. वो नंगा था और अपने लिंग को जोर जोर से थूक लगा कर आगे पीछे करके हस्तमैथुन कर रहे था.

मैं तो उसे देखते ही पागल हो गयी, वो पहले से ही गर्म थे, उसके बाद मैं उसे देखता ही रह गया और उसके कमरे में चला गयी।

वह चुपचाप देखने लगी. कुछ नहीं बोली, मैं उसके पास जाकर खड़ा हो गयी. करीब 10 मिनट तक उसे देखती रही और फिर तुरंत उसका लिंग पकड़ कर अपने मुँह में ले लिया। पापा ने भी तुरंत मेरे बाल पकड़ लिए और अपना लंड मेरे मुँह में डालने लगा. और फिर अपने कपड़े उतार दिए.

वो मेरे स्तनों को चूसने लगा और मेरे निपल्स को अपने दांतों से काटने लगा. वो मेरी गांड को सहलाने लगा, मेरे होंठों को चूमने लगा और फिर मेरी चूत को चाटने लगा. मैं तो पागल हो गयी थी, बस इसी दिन और इसी पल का इंतजार कर रहा था. उसने अपना लंड मेरी चूत पर रखा और तीन-चार कोशिशों में ही मेरी चूत में डाल दिया.

मैं कराह उठी. शायद कुछ खून भी निकला था लेकिन दिख नहीं रहा था. करीब पांच मिनट की चुदाई के बाद मैं कामातुर हो गयी. मैं तुरंत उसके ऊपर चढ़ गई और अपने स्तन उसके मुँह में दे दिए।

पहले अपनी चूत चटाई फिर अपनी गांड चटाई और अपनी चुचो को उसके मुंह पर हिलने लगी।

पहले अपनी चूत चटाई फिर अपनी गांड चटाई और अपनी चुचो को उसके मुंह पर हिलने लगी। फिर उसके लिंग पर बैठ कर उसे पूरा अपनी चूत में ले लिया। फिर क्या, दोस्तों, उसने थोड़ा टाइम लगाया और मुझे पूरी रात चोदा और मैंने भी अपने पापा से अपने जिस्म की आग बुझाई।

वह मुझे रोज चोदते  हैं और अपना वीर्य मेरे मुंह पर झड़ते हैं मम्मी को भी सोनागाछी गए हुए आज 12 दिन हो गए थे।  इन 12 दोनों में पापा ने मुझे इतना चोदा कि मेरी बुर सज गई थी।  और वह मुझे डॉक्टर के पास भी ले गए थे। 

दवाई के लिएजैसे ही सूजन थोड़ी कम हुई हमने फिर से अपने इस नए रिश्ते को एक कदम आगे बढ़ाया और पूरे घर में पूरे दिन चोदम पट्टी मचाए राखी।

मैं पूरी तरीके से संतुष्ट हो चुकी थी मेरी बुर का पानी कोई नहीं निकल पाया आज तक बट इन्होंने एक दिन में करीबन 5 से 7 बार निकाल दिया मेरे पुराने बॉयफ्रेंड जितने भी थे। है एक शॉट करके ही थक जाते थे बट इन्होंने मुझे सेक्स का असली मतलब समझाए मेरे पापा करीबन एक दिन में मुझे 7 से 8 बार चोदते हैं 7 और 8 चूत का निकालते हैं

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Delhi Escorts

This will close in 0 seconds