May 21, 2024
tauu ki ladki ki Gulabi Chut Ki Chudai

हेलो दोस्तों, मैं साहिल आप सभी का Readxstories.com पर स्वागत करता हूँ। मैं इसका बहुत बड़ा फैन हूँ और ऐसा कोई दिन नहीं जाता जब मैं यहाँ की सेक्सी कहानियाँ नहीं पढ़ता हूँ।

दोस्तो, मैंने आज आपको अपनी ताऊ की लड़की की गुलाबी चूत की चुदाई की कहानी बताने का फैसला किया है। मैं एक संयुक्त परिवार में रहता हूँ. मेरे साथ मेरे चाचा-चाची भी रहते हैं. ताऊ जी की बेटी मुस्कान बहुत खूबसूरत और सेक्सी है.

यह घटना पिछले साल की है. मुस्कान मेरे साथ कॉलेज में पढ़ती थी. उसका नाम भी मेरे चाचा ने ही लिखा था. मुस्कान रिश्ते में मेरी बहन लगती थी लेकिन वो मेरी माल थी।

मेरा मानना था कि बाहर का कोई लड़का मेरे घर की दौलत क्यों छीन ले. मेरे घर का खाना सिर्फ मुझे ही खाने को मिले. मुस्कान और मैं एक ही उम्र के थे. हम दोनों महज़ 22 साल के थे.

इससे पहले कि कोई उसे मना पाता, मैंने उसे मना लिया था. घर में छुप कर मैं उसके मम्मे दबाता था और उसके मुलायम होंठ पीता था। मुस्कान के स्तन काफ़ी बड़े और सुन्दर थे।

उसका फिगर 34 27 32 था. मुस्कान अच्छी थी. लेकिन दोस्तो, मेरा लंड पिछले कई हफ्तों से मेरे अंडरवियर में ही फड़फड़ा रहा था. मेरा 9 इंच लम्बा लंड मुस्कान की चूत को कस कर चोदना चाहता था.

दोस्तो, इधर कुछ दिनों से मुझे समय नहीं मिल पा रहा था। चूँकि मुस्कान के पापा-मम्मी, जो मेरे चाचा-चाची लगते हैं, हमेशा घर पर ही रहते थे इसलिए मुझे मुस्कान को लाड़-प्यार करने का समय नहीं मिल पाता था।

एक दिन चाचा कुछ देर के लिए बाहर गये. शायद बैंक गया था. ताई जी को भी अपने साथ ले गये थे। मैं तुरंत उसके घर में घुस गया. अंदर जाते ही मैंने मुस्कान को अपनी बांहों में कस कर पकड़ लिया.

उसके बदन की खुशबू मेरी नाक तक पहुंच रही थी. एक 21 साल की जवान चुदासी लड़की मेरे सामने थी. ओह साहिल!! मुझे तुमसे प्यार है !! मैंने तुम्हें कितना याद किया??’

मुस्कान ने कहा और लैला की तरह मुझे यहाँ वहाँ चूमने लगी। ज़िंदगी !! आप कैसे हैं?? मैं भी आपसे प्यार करता हूँ!!” मैंने कहा था। ताऊ और ताई के जाते ही हम दोनों पागलों की तरह एक दूसरे को चूमने चाटने लगे.

मैं अपने दोनों हाथों से मुस्कान जैसी जवान लड़की की पीठ सहलाने लगा. वो भी मेरी पीठ सहलाने लगी. हम लैला मजनू की तरह एक दूसरे को चूमने चाटने लगे. कुछ देर बाद मैं अपने चाचा की बेटी महिया के नरम गुलाबी होंठ पीने लगा.

मेरे हाथ उसके चूचों पर चले गये. न तो बहुत बड़े स्तन थे और न ही बहुत छोटे। मैंने उसके कंधे पकड़ लिए और उसके मम्मे दबाने लगा. मुस्कान ने क्रीम कलर का सलवार सूट पहना हुआ था.

जैसे ही मैंने दुपट्टा हटाया तो मुझे उसके कसे हुए और सुडौल स्तन दिखे और मेरा लंड आसमान में खड़ा हो गया. उफ़्फ़्फ़्फ़्फ़!! क्या गोल गोल और कसे हुए मम्मे थे मेरी बहन के. मैंने मुस्कान का दुपट्टा उतार कर एक तरफ रख दिया और उसके मम्मे दबाने लगा.

उन्होंने आँखें मूँद लीं। ऐसा लग रहा था जैसे मुझे जन्नत का मजा मिल रहा हो. मैं उसके सलवार सूट के ऊपर से उसके स्तनों को छूने लगा। मुस्कान बेदम और तनावग्रस्त हो गई।

उन्होंने भी इसका पूरा लुत्फ उठाया. खड़े-खड़े ही मैं काफी देर तक उसके खूबसूरत बदन को छूता-छूता रहा। वो मजा लेती रही. भाई !! बहुत दिन हो गए मुझे चोदे हुए.

क्या आज कोई मौका है? मुस्कान ने कहा. मैं हँसने लगा, बहन!! मैं भी तुम्हारी चूत लेने के लिए बहुत पागल हूँ. तुम क्या जानोगे मेरे दिल का हाल? मेरा भी तुम्हें चोदने का मन कर रहा है” मैंने मुस्कुरा कर कहा और अपने दिल का हाल बता दिया।

तो भाई आज मेरे घर पर कोई नहीं है. आज तुम मुझे क्यों नहीं चोदते???’ मुस्कान ने बड़ी मासूमियत से कहा. हां दीदी, मेरी भी बहुत इच्छा है कि मैं अपनी गर्म उबलती हुई चूत में लंड डलवाऊं. लेकिन यह बताओ कि तुम्हारे चाचा-चाची कहाँ गये हैं और कब आयेंगे?

मैंने अपनी बहन मुस्कान का हाथ पकड़ते हुए कहा. पापा और मम्मी ज्वाइंट अकाउंट खुलवाने गए हैं. अगर बैंक में बहुत भीड़ होगी तो लोगों को आने में आसानी से ढाई घंटे लग जायेंगे!!” मुस्कान ने कहा.

दोस्तो, ये समय उसकी चूत चोदने के लिए काफी था. मैंने दरवाजा अंदर से बंद कर लिया. मुस्कान मुझे अपने कमरे में ले गयी. वो बिस्तर पर जाकर लेट गयी. मैं करवट लेकर लेट गया.

मैंने उसे फिर से अपनी बांहों में ले लिया और हम दोनों एक दूसरे के होंठों को चूमने लगे. दोस्तो, वो इतनी कामुक थी कि उसने बिना कहे अपना सूट खुद ही उतार दिया।

फिर उसने अपने दोनों हाथ अपनी पीठ के पीछे ले जाकर अपनी ब्रा उतार दी. हे भगवान!! क्या खूबसूरत स्तन थे मेरी बहन के. मैं पागलों की तरह उसके स्तनों को अपने हाथों से सहलाने लगा।

चिकने दूध पाकर मेरी किस्मत चमक गयी थी. जैसे ही मैंने मुस्कान के मम्मों को दबाना शुरू किया तो वह गर्म आहें भरने लगी. वो आह आऊँ ऊँह आआह आआह करने लगी. मुझे और भी जोश आने लगा.

मैं उसके स्तनों को और जोर-जोर से दबाने लगा। क्या मस्त रबर की गेंद जैसे दूध जैसा उसका। फिर मैं मजे से मुस्कान के दूध पीने लगा. उसके स्तन गाय के स्तन जितने बड़े थे.

बहुत सुंदर और बहुत स्वादिष्ट. मैं मुस्कान के दूध मुँह में भर कर पीने लगा. उसके स्तनों के ऊपरी भाग पर काले घेरे थे जो मुझे बहुत सेक्सी लग रहे थे। मैं अपनी जीभ से उन काले घेरों को मजे से चाट रहा था.

इधर मुस्कान बहुत शरारती हो गई. उसने कब अपनी सलवार खोली, मुझे पता ही नहीं चला. मुस्कान अपनी पैंटी के ऊपर से अपनी चूत को सहलाने लगी. और जोर जोर से मसलने और मसलने लगा.

मैं ये सब देख भी नहीं सका. मैं उसके अद्भुत स्तन का दीवाना था। बहन !! पिछली बार जब मैंने तुम्हारी चूत ली थी तो तुम्हारे मम्मे काफ़ी बड़े थे, लेकिन आज साइज़ कम लग रहा है? मैंने पूछा हाँ भाई!! तुमने इतने महीनों से मेरे स्तनों का इज़हार नहीं किया है.

इसी कारण मेरे स्तन थोड़े सिकुड़ गये हैं!!” मुस्कान ने कहा. कोई बात नहीं बहन. आज मैं तुम्हें चोदूंगा और अपने स्वादिष्ट स्तन भी निचोड़ूंगा!” मैंने कहा था। उसके बाद दोस्तो, मैं अपने चाचा की जवान और लंड की प्यासी लड़की के मम्मे बड़े मजे से दबाने लगा.

मैं जितनी जोर से उसके मम्मे दबाता, उतनी ही तेजी से मुस्कान अपनी उंगलियों से अपनी चूत को सहलाती. कुछ ही देर में उसकी पैंटी उसकी चूत के खुशबूदार पानी से गीली हो चुकी थी.

मुझे मुस्कान का दूध पीने की लत लग गयी थी. दोस्तों फिर मैंने अपने कपड़े उतार दिए और अंडरवियर भी उतार दिया. मेरा लंड जो पहले 9 इंच लंबा था, अब और भी बड़ा होकर 10 इंच लंबा हो गया था.

मैं मुस्कान को चोदना चाहता था लेकिन इतनी जल्दी नहीं। बहुत ही प्यार भरे और रोमांटिक अंदाज में. तो दोस्तो, आज मैं किसी भी तरह की जल्दबाजी के मूड में नहीं था। मैं मुद्दत तक मुस्कान का दूध पीता रहा.

उसके सख्त निपल्स से खेलता रहा. फिर मैंने अपना खड़ा और सख्त लंड मुस्कान के बूब्स पर रखा और दूध में डुबाने लगा. इससे मुस्कान को बहुत मजा आ रहा था.

ऐसा करो भाई, अपने लंबे लंड से मेरे स्तनों को और ज़ोर से चोदो, मुस्कान बोली। मैं और जोर से मुस्कान के दूध में अपना लंड गाड़ने लगा. उसके स्तनों को छूने लगा. मुझे भी बहुत मजा आ रहा था.

फिर मैंने मुस्कान की एकदम गोरी क्लीवेज में अपना लंड डाल दिया और उसके मम्मों को दोनों हाथों से कस कर पकड़ लिया और बीच की तरफ ले गया. मेरा 10 इंच मोटा खीरे जैसा लिंग उसके मुलायम स्तनों के बीच फंसा हुआ था और आवाज कर रहा था।

फिर मैंने उसके दोनों मम्मे पकड़ लिए और मुस्कान को चोदने लगा. उफफफफ मैं आपको बता नहीं सकता दोस्तों मुझे कितना मजा आया. इस वक्त मैं अपने चाचा की बेटी के साथ ब्रेस्ट सेक्स कर रहा था. मैं जोर जोर से मुस्कान के मम्मे चोदने लगा. उसे भी बहुत मजा आ रहा था.

धीरे धीरे मैंने अपनी स्पीड बढ़ा दी. और वो जोर जोर से अपनी बहन के बोबों को चोदने लगा. इस वक्त मैं मुस्कान के पेट पर बैठा हुआ था. उसका पतला सेक्सी पेट मेरे वजन से दब रहा था, लेकिन उसे मजा भी आ रहा था.

मैंने काफी देर तक मुस्कान के मम्मे चोदे. फिर वो रंडी की तरह अपनी जीभ बाहर निकालने लगी. दोस्तों मुस्कान अपनी जीभ मेरे लंड की तरफ ही कर रही थी. मुझे समझते देर नहीं लगी कि वो मेरा लंड चूसना चाहती है.

“चूसो इसे, कुतिया” मैंने उसे गाली दी और अपना लिंग उसके मुँह में डाल दिया। उसने जन्मों-जन्मों की प्यासी औरत की तरह मेरा लंड अपने मुँह में ले लिया और चूसने लगी. मैं उसके नंगे, सेक्सी और सेक्सी बदन से खेलने लगा.

मेरे हाथ उसके पतले सपाट पेट को छूने और सहलाने लगे। मेरी उंगलियाँ उसकी गहरे गड्ढे वाली नाभि में जाने लगीं और उससे खेलने लगीं। फिर मेरे हाथ उसकी चिकनी जाँघों पर गये और उन्हें सहलाने लगे।

मुस्कान की आँखें बंद थी. वो मुझे 100 प्रतिशत फूहड़ लग रही थी। क्योंकि दोस्तों जिस तरह से वो मेरा लंड चूस रही थी वो तो कोई रंडी ही कर सकती है. मैं उसके काम से बहुत खुश था.

वो मेरे लंड से खेल रही थी और चूस रही थी. मेरा मन कर रहा था कि अपने लिंग को इतनी जोर से उसके मुँह में धकेल दूं कि वह उसकी खोपड़ी के आर-पार हो जाये। मैंने चुदास में उसके चेहरे पर एक हल्का सा तमाचा जड़ दिया. उसका चेहरा और गाल एकदम लाल हो गये.

मुस्कान ने फिर से अपने दाहिने हाथ से मेरा लंड पकड़ लिया और उसे तेज़ी से हिलाने लगी और ऊपर-नीचे करने लगी। उसके नाज़ुक छोटे हाथ मेरे बड़े खीरे जैसे लिंग पर बहुत मनमोहक लग रहे थे।

इस वक्त वो मुझे किसी बच्ची की तरह लग रही थी. मुझे उससे और भी ज्यादा प्यार हो गया. मैंने जबरदस्ती अपना हाथ उसके हाथ से पीछे खींच लिया. क्योंकि मैं उसके होंठों को पीना चाहता था.

मैं अपने चाचा की बेटी के ऊपर बिल्कुल सीधा लेट गया और अपनी जीभ मुस्कान के मुँह में डाल दी. उसने भी अपनी लार से सनी जीभ मेरे मुँह में डाल दी.

हम दोनों एक दूसरे की जीभ पीने लगे. मुझे नहीं पता कि इसे अंग्रेजी में क्या कहते हैं, लेकिन इस तरह एक दूसरे की जीभ पीना और चूसना बहुत सेक्सी था। इससे हम दोनों को बहुत गर्मी लगने लगी.

मैं जानता था कि मुस्कान अभी मेरा मोटा लंड और चूसना चाहती है. तो उसके होंठों को चूसने के बाद मैंने फिर से अपना लंड मुस्कान के मुँह में डाल दिया और उसके सिर को पकड़ कर उसके मुँह को चोदने लगा।

मुस्कान किसी प्रोफेशनल रंडी की तरह अपना मुँह चुदवाने लगी. वह सांस भी नहीं ले पा रही थी. उसका मुँह मेरे लिंग से ऐसे सूज गया था मानो उसने अपने मुँह में बहुत सारे लड्डू भर लिये हों।

जैसे ही मैंने अपना लिंग उसके मुँह से निकाला, वह जोर-जोर से हाँफने लगी और अपनी नाक और मुँह खोलकर गहरी साँसें लेने लगी। उसकी हालत देख कर मुझे बहुत मजा आया दोस्तों.

उसका चेहरा मेरे लिंग के तरल पदार्थ से पूरी तरह गीला हो गया था। फिर मैंने माही की दोनों टांगें खोल दीं. उसने अभी भी अपनी पैंटी पहनी हुई थी. लेकिन इतनी देर तक नये नये काम करने के कारण उसकी पैंटी उसकी चूत के वीर्य से पूरी भीग गयी थी.

मैंने उसकी पैंटी उतार दी और उसे कुत्ते की तरह चाटने लगा. फिर मैंने मुस्कान की गीली पैंटी उसके मुँह में भर दी, ताकि चोदते समय उसकी आवाज बाहर न जाये.

मैं मुस्कान की खूबसूरत लाल चूत पर झुक गया और अपनी जीभ से उसकी चूत को चूसने लगा। उसकी चूत बह रही थी. उसकी चूत का बुरा हाल हो गया था. मैं कुछ देर तक अपने चाचा की बेटी मुस्कान की चूत चूसता रहा और फिर मैंने काम शुरू कर दिया.

मैंने अपना लम्बा 10 इंच का खीरे जैसा लंड मुस्कान की चूत में डाल दिया. वह डर गयी. मैं मुस्कान को चोदने लगा. दोस्तो, इतनी देर से हम जो प्यार भरी हरकतें कर रहे थे।

इससे उसकी चूत काफी चिकनी हो चुकी थी. इसलिए मुझे ज्यादा मेहनत नहीं करनी पड़ी. मेरा लंड बड़ी आसानी से मुस्कान की बुर में सरक रहा था. सब कुछ अपने आप हो रहा था.

ऐसा लग रहा था जैसे जमीन से तेल निकालने वाला कोई पंप तेजी से अंदर जाकर तेल निकाल रहा हो. मुझे बहुत कम मेहनत करनी पड़ी. सब कुछ अपने आप हो रहा था.

भाई, मुझे और जोर से चोदो, मुस्कान बोली. तो मैंने उसके दोनों कंधों को पकड़ लिया और जोर-जोर से धक्के मारने लगा। अब मेरे लंड से बहुत तेजी से उसकी चूत से तेल निकलने लगा.

मुस्कान के स्तन हवा में ऊपर की ओर उछलने लगे। इस तरह से वो बहुत सेक्सी, बड़ी रंडी लग रही थी. उसे देख कर मैं बहुत उत्तेजित हो गया. मैं इतनी जोर से धक्के मारने लगा कि पूरे बिस्तर से पच-पच की आवाज आने लगी.

मुस्कान का पूरा घर चट-पट-पट की मधुर आवाजों से गूंज उठा। ये उसकी चुदाई की मधुर आवाजें थीं. ये मुस्कान की रसीली चूत में उसके भाई के लंड के घुसने की मधुर आवाजें थीं.

मैं एक पल के लिए भी नहीं रुका और जोर जोर से धक्के लगाता रहा. कुछ देर बाद मैंने अपना अमृत उसकी चूत में छोड़ दिया. हम दोनों रोमियो और जूलियट की तरह गले मिले. चोदने और झड़ने में बहुत ताकत लगती थी.

इसलिए मैं आधी नींद में था. मेरे चाचा की सेक्सी बेटी मुस्कान मुझसे लिपट गई थी और अपने होंठों से मेरी छाती को चूम रही थी. ये सब बहुत रोमांटिक था. कुछ देर बाद हम दोनों फिर से खुश हो गये.

मुझे उसकी गांड लेने की बहुत इच्छा थी. मैंने मुस्कान की गांड के नीचे कोई तकिया रख दिया. इससे उसकी गांड ऊपर उठ गयी. मैं गांड पर हाथ फेरने लगा. मुस्कान मना करने लगी. भाई, जितना चोदना हो चोद लो. लेकिन कृपया गांड मत चोदो!!”

मुस्कान मना करने लगी और मेरा हाथ छुड़ाने लगी. हटो, हटो, बहनचोद!! गाण्ड चोदने का जो मजा है वो कहीं और नहीं!!” मैंने कहा और मुस्कान का हाथ खींच लिया.

मैं उसकी गांड में उंगली करने लगा. वह दर्द में था. वह नहीं चिल्ला रही थी. कुछ देर बाद मैंने अपना लंड उसकी गांड में डाल दिया. वह सिसकने लगी. मैं अपने चाचा की बेटी की बुर चोदने लगा।

उफ्फ्फफ्फ्फ़ !! क्या कसी गांड थी बहना की। बहुत मजा मिल रहा था। 50  मिनट तक मैं उसकी गांड आराम आराम से लेता रहा, फिर उसी में झड़ गया। ये कहानी आप सिर्फ और सिर्फ पर पढ़ रहे हैऔर भी सक्से कहानी के ले हमरी साइड पे बने रहे ।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Delhi Escorts

This will close in 0 seconds