May 21, 2024
ट्रैन में मिले अंकल ने मेरी गांड मारी

मेरा नाम अमन हे आज में आपको बताने जा रहा हु की कैसे "ट्रैन में मिले अंकल ने मेरी गांड मारी अपने मोटे लंड से"

मेरा नाम अमन हे आज में आपको बताने जा रहा हु की कैसे “ट्रैन में मिले अंकल ने मेरी गांड मारी अपने मोटे लंड से”

मैं दिल्ली का रहने वाला हूँ. मेरी उम्र 25 साल है। मैं समलैंगिक हूं और अपनी गांड में मोटा और लंबा लंड लेना पसंद करता हूं.

फिलहाल मैं दिल्ली में रहता हूं और मैंने कई सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म पर अपनी जानकारी पोस्ट की है, जिसके जरिए मुझे कई लंड आसानी से मिल सकते हैं।

यह कहानी पांच साल पहले की है जब मेरी गांड की चुदाई नहीं हुई थी. उस दिन मेरी गांड का उद्घाटन समारोह हुआ.

वैसे तो मैं अपनी गांड में लंबे बैंगन, खीरा, गाजर, मूली और अपने बनाये हुए कुछ उपकरण घुसाता रहता हूं.

मेरे द्वारा बनाया गया उपकरण मेरी अपनी जरूरत के हिसाब से बनाया गया है, इसकी जानकारी मैं अपने जैसे समलैंगिक मित्रों को भी बताऊंगा।

शुरुआत ऐसी हुई कि जैसे-जैसे मैं बड़ा होता गया, मेरी लड़कियों में रुचि कम होती गई। मैं लड़कियों की बजाय खूबसूरत लड़कों में दिलचस्पी दिखाता था।

मुझे लम्बे और गोरे लड़के बहुत पसंद आने लगे. फेसबुक पर मैं लड़की बनकर लड़कों से चैट करता था और उनके कैमरे खोलकर उनके लिंग देखता था।

फिर मुझे बाथरूम में कमोड पर बैठ कर गांड धोते समय जेट स्प्रे के साथ उंगली करना भी अच्छा लगने लगा.

उसी वक्त मुझे चिकनाई की जरूरत महसूस होने लगी तो मैंने उंगली में शैम्पू लिया और उसकी गांड में उंगली करने लगा. एक उंगली आसानी से अन्दर जाने लगी तो मैंने दो उंगलियाँ अन्दर बाहर करनी शुरू कर दीं.

इसके बाद वह बैगन, खीरा आदि लेकर बाथरूम में जाने लगा. लेकिन उन सब्जियों में कठोरता नहीं होती, जिससे उनके गांड में टूटने का खतरा रहता था. यही समस्या मोमबत्तियों के साथ भी थी.

फिर एक दिन मैं बाज़ार में एक जनरल स्टोर पर गया। वहां मैंने सेंट स्प्रे की बोतलें देखीं. उनका आकार बिल्कुल लिंग जैसा लग रहा था.

मैं देखने लगा. मुझे एक बोतल पसंद आई। इसकी टोपी कुछ नुकीली और गोल थी। साथ ही इसका ढक्कन ऐसा था कि नीचे तक पहुंचता था. मतलब शीशी का ढक्कन लगभग पूरी शीशी को ढक रहा था.

मैंने वो बोतल ले ली. तभी मुझे एहसास हुआ कि दुकानदार थोड़ा मुस्कुराया। मुझे अंदर ही अंदर शर्मिंदगी महसूस होने लगी.

फिर घर आकर मैंने उस बोतल के ढक्कन पर शैम्पू लगाया और अपनी गांड में डाल लिया. इससे मुझे बहुत शर्मिंदगी महसूस हुई.

इस तरह मैंने बिना लंड के ही अपनी गांड ढीली कर ली थी और अब मुझे एक मर्दाना लंड की जरूरत थी, जिसे मैं अपनी गांड में ले सकूं.

इस बीच मुझे भी लड़कों और मर्दों की गांड सहलाने में मजा आने लगा था. मैं भीड़भाड़ वाली जगहों पर जाती और लोगों के लंड अपने हाथों से पकड़ कर मजा लेती.

ऐसी जगहों पर मुझे रेलवे स्टेशन पर टिकट की कतार में लगी भीड़ में हाथ मलना अच्छा लगता था.

एक दिन मुझे किसी निजी काम से मुंबई यूनिवर्सिटी जाना था तो मैं सुबह दिल्ली से ऊंचाहार एक्सप्रेस से मुंबई पहुंच गया.

मुझे वहां दस बजे यूनिवर्सिटी जाना था, इसलिए मैं अपना समय मुंबई सेंट्रल पर ही बिता रहा था.

इसी बीच मैंने देखा कि कुछ लोग आने-जाने लगे और टिकट खिड़की पर भीड़ बढ़ने लगी. मैं भी वहां पहुंच गया और लोगों के लिंग छूने लगा लेकिन कोई फायदा नहीं हुआ.

मैं उदास हो गया और कुछ देर बाद यूनिवर्सिटी पहुंच गया. उस समय करीब नौ बजे थे.

वहां से मैं जल्दी से अपना काम निपटा कर सीधे मुंबई सेंट्रल वापस आ गया और ट्रेन का इंतजार करने लगा. जब ट्रेन आई तो मैं जनरल डिब्बे में चढ़ गया.

उसमें बहुत भीड़ थी इसलिए मैं गेट से कुछ दूरी पर खड़ा होकर ट्रेन चलने का इंतज़ार करने लगा.

ट्रेन अपने निर्धारित समय पर चलने लगी. उसके बाद ट्रेन का अगला पड़ाव पनकी था और पनकी में काफी भीड़ थी.

वहाँ पुलिस की वर्दी में एक अंकल थे, वो भी मेरे पास खड़े थे। दिखने में उसकी उम्र पचास साल से ऊपर रही होगी और उसका शरीर भी काफी मजबूत था; अच्छा कद और चौड़ी छाती थी.

जब ट्रेन स्टेशन से चली तो मैंने देखा कि अंकल ने मेरी कमर पर हाथ रखा हुआ था. मैंने कुछ नहीं कहा तो उसकी हिम्मत और बढ़ गयी.

अब उन्होंने मेरी गांड पर हाथ फेरा और बोले- बेटा, कहां जाओगे? मैंने कहा- दिल्ली. हम दोनों एक दूसरे से बातें करने लगे.

इतने में उसने कहा- मुझे भी दिल्ली आना है. मैं अपने घर जा रहा हूं। अंकल : बेटा तुम बहुत हैंडसम लग रहे हो, क्या तुम्हारी कोई गर्लफ्रेंड है? मैं: नहीं अंकल, अभी तो नहीं है.

अंकल- क्यों! जब मैं तुम्हारी उम्र का था तो मेरे दो बच्चे थे और तुम्हारे पास एक भी नहीं था… ऐसा हो ही नहीं सकता! मैं: अंकल मुझे लड़कियों में ज्यादा इंटरेस्ट नहीं है.

अंकल : तो क्या लड़कों को लगाव होता है? ये कह कर वो मुस्कुराने लगे. मैं: नहीं अंकल, वो ज्यादा नखरे करती है. अंकल- तुम बहुत चिकने हो. मैं धन्यवाद। आप भी अच्छे लग रहे हैं।

इसके बाद मैंने अपनी हरकत करते हुए अंकल जी की पैंट को छू लिया तो अंकल जी थोड़ा आगे आकर मुझसे ऐसे चिपक गए कि किसी और को पता नहीं चलेगा.

फिर मैंने अपना हाथ उसके लंड पर दबाया तो उसका लंड सलामी दे रहा था. इतने में अंकल ने मेरे हाथ पर अपना हाथ रख दिया और अपना लंड दबाने लगे.

फिर मैंने भीड़ का फायदा उठाते हुए अंकल की पैंट की चेन खोल दी. मैंने चेन के अंदर हाथ डाला तो शायद उसने फ्रेंची पहन रखी थी.

मैंने धीरे से उसके लिंग को अंडरवियर से बाहर निकाला और अपने हाथ से मसलने लगी। अंकल बोले- यहाँ ज्यादा मत करो, मेरा तरल पदार्थ निकल जायेगा.

तुम मेरे साथ दिल्ली चलो. मेरा घर स्टेशन के पास है, जो आज बिल्कुल खाली है. मैंने पूछा- क्या आपके घर वाले होंगे? तो उसने बताया- सब लोग गाँव गये हैं।

घर में भतीजे की शादी है. घर की एक चाबी मेरे पास है. यदि आप तैयार हैं तो आप जा सकते हैं। हम दोनों खूब मजा करेंगे.

मैंने उसे हाँ कहा और हम अपने स्टेशन आने का इंतज़ार करने लगे। कुछ लोग उतरे और कुछ चढ़े. फिर कुछ देर बाद हमारा स्टेशन भी आ गया और हम उतरकर सीधे अंकल के घर आ गये, जो खाली था.

जब अंकल गेट बंद करके अंदर आये तो मुझसे चिपक गये और मुझे चूमने लगे. उसने जल्दी से अपनी वर्दी उतार कर दरवाजे पर लटका दी।

उसके बाद मैंने भी अपने कपड़े उतार दिये. हम दोनों सिर्फ अंडरवियर में थे. काफी देर तक मुझे किस करने के बाद अंकल वॉशरूम गए और नहाकर बाहर आए.

उन्होंने मुझसे भी नहाने को कहा और मैं वॉशरूम में जाकर नहाने लगा. मैं नहा ही रहा था कि अंकल पीछे से आये और मुझे फिर से चूमने लगे. हम दोनों साथ में नहाने लगे.

मैंने उसका अंडरवियर उतार दिया. उसका लंड कोबरा सांप की तरह फुंफकार रहा था. हम दोनों एक दूसरे के होंठ चूसने लगीं और चुदाई करने लगीं.

उसके बाद मैं नीचे बैठ कर उसकी छाती पर एक उभरी हुई चूची को चूसते हुए उसके लिंग को चूसने लगी। करीब दस मिनट तक चूसने के बाद अंकल मेरे मुँह में ही स्खलित हो गये।

उसके बाद अंकल ने मेरा लंड चूसना शुरू कर दिया और चूसते चूसते उन्होंने मुझे पीछे घुमा दिया. वो मेरी गांड के छेद को चाटने लगा और अपनी जीभ मेरी गांड के अन्दर डालने लगा. वो भी मेरे लंड को सहला रहे थे.

कुछ देर बाद मैं भी स्खलित हो गया. हम दोनों नहा कर बाहर आये और बिस्तर पर लेट गये और 69 पोजीशन में मजा लेने लगे. उसने मेरी गांड चाट चाट कर चिकनी कर दी थी.

इधर मैंने उसके लंड को चूस कर फिर से तैयार कर दिया था. अब अंकल मुझे उठा कर कमरे से बाहर ले आये और बाहर डाइनिंग टेबल पर लिटा दिया.

उसके बाद अंकल ने अपने लंड पर तेल लगाया और मेरी गांड पर मलने लगे. उसने मेरी गांड पर भी खूब सारा तेल लगाया और उंगली से अन्दर तक उसे चिकना कर दिया.

ताकि उसका लिंग आसानी से अंदर जा सके. कम उम्र होने के कारण मेरी गांड टाइट थी. फिर जब उसने अपना लंड मेरी गांड पर सेट किया तो मैं समझ गया कि हमला होने वाला है.

उसने धीरे से अपने लिंग को मेरी गांड पर दबाया और उसके लिंग का टोपा मेरी गांड में घुसने लगा. जैसे ही मैंने अपनी गांड ढीली की, उसने एक तेज झटका मारा और अपना आधा लंड अन्दर डाल दिया.

मुझे बहुत दर्द हुआ. जैसे ही मैं दर्द के मारे चिल्लाने को हुई तो उसने झट से अपने होंठ मेरे होंठों पर रख दिये और मेरी आवाज दबा दी. उसी वक्त अंकल ने अपना लंड वहीं रोक दिया और मुझे सहलाने लगे.

जब मेरा दर्द थोड़ा कम हुआ तो उसने फिर से एक और झटका मारा. इस बार उसका पूरा लंड मेरी गांड में घुस गया था. मुझे बहुत दर्द हो रहा था.

जब दर्द कम हुआ तो उसने अपना लिंग अन्दर-बाहर करना शुरू कर दिया। कुछ मिनट बाद मुझे भी अच्छा लगने लगा. करीब बीस मिनट बाद चाचा ने गांड चोदने की स्पीड बढ़ा दी.

इससे मुझे बहुत मजा आ रहा था और मैं अंकल को अपनी गांड की तरफ खींचने लगी. उसके बाद अंकल के लंड ने मेरी गांड में पिचकारी छोड़ दी और वो मेरे ऊपर लेट गये.

हम दोनों थक गये थे तो थोड़ा आराम करने लगे. मैं सो गया क्योंकि मैं सुबह जल्दी उठ गया था। फिर जब मैं उठी तो अंकल ने मुझे किस किया और बाथरूम में चले गये.

कुछ देर बाद जब अंकल बाहर आए तो उन्होंने मुझे फिर से किस करना शुरू कर दिया और मैं भी मूड में आने लगी.

अंकल जी ने मुझे एक बार फिर फोन किया और अपना नंबर दिया और कहा- जब भी तुम मुंबई आओ तो मुझसे वहीं मिलना. मैं वहां अकेला रहता हूं.

उसके बाद मैं एक बार फिर किसी काम से मुंबई गया और अंकल से मिलने आ गया. उस दिन भी उसने मुझे अपने लंड की अच्छी तरह से सवारी करवाई और मैं घर आ गया.

उसके बाद अब जब मैं दिल्ली में रहने लगा हूं तो कभी मुंबई नहीं जा पाया. लव यू अंकल आपको वर्जिन गांड गांड चुदाई कहानी कैसी लगी? हमें मेल और टिप्पणियों में बताएं.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Delhi Escorts

This will close in 0 seconds