May 14, 2024
Uncle Ne Gand Maari - अंकल ने गांड मारी

हाय दोस्तो, मेरा नाम हिमांशु है। और मैं दिल्ली में रहता हूँ, अपने परिवार के साथ। अभी मेरी उम्र 23 है। मैं यहां अपनी पहली हिंदी गे सेक्स कहानी लिखने जा रहा हूं, जो आप लोगो को बहुत पसंद आएगी।

ये कहानी काफी दिलचस्प है क्योकि आगे बढ़ते-बढ़ते बहुत से किरदार जुड़ेंगे।

चलिए शुरू करते है – कैसे Uncle Ne Gand Maari

 मेरी उम्र उस समय 18 थी. मैं अपनी मम्मी और पापा के साथ रहता था। मेरा एक भाई भी था, जो हॉस्टल में रहता था।

अब आते है कहानी के हीरो की तरफ। और वो हीरो है, मेरे पड़ोस वाले राहुल अंकल।

वो मेरे पापा के दोस्त भी थे, तो अक्सर घर आते रहते थे। उनकी बीवी की एक्सीडेंट में मौत हो चुकी थी।

बीवी की मौत के बाद उन्हें दोबारा शादी नहीं की। उनकी उम्र अभी 42 साल है.

एक दिन मम्मी बाहर गई थीं और अंकल और पापा कुछ अजीब बातें कर रहे थे। मैं उस वक्त सेक्स का कुछ ज्यादा नहीं जानता था। फिर पापा बोले-

पापा: राहुल, मैं समझ सकता हूँ, कि भाभी के जाने के बाद तुम कितने अकेले हो चुके हो।

अंकल: हा यार, नेहा की याद आज भी बहुत आती है.

पापा: पर ऐसे कब तक रहोगे? फिरसे शादी करलो ना.

अंकल: नहीं यार, अब किसी दूसरी लड़की को मेरी बीवी नहीं बना सकता।

पापा: फिर कब तक ऐसे ही रहोगे? तुम्हारी भी तो कुछ ज़रूरी है.

अंकल: सारे काम तो मैं खुद ही कर लेता हूं और खुश भी हूं।

पापा: अरे काम तो कर लोगे, पर जिस्म को कैसे शांत करोगे?

अंकल: हा यार उसकी बहुत दिक्कत होती है. जब से नेहा गई है, किसी को हाथ तक नहीं लगाया गया।

ये सब सुन कर मैं अजीब सा महसूस कर रहा था और सोच रहा था, कि अंकल कितने अच्छे और प्यारे थे। उनके लिए मुझे प्यार बढ़ने लगा।

( Uncle Ne Gand Maari – अंकल ने गांड मारी )

पापा: अच्छा किसी लड़की को जगह नहीं देनी, तो लड़के को देदे।

और ये बोल कर पापा मुस्कुराने लगे।

अंकल : अरे ये क्या बोल रहा है तू? मैं वो सब चोद चुका हूँ।

पापा: अरे क्यों झूठ बोलता है. हम दोनो ने मिल कर कितनी गांड मारी है।

अंकल: हा यार, बहुत मजे करते थे. काश कोई फिर मिल जाए.

पापा: तू चिंता मत कर, मैं कुछ करता हूं।

मैं ये सब सुन कर शॉक हो गया था, कि पापा और अंकल क्या बात कर रहे थे। मुझे कुछ समझ नहीं आ रहा था।

पापा के मुँह से लड़के की सेक्स की बात सुन कर मेरे अंदर करंट सा दौड़ने लगा।

अंकल : हा यार, प्लीज कुछ कर दे. लड़का होगा, तो किसी को शक भी नहीं होगा। मैं चाहे शादी भी कर लू, कोई शक नहीं करेगा।

पापा: शादी करेगा? साची? ख़ुश रखेगा?

अंकल : हा यार एकदम. क्यू कोई है क्या?

पापा: हा, और तुझे पता भी है उसके बारे में।

अंकल : कोन?

पापा: हिमांशु.

अंकल: क्या बकवास कर रहा है! हिमांशु बेटा है तेरा.

पापा: हां मैं जानता हूं. और ये भी जानता हूं, कि हिमांशु नॉर्मल नहीं है। उसके चूचे उभरे हुए हैं और गांड फैली हुई है।

उसका लंड भी छोटा सा है.

अंकल: क्या! हिमांशु गांडू है?

पापा: पता नहीं, पर वो लड़के से ज़्यादा लड़की लगता है।

मैं ये सब सुन कर शॉक हो गया। मैं आपको बताना भूल गया, कि मैं लड़का कम और लड़की ज्यादा लगता है।

( Uncle Ne Gand Maari – अंकल ने गांड मारी )

मुझे लड़के भी पसंद है और लड़कियाँ जैसी तैयार होना भी। पर डर की वजह से मैंने कभी कुछ नहीं किया था।

लेकिन मेरे पापा को ये सब कैसे पता चल गया था, ये मुझे पता नहीं था।

अंकल : अच्छा ठीक है. मुझे वो बहुत पसंद है. में उसे चाहता हूँ।

पापा: हां मैं कुछ करता हूं.

फिर दूसरे दिन पापा और मम्मी कहीं बाहर जाने वाले थे, तो वो मुझे अंकल के पास छोड़ कर जाने लगे।

मैं डर सा गया था, पर एक्साइटेड भी था। फिर जब अंकल के घर गए, तो पापा अंकल को बोले-

पापा: मेरे बेटे का पूरा ध्यान रखना।

अंकल : हा यार, अब वो मेरी जान है. मैं उसको बहुत प्यार करूंगा।

पापा: मेरे बेटे को काली से फूल बना देना।

अंकल: हा यार, बहुत बहुत धन्यवाद.

फ़िर वो दोनों चले गए। उसके बाद अंकल ने मेरी तरफ देखा और बोले-

अंकल: राहुल बेटा, बैठो टीवी देखते हैं।

मैं : हा अंकल.

वो मेरे बाजू में आके बैठ गए और मेरी जांघों पर हाथ सहलाने लगे। मैं नॉर्मल ही टीवी देखने लगा और अंकल मेरे गले पर भी सहलाने लगे।

मुझे अब अजीब सा लग रहा था. तभी अचानक अंकल ने मुझे पकड़ा और किस करने लगे। वो मेरे होठों को चुमे जा रहे थे।

मैं: अंकल आप क्या कर रहे हो? चोदो मुझे.

अंकल: बेटा प्यार करने दे मुझे. थोड़ी देर में तुझे बहुत मजा आएगा।

फ़िर अंकल मुझे ज़ोर से चूसने लगे। अब मैं भी उनका साथ देने लगा और मुझे बहुत मजा आ रहा था।

( Uncle Ne Gand Maari – अंकल ने गांड मारी )

वो मुझे किस करने के साथ-साथ मेरी गांड भी दबा रहे थे और मेरी आह्ह.. आह्ह.. की आवाज निकल रही थी।

फ़िर अंकल ने मेरे शॉर्ट्स में हाथ डाला और मेरे लंड से खेलने लगे। मुझे इतना मजा आ रहा था, मैं बता नहीं सकता।

फ़िर अंकल नीचे गये और मेरे लंड को चूसने लगे। अब मैं मजे में उनका बाल नोच रहा था। फ़िर मैं बोला-

मैं: आअहह… अंकल, आप क्या कर रहे हो? छोड़ो इसको, ये गंदी चीज़ है।

अंकल: ये गंदा नहीं है बेटा. ये मेरी जान का डंडा है उमाअह… तू ये बता, तुझे मजा आ रहा है कि नहीं?

मैं : हा अंकल, बहुत ज्यादा मजा आ रहा है आह्ह…

अंकल : तुझे और मजा चाहिए क्या?

मैं : हा बिलकुल. जो आप बोलोगे, मैं वही करूंगा।

अंकल ने अपने कपडे निकाल दिए और नंगे हो गए। उनका लंड तकरीबन 8 इंच का होगा. बहुत मोटा था उनका लंड. मैं तो देख के ही डर गया.

अंकल: लो, ये तुम्हारा ही है. चुसो इसको.

मैं: इतना बड़ा! मैं नहीं चूसूंगा. मुझसे ये नहीं होगा.

अंकल: अरे पूरा जाएगा, कोशिश करो.

फिर मैंने धीरे से लंड अपने मुँह के अंदर लिया और चूसने लगा। उसके बाद मेरे लंड को लॉलीपॉप की तरह चूसने लगा। अंकल आअहह… उहह.. कर रहे थे.

उसके बाद अंकल ने मुझे घुमाया और मेरी गांड को ज़ोर-ज़ोर से थप्पड़ मारने लगे।

मैं: अंकल! आअहह.. तुम क्या कर रहे हो? मार क्यू रहे हो?

अंकल : प्यार कर रहा हूँ राहुल. तुझे मजा आएगा इसे.

मैं: अंकल जलन हो रही है वाह बहुत.

अंकल: मेरी जान की जलन अभी कम करता हूँ, एक मिनट रुको.

ऐसे बोल कर अंकल मेरी गांड को किस करने लगे। धीरे-धीरे उन्हें मेरी गांड फेलाई और उसके छेद को चाटने लगे।

वो मुझे डाइनिंग टेबल पर झुका कर, बीच में मेरे साथ ये सब कर रहे थे। मैं इतना खुश था, कि मैं व्यक्त नहीं कर सकता।

अंकल: कैसे लग रहा है हिमांशु? जलन कम हुआ क्या?

( Uncle Ne Gand Maari – अंकल ने गांड मारी )

मैं: कुछ मत पूछो अंकल. बस चूसते जाओ आअहह.. आआह..

मैं: इतना मजा आज तक कभी नहीं आया अंकल.

अंकल: अभी आगे और आएगा बेटा. तू देखता जा बस.

फिर अंकल ने बहुत देर ऐसे ही चाटा और चूसा। फिर धीरे-धीरे गांड के छेद में उंगली करने लगे।

मुझे इतना मजा आ रहा था, कि वो दर्द अब महसूस नहीं हुआ।

हल्का सा दर्द था, पर मजे में मैं भूल ही गया। अब मैं एन्जॉय कर रहा था।

फ़िर अंकल धीरे-धीरे मेरी गांड में फिंगरिंग करते गए। उसके बाद उन्हें गति बढ़ायी।

मेरा होल काफ़ी टाइट था और अब मुझे थोड़ा दर्द होने लगा। उन्होंने मेरी गांड में 2 उंगलियां डाल दी थी।

मैं: अंकल निकालो, मुझे दर्द हो रहा है।

अंकल: सेह ले हिमांशु. अभी उंगली नहीं लेगा, तो लंड कैसे लेगा? थोड़ा दर्द सह ले. फिर जन्नत दिखेगी.

मैं : अंकल आअहह… उहह… प्लीज़ निकालो आअहह..

अंकल ज़ोर-ज़ोर से फिंगरिंग करते गए। साथ ही साथ वो थप्पड़ मारते थे और मेरे स्तनों को दबा रहे थे।

अब मैं मजे में पागल होने लगा था और मैं अंकल का लंड चूसना चाहता था।

मैं: अंकल अब मुझे प्लीज़ अपना लंड चूसने दो।

अंकल : हा ले बेटा, ये तेरा ही है।

फ़िर मैं घुटनो पे बैठ गये और अंकल कुर्सी पर बैठ गये। मैंउनके दोनो टांगो के बीच था और उनकी आँखों में देखते हुए लंड चूस रहा था।

अंकल ने मेरे पास अपना सर झुकाया और मुझे किस करने लगे।

मेरे होठों को चूस कर, वो खुद अपने लंड का स्वाद ले रहे थे। फ़िर मैं 15-20 मिनिट तक ऐसा लंड चूसा, जैसे सालों से चूस रहा था। फिर अंकल झड़ने वाले थे. उन्होंने बोला-

अंकल : पियेगा क्या मेरा रस?

मैने मना कर दिया.

मैं: नहीं अंकल मुझे वो गंदा लगता है।

अंकल: ठीक है बेटा, कोई बात नहीं. आगे तू ही पूछेगा. देखते रहना बस.

फिर उन्हें अपना कम मेरे चेहरे पर डाल दिया, जैसे मैं कोई रंडी थी। और मैं बस उन्हें देखता जा रहा था।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Delhi Escorts

This will close in 0 seconds