May 14, 2024
भाई की लड़की को चोदा

नमस्कार दोस्तो, मेरा नाम अमन है आज में आपको बताने जा रहा हु की कैसे मेने अपने "भाई की लड़की को चोदा जब घर पर कोई नहीं था"

नमस्कार दोस्तो, मेरा नाम अमन है आज में आपको बताने जा रहा हु की कैसे मेने अपने “भाई की लड़की को चोदा जब घर पर कोई नहीं था”

मैं दिल्ली का रहने वाला हूँ. मेरी लम्बाई 5 फुट 7 इंच है, रंग सांवला है, शरीर ठीक-ठाक है और मेरा लिंग 6.5 इंच का है। मुझे सेक्स में विशेष रुचि है. मैंने अपनी चाची को भी चोदा है, जो इस बार चुदाई की वजह बनीं.

यह बात एक साल पहले की है, जब मैं अपने बड़े भाई के घर दिल्ली गया था. वह वहां काम करता है. उसके घर में तीन लोग हैं, भाई, भाभी और मेरी देसी जवानी के रस से भरपूर भतीजी आशिका.

मैं उसकी यौवनपूर्ण सुंदरता की जितनी प्रशंसा करूँ, वह कम है। जिस किसी की भी नजर उन पर एक बार पड़ जाए तो समझ लीजिए कि वह उनके बदन की पूरी तारीफ करने से नहीं रुकेगा.

अगर मैं उसके फिगर की कल्पना करूँ.. तो 34-28-36 होगा। मैंने कभी नापा नहीं. आशिका के स्तन बड़े हैं जो किसी को भी उत्तेजित कर सकते हैं.

उसके तने हुए स्तन ऐसे लगते हैं जैसे वो टी-शर्ट के अंदर से फट कर बाहर आ जायेंगे। माशाल्लाह… उसकी कमर की क्या तारीफ करूं… देखते ही उसे सहलाने का मन हो जाता है

और उसकी गांड के बारे में सोचकर ही मेरा लंड फूलने लगता है. मेरा तो बहुत मन करता है कि अभी उसकी जींस फाड़ दूं और अपना लंड उसकी गांड में घुसा दूं.

एक दिन दोपहर की बात है जब भैया और भाभी दोनों काम पर गये हुए थे। दोपहर को मैं लेटा हुआ था और मेरी भतीजी आशिका बाहर हॉल में टीवी देख रही थी.

कुछ देर बाद मैं उठ कर टीवी देखने चला गया. वह कोई सास-बहू सीरियल देख रही थी. हम दोनों एक ही सोफे पर बैठ कर टीवी देख रहे थे

तभी अचानक हीरो और हीरोइन के बीच एक इंटिमेट सीन आ गया, जिसमें हीरो और हीरोइन बिस्तर पर लेटे हुए थे और किस कर रहे थे.

मैं भी इतना हॉट सीन देख कर खुशी से फूला नहीं समा रहा था. तभी अचानक मेरी छोटी भतीजी आशिका ने अपना हाथ मेरे हाथ पर रख दिया.

मेरे शरीर में एक झटका सा लगा। मैंने उसकी तरफ देखा और उसके होंठों पर अपने होंठ रख दिये. मुझे ऐसा लग रहा था मानो आज मैं जिसे सपने में चोदता था उसे हकीकत में चोदूंगा.

मैं उसके होंठों को चूसने लगा, वो भी मेरे करीब आ गई और मेरा साथ देने लगी. उसके हाथ मेरी पीठ पर थे. उसने मुझे कसकर पकड़ रखा था. मैं उसे बेतहाशा चूम रहा था.

मैंने एक हाथ उसके मम्मों पर रख दिया और दूसरे हाथ से उसकी गांड को मसलने लगा जिससे वो भी गर्म होने लगी.

अब हम दोनों एक दूसरे में पूरी तरह से खो गये थे. उसने मेरी शर्ट उतार दी और मेरी छाती के बालों को सहलाने लगी. मैंने उसकी टी-शर्ट भी उतार दी और उसके मम्मों को देखने लगा और दबाने लगा.

वो बोली- अंकल, इन्हें भी वैसे ही चूसो जैसे आंटी ने उस दिन चूसा था. उसने जो कहा उसे सुनकर मैं दंग रह गया. मैंने कहा- तुम्हें कैसे पता?

वो बोली- मैंने उस दिन तुम दोनों को सेक्स करते हुए देखा था, तभी से मैं तुमसे चुदवाना चाहती थी. यह जवानी मैंने तुम्हारे लिए ही बचाकर रखी है, आज मुझे इतना चोदो कि मैं तृप्त हो जाऊँ। मुझे चोदो… मुझे चोदो.

मैं उसके मम्मे चूसने लगा. वह कराह रही थी. आह आह आआहह… उसका एक हाथ मेरी पैंट के ऊपर घूम रहा था. वो पैंट के ऊपर से ही लंड को सहला रही थी. वो मुझे चूमने लगी.

मैंने उसकी जीन्स उतार दी. अब मैं उसकी जांघों पर हाथ फिराने लगा. वह तड़पने लगी. मैंने उसके मम्मे चूसते-चूसते उसकी चूत पर हाथ फिराया तो वो कांपने लगी, उसकी कराहने की आवाज तेज हो गई- आअहह उम्म्ह… अहह… हय… याह… ओह्ह ओह्ह करो, अंकल मुझे करो.

अब मैंने अपनी जीभ उसकी चूत पर रख दी और चाटने लगा. वो यह सहन नहीं कर पाई और मुझे कस कर गले लगाने लगी और हॉल उसकी ‘आअहह आअहह…’ की आवाज से गूंज उठा।

मैंने अपनी जीभ और अन्दर डाल दी. वो कराहने लगी- आह अंकल, छोड़ दो मुझे … मैं बर्दाश्त नहीं कर सकती … आह्ह आह्ह ओह्ह्ह माय गॉड आह्ह.

उसकी कामुक आवाज से मैं और अधिक उत्तेजित होता जा रहा था। अब हम दोनों के शरीर पसीने से भीगने के कारण चिपचिपे हो रहे थे. हम दोनों इन रोमांचक पलों का आनंद ले रहे थे.

फिर मैंने उससे पूछा- क्या तुम मेरा लंड चूसोगी? वह बोला, नहीं। फिर भी मैंने उसे चाटने के लिए मना लिया. जैसे ही उसने अपनी जीभ मेरे लिंग पर रखी, ऐसा लगा मानो मेरे अंदर लाखों वोल्टेज का करंट दौड़ गया हो.

मेरे मुँह से कराहें निकल गईं- आह्ह आशिका, चूसो इसे… पूरा मुँह में ले लो… मजा आएगा… ऐसे चूसो जैसे केला हो।

अब मैं उसकी चूत चाटने लगा और वो मेरा लंड चाटने लगी. फिर मैंने उसे अपने ऊपर से उठाया और उसकी चूत में एक उंगली डाल दी.. ताकि मैं अपने लंड को उसमें घुसने के लिए जगह बना सकूं।

उसकी चूत पानी से भरी हुई थी. मेरी एक उंगली आसानी से एक इंच अन्दर चली गयी. लेकिन जब मैंने और अन्दर डालने की कोशिश की तो उसे दर्द होने लगा.

फिर मैंने उस जगह को ढीला करने के बारे में ही सोचा. कुछ देर तक मैंने उसके एक स्तन को अपने मुँह में लिया और उसकी चूत में उंगली से अन्दर-बाहर करता रहा।

उसने अपनी चूत के सिरे को दो उंगलियों के बीच पकड़ कर अपनी टांगें खोल दीं. फिर मैंने दो उंगलियां अंदर डालीं, उसकी आंखों में दर्द का अहसास दिख रहा था, लेकिन वो उंगलियों का मजा लेती रही.

कुछ ही देर में मेरी दो उंगलियों ने मेरे लिंग के सिरे को अंदर घुसने के लिए पर्याप्त जगह बना ली थी। इतना काम करने के बाद मैंने खुद को तैयार किया. अपने लंड पर तेल लगाने के बाद मैंने उसे बिस्तर पर लेटा दिया.

मैंने उसकी टाँगें फैलाईं और अपना लंड उसकी चूत पर रख दिया। वो गांड उठाते हुए बोली- अंकल, आज मेरी सील तोड़ दो और मुझे अपनी रानी बना लो!

मैंने बिना देर किये तुरंत अपना लंड अन्दर पेल दिया. जैसे ही लिंग का सिरा अन्दर गया, आशिका दर्द से छटपटाने लगी।

उसकी आंखों की पुतलियां फैल गईं. एक पल के लिए उसके गले से आवाज़ नहीं निकली… मैं समझ गया कि उसकी चूत का छेद बन गया है।

तभी उसकी दर्द भरी आवाज निकली- आह… मैं मर गई… बाहर निकालो इसे… अंकल मैं बर्दाश्त नहीं कर सकती… आअहह आआह आअहह बाहर निकालो!

आशिका की चूत सीलबंद होने के कारण वो दर्द सहन नहीं कर पा रही थी. एक पल रुकने के बाद मैंने उसे सहलाना और चूमना शुरू कर दिया.

लेकिन वह संघर्ष करती रहीं. ये देख कर मैंने एक धक्का और लगा दिया. इस बार आधा लंड चुत के अन्दर चला गया.

वो और जोर से चिल्लाने लगी. अब उसकी चीख इतनी तेज थी, मानो उसकी जान ही निकल गयी हो- हाय अंकल, बाहर निकालो आअहह ऊऊऊह ऊऊहह ओह राम, मैं दर्द सहन नहीं कर सकती.

मैंने उसके होंठों पर अपने होंठ रख दिए और उसे चूमते हुए दूसरा धक्का लगा दिया. इस बार मेरा पूरा लंड अन्दर चला गया.

वह मूर्च्छित हो गयी। मैंने भी अपना लंड रोक लिया और उसके ऊपर ही चढ़ा रहा. मैं उसे चूमने और सहलाने लगा. शांत होने लगा. वो मुझसे चिपक गयी.

कुछ पल बाद उसकी बेचैनी कम हो गई और वो शांत हो गई. ये देख कर मैंने धीरे धीरे धक्के लगाना शुरू कर दिया. इससे उसे दर्द का भी मजा आ रहा था.

उसकी ‘आअहह आअहह..’ की आवाज तेज़ होती जा रही थी. वह तेज सांसों के साथ कराहने लगी. मैंने अपने धक्को की स्पीड बढ़ा दी और एक हाथ से उसके स्तनों को मसलने लगा जिससे उसे भी मजा आने लगा।

कुछ ही देर में वो मजे से अपनी चूत रगड़वाने लगी. करीब पचास धक्कों के बाद वो मुझे अपने ऊपर आने को कह रही थी. मैंने उसे इस तरह उठाया कि लंड उसकी चूत में ही रहे और वो मेरी गोद में आ जाये.

इस आसन में चुदाई करने का अपना ही मजा है. जब पुरुष की छाती उसके स्तनों से रगड़ती है तो लड़की को लिंग अपनी चूत में लेने में मजा आता है।

फिर मैंने खुद नीचे लेट कर उसे अपने ऊपर ले लिया. वो मेरे ऊपर आ गयी. मैंने अपना लंड उसकी चूत में एडजस्ट किया और उसे ऊपर-नीचे उछलने को कहा। वो धीरे धीरे ऊपर नीचे होने लगी. वो लंड लेने का मजा ले रही थी.

मैं उसके झूलते हुए मम्मों की मालिश कर रहा था और साथ ही धीरे-धीरे उसकी पीठ को ऊपर-नीचे करने में भी मदद कर रहा था।

उसकी मादक कराहों की आवाज से मेरे अंदर का जोश बढ़ता जा रहा था. वो जोर जोर से ऊपर नीचे होने लगी. मेरा पूरा लंड उसकी चूत की दीवारों को रगड़ता हुआ उसकी चूत में जा रहा था.

वो ‘आहहह ओहहह मर गई..’ जैसे शब्दों के साथ कुछ न कुछ बोल रही थी. इस समय मुझे उसे चोदने में जो आनंद मिल रहा था, उसका वर्णन करना मेरे लिए असंभव है।

अब मैंने उसे अपने ऊपर से उतार कर दीवार के सहारे खड़ा कर दिया और अपना लंड उसमें डाल दिया और उसे रगड़ कर चोदने लगा.

मैं उत्तेजना में जोर जोर से धक्के मार रहा था. उसके चिल्लाने से मुझे और भी आनंद मिल रहा था. मैं उसे और जोर जोर से चोदने लगा.

फिर मैंने उसे पलट दिया और घोड़ी बनने को कहा. जब वो घोड़ी बन गई तो मैंने पीछे से उसकी चूत में अपना लंड डाला और पेल दिया.

वो चिल्लाने लगी- ओह मैं मर गई… आहह आहह ऊहह ओह प्यार में इतना दर्द होता है… मुझे तो पता ही नहीं चला.

मैं उसे घोड़ी बना कर चोदने लगा. मैंने एक हाथ से उसके बाल पकड़ रखे थे और दूसरा हाथ उसकी गांड पर था. मैं और जोर से धक्के लगाने लगा.. वो जोर जोर से कराह रही थी।

वो बोली- आह्ह और तेज करो अंकल… मैं झड़ने वाली हूं! यह सुन कर मैंने अपनी स्पीड बढ़ा दी और तेजी से अपना लंड अन्दर-बाहर करने लगा.

पूरे हॉल में भच भच भच की आवाज गूंज रही थी. हम दोनों एक साथ स्खलित हुए और मैं उसकी पीठ पर लेट गया। इस तरह मेरी भतीजी की सीलबंद चूत की चुदाई हुई.

एक बार जब चूत ने मेरे लंड का स्वाद चख लिया तो जाहिर था कि वो बार-बार मेरे लंड की सवारी करेगी. आशिका को कई बार चोदा. वो आज भी मेरे लंड पर मरती है.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Delhi Escorts

This will close in 0 seconds