June 25, 2024
गांड मरने वाला साथी

हेलो, दोस्तों, मैं आपकी पिया, आज फिर आपको एक गे सेक्स स्टोरी सुनाने आई हूँ जिसका नाम “बस में सफर करते हुए गांड मरने वाला साथी मिल गया” है आगे की स्टोरी उस लड़के की ज़ुबानी।

यह लगभग 5 साल पहले की बात है जब मैंने स्कूल से स्नातक किया और कॉलेज जाना शुरू किया।

हमें हर दिन सुबह निकलना होता था और शाम को लौटना होता था.. रोडवेज बसों की भीषण भीड़ और गर्म मौसम.. उनमें यात्रा करना आग की नदी पार करने जैसा लगता था, लेकिन इस यात्रा के दौरान कभी-कभी ऐसी घटनाएं भी कम होती थीं। वे कहते थे कि यात्रा बहुत मजेदार रही।

ऐसे ही एक दिन, मैं यात्रियों से भरी एक बस में चढ़ा जो रोहतक की ओर जा रही थी। मेरा गांव भी उसी बस रूट पर पड़ता था।
किसी तरह मैं उस बस में दाखिल हुआ जो पहले से ही भेड़-बकरियों जैसे लोगों से भरी हुई थी।

बड़ी मुश्किल से मुझे एक सीट के पास पैर रखकर खड़े होने की जगह मिली, जो मेरे लिए बड़ी राहत थी।

बस चल पड़ी और दो-तीन स्टैंड पार करने के बाद एक दुबला-पतला लड़का भीड़ की ओर बढ़ रहा था। किसी तरह फंसकर वह लड़का मेरी बगल वाली सीट के पास आ गया और मेरे बगल में खड़ा हो गया।

जब मैंने उसे देखा तो उसकी उम्र करीब 19-20 साल रही होगी। वह हल्के से गहरे रंग और सुगठित शरीर वाला लड़का था। उसने पसीने से भरी टी-शर्ट पहन रखी थी, पीठ पर एक बैग लटका हुआ था और नीचे नीला लोअर था…

उसने अपने सिर पर एक परना (सफेद कपड़ा) पहना हुआ था, जिसे हरियाणा के लोग अक्सर गर्मी से बचने के लिए अपने सिर पर पहनते हैं। इस वजह से मैं उसका चेहरा ठीक से नहीं देख पा रहा था।

हम दोनों एक दूसरे के बहुत करीब खड़े थे, जिसकी वजह से मुझे उसकी पसीने से भीगी हुई टी-शर्ट मेरे शरीर से छूती हुई महसूस हो रही थी।

वह लड़का मेरी दायीं ओर खड़ा था और मेरा बैग मेरे उसी कंधे पर लटका हुआ था और मेरा हाथ मेरे बैग पर लटका हुआ था और मेरे हाथ की उंगलियाँ उसके लोअर तक पहुँच गईं और उसकी जेब को छू गईं।

लेकिन मेरे मन में ऐसा कोई विचार नहीं था जो मुझे उसकी ओर आकर्षित कर रहा हो क्योंकि वो मेरी पसंद का लड़का नहीं था। मुझे 28-30 साल के मजबूत आदमी पसंद हैं इसलिए मुझे उनके प्रति कोई आकर्षण महसूस नहीं हो रहा था।

बस चल रही थी और भीड़ कम होने का नाम ही नहीं ले रही थी, जिसके कारण गर्मी वैसी ही बनी हुई थी। गर्मी से तंग आकर लड़के ने अपनी टी-शर्ट को पेट से थोड़ा ऊपर उठा लिया। (गांड मरने वाला साथी)

मैंने इधर-उधर देखा तो मेरी नजरें वहीं रुक गईं… क्या एब्स थे उस लड़के के… बिल्कुल शानदार और शेप में… सपाट पेट और उसके ऊपर चार टाइट एब्स और उनके नीचे उसके लोअर की इलास्टिक थी जिसके अंदर पसीना था।

उसकी नाभि के पास की दरारों से धाराएँ बह रही थीं और उस क्षेत्र तक पहुँच रही थीं जहाँ उसके जघन बालों की एक या दो लटें ऊपर की ओर चिपकी हुई दिखाई दे रही थीं।

यानि कि आदमी के शरीर का सबसे संवेदनशील हिस्सा.. और उस हिस्से से होकर पसीने की बूंदें शायद उसके लंड के आसपास से बहकर उसकी जांघों में जा रही थीं.. अफसोस.. यह दृश्य देखकर मेरे अंदर की वासना उबल पड़ी। लेकिन फिर भी मैं चुपचाप खड़ा रहा।

कुछ देर बाद बस में और भीड़ जमा हो गई.. और धक्का-मुक्की शुरू हो गई.. लोग अंदर घुसने लगे.. और इसी धक्का-मुक्की में वो लड़का थोड़ा सा मेरी तरफ घूम गया जिससे उसके निचले हिस्से का बीच का हिस्सा अंदर आ गया लंड से संपर्क करें। अगले हिस्से में चोट लगी है। बैग पर रखी मेरी उंगलियों को छुआ।

जैसे ही उसका स्पर्श नीचे हुआ, मेरे अंदर वासना जागने लगी… मुझे भीड़ में एक और धक्का महसूस हुआ और उसका सोया हुआ, फूला हुआ लंड, उसके लोअर के बीच में उभरा हुआ, मेरे हाथ से टकराया और मेरे मुँह से कराह निकल गई। ,

अब मैं खुद चाहती थी कि उसके लोअर में लटका हुआ उसका सोया हुआ लंड बार-बार मेरे हाथ को लगे। तो मैंने भी जानबूझ कर अपना हाथ उसके लंड तक पहुंचाने की कोशिश की और उसे छूने लगी।

मुझे दिल में घबराहट हो रही थी और मेरे हाथ भी कांप रहे थे लेकिन वासना और हवस के कारण ये सब करना अच्छा लग रहा था.. अब जब भी कोई पीछे से गुजरता तो मैं जानबूझ कर अपना हाथ उसके लोअर की तरफ ले जाती और इस तरह मेरी उसके लंड को तीन बार हाथ छू चुका था।

अब उसका ध्यान भी इस ओर जाने लगा था और वह मेरी उंगलियों की हरकत को ध्यान से देख रहा था जो बार-बार उसके लंड की ओर बढ़ने की कोशिश कर रही थीं।

इस बार जब अगला धक्का आया तो मैंने फिर अपना हाथ उसके लंड की ओर बढ़ाया और अपने हाथ की उंगलियों के बीच जगह बनाकर उसके लंड को उंगलियों के अंदर आने दिया। इस बार उसने अपना सोया हुआ लंड भी अपनी उंगलियों के अन्दर डाल लिया। डालता रहा।

लेकिन एक मिनट के अंदर ही उनके लंड का आकार बढ़ने लगा और अगले 30 सेकंड में उनका लंड खड़ा हो गया।
जैसे ही लंड खड़ा हुआ, मैंने नियंत्रण खो दिया और अपना पूरा हाथ बैग की आड़ में उसके खड़े लंड पर रख दिया।

मैंने उसकी तरफ नजर घुमाई तो वासना के कारण उसके होंठ खुले हुए थे और उसकी आंखें ऐसी लग रही थीं जैसे कह रही हो- चूसो इसे। (गांड मरने वाला साथी)

उसे देख कर मेरी हिम्मत बढ़ गयी और मैं उसके लंड को सहलाने लगी।

अचानक उसने मेरा हाथ पकड़ा और अपने लोअर के अंदर डाल दिया। लंड सीधा मेरे हाथ में था और मैंने उसके पसीने से लथपथ लंड को अपने हाथ में ले लिया और उसे दबाने के लिए उतावला हो रहा था।

अब उसके कूल्हों की हरकत भी शुरू हो गई थी.. और उसने धीरे-धीरे अपना लंड, जो तनाव से फट रहा था, मेरे हाथ में आगे-पीछे करना शुरू कर दिया।

जब उसका दबाव थोड़ा बढ़ा तो उसके लंड का टोपा खुल गया और उसने पूरी ताकत लगाकर अपना लंड मेरे हाथ में दे दिया, जिसे मैंने कसकर अपनी मुट्ठी में पकड़ लिया। वह था

मैं भी अपनी ख़ुशी पर नियंत्रण खो रहा था और मैं ऐसा कर रहा था ।

कभी मैं उसके अंडकोष को सहला रही थी तो कभी उसके लंड के टोपे को खोल कर उसके मूत्रमार्ग को अपनी उंगली से छेड़ रही थी और उसे अपने अंगूठे से रगड़ रही थी। मैं कभी उसके जघन के बालों को सहला रहा था तो कभी उसकी जाँघों को… मुझे बहुत मजा आ रहा था।

अब वो अपने हाथ से अपने लंड को सहला रहा था और दूसरे हाथ से पैंट के ऊपर से मेरी गांड को सहला रहा था और मेरे नितंबों को दबा रहा था। उसकी गर्म साँसें मेरी गर्दन को छू रही थीं, मैं भी पागल हो रही थी और उसके आंडों सहित लंड को हाथ में लेकर दबा रही थी।

उसने पूछा- कितनी दूर जाओगे?

मैंने कहा- हमें बहादुरगढ़ के पास उतरना है!

उसने कहा- मेरा लंड चूसोगी?

मैंने हाँ में सिर हिलाया।

वो बोला- गांड में भी डलवाऊंगा..

मैंने कहा नहीं..

उसने कुछ सोचा और बोला- ठीक है, मैं भी तुम्हारे साथ उतरूंगा..

मैंने कहा- ठीक है।

मैं लोअर में हाथ डाल कर उसके तने हुए लंड को सहलाती रही और वो मेरे हाथ को चोदता रहा.. और एक हाथ से पीछे से मेरी गांड को सहलाता रहा। (गांड मरने वाला साथी)

ये सब चल ही रहा था कि स्टैंड आने वाला था… मैंने कहा- स्टैंड आने वाला है।

हम भीड़ से आगे बढ़ने की कोशिश करने लगे… मैं आगे थी और वो पीछे.. बस में लोगों के बीच से गुजरते हुए। घटित। वो मेरे करीब चल रहा था और लोअर के ऊपर से अपना खड़ा लंड मेरी गांड में डालने की कोशिश कर रहा था।

वो अपने दोनों हाथों से मेरी कमर को पकड़ रहा था और कभी-कभी किसी बहाने से मेरी गर्दन को चूम भी रहा था।
उसकी हवस देख कर ऐसा लग रहा था मानो वो मुझे बस में ही चोद देगा।

हम बस से उतरे.. उसने पूछा- आपका नाम क्या है?

मैंने कहा- अंश! और तुम्हारा?

उन्होंने कहा- आशीष (बदला हुआ नाम)

उन्होंने पूछा-तुम्हें यह शौक कब लगा?

मैंने कहा- बहुत पहले से!

‘अब तक कितने लंड ले चुकी हो?’

मैंने कहा- अभी मुझे कोई ऐसी मिली ही नहीं जिसे मैं ले जाऊँ.. उसने कहा- क्यों.. तुम ले सकते हो

किसी का भी लंड.. लंड तो लंड होता है। मैंने कहा- नहीं, ऐसा नहीं होता.. मैं अपनी पसंद के लड़के से ही शादी करूंगी!

आगे की कहानी : बस में सफर करते हुए गांड मरने वाला साथी मिल गया भाग-2

यह थी मेरी गे सेक्स कहानी!

अगर आपको यह गांड मरने वाला साथी गे सेक्स स्टोरी पसंद आई तो हमें कमेंट बॉक्स में ज़रूर बताएं।

यदि आप ऐसी और गे सेक्स कहानियाँ पढ़ना चाहते हैं तो आप “Readxstories.com” पर पढ़ सकते हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Dehradun Call Girls

This will close in 0 seconds