June 25, 2024
गांड मरने वाला साथी

हेलो, दोस्तों, मैं आपकी पिया, आज फिर आपको एक गे सेक्स स्टोरी सुनाने आई हूँ जिसका नाम “बस में सफर करते हुए गांड मरने वाला साथी मिल गया” है आगे की स्टोरी उस लड़के की ज़ुबानी।

कहानी का पिछला भाग : बस में सफर करते हुए गांड मरने वाला साथी मिल गया भाग – 1

उन्होंने पूछा- तुम्हें किस तरह के लड़के पसंद हैं?

मैंने कहा- मजबूत, लंबा, हरियाणा के जाटों जैसा।

यह सुनकर वह हंसने लगा और बोला- इसका मतलब मैं तुम्हारी पसंद का नहीं हूं।

मैंने कहा- नहीं, ऐसा नहीं है। मुझे भी तुम्हारा लंड पकड़ना अच्छा लग रहा था.. और तुमने भरी बस में मुझे गालियाँ वगैरह नहीं दीं, इसलिए तुम मुझे अच्छे लगे।
वो बोला- ठीक है, अब मेरे लंड की प्यास बुझाने आओ… मेरा मन कर रहा है कि इसे तुम्हारे मुँह में डाल दूँ…

मैं भी मुस्कुराया और हम खेतों की ओर निकल गये।

शाम हो चुकी थी और अंधेरा होने लगा था.. जल्द ही हम एक गेहूं के खेत में घुस गए.. लेकिन दूध पीना मुश्किल था.. पौधे छोटे थे।

पास में ही सिंचाई के लिए पानी वाला एक तालाब था, जो सूख गया था। उसने झट से अपना लंड फैलाया और लेट गया और लोअर नीचे सरका दिया।

उसका वासना से सना लंड, जो उसके अंडकोष पर पड़ा था, नग्न हो गया।
मैंने बिना समय बर्बाद किये उसे अपने मुँह में ले लिया और उसके लंड को चूसने लगी और अपनी जीभ से उसका नमकीन रस चाटने लगी।

कुछ ही देर में उसका लंड खड़ा हो गया और मेरे मुँह में भर गया। यह लगभग 6।5 इंच लंबा और 2 इंच मोटा था।
उसके काले घने बालों से पसीने की गंध आ रही थी।

मैंने उसके लोअर को घुटनों तक खींच दिया, जिससे उसकी जांघें और उनके बीच में मेरा थूक से सना गर्म लंड फनफना रहा था, झटके पर झटके दे रहा था। (गांड मरने वाला साथी)

मैं उसके अंडकोष के पास उसकी जांघों को चूमने लगा तो वह कराहने लगा।
अगले ही पल मैंने उसके आंडों को मुँह में ले लिया और उन्हें चूसने और चाटने लगा।

वो वहीं पड़ा हुआ छटपटाने लगा और अचानक उसने मेरा सिर पकड़ कर अपना लंड मेरे मुँह में डाल दिया और पूरा मेरे गले में उतार दिया।
और बोला- चूसो इसे मेरी जान… पूरा चूसो… इसका रस पी जाओ!

मैं भी मदहोश हो गयी और जोर जोर से उसका लंड चूसने लगी।
अब मैंने उसकी टी-शर्ट को ऊपर उठा दिया, जिससे उसकी छाती तक नंगी हो गई और उसके चुचूक भी दिखने लगे।

मैंने उसे चिकोटी काटने की कोशिश की लेकिन उसने अपना हाथ हटा लिया… लेकिन फिर भी मैं उसकी छाती को सहला रही थी और पूरे जोश से उसका लंड चूस रही थी।

फिर उसने कहा- चलो तुम भी लेट जाओ, मैं तुम्हारा भी हस्तमैथुन कर दूंगा.. तुम्हारा भी मन कर रहा होगा।

मैं खुशी-खुशी उसकी बात मान गया और अपनी पैंट को अंडरवियर समेत जांघों तक सरका कर उसकी जगह पर लेट गया।

उसने मेरे लंड को अपने हाथ में लिया और एक-दो बार हिलाया जिससे मुझे बहुत अच्छा महसूस हुआ, लेकिन अगले ही पल अचानक उसने मुझे जबरदस्ती दूसरी तरफ कर दिया और अचानक मेरे ऊपर गिर गया और उसका लंड सीधा मेरी गांड से टकराया।

वो कराह उठी- ..आह… क्या मुलायम गांड है तुम्हारी मेरी जान… आज मैं तुम्हें बुरी तरह चोदूंगा।

उसका लंड मेरे नितम्बों में घुस रहा था और वह मेरे ऊपर पूरा लेट कर मुझे कमर से चूम रहा था।
वह धक्का देने लगा।

मैंने कहा- नहीं यार.. ये गलत है.. सब बातें हो गई हैं.. मैंने गांड मरवाने से मना कर दिया था!

वह मेरी किसी भी बात का जवाब नहीं दे रहा था और ‘आह…आह’ की आवाजें निकालते हुए अपना खड़ा लंड मेरी गांड में रगड़ रहा था..

कभी वह अपनी उंगली मेरे मुँह में डाल कर चुसवा रहा था और कभी मेरी गांड। चूस रहा था। मुलायम नितंब। वो उसे अपने हाथों में कस कर भींच रहा था।

उसकी जाँघें पूरी तरह से मेरी गांड से चिपकी हुई थीं और वो ऐसा करने की कोशिश कर रहा था

अपने नंगे नितंबों को हवा में ऊपर-नीचे हिलाकर मुझे चोदो।

जब उसकी जांघें मेरी गांड से टकरा रही थीं तो थप-थप की आवाज आ रही थी मैदान के सन्नाटे में सुना जा सकता है।

मैंने इसे दूर करने के प्रयास तेज कर दिये। (गांड मरने वाला साथी)

वो बोला- बस करो मेरी जान… कहाँ भाग रही हो… मेरा लंड एक बार अंदर ले लो और फिर बार-बार!

ये कह कर वो अपना लंड अन्दर घुसाने की कोशिश करने लगा… उसने मुझे अपने दोनों हाथों से पकड़ रखा था… उसका लंड मेरी गांड के छेद में फंस रहा था क्योंकि

मैंने अपनी गांड बहुत टाइट कर रखी थी।

लेकिन वो जोर जोर से धक्के लगा रहा था और उसका लंड अपनी जगह बनाने ही वाला था कि मैं उससे जोर-जोर से विनती करने लगी- मुझे छोड़ दो.. प्लीज़.. जाने दो.. मुझे छोड़ दो.. जाने दो।

उसने कहा – तुम शोर क्यों मचा रहे हो… हरामी… मुझे जल्दी से अंदर ले चलो!

‘नहीं, कृपया मुझे जाने दो!’

मैं जबरदस्ती उठा और अपनी पैंट ऊपर खींच ली।

‘चल हरामी, तूने सारा मूड खराब कर दिया!’

‘अभी चूसो..’

मैंने कहा- नहीं, तुम मुझे फिर से मजबूर करोगी..

वो बोली- मुझसे नहीं होगा… अब जल्दी से चूसो इसे!

घुटनों के बल बैठ कर मैंने उसका लंड फिर से मुँह में ले लिया लेकिन अब मैं सिर्फ खुद को छुड़ाने के लिए चूस रही थी.. मुझे मजा नहीं आ रहा था।

उसने कहा- अच्छे से चूसो… जैसे पहले चूस रहा था!

मैंने तेजी से अपना मुँह चलाना शुरू कर दिया और 2 मिनट में ही वह मेरे मुँह में स्खलित हो गया… मैंने उसका वीर्य नीचे थूक दिया और उसने अपना लोअर ऊपर खींच लिया और बाहर सड़क की ओर चला गया।

मैं भी उसके पीछे पीछे कुछ देर बाद सड़क पर पहुंच गया।

मैंने चारों ओर देखा और उसे नहीं पाया।

फिर मैं भी घर जाने के लिए निकल गया और उसके बाद उसने मुझे फिर कभी नहीं चोदा!

यह थी मेरी गे सेक्स कहानी!

अगर आपको यह गांड मरने वाला साथी गे सेक्स स्टोरी पसंद आई तो हमें कमेंट बॉक्स में ज़रूर बताएं।

यदि आप ऐसी और गे सेक्स कहानियाँ पढ़ना चाहते हैं तो आप “Readxstories.com” पर पढ़ सकते हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Dehradun Call Girls

This will close in 0 seconds