May 14, 2024
बिल्डिंग के लड़के की गांड मारी

दोस्तो, मेरा नाम रोहन है. आज में आपको बताने जा रहा हु की कैसे मेने "बिल्डिंग के लड़के की गांड मारी और उसकी लंड की भूक शांत की"

दोस्तो, मेरा नाम रोहन है. आज में आपको बताने जा रहा हु की कैसे मेने “बिल्डिंग के लड़के की गांड मारी और उसकी लंड की भूक शांत की”

मेरी उम्र 25 साल है। ये स्टोरी 5 साल पुरानी है, जब मैं ग्रेजुएशन दूसरे साल का छात्र था. वहाँ एक प्राइवेट पीजी में मेरे बगल वाले कमरे में एक लड़का रहता था। वह फिलहाल मेडिकल प्रवेश परीक्षा नीट की तैयारी कर रहा था।

उन्हें क्रिकेट और फुटबॉल बहुत पसंद था. वह दिल्ली के एक गाँव से आये थे; वह एक बड़े ठाकुर परिवार का बेटा था। उसका रंग जरूर सांवला था लेकिन उसकी त्वचा पर गजब का निखार था.

यह बिना रैपर वाली ताज़ी चॉकलेट जैसा लग रहा था। उनकी ऊंचाई 6 फीट से कुछ अधिक थी; अच्छा शरीर था. उसने जिम वगैरह करके अपने शरीर को अच्छा बना रखा था, इसलिए लड़कियाँ उसके करीब आना चाहती थीं।

शरीर और रूप से धनी होते हुए भी वे अत्यंत सरल स्वभाव के थे; लड़कियों से थोड़ा शर्मीला था. कई लड़कियों ने उन्हें प्रपोज किया था लेकिन उन्होंने शायद अपनी पढ़ाई की वजह से ये सब टाल दिया।

लेकिन बाद में जब मुझे उनके बारे में कुछ और जानकारी मिली तो मामला समझ में आया. वो बात आपको आगे की सेक्स कहानी में भी समझ आएगी. जब मैंने उसे पहली बार देखा तो मैं भूल गया कि मैं एक लड़का हूं.

मेरा दिल कहने लगा कि अगर ये मुझे मिल जाए तो बहुत अच्छा होगा. मैं उसके करीब जाने लगा. धीरे-धीरे मैं उसका अच्छा दोस्त बन गया. मेरी पढ़ाई अच्छी थी इसलिए उसे मेरे साथ रहना ज्यादा पसंद आने लगा.

लेकिन उसे क्या पता था कि मैं उसके लंड की भूखी हूँ. तीन-चार महीनों के बाद, मुझसे और बर्दाश्त नहीं हो रहा था इसलिए मैंने उससे बात करने के लिए रात को उसे फोन किया। उस वक्त करीब 12 बजे थे.

वह करीब 20 मिनट बाद आया, जबकि उसका कमरा बगल में ही था। मैंने पूछा- इतनी देर क्यों लग गई? तो उसने मुस्कुरा कर कहा- यार, जब तुमने मैसेज किया तो मैं कांप रहा था. मैंने जानबूझ कर पूछा- मतलब… मैं समझा नहीं?

तो उसने कहा- अरे यार, मैं हस्तमैथुन कर रहा था. मैंने ऐसे रिएक्ट किया जैसे मैंने ये शब्द पहले कभी नहीं सुना हो, मैंने पूछा- ये मुठ मारना क्या होता है? वो बोला- अरे यार, क्या तुम्हें ये भी नहीं पता?

जब आप लिंग को अपने हाथ से पकड़ते हैं और उसके शाफ्ट को हटाने के लिए उसे आगे-पीछे करते हैं, तो इसे मुठ मारना कहा जाता है। उसके मुँह से ऐसी खुली बातें सुनकर मेरा रक्तचाप अचानक बढ़ गया।

वो मेरे सामने अपने लंड के बारे में बात कर रहा था और मैं अपनी गांड में यही चाहती थी. उस वक्त मेरा मन कर रहा था कि उस पर झपट पड़ूं और उसका लिंग अपने मुंह में ले लूं और जोर से चूस लूं.

लेकिन मैंने इस पर कंट्रोल किया और उससे कहा- तुम्हारे पास तो बहुत सारी लड़कियाँ लाइन में रहती हैं.. तो हस्तमैथुन करने की क्या ज़रूरत है। तुम चाहो तो तुम्हें भी चूत मिल सकती है.

तो उसने हंस कर कहा- हां यार, लेकिन मैं यहां किसी के साथ सेक्स के चक्कर में नहीं फंसना चाहता. मैं अपने गांव की एक लड़की से प्यार करता हूं.

उसके बारे में अब मुझे यही पता चला था. मैंने कहा- ठीक है… अब बताओ तुम कितने दिन तक हस्तमैथुन करते हो? वो हँसने लगा और बोला- यार तुम तो… इसी बात पर अड़े हो! मैंने कहा- ठीक है, रहने दो यार!

तब तक उसने कहा- एक दिन के अंतर पर … और आमतौर पर सोने से पहले इसी वक्त ऐसा होता है. मैंने कहा- ठीक है यार, सुबह बात करेंगे, मैं सोने जा रहा हूँ। उसने शुभ रात्रि कहा और चला गया।

मैंने सोचा कि आज इसने अपने लिंग का हस्तमैथुन किया है, मतलब परसों यह अपने लिंग का हस्तमैथुन करेगा. काश मैं उसी वक्त उसे सेक्स का ऑफर दे पाता तो शायद वह मेरे साथ सेक्स कर पाती।

लेकिन अगर उसे बुरा लगेगा तो वो मुझसे बात भी नहीं करेगा. मैंने सब कुछ किस्मत पर छोड़ दिया और जब अगला दिन आया तो मैंने सोचा कि आज कोशिश करूंगा. जो भी होगा हम देखेंगे.

मैं रात को साढ़े दस बजे उसके कमरे पर पहुंच गया. उस दिन मैं सेक्स के बारे में घुमा फिरा कर बात कर रहा था. कुछ देर बाद उसने कहा- यार, अब मुझे कुछ करना होगा, तुम जाओ! मैंने पूछा- क्या करें?

इस बात पर उसे थोड़ा गुस्सा आया और बोला- यार, क्या सब कुछ बताना जरूरी है, क्या तुम इसमें मेरी मदद करोगे? वह गुस्से में कहता रहा कि मैं सिर्फ अपनी गर्लफ्रेंड के साथ फोन सेक्स करना चाहता हूं और हस्तमैथुन करना चाहता हूं!

मैं उसके पास गया और बोला- अगर तुम चाहो तो मैं कुछ कर सकता हूँ. इसे एक बार आज़माएं! वह गुस्से में बोला- यार, मुझे समझ नहीं आ रहा कि तुम आज क्या बकवास कर रहे हो?

मैंने कहा- ठीक है सुनो. कैसा रहेगा अगर आप आंखें बंद करके अपनी गर्लफ्रेंड से बात करें और आपके लंड को भी चूत जैसा मजा मिले… और आपको अपने लंड को छूने की जरूरत भी न पड़े?

तो वो हँसे और बोले- अरे यहाँ कहाँ चूत है.. तुम्हारे पास है क्या? मैंने कहा- तुम बस अपनी आंखें बंद कर लो और लाइट बंद करके थोड़ी देर बात करो, फिर देखना. उसे कुछ समझ आया. उसने यही किया.

लगभग दस मिनट के बाद मैंने उसका हाथ, जो वह ऊपर से अपने लिंग पर फिरा रहा था, हटा दिया और अपने हाथ से उसके लिंग की मालिश करने लगी।

उसने न सिर्फ मुझे रोका बल्कि एक बार अपनी आंखें खोलीं और मुस्कुराया. उसने फिर से अपनी आँखे बंद कर ली और अब वो बहुत गरम हो गयी थी. उसका लिंग सख्त होने लगा था, जिसे मैं उसकी पैंट के ऊपर से महसूस कर सकती थी।

मैंने उसकी पैंट की ज़िप खोली और देखा कि उसने अंडरवियर भी नहीं पहना था. उसका लंड काफी बड़ा था. जब मैंने उसे छुआ तो मुझे एहसास हुआ कि इसे लिंग कहते हैं.

मेरे समलैंगिक लड़के के जीवन में पहली बार मुझे इतनी खुशी महसूस हुई। मैंने तुरंत पोजीशन बनाई और बिना देर किए उसका लिंग अपने मुँह में ले लिया।

वह बाहर से बहुत स्टाइलिश दिखता था, लेकिन उसने शायद अंदर से अपना लंड साफ़ नहीं किया था। उसके लिंग से इतनी तेज़ गंध आ रही थी कि मैं परेशान होने लगी. लेकिन उस वक्त इस मामले में उनसे कुछ भी कहना ठीक नहीं था.

वो अपनी गर्लफ्रेंड से बात करते हुए मेरा सिर सहला रहा था और अपना लंड उठाकर मेरे मुँह में डालने लगा. मैंने लिंग मुँह से निकाला और उसकी ओर देखा.

जब मैं कुछ कहने ही वाला था तो उसने अपनी एक उंगली से मुझे न बोलने का इशारा किया। उसने फिर से लिंग की ओर इशारा किया कि इसे चूस कर खुश कर दो।

दोस्तो, मैंने करीब 20 मिनट तक उसका लिंग चूसा और उसकी भगनासा भी चाटी। आख़िरकार वह झटके से उठा और मुझे पलट दिया। मुझे समझ नहीं आ रहा था कि वह क्या करने जा रहा है.

फिर उसने अपना सारा रस मेरे चेहरे पर छोड़ दिया और गहरी सांस लेते हुए हल्के से हंसते हुए लेट गया. मैंने अपना मुँह पोंछा और लज्जित होकर बैठ गया।

फिर उसने अलविदा कहा और फोन रख दिया और मुझसे कहा- आज तो मजा आ गया यार. तुम सच में बहुत अच्छा चूसते हो. आज यहीं मेरे पास सो जाओ दोस्त!

मैंने कहा- तुम्हें बुरा नहीं लगा? वो हंसने लगा- अरे यार, तेरी चूत से ज्यादा तेरे मुँह को चोदने में मजा आया. अब ये बात किसी को मत बताना. आपसे कोई डर नहीं है.

हालाँकि मैं तुम्हें लड़कियों की तरह नहीं फंसा सकता, फिर भी तुमने आज जिस तरह से मेरा लंड चूसा, उससे मुझे मजा आया। मैंने पोर्न में देखा था लेकिन नहीं पता था कि लंड चुसवाने में इतना मजा आता है. चलो अब सो जाओ.

मैं लेट गया और थोड़ी ही देर में गहरी नींद में सो गया. अगले दिन पता नहीं क्या हुआ कि उसने मुझसे कहा- अब मुझसे बात मत करना. मैं बहुत डर गया था लेकिन किसी तरह मैंने उसे बात करने के लिए मना लिया।

उसने पूछा- तुमने ये सब कैसे किया… तुम तो लड़के हो यार! मैंने कहा- यार, मैं गे हूं. मैंने उसे सब कुछ समझाया. तो उसने कहा- ठीक है.. मैं तुम्हें अपना लंड दे सकता हूँ, लेकिन कुछ शर्तों पर।

मैंने सोचा कि अच्छा है, एक शर्त के साथ दे रहा है… कम से कम देगा। मैंने पूछा- क्या शर्त है? उन्होंने कहा- पहली शर्त तो ये है कि तुम कभी भी इस बारे में किसी को कुछ नहीं बताओगे.

इसके लिए मुझे तुम्हारा लिंग चूसते हुए फोटो लेना होगा ताकि अगर तुम किसी को बताओ तो मैं तुम्हें बेनकाब कर सकूं. मैंने कहा- ठीक है.

उन्होंने कहा- दूसरी शर्त यह है कि मुझे लड़कों में कोई दिलचस्पी नहीं है, इसलिए अगर मैं थोड़ा भी वाइल्ड या गुस्से में सेक्स करूंगा तो तुम्हें मानना पड़ेगा. मैंने इसके लिए भी हां कह दिया.

तीसरी शर्त में उन्होंने कहा कि सेक्स में जो मेरा मन कहेगा वही होगा…ऐसा नहीं कि आप जो कहेंगे उससे कुछ होगा! मैंने इसके लिए भी हां कह दिया.

फिर उसने हंसते हुए कहा- ठीक है. यार, एक बात और है कि मैं हर दिन हस्तमैथुन करता हूं। उस दिन मैंने झूठ बोला कि मैं एक दिन छोड़ दूंगा। मैं उसे देख रहा था.

वह फिर बोला-इसका मतलब समझते हो? मैंने कहा नहीं! वो बोला- मतलब लंड को हर 24 घंटे में एक बार तुम्हें खुश करना पड़ेगा. मैंने कहा- ठीक है. वह मुस्कुराने लगा.

फिर मैंने कहा- यार मुझे भी कुछ कहना है. उसने कहा- क्या? तो मैंने कहा- यार, अपना लंड थोड़ा साफ रखना, बहुत बुरी बदबू आ रही थी.

इस पर उन्होंने हंसते हुए कहा- बेटा, ये सब काम तुम खुद ही संभालो. बाल साफ करना हो या लिंग धोना, सारा काम तुम्हें ही करना है… और हां, अब गंध सूंघने की भी थोड़ी आदत डाल लो।

जब से मैंने उसका लंड चूसा, तब से उसमें बहुत बदलाव आ गया था. उसके बाद वो मुझे सेक्स की नज़र से देखने लगा. हम दोनों चुप थे।

उसने कहा- ठीक है यार, मैं बहुत थक गया हूँ, थोड़ी देर सोने जा रहा हूँ, उठ कर आना। मैं तुम्हें मैसेज करूंगा फिर आना. मैंने कहा- ठीक है. अब मैं अपने कमरे की ओर चल पड़ा.

जैसे ही मैं कमरे में पहुंचा, उसने तुरंत मैसेज किया कि वह थकी हुई है और मेरी मालिश करना चाहती है, इसलिए आ जाओ! मैंने कहा- नहीं यार.

मैंने फोन रख दिया. कुछ मिनट बाद वो खुद मेरे कमरे में आया और बोला- यार, एक बार फिर से चूसो, तभी तो नींद आ जायेगी. मैं शर्त के मुताबिक मान गया और काम करने लगा.

मैंने बीच में देखा तो वो अपना लंड चुसवाते हुए वीडियो बना रहा था. जिसमें उनका चेहरा नहीं दिखेगा, सिर्फ उनके लिंग की फोटो दिखनी थी. जहां तक मेरी बात है तो लंड चूसते वक्त मुझे साफ दिखना चाहिए. वो ऐसे वीडियो बना रहा था।

लंड चुसवाने के बाद वो बोली- अब मालिश भी कर दो। मेंने कुछ नहीं कहा। चूमने के बाद उसने कहा- इसकी सेवा करो, तुम्हें भी मजा आएगा. मैं उसके चुम्बन से अपने आप को रोक नहीं पाया और मैंने जी भर कर उसकी मालिश की।

वो मेरे कमरे में सोने लगा, फिर अचानक उठा और बोला- अब जब मैं अकेला रहूं तो मुझे नाम से मत बुलाना. ठाकुर साहब कहें या मास्टर. मुझे यही पसंद है. मैंने हाँ में सिर हिलाया और वह बाहर चला गया।

जाते समय उसने कहा- आज रात हम दोनों अपनी सुहागरात मनाएँगे। मैं कमरे को सजाने की व्यवस्था करता हूँ। तुम मेरी दुल्हन बन जाओ और सज-धज कर तैयार हो जाओ. आज रात तेरी गांड चोदी जायेगी. मैंने ख़ुशी से हाँ में सिर हिला दिया.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Delhi Escorts

This will close in 0 seconds