May 21, 2024
चाचा ने मेरी गांड चोदी

हेलो, दोस्तों, मैं आपकी पिया, आज फिर आपको एक गे सेक्स स्टोरी सुनाने आई हूँ जिसका नाम "रात के अँधेरे में चाचा ने मेरी गांड चोदी" है।

हेलो, दोस्तों, मैं आपकी पिया, आज फिर आपको एक गे सेक्स स्टोरी सुनाने आई हूँ जिसका नाम “रात के अँधेरे में चाचा ने मेरी गांड चोदी” है आगे की स्टोरी उस लड़के की ज़ुबानी।

नमस्कार दोस्तों, मेरी इस सच्ची कहानी में आपका स्वागत है। मुझे शुरू से ही लड़कों में दिलचस्पी थी। लेकिन मुझे नहीं पता था कि मैं गे हूं। एक बार जब मेरे चाचा हमारे घर आए तो उन्हें लंगोट पहने हुए देखकर मेरे दिल में कुछ हो गया।

नमस्कार दोस्तों, आप लोग कैसे हैं?

मैं राहुल एक नई कहानी के साथ वापस आ गया हूँ।

लेकिन शुरू करने से पहले मैं आप सभी पाठकों को आपसे मिले प्यार के लिए तहे दिल से धन्यवाद देना चाहता हूं।

मैं यहाँ के कुछ दोस्तों से भी मिला जिन्होंने अपनी कहानियाँ मेरे साथ साझा कीं!

उन्हीं में से एक घटना के बारे में मैं आपको बता रहा हूं।

अब मैं उसी मित्र के शब्दों में कहानी पर आता हूँ!

मेरा नाम रॉकी है।

ये बात तब की है जब मैं 12वीं क्लास में पढ़ता था। वैसे मुझे शुरू से ही लड़कों में दिलचस्पी थी। लेकिन मुझे नहीं पता था कि मैं गे हूं।

और मुझे पुरुषों से प्यार था।

एक दिन मेरे पिता के दूर के रिश्ते के चचेरे भाई मेरे घर आये।

पिता का भाई यानि चाचा।

उसकी उम्र करीब 30 साल रही होगी।

तब मैं 18 साल का था… ठीक अपनी जवानी की शुरुआत में।

मैं इन चाचा से पहले कभी नहीं मिला था।

जिस दिन वो आये उस दिन हमारे एक रिश्तेदार के घर शादी थी जो हमारे ही शहर में था।

घर के सभी लोग वहां शादी में शामिल होने गये थे।

मैं और मेरे चाचा भी गए। लेकिन रात को हम लोग खाना खाकर वापस आ गये।

जबकि मम्मी और पापा शादी के लिए वहीं रुके हुए थे।

घर पहुंच कर हमने कपड़े बदले।

चाचा ने लुंगी और बनियान पहनी और बाहर आँगन में चारपाई पर सोने की तैयारी करने लगे।

उसके शरीर पर काफी बाल थे। मैंने पहली बार उसका शरीर देखा। और मैंने देखा कि उसने देहाती चड्डी पहन रखी थी। यह एक लंगोट था।

मुझे आशा है कि आप सभी जानते होंगे कि लंगोट क्या है।

लेकिन तब मुझे पता नहीं था।

मैंने चाचा से पूछा- चाचा, ये कैसा अंडरवियर है?

चाचा हँसे और बोले- ये असली इंडियन अंडरवियर है।

और उसने अपनी लुंगी उतार दी और अपनी लंगोट दिखा दी।

लंगोट के अन्दर चाचा का तना हुआ लंड देख कर मैं मस्ती से भर गया।

चाचा के लंगोट में उनका लंड देख कर मेरी लार टपक रही थी।

मेरा मन कर रहा था कि एक बार और उसे छू लूं और प्यार कर लूं।

चाचा की झांटें लंगोट से बाहर दिख रही थीं।

मैंने चाचा से कहा- मैंने आज तक कभी लंगोट नहीं पहना है।

चाचा ने पूछा- तुम किस तरह का अंडरवियर पहनती हो?

तो मैंने उनसे कहा- फ्रेंची। (चाचा ने मेरी गांड चोदी)

मैंने शॉर्ट्स पहना हुआ था।

चाचा ने मुझसे पूछा- क्या तुम मुझे लंगोट पहने हुए देखना चाहोगी?

तो मैंने कहा- हाँ बिल्कुल!

चाचा अपने बैग से एक साफ़ लंगोट ले आये।

वह हरे रंग का लंगोट था।

मैंने अपना शॉर्ट्स उतार दिया।

और उन्होंने मुझे मेरे अंडरवियर के ऊपर एक लंगोट पहना दी।

जब वह मुझे लंगोट पहना रहा था तो मैं थोड़ा उत्तेजित हो गई।

जिसे चाचा ने महसूस तो किया लेकिन कुछ कहा नहीं; और उसने इसे हल्के में ले लिया।

फिर चाचा बोले- अब जाकर बाथरूम में जाकर देखो और सिर्फ लंगोट पहनकर दिखाओ।

मैं बाथरूम में गया और अपना अंडरवियर उतार कर लंगोट पहन लिया।

मुझे लंगोट बहुत सेक्सी लगी।

उसे पहनते समय मेरा लंड पूरा खड़ा हो गया था।

इसलिए उन्होंने कुछ देर बाथरूम में खुद को सामान्य किया और फिर बाहर आ गए।

फिर मैं बनियान और लंगोट पहन कर बाथरूम से बाहर आ गया।

मुझे बहुत शर्म भी आ रही थी।

चाचा मुझे देख कर हंस पड़े, बोले- तुम बहुत खूबसूरत लग रही हो।

मैंने चाचा से पूछा- क्या मैं ये लंगोट अपने पास रख सकता हूँ?

चाचा बोले- ठीक है, ये लंगोट मेरी तरफ से तुम्हें गिफ्ट है। अब रात हो गई है, चलो सो जाएँ।

मैंने कहा- चाचा, आप मेरे कमरे में आकर सो जाओ। वैसे भी मम्मी-पापा आज रात को आने वाले नहीं हैं।

तो चाचा बोले- ठीक है।

और वो और मैं पापा के कमरे में सोने आ गये क्योंकि उस कमरे में एक डबल बेड था।

मैंने चाचा से कहा- क्या मुझे लंगोट में ही सोना चाहिए?

चाचा बोले- हां सो जाओ।

मैंने पूछा- रात को लंगोट खुल गई क्या?

तो चाचा बोले- नहीं खुलेगा। चिंता मत करो। (चाचा ने मेरी गांड चोदी)

चाचा ने लुंगी और बनियान पहन रखी थी!

फिर हम दोनों ने कमरे की लाइट बंद कर दी और नाईट बल्ब जला दिया।

चाचा मेरे बगल में सो रहे थे। वे जल्द ही सो गये।

लेकिन मुझे नींद नहीं आ रही थी… एक ने लंगोट पहना हुआ था। ऊपर से चाचा मुझे बहुत सेक्सी लग रहे थे। खासकर तब से जब से मैंने उसकी लंगोट में लंड की झांटे देखी थी।

मुझसे रहा नहीं गया तो मैं उठी और चाचा की लुंगी की तरफ देखने लगी।

मैंने धीरे से उसकी लुंगी हटाई तो उसकी लाल लंगोट में तना हुआ लंड मेरे सामने नजर आया।

मैंने डरते हुए धीरे से अपना हाथ उसकी लंगोट के ऊपर रख कर उसके लंड को छुआ।

मेरा दिल बहुत तेजी से धड़क रहा था।

हॉट लड़कियां सस्ते रेट में इन जगह पर बुक करें :

फिर मैंने धीरे से चाचा की लुंगी की गांठ खोल दी।

उनकी लुंगी कमर से फिसल कर नीचे गिर गयी।

अब चाचा केवल लंगोट और बनियान में थे।

बिल्कुल मेरे जैसे,

मेरा लंड पूरा खड़ा हो गया था। मेरा दिल मेरे वश में नहीं था।

मुझे पता था कि मैं गलत कर रहा हूं लेकिन फिर भी मैं ऐसा करता रहा।’

मैं लंगोट के ऊपर से ही चाचा का लंड दबाने लगी।

थोड़ी देर में चाचा का लंड तन गया।

मुझे नहीं पता था कि चाचा सो रहे थे या सोने का नाटक कर रहे थे; लेकिन उसकी आंखें बंद थीं।

अब चाचा का लंड भी खड़ा हो गया था और उनका लंगोट उनके लंड को पूरी तरह से संभाल नहीं पा रहा था।

उसका खड़ा लंड देख कर मुझसे रहा नहीं गया। मैं अपने होंठ उसकी लंगोट के पास ले गया।

और मैंने लंगोट सहित उसका लंड अपने मुँह में ले लिया। (चाचा ने मेरी गांड चोदी)

अब तक चाचा भी उठ चुके थे लेकिन अब वो भी उत्तेजित हो गये थे।

उसने अपनी लंगोट खोली और उसने अपना पूरा लंड मेरे मुँह में डाल दिया।

मैं उसे बेतहाशा चूसने लगा। उसका लंड बहुत मोटा था.. लगभग 7 इंच का होगा।

चाचा जी मेरे बालों में अपना हाथ फिराने लगे और दूसरे हाथ से मेरे शरीर को सहलाने लगे। वो मेरे स्तनों को सहलाते हुए नीचे की ओर बढ़ने लगा।

वो भी मेरे लंगोट में खड़े लंड को सहलाने लगा। उसने मेरी लंगोट भी खोल दी और मेरी गांड सहलाने लगा।

मैं चाचा का लंड चूसे जा रही थी।

मैंने एक बार उसके लंड की पूरी चमड़ी नीचे खींच कर उसके गुलाबी सुपारे को प्यार से देखा और फिर अपनी जीभ से चाटना शुरू कर दिया।

मैंने फिर से चाचा का पूरा लंड अपने मुँह में ले लिया और जोर जोर से चूसने लगी।

चाचा भी आज मेरी कमसिन जवानी का मजा ले रहे थे।

सच कहूँ तो… उस दिन मैंने अपनी जिन्दगी का पहला लंड चूसा था।

लेकिन चाचा का लंड मुझे इतना स्वादिष्ट लग रहा था कि क्या बताऊँ!

मेरा लंड मुँह से निकालने का मन ही नहीं कर रहा था।

चाचा अब धीरे धीरे मेरी गांड तैयार कर रहे थे।

उसने अपने थूक से मेरी गांड पूरी गीली कर दी।

वो अपनी उंगली से धीरे धीरे मेरी गांड चोदने लगा।

चाचा जितना मेरी गांड में अपनी उंगली डालते.. उतना ही मैं उनके लंड को अपने मुँह में निगलती जा रही थी।

काफी देर तक लंड चुसवाने के बाद उसने मुझे अपने ऊपर लिटा लिया।

उसने अपनी बनियान उतार दी और मेरी भी बनियान उतार दी।

हम दोनों नंगे हो गये और एक दूसरे से चिपक गये।

मैं अपने लंड से उसके लंड को दबाने लगा। उसका बालों से भरा शरीर मेरे पूरे शरीर से रगड़ रहा था इसलिए मुझे बहुत अच्छा लग रहा था।

मैं खुद को उसके शरीर से ऐसे रगड़ रही थी, साथ ही मेरा लंड भी उसके लंड से रगड़ रही थी।

फिर कुछ देर तक ऐसे ही एक दूसरे के ऊपर लेटे रहने के बाद चाचा ने मुझे अपने नीचे ले लिया।

उसने मुझे बिस्तर पर लेटा दिया और मेरी दोनों टाँगें चौड़ी कर दीं। (चाचा ने मेरी गांड चोदी)

चाचा ने एक बार फिर अपने फूले हुए लंड पर थूका; वो अपना लंड मेरी गांड पर रगड़ने लगा और धीरे-धीरे अपना लंड गांड में डालने लगा।

मैं इतनी उत्तेजित हो गई थी कि अपनी गांड उठा-उठा कर चाचा को गांड मरवाने में मदद करने लगी!

चाचा बहुत अनुभवी थे।

वो धीरे धीरे अपना लंड मेरी गांड में डाल रहा था। जब भी मुझे दर्द होता तो वो रुक जाता और थोड़ी देर बाद और लंड डाल देता।

इस तरह धीरे-धीरे उसने अपना पूरा लंड मेरी गांड में डाल दिया।

मुझे यकीन ही नहीं हो रहा था कि इतना मोटा और लम्बा लंड मेरी गांड में पूरा घुस गया है।

वैसे मुझे लगता है कि 18 साल की उम्र में गांड इतने बड़े लंड लेने के लिए तैयार है; बस थोड़ा दर्द सहना होगा।

और उस रात मुझमें दर्द सहने की पूरी ताकत थी।

मैं अपने चाचा की सेक्सी लंगोट पर अपनी जवानी लुटाने को तैयार थी।

आज मैं पूरी तरह जवान होना चाहता था।

चाचा अब मुझे धीरे धीरे चोदने लगे।

अब तो वो मुझे चूम भी रहा था; मेरे गालों को चाट चाट कर पूरा गीला कर दिया; मेरी चूची को मसल मसल कर लाल कर दिया।

जब भी वो मेरे स्तन दबाता तो मैं और भी खुश हो जाता। मैं और भी झिझक के साथ उसका लंड अपनी गांड में लेता।

सच कहूँ तो दर्द के साथ-साथ मुझे मजा भी बहुत आ रहा था।

चाचा भी मुझे पूरी लड़की समझ कर चोदे जा रहे थे।

और मैं चोदे जा रही थी।

काफी देर के बाद चाचा ने अपना माल मेरी गांड में निकाल दिया।

चाचा जी का गर्म वीर्य मेरी गांड में भर गया।

जब वह अपना वीर्य मेरी गांड में गिरा रहा था तो मुझे एक अलग ही अहसास हो रहा था।

उसकी चुदाई से मैं भी बिस्तर पर गिर गयी।

चाचा कुछ देर तक मेरे ऊपर ऐसे ही लेटे रहे। उसका लंड मेरी गांड में ही था।

फिर बाद में उसने अपना लंड मेरी गांड से निकाला और मुझसे लिपट गया।

मैं भी उसके बालों से भरे शरीर से चिपक गया।

चाचा मेरे नंगे बदन को सहलाते रहे। और उनमें से ज्यादातर मेरी गांड को सहला रहे थे।

पता नहीं कब नींद आ गयी।

सुबह जब मेरी आँख खुली तो मैंने देखा कि मैं बिस्तर पर नंगा सो रहा हूँ।

चाचा शायद बाथरूम में नहा रहे थे।

मैंने अपना शॉर्ट्स उठाया और पहन लिया और अपनी बनियान भी पहन ली।

तभी दरवाजे की घंटी बजी।

मम्मी पापा घर वापस आ गये थे।

चाचा नहा कर बाहर आये।

माँ नाश्ता बनाने लगी।

पापा ने चाचा से और मुझसे पूछा- और रात कैसी कटी? आराम से सोए या नहीं?

चाचा ने मेरी तरफ देखा और मुस्कुराते हुए बोले- हाँ, रात बहुत अच्छी कटी।

मैं शर्मा गया था। मैं नहाने के लिए बाथरूम में चला गया!

उसके बाद चाचा अक्सर हमारे घर आने लगे और हमने कई बार सेक्स किया।

बाद में जब उसकी शादी हो गई तो मुझसे मिलना उसका कम हो गया।

लेकिन अब भी जब वह आता है तो मैं उसे अपने मन की हर बात बता देती हूं।

और वह अब भी मेरा सबसे अच्छा दोस्त और सेक्स पार्टनर है।

तो दोस्तों… ये थी रॉकी और उसके चाचा की कहानी।

तो ये थी मेरी और मेरे सेक्सी चाचा की कहानी।

यह थी मेरी गे सेक्स कहानी!

अगर आपको यह चाचा ने मेरी गांड चोदी गे सेक्स स्टोरी पसंद आई तो हमें कमेंट बॉक्स में ज़रूर बताएं।

यदि आप ऐसी और गे सेक्स कहानियाँ पढ़ना चाहते हैं तो आप “Readxstories.com” पर पढ़ सकते हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Delhi Escorts

This will close in 0 seconds