June 25, 2024
Chokidar ki Chudai

हेलो दोस्तो, आज एक नया Hindi Chudai ki Kahani अनुभव लेकर आयी हूं आप सब की रिक्वेस्ट पर।

इस कहानी को ज्योति जी लिख रही है, कहानी है – करवाचौथ पे चौकीदार की चुदाई से हुई संतुष्ट ( Chokidar ki Chudai )

हेलो दोस्तों, मेरा नाम ज्योति है. ये Hindi Sex Story मेरी शादी के बाद की है।

तब मेरी फिगर 36-30-36 थी. मेरे अपार्टमेंट कॉम्प्लेक्स में मेरी एक दोस्त थी अंजली।

उसके पति अमित के साथ मेरे कुछ टाइम से अफेयर चल रहा था।

बात 2 साल पहले की है. करवाचौथ के समय मेरे पति की नाइट शिफ्ट चल रही थी।

तो वो दिन मेरा व्रत ओपन करा के ऑफिस चला गया। रात के 11 बजे मेरे पास अमित का फोन आया।

अमित: कैसी हो ज्योति?

मैं: बड़ी जल्दी याद आ गई आप को मेरी।

अमित: थोड़ा व्यस्त था. पत्नी का व्रत भी खोलना था ना.

मैं: और मेरे व्रत का क्या?

अमित: तभी तो कॉल किया है. मैं छत पर जा रहा हूँ तुम भी आ जाओ।

मैं: अभी पूजा की थाली तैयार कर के आती हूं।

10 मिनट में मैं छत पर पहुंच गई। अमित वही मेरा इंतज़ार कर रहा था.

मैंने उसके साथ पूजा की औपचारिकताएं पूरी कीं। फ़िर मैंने उसकी जोड़ी छुए। उसने मुझे रोक गले लगा लिया।

फिर उसने मुझे छत के एक कोने में लेटा कर चोदना शुरू कर दिया।

हम लगभग 12.30 बजे तक वही छत पर। फ़िर अमित ने बोला कि अब चलते हैं। मैंने अपनी साड़ी ठीक की।

और हम जैसे सीढ़ियों के दरवाजे के पास पहुंचे तो सोसायटी का चौकीदार वहा खड़ा था।

अमित ने उससे पूछा, “क्या कर रहे हो यहाँ?” वो बोला, “12 बजे ताला लगाना होता है उसके लिए आया था।

पर आप लोगो की आवाज़ आ रही थी तो यही इंतज़ार करने लग गया।”

चौकीदार ने फिर मेरी तरफ देखा और बोला, “आप लोग तो अलग-अलग अपार्टमेंट से हो ना?

” मैंने कुछ नहीं बोला और नीचे आ गई। अमित ने उसको कुछ पैसे दे कर नीचे आ गया। हम दोनो अपने अपने अपार्टमेंट में चले गये।

मैं बहुत थक गई थी तो बिना चेंज किए ही ढेर हो गई। रात के 2 बजे किसी ने मेरे अपार्टमेंट की डोर रिंग की।

मैंने देखा तो वो चौकीदार था. मैंने एक दरवाजा खोला. वो चौकीदार 50 साल का होगा।

मैं: क्या हुआ?

चौकीदार: मैडम, वो मैं आपको सर के साथ छत पर मिला था ना.

मैं: हा तो. हम दोनों दोस्त हैं.

चौकीदार: वो ठीक है मैडम. पर आप की ये पैंटी वही ऊपर रह गई थी। मैंने थोड़ा झांक कर देखा। जो आप लोग कर रहे थे वो दोस्त नहीं करते।

मैं: क्या चाहिए तुमको?

चौकीदार: कैसे बोलू मैडम समझ नहीं आ रहा.

मैं: रुको मैं पैसे ले कर आती हूं.

चौकीदार: मैडम, पैसे नहीं चाहिए.

मैं: तो?

चौकीदार: मेरी बीवी बहुत टाइम से गांव गई है। तो आज मैं करवाचौथ नहीं मनाऊंगा।

मैं: तो इसमें मैं क्या करू.

चौकीदार: तो मैडम आप के साथ मनाना है.

मैं: क्या फालतू की बात बोल रहे हो.

चौकीदार: फालतू की बात कहां मैडम. आप उन सर के साथ मना के आये हो। मुझे आप के साथ मनाना है।

मैं: (दरवाज़ा बंद करते हुए) जाओ यहाँ से।

चौकीदार: मुझे पता है कि आप के पति सुबह 5 बजे वापस आते हैं। तो मैं उन्हें परमिशन लू क्या.

मैं समझ गई कि ब्लैकमेल कर रहा है। मैंने फिर से दरवाजा खोला।

मैं: आज मैं बहुत थक गई हूँ। कल आना फिर बात करेगे.

चौकीदार: मैं छत पर जा कर 15 मिनट का इंतजार करूंगा। अगर आप नहीं आईं तो आप के पति को बता दूँगा सब कुछ।

ये बोल के वो चला गया. मुझे समझ आ गया कि आज तो ये मेरी चूत मार के ही माने गा। मैं थोड़ी देर में छत पर गई। मैंने करवाचौथ वाली लाल रंग की साड़ी डाली हुई थी।

वो मेरा वही इंतज़ार कर रहा था.

मैं: क्या चाहिए तुमको?

चौकीदार: मैडम आप के साथ करवाचौथ मनाना है।

मैं: कैसे?

चौकीदार: जैसे वो सर मना रहे थे.

मैं कुछ नहीं बोली. वो मेरे पास आया और मेरे होठों पर किस करना शुरू कर दिया।

मैंने कोई रिएक्शन नहीं दिया. फिर उसने मेरी साड़ी का पल्लू नीचे कर दिया। और मेरे दोनों चूचे पकड़ लिए।

हाउस वाइफ औरतो को चोदने के लिए यहाँ से बुलाये।

Delhi Escorts

चौकीदार: मैडम साड़ी में तो पता ही नहीं लग रहा था कि आपके इतने बड़े हैं।

मैं: आराम से दबाओ. ब्लाउज फाड़ मत देना.

चौकीदार: मैडम ब्लाउज निकाल दो.

मैं कुछ नहीं बोली. उसने पीछे से मेरे ब्लाउज के हुक खोल दिये।

फिर ब्लाउज पूरा निकल दिया. मैंने लाल रंग की ब्रा डाली हुई थी। फिर उसने मेरी ब्रा भी निकाल दी.

मेरे चुचो पर बहुत सारे दांत के निशान थे। वो बोला, “मैडम लगता है सर ने बहुत काटा है आप को।

” ये बोल के उसने मेरा राइट वाला चूचा मुँह में ले लिया। और ज़ोर ज़ोर से चूसने लगा।

मैंने उसको बोला कि दांत मत इस्तेमाल करो और आराम से चूसो। पर वो कहा सुन रहा था मेरी. उसने मुझे वही नीचे ले लिया।

और मेरे ऊपर आ कर मेरे चूचो को चूसने लग गया। वो इतने ज़ोर ज़ोर से चूस रहा था कि मुझे लगा दूध ही ना आ जाए।

फिर उसने मेरा पेटीकोट ऊपर कर दिया। मैंने पैंटी तो डाली नहीं हुई थी. फिर उसने अपना लंड बाहर निकाला और मेरी चूत के ऊपर रख दिया।

इसे पहले कि मैं कुछ बोलती उसने ज़ोर से झटका मारा और लंड मेरी चूत में घुसा दिया।

मेरी चूत तब तक पूरी गिल्ली नहीं हुई थी। और जब उसका लंड अंदर गया तो ऐसा लगा कि चूत फट गई मेरी।

मैंने ज़ोर ज़ोर से चिल्लाना शुरू कर दिया।

चौकीदार: क्या हुआ मैडम?

मैं: चूत गिल्ली नहीं हुई मेरी और तूने पहले ही डाल दिया अंदर। बहुत जलन हो रही है.

वर्चमैन: मैडम मैं तो ऐसे ही चोदता हूँ। मेरी बीवी ने तो कभी शिकायत नहीं की।

मैं: मैं तेरी बीवी नहीं हूं ना. और तूने बिना कंडोम के क्यों डाल दिया।

चौकीदार: कंडोम तो नहीं है मेरे पास. ना मैंने कभी इस्तेमाल किया.

मैंने उसको कंडोम दिया.

चौकीदार: मैडम मुझे तो इस्तेमाल करना नहीं आता. आपको ही बताना होगा कि कैसे उपयोग करें।

मैं: पहले लंड बाहर निकाल अपना.

मैंने कंडोम का रैपर खोला और उसके लंड पर कंडोम चढ़ा दिया।

मैं: हो गया. अब करो.

चौकीदार: मैडम, मैंने देखा था वो आप सर के मुँह में ले कर चूस रही थी ना। मेरा भी चूसो ना.

मैं: कंडोम के साथ थोड़ा ना चुसुगी. पहले तुम चूत मार लो फिर बाद में चूस लूंगी।

और मैं फिर से लेट गई। वो मेरे ऊपर आ गया. और लंड चुत में डाल दिया. फिर ज़ोर ज़ोर से चोदने लग गया.

उसने दोनों हाथों से मेरे चूचे पकड़ रखे थे। उसका सारा वजन मेरे चुचो पर था।

चूत में इतना मजा आ रहा था, चुचो में उतना ही दर्द हो रहा था। पर उसको इससे कोई मतलब नहीं था।

वो तो मुझे अपनी बीवी समझ कर चोद रहा था। 10 मिनट के बाद बोलता हूं मैडम पलट जाओ।

चौकीदार: मैडम पलट जाओ.

मैं: क्यो?

चौकीदार: गांड मरूंगा तुम्हारी.

मैं: पीछे नहीं लूंगी मैं.

चौकीदार: तो वीर्य कहा निकालू ?

मैं: चूत में ही.

चौकीदार: अगर आप प्रेग्नेंट हो गईं तो.

मैं: उसके लिए ही तो कंडोम लगाया है।

चौकीदार: मैं तो अपनी बीवी की गांड में ही खाली करता हूं हमेशा.

मैं: गांड में नहीं लूंगी मैं तुम्हारा. बस चुत मारो.

चौकीदार: जैसा आप बोले मैडम.

उसने फिर से मेरी चूत मारनी शुरू कर दी। उसने मुझे 15 मिनट और चोदा। मैं 2 बार डिस्चार्ज हो गई।

वो डिस्चार्ज हो कर मेरे ऊपर की ढेर हो गया। मैंने मुश्किल से उसको साइड किया। मेरे चूचे बिलकुल लाल हो गए थे.

मैं: अब जाउ मैं?

चौकीदार: रुको मैडम अभी चूस के जाना.

मैं: अभी चूसना भी बचा है क्या. चूत तो फाड़ ही दी तुमने मेरी.

चौकीदार: मैडम आप जैसी औरत की चूत इतनी आसानी से कहाँ फटती है। रुको अभी चूस के जाना.

मैं वही नंगी लेटी रही. 20 मिनट में उसका लंड दोबारा ज़ोर पकड़ने लगा। वो बोला कि मैडम अब चूसो. मैंने उसका लंड मुँह में ले कर चूसना शुरू कर दिया।

10 मिनट में वो डिस्चार्ज हो गया। उसने कुछ मेरे मुँह में, कुछ मेरे चेहरे पर और कुछ मेरे चुचो पर डिस्चार्ज कर दिया।

मैं: अब हो गया. अब तो जाऊ ना मैं.

चौकीदार: ठीक है मैडम. मजा दे दिया आप ने तो आज.

मैं कुछ नहीं बोली और कपड़े डालने लग गई। वो बोला, “मैडम अपनी ब्रा मेरे लिए गिफ्ट में छोड़ जाना।

जब भी आपको याद आएगा आप आपकी ब्रा से खेल लिया करुंगा।”

मैंने ब्रा उसको दे दी. अपने कपड़े डाले और वापस अपार्टमेंट में आ गयी।

ये Desi Hindi Sex Story पढ़कर मज़ा आया हो तो कमेंट में ज़रूर बताये। मिलते अगले किसी दिलचस्प कहानी के साथ।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Dehradun Call Girls

This will close in 0 seconds