May 14, 2024
Teacher ki Gand Chudai

Teacher ki Gand Chudai कहानी में पढ़ें कि मैंने अपनी सेक्सी टीचर के साथ सेक्स कर लिया था. उसके बाद टीचर ने मुझे मसूरी चलने के लिए कहा. तो मैंने क्या किया? 

प्रिय पाठको,
आपने मेरी पिछली कहानी: Sali Ki Gand Ki Chudai बहुत पसंद की.
धन्यवाद.

अब आगे Teacher ki Gand Chudai ki kahani की कहानी:

मैं घर आ गया।

आज मैम की Bur Chudai करके मैं बहुत खुश था.

शाम को घर पर मेरा जन्मदिन भी मनाया गया.

मैंने अपने परिवार से यात्रा पर जाने के बारे में बात की।
पहले तो घर वालों ने मना कर दिया और माँ कहने लगी कि तुम्हें इतना खर्चा कहाँ से देंगे?

मैंने कहा- मेरे दोस्त मेरे साथ जा रहे हैं और हम उनके चाचा के यहाँ रुकेंगे, सिर्फ 1000-1500 रूपये लगेंगे और हम 4-5 दिन में वापस आ जायेंगे।

मैंने थोड़ा ज़ोर लगाया और कहा- प्लीज़, प्लीज़ इसे मेरा बर्थडे गिफ्ट समझो और प्लीज़ हाँ कर दो!
मेरे घरवाले मान गये और मैं भी खुश हो गया.

मुझे इस बात की चिंता नहीं थी कि मेरे परिवार को सच पता चल जाएगा कि मैं झूठ बोल रहा था क्योंकि मेरा परिवार मेरे कॉलेज के किसी भी दोस्त को नहीं जानता था।

फिर मैंने सोचा कि रोशनी को थोड़ा परेशान करूंगा.
रात को मेरी रोशनी से बात नहीं हुई.

और सुबह कॉलेज गया, फिर क्लास अटेंड की.
रोशनी मैम का लेक्चर आया.

आज वो बहुत खुश थी और हो भी क्यों ना… कल मैंने उसे चोद कर बहुत सुख दिया था।
वह क्लास के अंदर आई और हम सभी ने उसे गुड मॉर्निंग कहा।

वो मेरी आंखों में पूछने लगी कि घर वालों ने क्या कहा था!
मैंने जानबूझकर उदास चेहरा बनाकर उन्हें मना कर दिया.

इससे वो अचानक बहुत गुस्सा हो गईं और मुझ पर गुस्सा करने लगीं.
वो मुझ पर चिल्लाईं और बोलीं- तुम्हें कभी इसे पढ़ना चाहिए, तुम्हारी फाइल भी पूरी नहीं है. आप लेक्चर के बाद मेरे केबिन में आकर मुझसे मिलें।

मैं क्या कहता, मुझे मालूम था कि वह क्यों नाराज़ थी।

लेक्चर ख़त्म होने के बाद मैं उनके केबिन में गया और बहुत उदास चेहरा लेकर अंदर चला गया।

उसने मुझसे कहा- मुझे तुमसे ये रोहित नहीं थी, मैंने तुमसे बस एक चीज़ मांगी थी… और तुमने वो भी पूरी नहीं की!
यह कह कर वह और भी उदास हो गयी.

मैंने केबिन का दरवाज़ा बंद किया और उसके पास गया और अचानक उससे कहा कि हमें अगले हफ्ते जाना है।
वो चौंक गयी और बोली- क्या… क्या मतलब!
मैंने कहा कि घरवाले मान गये हैं.

वो बोली- सच है.. लेकिन तुमने मुझे सर हिला कर मना कर दिया।
मैंने कहा- मैं तो मजाक कर रहा था और आप गुस्सा हो गईं.

इस पर उसने मुझे जोर से गले लगा लिया और मेरे एक गाल पर किस भी कर दिया.
मैंने भी मजाक में उसका एक बूब दबा दिया, जिस पर वो उछल पड़ी और हंसते हुए बोली- बेशर्म, अब तो मान भी ले.

मैं कुछ कहने ही वाला था कि तभी केबिन के बाहर से किसी ने दस्तक दी।

मैम ने दरवाजा खोलने को कहा और मैंने उनसे आगे कुछ नहीं कहा.

मैंने केबिन का दरवाजा खोला और बाहर आकर अपनी क्लास में आ गया.

क्लास में मेरे दोस्तों ने पूछा- क्या हुआ रोहित, मैडम ने क्या कहा?
मैंने उससे झूठ बोला- उसे कुछ ग़लतफ़हमी हुई थी. हम दोनों ने जो फाइल सबमिट की थी, उसमें किसी और की फाइल आ गई थी, जो उन्हें लगा कि वह मेरी है. उस फाइल में कुछ गलत लिखा था.

कक्षा में बातचीत अभी ख़त्म हुई।
इससे यह भी फ़ायदा हुआ कि सबको लगने लगा कि रोशनी मैडम मुझसे संतुष्ट नहीं हैं।

आज रोशनी मैडम के 3 लेक्चर थे, तो एक लेक्चर के बाद वो फिर क्लास में आ गईं.

इस बार वो हंसते हुए मेरे पास आई और बोली- सॉरी रोहित, मुझसे गलती हो गयी. बुरा मत मानना।
मैंने बस उससे कहा ‘ठीक है…’ और आँख मार दी।

ये हमारा आखिरी लेक्चर था और ये लेक्चर रोशनी मैम का था.

क्लास में मेरे दोस्त मेरे जन्मदिन की पार्टी के बारे में बात कर रहे थे और यह बात रोशनी मैडम ने भी सुन ली थी।
फिर वो भी बोलीं- रोहित, तुमने आज पार्टी मांगी थी.. पार्टी कहां है?
अब मैं क्या कहूँ?

वो फिर बोली- ऐसे चुप रहने से काम नहीं चलेगा, जल्दी बोलो!
मैं उदास चेहरे से उसकी तरफ देख रहा था.

अब वह क्लास के सामने क्या कहेगा कि मेरे पास पैसे नहीं हैं।

मैंने कहा- अच्छा चलो.
फिर मैंने सोचा कि अपने दोस्त से पैसे उधार ले लूँगा, जितना बिल आएगा उतना ले लूँगा।

कॉलेज ख़त्म होते ही हम सब, मेरे कुछ दोस्त और रोशनी मैडम बाहर आ गये।
हर कोई रेस्तरां में गया और जो कुछ भी उन्हें चाहिए था, ऑर्डर किया।

वहां खाना खाने के बाद जब मैं बिल चुकाने गया तो बिल 3500 रुपए का था।
मैंने अपने दोस्त को फोन करके पैसे मांगने के लिए जेब से फोन निकाला ही था कि उस पर मैसेज आया कि आपके नंबर पर 20,000 रुपये क्रेडिट हो गए हैं.
मैंने देखा तो वो पैसे रोशनी मैम ने भेजे थे.

मैंने बिल का भुगतान किया और रोशनी मैडम को धन्यवाद कहा।
उसने भी इशारे में ‘कोई बात नहीं…’ कहा.

फिर हम वहां से घर आ गये.

शाम को मैंने रोशनी मैडम को फोन किया और उनसे कहा- मुझे अगले हफ्ते जाना है, क्योंकि मैंने घर पर भी अगले हफ्ते के बारे में बता दिया है.

उसने मुझसे कहा- हां, मैं चाहूंगी, लेकिन अभी मुझे 3 दिन तक बहुत काम है और मैं तुम्हारी क्लास में भी नहीं आऊंगी. आइए आज ही योजना को अंतिम रूप दें ताकि बाद में कोई समस्या न हो।
हम दोनों ने सब कुछ प्लान किया.

हम दोनों 7 दिन बाद निकलने वाले थे.
सुबह 5 बजे निकलने का फैसला किया और बाकी चीजें भी तय कर लीं.

वो बोली- मुझे छुट्टी के लिए भी अप्लाई करना है. मैं 7 दिनों के लिए आवेदन करूंगा.
मैंने पूछा- सात दिन क्यों?

वो बोली- मूर्ख, अगर हम दोनों 5 दिन तक एक साथ कॉलेज नहीं आएंगे तो सब क्या सोचेंगे … और वैसे भी हम पर पहले से ही सबको शक है. मैं नहीं चाहता कि अब कक्षा में कुछ और हो!
मैंने कहा- ठीक है मेरी जान.

उसने फोन काट दिया.

मैं तो बस उस दिन का इंतजार कर रहा था जब मैं रोशनी को खुल कर चोदूंगा.

उस दिन से रोशनी मैडम 7 दिन तक क्लास में नहीं आईं और मैं रोज कॉलेज जाता रहा लेकिन मेरा मन नहीं लगा.

हमारे जाने वाले दिन शाम को मैंने अपना बैग पैक किया और मेडिकल स्टोर से बैग में अलग-अलग फ्लेवर के कई कंडोम भी खरीदे थे.
मैंने उन्हें बैग में रख लिया और बस सुबह होने का इंतजार कर रहा था.

सुबह 6 बजे मैं बाइक से रोशनी मैडम के घर पहुंच गया.

पहले हमारा प्लान रोशनी मैम की कार में जाने का था. लेकिन फिर उसने कहा कि वो बाइक पर एन्जॉय करना चाहती है तो हम दोनों ने बाइक से जाने का फैसला किया.

मैंने उसके घर के बाहर से उसे फोन किया.
तो वो बोली- मुझे 10 मिनट लगेंगे. तुम अंदर आओ.

मैंने उससे कहा ठीक है और घर के अंदर चला गया.
घर के दरवाज़े खुले थे, शायद मेरे लिए ही खुले रखे थे।

जब मैं रोशनी मैडम के पास गया तो उन्होंने मुझे कसकर गले लगा लिया और मेरे गाल पर चूम लिया.

हम अलग हुए और मैंने कहा- क्या बात है मैडम… आज तो आप बहुत चमक रही हैं!
वो बोली- क्यों… तुम रोज नहीं चमकते?

मैंने कहा- ऐसा नहीं है. लेकिन आज आपके चेहरे पर एक अलग ही नूर है. चेहरे पर जो खुशी दिख रही है वो भी अद्भुत है.

उसने मेरे गले में हाथ डाल कर कहा- जब मेरा प्रियतम मुझ पर इतना दयालु है और मेरे लिए इतना कुछ कर रहा है तो ये ख़ुशी तो दिख ही रही होगी ना?

मैंने कहा- ये बातें बाद में … अभी चलो. उसके बाद फिर से धूप खिलेगी।
वो बोली- ठीक है बाबा बस एक मिनट रुको.

तभी वो अंदर से हाथ में कुछ पैसे लेकर आई और बोली- ये रख लो.
मैंने कहा- ये किसलिए? यहाँ तक कि जो आपने मुझे भेजे थे वे अभी भी बचे हुए हैं। मुझे उन्हें तुम्हें लौटाना पड़ा।

वो बोली- पागल हो गये हो क्या? वापस करना है… मैंने तुम्हें दे दिए, वे तुम्हारे हैं और ये 20,000 रुपये नकद रख लो। वहां जरूरत होगी. अब अगर तुम मुझसे वहां पैसे मांगोगे.. तो क्या मुझे अच्छा लगेगा? तो इसे अपने पास रखो… और हाँ, मैंने तुम्हारे खाते में 70,000 रुपये भेज दिए हैं, जो भी खर्च होगा, होने दो। तुम्हें और जो भी करना है, कर सकते हो.

मैंने कहा- अरे यार, इसकी क्या जरूरत थी?
वो बोली- बस इतना कहा था कि वहां का सारा खर्चा तुम्हें उठाना पड़ेगा. जो मेरा है वो तेरा भी है. मुझसे पैसे के बारे में बात मत करो. अब तुम्हें तो बस मजा लेना है. जब भी तुम्हें पैसों की जरूरत हो तो मुझसे मांग लेना. दरअसल, मैं तुम्हारा पूरा ख्याल रखूंगा ताकि तुम्हें किसी चीज की जरूरत न पड़े, लेकिन फिर भी.

मैंने उसे धन्यवाद दिया.
वो बोली- चल हट बेवकूफ … मेरी एक ही जिंदगी है. अब अगर मैं उसके लिए नहीं करूंगा तो किसके लिए करूंगा… और वैसे भी मैं अकेले इतने पैसे लेकर क्या करूंगा?

मैंने भी सोचा कि जब रोशनी को पैसे देने में कोई दिक्कत नहीं है तो मुझे खर्च करने में भी कोई दिक्कत नहीं होनी चाहिए. अब से मैं खुलकर खर्च करूंगा.

हम दोनों बाहर आये, उन्होंने घर पर ताला लगा दिया।
रोशनी मैडम बाइक पर बैठते हुए बोलीं- तुमने तो इसका टैंक भी फुल नहीं करवाया होगा. ये पैसा भी खर्च करो. मैं यहां हूं!

मैंने उनसे कहा- ठीक है मैडम, आज से मेरी आँखों पर आपका नियंत्रण है। अब से मैं दिल खोलकर खर्च करूंगा. अब चलें!
वह हंसी।

मैंने मैम का बैग पीछे की तरफ सेट किया और अपना बैग आगे की तरफ कर दिया.
हम दोनों चले गये.

सबसे पहले मैंने बाइक का टैंक फुल करवाया और मसूरी के लिए निकल पड़ा।

रास्ते में मैं बाइक में ब्रेक लगा रहा था, जिससे रोशनी मैडम मेरे ऊपर गिर रही थीं. उसके चूचे मेरी पीठ से बिल्कुल रगड़ खा जाते थे.

इस पर वो बोलीं- अभी भी तुम्हें ब्रेक मारने की जरूरत है … अरे अब तो मैं तुम्हारी हो गयी. आप जैसा कहेंगे मैं वैसा ही करूंगा.

उसने मुझे कसकर गले लगा लिया जिससे उसके स्तन मेरी पीठ में घुसने के लिए तैयार हो रहे थे।

मेरा लंड बेकाबू हो रहा था.
मैंने थोड़ा ध्यान बाइक चलाने पर लगाया और हम कुछ देर तक चलते रहे.

देहरादून से थोड़ा ऊपर कुछ देर के लिए रुके।
वहां एक रेस्टोरेंट में कुछ खाया और कुछ देर बैठ कर बातें कीं.

फिर हम मसूरी के लिए निकले और करीब 10 बजे मसूरी पहुंचे.

आधे घंटे बाद हमने एक अच्छा होटल लिया. इसका व्यू भी अच्छा था.

हम दोनों कमरे में गए और मैंने दोनों बैग रखे और जाकर बिस्तर पर बैठ गया।

रोशनी मैडम भी मेरे पास आकर बैठ गईं.
हम दोनों थक गये थे तो ऐसे ही लेट गये.
थोड़ा आराम किया और फिर एक बजे हम दोनों होटल से बाहर आ गये.

हम दोनों ने लंच किया और घूमने लगे. हम वहां एक प्रेमी जोड़े की तरह घूम रहे थे क्योंकि रोशनी की उम्र भी किसी 22 साल की लड़की जैसी लग रही थी.
उन्होंने खुद को बहुत अच्छे से मेंटेन कर रखा था.

फिर रोशनी मैडम शॉपिंग के लिए जिद करने लगीं.
वैसे तो मुझे शॉपिंग में कोई दिलचस्पी नहीं है लेकिन मैं सिर्फ रोशनी की वजह से शॉपिंग कर रहा था।

उसने दो पोशाकें खरीदीं और मैंने उनके लिए भुगतान किया।

शाम को 5 बजे हम वापस कमरे में आये और बिस्तर पर बैठ कर इधर-उधर की बातें करने लगे।

रोशनी मैडम ने मुझे अपने जीवन के बारे में अन्य बातें बतानी शुरू कीं और वह कहां यात्रा करना चाहती थीं।

मैंने कहा- मैं तुम्हारी सारी इच्छाएं पूरी करूंगा.
उसने मुझे गले लगाया और कहा- थैंक्यू… मेरी जिंदगी में आने के लिए.

मैंने कहा- अरे तुम मेरा इतना ख्याल रखती हो, ये काफी नहीं है.
फिर मैंने उसके Big Boobs दबाये, जिससे वो कॉलेज की तरह उछल पड़ी.

उसने मेरे पेट में मुक्का मारा और हम तकिये से लड़ने लगे।
थोड़ी देर लड़ने के बाद थक गया.

मैंने रोशनी मैडम को पीछे से पकड़ लिया और उन्हें एक चुम्मा दे दिया.
मैंने रोशनी मैडम से कहा- जान, क्या आप मुझे ड्रेस पहन कर नहीं दिखाओगी?

वो गर्व से बोली- तुम मुझे ड्रेस में देखना चाहते हो या बिना ड्रेस के?
मैंने कहा- पहले ड्रेस में… और फिर बिना ड्रेस के!

वो बोलीं- ठीक है बेटा, उस्ताद से उस्ताद… चलो जानू, तुम भी क्या याद रखोगे?
उसने अपनी खरीदी हुई दोनों ड्रेस निकाली और पूछा- पहले कौन सी पहनूँ?
मैंने कहा- कुछ भी पहन लो.

उसने गुलाबी रंग की सिंगल पीस ड्रेस ली और बाथरूम जाने लगी.
मैंने कहा- अरे कहाँ जा रहे हो? क्या आप यहां भी बदल सकते हैं?

वो बोली- नहीं सर, आप मुझे दोबारा कभी ड्रेस नहीं पहनने देंगे.
मैं हंस दिया और वो Moti Gand मटकाते हुए बाथरूम में चली गयी.

दोस्तो, उम्मीद है कि इस बार की Teacher ki Gand Chudai कहानी आपको मजा आया होगा. अगले भाग में और भी ज्यादा मजा आएगा. प्लीज मेल और कमेंट्स से बताएं.
Teacher ki Gand Chudai कहानी का अगला भाग: Teacher ki Gand Chudai Part 2

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Delhi Escorts

This will close in 0 seconds