May 21, 2024
ड्राइविंग के चक्कर में गंड़वा बन गया

हेलो मेरा नाम नदीम है, मैं पहले आपको अपने बारे में बताता हूं। मैं 23 साल का हूं और मैं थोड़ा चबी सा हूं, मेरी गांड गोल मोटी सी है। ये कहानी मेरी और मेरे ड्राइवर की है, जिसने मुझे ड्राइविंग के चक्कर में गंड़वा बन गया और मेरी गांड मारता रहा।

ये हिंदी गे सेक्स कहानी आज से 2 साल पहले की है, मैं तब एक शरीफ सा लड़का था। मुझे किसी चीज़ का कुछ पता नहीं था, मेरी फैमिली ने एक ड्राइवर खा हुआ था जो सिर्फ मेरे लिए रखा हुआ था।

जो मुझे चॉल से पिका और ड्रॉप करता था, और अगर मुझे कहीं जाना होता था। तो वो मुझे मेरे पर्सनल ड्राइवर की तरह ले कर जाता था, क्योंकि बाकी घर वालो के पास अपने-अपने ड्राइवर थे।

अब मैं अपनी हिंदी गे सेक्स कहानी पर आता हूं, हुआ ये कि मेरे दोस्त के बीच ड्राइवर की बात हो रही थी। जब मुझसे ये बात पता चली कि मेरे सारे दोस्त को ड्राइविंग आती है, और सिर्फ मुझे ही नहीं आती थी।

अब मैंने ठान लिया कि कुछ भी हो जाएगा, तो मैं भी ड्राइविंग सीखूंगा। मैं सोचा घर आ कर ड्राइवर से इस बारे में बात करूंगा, मुझे कोई दिक्कत नहीं होगी। क्योकी घर वाले वे भी घर लेट ही आते थे।

मैं तब तक ड्राइविंग की क्लास आराम ले सकता हूं। फिर मेरी छुट्टी हुई और मैं अपने ड्राइवर जिसका नाम दिलीप है, मैंने उससे ड्राइविंग की बात करी।

ये मैं आपको बताता हूं कि वो 41 साल का है, वो काफी मोटा और काफी बालों वाला है। उसका लंड काफी लंबा करीब 7 इंच लंबा है, खैर मैंने उससे बात की कि वो मुझे कार चलाना सिखा दे, और वो मान गया।

ड्राइविंग के चक्कर में गंड़वा बन गया – Desi Gay Sex Kahani

वो – पहले तुम मेरी गोदी में बैठो मैं तुम्हें ऐसे स्टीयरिंग का उपयोग करना सिखाऊंगा और फिर बाकी चीजें।

मैं उसके गोदी में बैठ गया और उसने मेरे हाथ अपने हाथ में ले कर स्टीयरिंग पकड़वाया। मैंने नोटिस किया कि मेरी गांड में कुछ गरम गरम टच हो रहा है।

दरसल वो उसका लंड था, जो की धोती में खड़ा हो रहा था। ऐसा ही ये सबक कुछ दिनों तक जारी रहा, उसको भी मुझे गोदी में बिठा कर काफी मजा आता था।

एक दिन दिलीप मुझे एक खाली मैदान में सिखाने ले चला गया, जहां काफी झटके आ रहे थे और दिलीप का लंड मेरी गांड पर रगड़ रहा था।

अचानक उसने कार रोकी और उसने मुझे उतार दिया, शायद झटके से और मेरे ऊपर बैठने से उसके लंड पर जोर आ गया था और उसे दर्द हो रहा था।

कुछ मिनट हम ऐसे ही बैठे रहे और वो अपने लंड को सहला रहा था। मैं गौर से उसे देख रहा था, उसका लंड धोती के अंदर खड़ा था।

मैं हैरान था कि उसकी टांगो के बीच में ये लम्बा सा क्या है। खैर मैंने दिलीप से पूछा कि अब मैं स्टीयरिंग सीख गया हूं, और मुझे अब गियर चेंज करना सिखाया। (ड्राइविंग के चक्कर में गंड़वा बन गया)

दिलीप- बाबू इतनी जल्दी नहीं तुम गियर बॉक्स खराब कर दोगे, तुम अभी नए हो।

मैंने काफी जिद करी तो वो बोला – ठीक है पहले तुम मेरे गियर के साथ प्रैक्टिस कर लो।

मुझे उस समय समझ नहीं आया कि वो क्या बात कर रहा है। फ़िर मैं बोला – क्या मतलब?

फिर उसने मेरा हाथ पकड़ा और अपने लंड पर रख दिया, और वो गियर डालने की तरह सिखा रहा था कि ऐसे करो।

दिलीप- अब इसे ऊपर करो।

मैं उसकी धोती के ऊपर से ये सब का रहा था, फिर उसने धोती से लंड बाहर निकाला और मुझे बहुत अजीब सा लगा। पर मुझे अच्छा भी लग रहा था, मैं उसके लंड को सहला रहा था।

मैं अपना मुँह थोड़ा उसे पास कर रहा था, क्योंकि मैं उसको करीब से देखना चाहता था। पर तभी उसके लंड का पानी निकल गया, और मेरे मुँह पर गिर गया।

मेरा मुँह खुला था, क्योंकि वो थोड़ा सा अंदर भी चला गया। उसका स्वाद काफ़ी खट्टा सा था, मैं उस समय इसके बारे में कुछ नहीं जानता था।

ये बात दिलीप को अच्छे से पता थी, इसलिए वो मुझे बोला – अरे ये दूध जैसा है, तुम इसे पी जाओ ये तुम्हें ताकत देगा।

मैंने उसकी बात मानी और मैं उंगली पर लगा लगा कर सारा पानी पी गया। फिर हम घर की और चल दिए, मुझे पूरे दिन में कुछ समझ नहीं आया।

कि ये मेरे साथ क्या और क्यों हुआ है, मेरे मन में काफी सवाल उठ रहे थे। जब घर में सब सो गए तो मैं उठा, क्योंकि मुझे दिलीप से बात करनी थी, वरना मुझे नींद नहीं आएगी।

मैं उठा और उसके कमरे में गया, जब मैं अंदर गया तो देखा वो सो रहा था। मैंने देखा कि धोती में उसका लंड पूरा खड़ा है, मैं अन्दर जा कर उसके लंड को देखने लग गया।

ड्राइविंग के चक्कर में गंड़वा बन गया

🎀दिल्ली होटल में सेक्स के लिए लड़किया बुक करे: Hotel Escorts in Delhi🎀

वो निंद में था तो मेरी हिम्मत बढ़ गई और मैंने उसका लंड पकड़ लिया। इतने में वो उठ गया और मैं थोड़ा सा पीछे हो गया।

दिलीप- अरे डरो मत सब ठीक है। (ड्राइविंग के चक्कर में गंड़वा बन गया)

फिर उसने मुझे अपना पास बुलाया और मुझे अपने बिस्तर पर बिठा लिया।

दिलीप- डरो मत यहां कोई नहीं आएगा।

मेरी तसल्ली के लिए उसने कमरे को लॉक कर दिया, फिर वो मेरे पास आ कर बैठ गया। फ़िर वो मेरे होठों पर किस करने लग गया, मैं पीछे हट गया।

💝दिल्ली के बेस्ट होटल में लड़किया बुक करे चुदाई के लिए 24*7💝

Royal Plaza Hotel Delhi Escorts

Radisson Blu Hotel Dwarka Escorts

दिलीप- अरे तुम्हें भी मजा आएगा।

ये कह कर वो फिर से मुझे किस करने लग गया, उसने मुझे 6-7 मिनट तक किस किया। धीरे-धीरे वो मेरी गांड को दबा रहा था और शर्ट के अन्दर हाथ डाल कर वो मेरे बूब्स दबा रहा था।

किसिंग के बाद वो उठा और नंगा हो गया, मैं शर्मा रहा था।

दिलीप- यार डरो मत और इसमें शरमाने वाली कोई बात नहीं है। (ड्राइविंग के चक्कर में गंड़वा बन गया)

फिर उसने मेरे कपड़े भी उतार दिए, मुझे अब शर्म आ रही थी। फिर वो मेरे लंड को चूसने लग गया, मेरा लंड खड़ा हो गया।

मैंने पहली बार ये सब अनुभव किया था, मुझे काफी ज्यादा मजा आ रहा था। करीब 5 मिनट बाद ही मेरे लंड का पानी निकल गया, और वो मेरा सारा पानी पी गया।

फिर वो अपना लंड मेरे पास लाया और मैं समझ गया कि अब मुझे भी ये ही सब करना है। मैंने उसका लंड चूसना शुरू कर दिया, करीब 10 मिनट तक मैंने उसका लंड चूसा।

उसके बाद उसने मेरे मुँह में ही अपना सारा पानी निकाल दिया, जितनी जल्दी उसका पानी निकला था। जिसे मैं सारा पी गया, वो जानता था कि मेरा आज पहली बार है।

इसलिए मुझे उस समय नहीं चोदा था, पर मैं रोजाना रात को उसके पास जाता था। काफ़ी बार तो मैं कार में भी उसका लंड चूसता था। एक रात में उसका लंड चूस रहा था, अचानक उसने मेरी गांड के छेद के साथ खेलना शुरू कर दिया।

मुझे इससे मजा आ रहा था, फिर वो मेरे छेद को चटने लग गया। उसने थूक लगा कर अपनी एक उंगली मेरी गांड में डाल दी, वो उसे खेलने लग गया। मुझे दर्द हो रहा था, तो मैंने उसे रोक दिया।

फिर वो उठा और तेल ले कर आया, उसने मेरी गांड पर तेल लगाया और अपनी उंगली पर भी लगा लिया। फिर उसने मेरी गांड में अपनी एक उंगली डाल दी, धीरे-धीरे मेरी गांड खुल गई और मुझे मजा आने लगा।

एक उंगली के बाद उसने अपनी दूसरी उंगली भी डाल दी, फिर तीसरी और मेरी गांड अब काफी खुल गई थी। अब तक उसका 2 बार पानी निकल चुका था, फिर उसने मुझे घोड़ी की पोजीशन में बिठा दिया।

अब उसने लंड पर तेल लगाया, और अपना लंड मेरे छेद पर उसने सेट कर दिया। फिर वो धीरे धीरे गांड में लंड डालने लग गया, पर मेरी गांड बहुत ज्यादा टाइट थी। (ड्राइविंग के चक्कर में गंड़वा बन गया)

फिर उसने लंड को गांड पर सेट करके वो मुझे किस करने लग गया, किस करते हुए उसने जोर से धक्का मारा और अपना आधा लंड मेरी गांड में उतार दिया।

मैं दर्द से मर रहा था और मैं चीख रहा था, पर उसने मेरा सर जोर से पकड़ा हुआ था। फिर उसने दूसरा धक्का मारा और इतने में मैं दर्द से बेहोश हो गया।

मैं जब उठा तो 1.5 घंटे बीत चुके थे, और वो मुझे अब दूसरी बार चोद रहा था। मेरी गांड अब खुल चुकी थी तो मुझे अब दर्द नहीं हो रहा था।

मेरी गांड से खून निकल रहा था, पर वो फिर भी मुझे चोद रहा था। मुझे भी अब होश आया तो मुझे काफी मजा आ रहा था। मेरे लंड का पानी अपने आप 2 बार निकल चुका था।

उसके 10 मिनट तक मुझे चोदा और उसने मेरी गांड में अपना पानी निकाल दिया। 5 मिनट तक उसका लंड मेरी गांड में ही पड़ा रहा, फिर हम उठे और नहाये।

मुझसे तो अब चला ही नहीं जा रहा था, मुझे कमरे में भी दिलीप छोड़ कर आया। ये तो अच्छा था कि अगले दिन वीकेंड था, तो मेरा स्कूल बंद था।

वर्ना मैं बिल्कुल भी चल नहीं पा रहा था, मैं कुछ दिन उसके पास तक नहीं गया। क्योंकि मुझे दर्द हो रहा था, पर जब दर्द कम हुआ तो मुझे अपनी गांड में कुछ अजीब सी खुजली हो रही थी।

मेरा दिल कर रहा था, कि मैं अपनी गांड में कुछ लूं। तोह फिर मैं दुबारा से उसके पास गया और हमने फिर से सेक्स किया। ऐसे ही मैं उसकी पत्नी बन गया, अब वो मुझे चोदता है। (ड्राइविंग के चक्कर में गंड़वा बन गया)

और मुझे भी उससे चुदने में बहुत मजा आता था, 3 साल तक हमने रोजाना सेक्स किया। फिर वो नोकरी छोड़ गया, छोड़ने से पहले उसने मेरे लिए दूसरा ड्राइवर लगवा दिया था।

दिलीप- तुम फिकर मत करो दूसरे ड्राइवर को मैंने समझा दिया है, वो तुम्हारा पूरा ख्याल रखेगा।

वो ड्राइवर जवान था, इसलिए उसका लंड भी दिलीप से लंबा और मोटा था। और वो मुझे जोर से चोदता था, मुझे इसमें ज्यादा मजा आता था।

वो मुझे रंडी की तरह इस्तेमाल करता था, बाल्की वो मुझे अपने दोस्तों से भी चुदवाता था। आज भी वो ड्राइवर मेरे पास है, और रोज रात को हम सेक्स करते हैं। (ड्राइविंग के चक्कर में गंड़वा बन गया)

अगर आपको मेरी ये गे कहानी अच्छी लगी है तो कमेंट बॉक्स में मुझे जरूर बताये। धन्यवाद।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Delhi Escorts

This will close in 0 seconds